कब्ज क्या है? कारण, लक्षण और इलाज | Constipation in Hindi

कब्ज क्या है? What is constipation?

एक सप्ताह में तीन से कम मल त्याग करना, तकनीकी रूप से, कब्ज की परिभाषा है। हालाँकि, आप कितनी बार "जाते हैं" एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में व्यापक रूप से भिन्न होते हैं। कुछ लोगों को दिन में कई बार मल त्याग होता है जबकि अन्य को सप्ताह में केवल एक से दो बार मल त्याग होता है। आपका मल त्याग पैटर्न चाहे जो भी हो, यह आपके लिए अनोखा और सामान्य है - जब तक आपका पैटर्न बड़े स्तर पर बिगड़ नहीं जाता।

आपके आंत्र पैटर्न के बावजूद, एक तथ्य निश्चित है: जितना अधिक आप "जाने" से पहले जाते हैं, मल/शौच के लिए उतना ही कठिन हो जाता है। आमतौर पर कब्ज को परिभाषित करने वाली अन्य प्रमुख विशेषताओं में निम्नलिखित शामिल हैं :-

  1. आपका मल सूखा और सख्त है।

  2. आपका मल त्याग दर्दनाक है और मल त्याग करना मुश्किल है।

  3. आपको ऐसा महसूस होता है कि आपने अपनी आंतें पूरी तरह से खाली नहीं की हैं।

कब्ज की समस्या कितनी आम है? How common is the problem of constipation?

अगर आपको कब्ज है तो आप अकेले नहीं हैं। कब्ज दुनियाभर में सबसे लगातार गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल शिकायतों (gastrointestinal complaints) में से एक है। हर साल करोड़ो लोग कब्ज के कारण अपने डॉक्टर को दिखाते हैं।

सभी उम्र के लोगों को कभी न कभी कब्ज की समस्या हो सकती है। कुछ ऐसे लोग और परिस्थितियाँ भी हैं जो अधिक लगातार कब्ज बनने की संभावना रखते हैं, जिसे क्रोनिक कब्ज की समस्या कहा जाता है। जिन लोगों को अक्सर कब्ज की समस्या (क्रोनिक कब्ज) रहती हैं उनमें निम्नलिखित शामिल है :-

  1. वृद्ध लोग कम सक्रिय होते हैं, धीमी चयापचय और उनके पाचन तंत्र के साथ कम मांसपेशियों में संकुचन शक्ति होती है, जब वे छोटे थे।

  2. एक महिला होने के नाते, खासकर जब आप गर्भवती हैं और बच्चे के जन्म के बाद आपको कब्ज की समस्या ज्यादा हो सकती है। एक महिला के हार्मोन में परिवर्तन से उन्हें कब्ज होने का खतरा होता है। गर्भाशय के अंदर का बच्चा आंतों को कुरेदता है, जिससे मल का मार्ग धीमा हो जाता है।

  3. पर्याप्त उच्च फाइबर वाले खाद्य पदार्थ नहीं खाने की वजह से भी कब्ज की समस्या होती है। उच्च फाइबर वाले खाद्य पदार्थ पाचन तंत्र के माध्यम से भोजन को गतिमान रखते हैं।

  4. कुछ दवाओं की वजह से भी कब्ज की समस्या बनी रहती है, जिसमें मधुमेह और उच्च रक्तचाप की दवाएं सामान्य है।

  5. कुछ न्यूरोलॉजिकल (मस्तिष्क और रीढ़ की हड्डी के रोग) और पाचन संबंधी विकार भी कब्ज की समस्या को बढ़ाते हैं।

कब्ज कैसे होती है? How does constipation happen?

कब्ज इसलिए होता है क्योंकि आपका कोलन अपशिष्ट (मल/पूप) से बहुत अधिक पानी को अवशोषित करता है, जिससे मल सूख जाता है जिससे यह सख्त हो जाता है और शरीर से बाहर धकेलना मुश्किल हो जाता है।

थोड़ा सा बैक अप लेने के लिए, चूंकि भोजन सामान्य रूप से पाचन तंत्र के माध्यम से चलता है, पोषक तत्व अवशोषित होते हैं। आंशिक रूप से पचा हुआ भोजन (अपशिष्ट) जो बच जाता है वह छोटी आंत से बड़ी आंत में चला जाता है, जिसे कोलन भी कहा जाता है। कोलन इस अपशिष्ट से पानी को अवशोषित करता है, जो मल नामक ठोस पदार्थ बनाता है। यदि आपको कब्ज है, तो भोजन पाचन तंत्र से बहुत धीमी गति से आगे बढ़ सकता है। यह कोलन को अधिक समय देता है कचरे से पानी को अवशोषित करने के लिए। ऐसी स्थिति में मल शुष्क, सख्त और बाहर निकालने में मुश्किल हो जाता है।  

क्या कब्ज आंतरिक क्षति या अन्य स्वास्थ्य समस्याओं का कारण बन सकता है? Can constipation cause internal damage or lead to other health problems? 

