लीवर सिरोसिस क्या है? – लक्षण, कारण और बचाव | Liver Cirrhosis in Hindi

अक्सर कहा जाता है कि इन्सान गलतियों का पुतला होता है, लेकिन शायद अब इस कहावत में बदलाव करने का समय आ चूका है। क्योंकि अब इन्सान गलतियों के साथ-साथ बीमारियों का भी पुतला बन चूका है। वर्तमान समय में शायद ही ऐसा कोई व्यक्ति होगा जो कि पुर्णतः स्वस्थ होगा। एक व्यक्ति को सामान्य से लेकर अति गंभीर तक कई रोग अपनी चपेट में ले सकते हैं, जिनमें तो कुछ ऐसे भी रोग हैं जिनकी वजह से व्यक्ति को जान का खतरा भी बना रहता है। एक ऐसा ही जानलेवा रोग है जिसे हम सभी लीवर सिरोसिस के नाम से जानते हैं। लीवर सिरोसिस एक ऐसा रोग है जिसकी वजह से रोगी को जान से भी हाथ धोना पड़ सकता है। लेकिन सबसे बड़ी बात यह है कि आखिर इस रोग के होने के कारण क्या है और यह इतना खतरनाक कैसे हैं। तो चलिए Medtalks पर लिखे इस लेख के जरिये लीवर सिरोसिस के बारे में विस्तार से जानते हैं, लेकिन उससे पहले लीवर के बारे में संक्षिप्त में जानते हैं। 

लीवर क्या काम करता है? What does the liver do? 

हिंदी में लीवर को यकृत या जिगर भी कहा जाता है, यह हमारे शरीर के सबसे महत्वपूर्ण अंगों में से एक है। हमारे शरीर में लीवर 500 से ज्यादा महत्वपूर्ण कार्यों का अंजाम देता है, जिसमे रक्त प्रवाह (blood flow) से अपशिष्ट उत्पादों (waste products) और विदेशी पदार्थों (foreign substances) को निकालने का सबसे जरूरी काम करता है। इसके साथ ही लीवर हमारे शरीर में रक्त शर्करा स्तर यानि ब्लड शुगर लेवल को नियंत्रित करने और पौषक तत्वों को बनाने का सबसे जरूरी काम भी करता है। इन कामों के अलावा लीवर निम्नलिखित कुछ और अन्य कामों को भी अंजाम देता है – 

एल्बुमिन उत्पादन Albumin Production : एल्ब्यूमिन एक प्रोटीन है जो कि रक्त प्रवाह (blood flow) में तरल पदार्थ को आसपास के ऊतकों (tissues) में रिसने से रोकता है। यह शरीर के माध्यम से हार्मोन, विटामिन और एंजाइम (enzymes) भी ले जाता है।

पित्त उत्पादन Bile Production : पित्त एक तरल पदार्थ है जो छोटी आंत में वसा (Fat) के पाचन और अवशोषण (absorption) के लिए महत्वपूर्ण है।

रक्त को फिल्टर करता है Filters the Blood : पेट और आंतों में जाने वाला सारा रक्त लीवर से होकर गुजरता है, जो विषाक्त पदार्थों (toxins), उपोत्पादों (by-products) और अन्य हानिकारक पदार्थों को निकालता है, जिसे लीवर साफ़ करने का काम करता है।

अमीनो एसिड को नियंत्रित करता है Controls Amino Acids : प्रोटीन का उत्पादन अमीनो एसिड पर निर्भर करता है। लीवर सुनिश्चित करता है कि रक्तप्रवाह में अमीनो एसिड का स्तर स्वस्थ बना रहे, ताकि प्रोटीन का निर्माण बिना किसी रूकावट के होता रहे।

रक्त के थक्के को नियंत्रित करता है Controls Blood Clotting : रक्त के थक्के जमने वाले विटामिन के (Vitamin K) का उपयोग करके बनाए जाते हैं, जिसे केवल पित्त की मदद से अवशोषित (absorbed) किया जा सकता है और पित्त का उत्पादन केवल लीवर में ही होता है। 

संक्रमण का प्रतिरोध करता है Resists Infection : फ़िल्टरिंग प्रक्रिया के हिस्से के रूप में, लीवर रक्त प्रवाह से बैक्टीरिया को भी हटा देता है। लीवर के इस काम की वजह से शरीर का कई संक्रमणों से बचाव होता है। 

विटामिन और मिनरल्स को स्टोर करता है Stores Vitamins and Minerals : लीवर विटामिन ए, विटामिन डी, विटामिन ई, विटामिन के, और विटामिन बी12 के साथ-साथ आयरन और कॉपर की महत्वपूर्ण मात्रा को स्टोर करता है। 

ग्लूकोज को संसाधित करता है Processes Glucose : लीवर रक्त प्रवाह से अतिरिक्त ग्लूकोज (शर्करा) को निकालता है और इसे ग्लाइकोजन (glycogen) के रूप में अपने पास जमा कर लेता है। इसके बाद आवश्यकतानुसार, लीवर ग्लाइकोजन को वापस ग्लूकोज में परिवर्तित कर सकता है।

लीवर सिरोसिस क्या है? What is liver cirrhosis?

सरल शब्दों में कहा जाए तो लीवर सिरोसिस लीवर से जुड़ी एक क्रोनिक डिजीज है क्योंकि इसे होने में काफी लंबा समय लगता है और इसकी शुरुआत लीवर में फैट जमा होने से होती है। जब लीवर में फैट यानि वसा जमा होने लगता है तो उसकी वजह से लीवर डैमेज होना शुरू हो जाता है। फैट की वजह से लीवर को हुए इस डैमेज को फैटी लीवर के नाम जाना है। इस स्थिति में लीवर सामान्य की तुलना म कड़ा हो जाता है और यह स्थिति चलती रहती है। 

एक बार जब किसी व्यक्ति को फैटी लीवर की समस्या हो जाती है तो उसके बाद उसकी लीवर सिरोसिस की यात्रा शुरू हो जाती है, जिसमे तक़रीबन 10 वर्षों का समय लग सकता है। इस दौरान अगर लीवर में कोई चोट लग जाए या सूजन आ जाए तो इसकी वजह से लिवर फाइब्रोसिस (liver fibrosis) की समस्या हो जाती है । लिवर फाइब्रोसिस, फैटी लिवर का अगला स्‍टेज होता है।

लिवर फाइब्रोसिस होने के बाद लीवर के टिश्यू लीवर में हुई खामी को ठीक करना शुरू कर देते हैं। इस दौरान लीवर में निशान ऊतक या स्कार ऊतक (Scar tissue/ ऊतकों पर खरोंच जैसे निशान) बनते हैं। धीरे-धीरे यह स्कार ऊतक स्वस्थ ऊतकों को खराब करना या बदलना शुरू कर देते हैं और आंशिक रूप (partially) से लीवर में खून के बहाव को रोक देते हैं। जब लीवर में ऐसा होता है इसकी वजह से लीवर की स्वस्थ कोशिकाएं मरना शुरू हो जाती है, जिसकी वजह से लीवर के काम में कमी आने लग जाती है। इस दौरान निशान ऊतक अपना काम जारी रखते हैं।

जब ऐसा लंबे समय तक चलता रहता है तो इसकी वजह से लीवर खराब हो जाता है जिसे लीवर डैमेज या लीवर सिरोसिस के नाम से जाना जाता है। फाइब्रोसिस लिवर डैमेज की पहली स्टेज है, क्योंकि यहाँ से लीवर खराब होना शुरू हो जाता है। अगर समय पर फैटी लीवर या फाइब्रोसिस लिवर से छुटकारा पा लिया जाए तो लीवर खराब नहीं होता। अगर ऐसा नहीं किया जाए तो इसकी वजह से रोगी को न केवल गई गंभीर स्थितियों का सामना करना पड़ता है बल्कि लिवर ट्रांसप्लांट (Liver Transplant) भी करवाना पड़ सकता है। इसके अलावा इस गंभीर रोग की वजह से रोगी की जान भी जा सकती है। 

लीवर सिरोसिस के लक्षण क्या है? What are the symptoms of liver cirrhosis? 