कुछ जटिलताएँ हैं जो तब हो सकती हैं जब आप नरम, नियमित मल त्याग नहीं करते हैं। कुछ जटिलताओं में निम्नलिखित शामिल हैं :-

  1. आपके मलाशय में सूजन, सूजी हुई नसें इस स्थिति को बवासीर (piles) कहा जाता है।

  2. कठोर मल से आपकी गुदा की परत में फट जाना, जिसे एनल फिशर (anal fissure) कहा जाता है।

  3. पाउच में एक संक्रमण जो कभी-कभी मल से कोलन की दीवार बनाता है जो फंस गया और संक्रमित हो गया है। इस स्थिति को डायवर्टीकुलिटिस (diverticulitis) कहा जाता है।

  4. मलाशय और गुदा में बहुत अधिक मल/पूप का ढेर होना, इस स्थिति को फेकल इंफेक्शन (fecal impaction) कहा जाता है।

  5. मल त्यागने के लिए जोर लगाने से आपकी पेल्विक फ्लोर (pelvic floor) की मांसपेशियों को नुकसान होना। ये मांसपेशियां आपके मूत्राशय को नियंत्रित करने में मदद करती हैं। बहुत लंबे समय तक बहुत अधिक दबाव डालने से मूत्राशय से मूत्र का रिसाव हो सकता है इस स्थिति को तनाव मूत्र असंयम (stress urinary incontinence) कहा जाता है।

नियमित रूप से मल त्याग न करने से, शरीर में जमा हुए विषाक्त पदार्थ, व्यक्ति को बीमार कर सकते हैं? By not having regular bowel movements, the toxins accumulated in the body can make a person ill।

चिंता न करें, आमतौर पर ऐसा नहीं होता है। यद्यपि जब आपको कब्ज़ होता है तो आपका बृहदान्त्र लंबे समय तक मल को रोके रखता है और आप असहज महसूस कर सकते हैं, बृहदान्त्र आपके अपशिष्ट के लिए एक विस्तार योग्य कंटेनर है। यदि बृहदान्त्र या मलाशय में अपशिष्ट मौजूदा घाव में जाता है तो संभवतः जीवाणु संक्रमण का थोड़ा सा जोखिम होता है।

कब्ज होने के क्या कारण हैं? What are the causes of constipation?

कब्ज होने के कई कारण हैं - जीवन शैली विकल्प, दवाएं, चिकित्सीय स्थितियां और गर्भावस्था, इन सभी को निम्न वर्णित किया गया है।

कब्ज के सामान्य जीवनशैली कारणों में निम्नलिखित शामिल हैं :-

  1. कम फाइबर वाले खाद्य पदार्थ खाना।

  2. पर्याप्त पानी नहीं पीना (निर्जलीकरण)।

  3. पर्याप्त व्यायाम नहीं करना।

  4. आपकी नियमित दिनचर्या में बदलाव, जैसे यात्रा करना या खाना या अलग-अलग समय पर बिस्तर पर जाना।

  5. अधिक मात्रा में दूध या पनीर का सेवन करना।

  6. तनाव।

  7. मल त्याग करने की इच्छा का विरोध करना।

कब्ज पैदा करने वाली दवाओं में निम्नलिखित शामिल हैं :-

  1. मजबूत दर्द की दवाएं, जैसे कोडीन युक्त नशीले पदार्थ, ऑक्सीकोडोन (oxycodone) और हाइड्रोमोर्फ़ोन (hydromorphone)।

  2. नॉनस्टेरॉइडल एंटी-इंफ्लेमेटरी ड्रग्स (Nonsteroidal anti-inflammatory drugs), जैसे इबुप्रोफेन (ibuprofen) और नेपरोक्सन (naproxen)।

  3. एंटीडिप्रेसेंट (Antidepressants), जिसमें चयनात्मक सेरोटोनिन रीअपटेक इनहिबिटर (selective serotonin reuptake inhibitor) या ट्राइसाइक्लिक एंटीडिप्रेसेंट (tricyclic antidepressant) शामिल हैं।

  4. कैल्शियम या एल्युमिनियम युक्त एंटासिड (aluminum-containing antacids)।

  5. आयरन की गोलियां।

  6. एलर्जी की दवाएं, जैसे एंटीहिस्टामाइन (antihistamines)।

  7. कैल्शियम चैनल ब्लॉकर्स (calcium channel blockers) और बीटा-ब्लॉकर्स (beta-blockers) सहित कुछ रक्तचाप की दवाएं।