लीवर सिरोसिस होने पर इसके लक्षण शुरूआत में दिखाई नहीं देते। इसके लक्षण तब दिखाई देते हैं जब यह गंभीर रोग काफी बढ़ चूका होता है। लीवर सिरोसिस के लक्षण दिखाई देने का मतलब होता है कि अब लीवर अपने काम करने में सक्षम नहीं है या वह पहले की तुलना में अब बहुत सिमित काम कर पा रहा है। 

जैसे-जैसे स्कार ऊतक यानि निशान ऊतक जमा होते रहते हैं और इसकी वजह से जब लीवर ठीक से काम नहीं कर पाता तो ऐसे में निम्नलिखित लक्षण दिखाई देने लग जाते हैं :- 

  1. थकान

  2. अनिद्रा

  3. त्वचा में खुजली

  4. भूख में कमी

  5. शरीर के वजन में कमी

  6. जी मिचलाना

  7. उस क्षेत्र में दर्द या कोमलता जहां यकृत स्थित है

  8. लाल या धब्बेदार हथेलियाँ

  9. दुर्बलता

  10. रक्त केशिकाएं पेट के ऊपरी हिस्से की त्वचा पर दिखाई देने लगती हैं।

जैसे-जैसे लीवर सिरोसिस की समस्या बढ़ने लगती है तो उपरोक्त लक्षणों के साथ-साथ निम्नलिखित लक्षण भी दिखाई देने लग जाते हैं :- 

  1. त्वरित दिल की धड़कन (rapid heartbeat)

  2. व्यक्तित्व परिवर्तन

  3. उलझन

  4. चक्कर आना

  5. मसूड़ों से खून आना 

  6. शरीर और ऊपरी बाहें कमजोर होना

  7. ड्रग्स और अल्कोहल के प्रसंस्करण में कठिनाइयाँ (Difficulties in processing drugs and alcohol) 

  8. टखनों, पैरों और तलवों में सूजन आना 

  9. बाल झड़ने की समस्या होना 

  10. चोट लगने की उच्च संवेदनशीलता

  11. पीलिया होना – इस दौरान रोगी की त्वचा और आँखे पीली पड़ जाती है, साथ ही आंखों और जीभ का रंग भी बदलना शुरू हो जाता है। 

  12. सेक्स ड्राइव का नुकसान

  13. याददाश्त की समस्या

  14. पेट के ऊपरी हिस्से में सूजन होना 

  15. बार-बार बुखार होना

  16. संक्रमण का खतरा बढ़ जाता है या कोई गंभीर संक्रमण होना

  17. मांसपेशियों में ऐंठन

  18. नकसीर (नाक से खून आना)

  19. दाहिने कंधे में दर्द

  20. सांस फूलना – यह समस्या बैठे-बैठे भी होती है

  21. मल काला हो जाता है या बहुत पीला हो जाता है 

  22. कब्ज की समस्या होना 

  23. पेशाब का रंग गहरा होना

  24. खून की उल्टी आना

  25. चलने और चलने में समस्या

  26. पेट में सूजन आना 

  27. त्वचा का पतला होना 

  28. खुजलीदार त्वचा होना

जब लीवर सिरोसिस होने पर रोगी को उपरोक्त लक्षण दिखाई देने लग जाते हैं तो इसका मतलब है कि अब रोगी की शारीरिक स्थिति काफी बिगड़ चुकी है और उसे जल्द से जल्द उपचार लेने की आवयश्कता है। अगर उपचार जल्दी से नहीं मिला तो रोगी कि जान भी जा सकती है। 

लीवर सिरोसिस के कारण क्या है? What is the cause of liver cirrhosis? 

लीवर सिरोसिस के सामान्य कारण हैं निम्नलिखित हैं :-

  1. लंबे समय तक शराब का सेवन

  2. हेपेटाइटिस बी और सी संक्रमण

  3. फैटी लीवर रोग

  4. जहरीली धातु (toxic metals)

  5. आनुवंशिक रोग 

आपको बता देते हैं कि हेपेटाइटिस बी और सी को एक साथ सिरोसिस का प्रमुख कारण माना जाता है। चलिए निचे लीवर सिरोसिस के कारणों के बारे में विस्तार से जानते हैं।