  8. मनश्चिकित्सीय दवाएं, जैसे क्लोज़ापाइन (clozapine) और ओलानज़ापाइन (olanzapine)।

  9. एंटीकॉन्वल्सेंट या जब्ती दवाएं, जैसे फ़िनाइटोइन और गैबापेंटिन (phenytoin and gabapentin)।

  10. एंटी नॉज़िया दवाएं (anti nausea drugs), जैसे ऑनडांसट्रॉन (ondansetron)।

उपरोक्त के अलावा भी और कई दवाएं हैं जो कब्ज पैदा कर सकती हैं। यदि आपके कोई प्रश्न या चिंताएँ हैं, तो अपने डॉक्टर या फार्मासिस्ट से पूछें।

कब्ज पैदा करने वाली चिकित्सा और स्वास्थ्य स्थितियों में निम्नलिखित शामिल हैं :-

  1. एंडोक्राइन स्थितियां (Endocrine conditions), जैसे अंडरएक्टिव थायरॉइड ग्रंथि (हाइपोथायरायडिज्म) (underactive thyroid gland (hypothyroidism), मधुमेह, यूरेमिया (uremia) और हाइपरक्लेसेमिया (hypercalcemia)।

  2. कोलोरेक्टल कैंसर (colorectal cancer)।

  3. चिड़चिड़ा आंत्र सिंड्रोम (आईबीएस) (irritable bowel syndrome (IBS)।

  4. विपुटीय रोग (diverticular disease)।

  5. आउटलेट डिसफंक्शन कब्ज (outlet dysfunction constipation)। (पेल्विक फ्लोर की मांसपेशियों के समन्वय में एक दोष। ये मांसपेशियां श्रोणि और पेट के निचले हिस्से के अंगों को सहारा देती हैं। मल को बाहर निकालने में मदद के लिए इनकी जरूरत होती है।)

  6. रीढ़ की हड्डी की चोट, मल्टीपल स्केलेरोसिस (multiple sclerosis), पार्किंसंस रोग (Parkinson's disease) और स्ट्रोक सहित तंत्रिका संबंधी विकार (neurological disorders including stroke)।

  7. लेजी आंत्र सिंड्रोम (lazy bowel syndrome)। इसमें कोलन बुरी रूप से सिकुड़ता है और मल को बनाए रखता है।

  8. अंतड़ियों में रुकावट।

  9. पाचन तंत्र में संरचनात्मक दोष (जैसे फिस्टुला (fistula), कॉलोनिक एट्रेसिया (colonic atresia), वॉल्वुलस (volvulus), इंट्यूससेप्शन (intussusceptions), इम्परफोरेट एनस (imperforate ans) या मालरोटेशन (malrotation)।

  10. कई अंग रोग, जैसे एमाइलॉयडोसिस, ल्यूपस और स्क्लेरोडर्मा (Amyloidosis, lupus and scleroderma) होना।

  11. गर्भावस्था।

कब्ज के लक्षण क्या हैं? What are the symptoms of constipation?

कब्ज के लक्षणों में निम्नलिखित शामिल हैं :-

  1. सप्ताह में तीन से कम मल त्याग करना।

  2. आपका मल सूखा, सख्त और/या गांठदार है।

  3. आपका मल मुश्किल या दर्दनाक है।

  4. आपको पेट में दर्द या ऐंठन है।

  5. आप फूला हुआ और मिचली महसूस करते हैं।

  6. आपको लगता है कि किसी गतिविधि के बाद आपने अपनी आंतें पूरी तरह से खाली नहीं की हैं।

कब्ज के जोखिम कारक क्या हैं? What are the risk factors for constipation?

क्रोनिक कब्ज के आपके जोखिम को बढ़ाने वाले कारकों में शामिल हैं:

  1. यदि आप वृद्ध हैं

  2. यदि आप एक महिला हैं

  3. आप बहुत कम पानी या स्वस्थ तरल उत्पाद लेते हैं

  4. ऐसे आहार का सेवन करते हैं जिसमें फाइबर कम हैं

  5. कम या कोई शारीरिक गतिविधि नहीं करना

  6. रक्तचाप कम करने के लिए शामक, ओपिओइड दर्द निवारक, कुछ अवसादरोधी या दवाओं सहित कुछ दवाएं लेते हैं

  7. मानसिक स्वास्थ्य की स्थिति जैसे अवसाद या खाने का विकार होना

कब्ज से क्या जटिलताएँ हो सकती है? What complications can result from constipation?