नियमित रूप से बहुत अधिक शराब पीना Regularly drinking too much alcohol –

जब हम शराब पीते हैं तो अल्कोहल सहित टॉक्सिन्स लीवर से टूट जाते हैं। हालांकि, यदि अल्कोहल की मात्रा बहुत अधिक होती है, तो ऐसे में लीवर को अपनी क्षमता से ज्यादा काम करना पड़ता है जिसकी वजह से लीवर की कोशिकाएं आखिर में क्षतिग्रस्त होने लगती है। अन्य स्वस्थ लोगों की तुलना में भारी, नियमित, लंबे समय तक शराब पीने वालों में सिरोसिस विकसित होने की संभावना अधिक होती है। आमतौर पर, सिरोसिस विकसित होने के लिए कम से कम 10 वर्षों तक काफी ज्यादा शराब पीने की आवश्यकता होती है। शराब से प्रेरित लीवर रोग के आम तौर पर दो चरण होते हैं:

  1. फैटी लीवर Fatty liver : इसमें लीवर में फैट का निर्माण होता है।

  2. अल्कोहलिक हेपेटाइटिस Alcoholic hepatitis : यह तब होता है जब लीवर की कोशिकाएं सूज जाती हैं।

हेपेटाइटिस Hepatitis – 

हेपेटाइटिस सी, एक रक्त-जनित संक्रमण (a blood-borne infection) है जो कि लीवर को नुकसान पहुंचा सकता है और आखिर में इसकी वजह से सिरोसिस हो सकता है। हेपेटाइटिस सी पश्चिमी यूरोप, उत्तरी अमेरिका और दुनिया के कई अन्य हिस्सों में सिरोसिस का एक आम कारण है। सिरोसिस हेपेटाइटिस बी और डी के कारण भी हो सकता है।

गैर-अल्कोहल स्टीटोहेपेटाइटिस (NASH) Non-alcoholic steatohepatitis – 


गैर-अल्कोहल स्टीटोहेपेटाइटिस (NASH), अपने प्रारंभिक चरण में, लीवर में बहुत अधिक वसा के संचय के साथ शुरू होता है। वसा सूजन और निशान पैदा करता है, जिसके परिणामस्वरूप बाद में सिरोसिस संभव हो जाता है। मोटे लोगों, मधुमेह के रोगियों, रक्त में उच्च वसा वाले लोगों और हाई ब्लड प्रेशर वाले लोगों में NASH होने की संभावना अधिक होती है।

ऑटोइम्यून हेपेटाइटिस Autoimmune hepatitis – 

व्यक्ति की अपनी प्रतिरक्षा प्रणाली शरीर में स्वस्थ अंगों पर हमला करती है जैसे कि वह बाहरी पदार्थ थे। कभी-कभी लीवर पर हमला हो जाता है। आखिरकार, रोगी सिरोसिस विकसित कर सकता है।

कुछ आनुवंशिक स्थितियां Certain genetic conditions

कुछ विरासत में मिली स्थितियां हैं जो सिरोसिस का कारण बन सकती हैं, जिनमें शामिल हैं:

  • हेमोक्रोमैटोसिस Hemochromatosis : आयरन लीवर और शरीर के अन्य हिस्सों में जमा हो जाता है।

  • विल्सन की बीमारी Wilson's disease : कॉपर लिवर और शरीर के अन्य हिस्सों में जमा हो जाता है। 

पित्त नलिकाओं की रुकावट Blockage of the bile ducts –

कुछ गंभीर स्थितियों और बीमारियों की वजह से पित्त नलिकाओं में बाधा आने लग जाती है जिसकी वजह से सिरोसिस का खतरा बढ़ जाता है। इन गंभीर स्थितियों और बीमारियों में पित्त नलिकाओं का कैंसर, या अग्न्याशय का कैंसर मुख्य रूप से शामिल है। 

बड-चियारी सिंड्रोम Budd-Chiari syndrome –

यह स्थिति लीवर शिरा (liver vein) में रक्त के थक्कों (blood clots) का कारण बनती है, रक्त वाहिका (blood vessel) जो लीवर से रक्त ले जाती है। इससे लीवर का इज़ाफ़ा होता है और संपार्श्विक वाहिकाओं (collateral vessels) का विकास होता है।

अन्य बीमारियां और स्थितियां जो सिरोसिस में योगदान कर सकती हैं उनमें शामिल हैं:

  1. सिस्टिक फाइब्रोसिस।

  2. प्राथमिक स्क्लेरोज़िंग हैजांगाइटिस, या पित्त नलिकाओं का सख्त और जख्मी होना।

  3. गैलेक्टोसिमिया, या दूध में शर्करा को संसाधित करने में असमर्थता।

  4. शिस्टोसोमियासिस, एक परजीवी जो आमतौर पर कुछ विकासशील देशों में पाया जाता है।

  5. पित्त की गति, या शिशुओं में बुरी तरह से निर्मित पित्त नलिकाएं।

  6. ग्लाइकोजन भंडारण रोग, या भंडारण और ऊर्जा रिलीज में समस्याएं सेल फ़ंक्शन के लिए महत्वपूर्ण हैं।

लीवर सिरोसिस के चरण कितने हैं? What are the stages of liver cirrhosis? 

सिरोसिस को चाइल्ड्स-पुघ स्कोर (Childs-Pugh Score) नामक पैमाने पर निम्नानुसार वर्गीकृत किया जाता है:

  1. अपेक्षाकृत हल्का

  2. मध्यम

  3. गंभीर


डॉक्टर भी सिरोसिस को मुआवजे सिरोसिस (compensated cirrhosis) और विघटित सिरोसिस (decompensated cirrhosis) के रूप में वर्गीकृत करते हैं। 

मुआवजा सिरोसिस Compensated Cirrhosis : यह स्पर्शोन्मुख asymptomatic (कोई लक्षण नहीं दिखाना) चरण है। लीवर पर अभी भी निशान हो सकते हैं, लेकिन यह इतना आगे नहीं बढ़ पाया है कि कई, या कोई भी लक्षण पैदा कर सके।

विघटित सिरोसिस Decompensated Cirrhosis : यह वह चरण है जहां पीलिया या जलोदर जैसे अधिकांश लक्षण दिखाई देते हैं। यह बहुत गंभीर अवस्था है। कुछ स्थितियों में, यदि आप सिरोसिस के शुरू होने के कारण का प्रबंधन करने में सक्षम हैं (उदाहरण के लिए, भारी शराब पीना), तो आप अपने निदान को वापस मुआवजे के लिए वापस करने में सक्षम हो सकते हैं। 

लीवर सिरोसिस की क्या जटिलताएं हो सकती है? What are the complications of liver cirrhosis? 

सिरोसिस कई अन्य स्थितियों को जन्म दे सकता है, जिनमें से कुछ जीवन के लिए खतरा हैं। इनमें शामिल हैं:

जलोदर या एडिमा Ascites or Edema : जलोदर होने पर पेट में तरल पदार्थ का निर्माण होना शुरू होता है, और एडिमा पैरों में तरल पदार्थ का निर्माण होता है। उनका इलाज कम नमक वाले आहार और पानी कम करने वाली गोलियों से किया जा सकता है। गंभीर मामलों में, द्रव को बार-बार निकालना पड़ सकता है। कभी-कभी सर्जरी की जरूरत होती है।

वेरिस और पोर्टल हाई ब्लड प्रेशर Varis and Portal Hypertension : यह ग्रासनली और पेट में बड़ी, सूजी हुई नसें होती हैं। यह एक रक्त वाहिका में दबाव बढ़ा सकते हैं जिसे पोर्टल शिरा कहा जाता है जो प्लीहा और आंत्र (spleen and bowel) से लीवर तक रक्त ले जाती है। इनके फटने की आशंका बनी रहती है, जिससे गंभीर रक्त हानि और थक्के बन सकते हैं।

हेपेटिक एन्सेफेलोपैथी Hepatic Encephalopathy : यह रक्त में उच्च स्तर के विषाक्त पदार्थों को संदर्भित करता है जहां लीवर अब उन सभी को सफलतापूर्वक फ़िल्टर नहीं कर रहा है।

हेपैटोसेलुलर कार्सिनोमा Hepatocellular carcinoma : यह लीवर कैंसर का सबसे आम प्रकार है। यह दुनिया भर में कैंसर मृत्यु दर का तीसरा प्रमुख कारण है।