क्रोनिक कब्ज से होने वाली जटिलताओं में निम्नलिखित शामिल हैं :-

  1. बवासीर

  2. गुदा में फटी त्वचा (गुदा विदर) (torn skin in the anus (anal fissure)

  3. मल जिसे बाहर नहीं निकाला जा सकता (मल प्रभाव)। क्रोनिक कब्ज के कारण कठोर मल का संचय हो सकता है जो आपकी आंतों में फंस जाता है।

  4. आंत जो गुदा से बाहर निकलती है (रेक्टल प्रोलैप्स – rectal prolapse)। मल त्याग करने के लिए दबाव डालने से मलाशय की एक छोटी मात्रा फैल सकती है और गुदा से बाहर निकल सकती है। 

कब्ज का निदान कैसे किया जाता है? How is constipation diagnosed?

आपका डॉक्टर कोई परीक्षण या कई प्रकार के परीक्षण और प्रक्रियाओं का आदेश नहीं दे सकता है। आपके डॉक्टर आपके लिए किन दवाओं का आदेश दे सकते हैं, यह निर्णय आपके लक्षणों, चिकित्सा इतिहास और समग्र स्वास्थ्य पर निर्भर करता है।

  1. प्रयोगशाला परीक्षण (Lab tests) :- रक्त और मूत्र परीक्षण (blood and urine test) हाइपोथायरायडिज्म, एनीमिया (anemia) और मधुमेह के लक्षण प्रकट करते हैं। एक मल का नमूना संक्रमण, सूजन और कैंसर के संकेतों की जाँच करता है।

  2. इमेजिंग परीक्षण (Imaging tests) :- सीटी स्कैन (CT Scan), एमआरआई (MRI) या निचले गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल ट्रैक्ट श्रृंखला (lower gastrointestinal tract series) को अन्य समस्याओं की पहचान करने का आदेश दिया जा सकता है जो आपके कब्ज का कारण बन सकती हैं।

  3. कोलोनोस्कोपी (colonoscopy) :- एक कोलोनोस्कोपी या सिग्मायोडोस्कोपी (sigmoidoscopy) एक स्कोप के साथ आपके कोलन का आंतरिक दृश्य लेती है। इस प्रक्रिया के दौरान, कैंसर या अन्य समस्याओं के परीक्षण के लिए ऊतक (बायोप्सी – Biopsy) का एक छोटा सा नमूना लिया जा सकता है और पाए गए पॉलीप्स को हटा दिया जाएगा।

  4. कोलोरेक्टल ट्रांज़िट अध्ययन (colorectal transit study) :- इन परीक्षणों में एक रेडियोधर्मी पदार्थ (radioactive substances) की एक छोटी खुराक का सेवन करना शामिल है, या तो गोली के रूप में या भोजन में, और फिर समय की मात्रा और कैसे पदार्थ आपकी आंतों के माध्यम से चलता है, दोनों पर नज़र रखता है।

  5. अन्य आंत्र कार्य परीक्षण (other bowel function tests) :- आपका डॉक्टर परीक्षण का आदेश दे सकता है जो यह जांचता है कि आपकी गुदा और मलाशय कितनी अच्छी तरह से मल को पकड़ते और छोड़ते हैं। इन परीक्षणों में एक निश्चित प्रकार का एक्स-रे (शौचालय) शामिल है, जो आउटलेट डिसफंक्शन कब्ज के कारणों का पता लगाने के लिए किया जाता है, और मलाशय में एक छोटे से गुब्बारे को सम्मिलित करना (बैलून निष्कासन परीक्षण और एनोरेक्टल मैनोमेट्री – Balloon deflation test and anorectal manometry)। 

कब्ज का इलाज कैसे किया जाता है? How is constipation treated?

क्रोनिक कब्ज के लिए उपचार आमतौर पर आहार और जीवन शैली में परिवर्तन के साथ शुरू होता है, जिसका उद्देश्य उस गति को बढ़ाना है जिस पर मल आपकी आंतों के माध्यम से चलता है। यदि वे परिवर्तन मदद नहीं करते हैं, तो आपका डॉक्टर दवाओं या सर्जरी की सिफारिश कर सकता है।

Subscribe To Our Newsletter

Filter out the noise and nurture your inbox with health and wellness advice that's inclusive and rooted in medical expertise.

Subscribe Now   

Medtalks is India's fastest growing Healthcare Learning and Patient Education Platform designed and developed to help doctors and other medical professionals to cater educational and training needs and to discover, discuss and learn the latest and best practices across 100+ medical specialties. Also find India Healthcare Latest Health News & Updates on the India Healthcare at Medtalks