हेपेटोपुलमोनरी सिंड्रोम (एचपीएस) Hepatopulmonary syndrome (HPS) : डॉक्टर एचपीएस को लीवर रोग, फेफड़ों में फैली हुई रक्त वाहिकाओं (blood vessels) और गैसों के आदान-प्रदान में असामान्यताओं के संयोजन के रूप में परिभाषित करते हैं। यह लीवर प्रत्यारोपण (liver transplant) की प्रतीक्षा कर रहे लोगों की मृत्यु दर में वृद्धि से जुड़ा हुआ है।

जमावट विकार (Coagulation disorder) : सिरोसिस रक्त के थक्के जमने की समस्या पैदा कर सकता है, जिससे संभावित रूप से घातक रक्तस्राव(fatal bleeding) और थक्के बन सकते हैं। 

इस दौरान निम्नलिखित समस्याएँ भी होने की आशंका बनी रहती है – 

  1. कुपोषण

  2. किडनी खराब

  3. यकृत कैंसर LIVER CANCER

  4. दवाओं के प्रति संवेदनशीलता (यकृत शरीर में दवाओं को संसाधित करता है)

  5. पित्त की पथरी (पित्त के प्रवाह में हस्तक्षेप से पित्त सख्त हो सकता है और पथरी बन सकती है)

लीवर सिरोसिस का निदान कैसे किया जा सकता है? How is liver cirrhosis diagnosed? 

हम ऊपर इस बारे में बात कर चुके हैं कि लीवर सिरोसिस के लक्षण बहुत मुश्किल से दिखाई देते हैं, ऐसे में लीवर सिरोसिस का निदान अक्सर तब किया जाता है जब रोगी का किसी अन्य स्थिति या बीमारी के लिए परीक्षण किया जा रहा हो।

अगर आप ऊपर बताए गये लक्षणों के साथ-साथ निम्नलिखित लक्षणों से जूझ रहे हैं तो आपको तुरंत डॉक्टर से बात करनी चाहिए :-

  1. कंपकंपी के साथ बुखार

  2. सांस लेने में कठिनाई

  3. खून की उल्टी

  4. डार्क या टैरी स्टूल

  5. उनींदापन या भ्रम के एपिसोड

अगर आप इन लक्षणों को महसूस करते हैं तो डॉक्टर आपसे कुछ और सवाल पूछ सकते हैं जैसे कि क्या आप शराब पीते हैं या कोई नशा करते हैं। इसके अलावा आपसे इस बारे में पूछा जा सकता है कि क्या आप पहले कभी लीवर से जुड़ी समस्या से जूझ चुके हैं या ऊपर बताए गये कारणों के बारे में भी जानकारी ली जा सकती है। एक बार उपयुक्त जानकारी मिलने के बाद डॉक्टर आपको निम्नलिखित जांच करवाने की सलाह दे सकते हैं :- 

रक्त परीक्षण blood test : इस जांच में मापते हैं कि लीवर कितनी अच्छी तरह काम कर रहा है। यदि एलेनिन ट्रांसएमिनेस (एएलटी) alanine transaminase (ALT) और एस्पार्टेट ट्रांसएमिनेस (एएसटी) Aspartate Transaminase (AST) का स्तर अधिक है, तो रोगी को हेपेटाइटिस हो सकता है।

इमेजिंग परीक्षण Imaging test : अल्ट्रासाउंड, सीटी, या एमआरआई स्कैन का उपयोग यह देखने के लिए किया जा सकता है कि लीवर बड़ा हुआ है या नहीं और किसी भी निशान या नोड्यूल का पता लगा सकता है।

बायोप्सी Biopsy : इस जांच में लीवर कोशिकाओं का एक छोटा सा नमूना निकाला जाता है और एक माइक्रोस्कोप के तहत जांच की जाती है। बायोप्सी सिरोसिस और इसके कारण की पुष्टि कर सकती है।

एंडोस्कोपी Endoscopy : डॉक्टर अंत में एक प्रकाश और वीडियो कैमरा के साथ एक लंबी, पतली ट्यूब डालते हैं जो अन्नप्रणाली और पेट में जाती है। डॉक्टर सिरोसिस के संकेत की तुलना में सूजी हुई रक्त वाहिकाओं की तलाश करते हैं जिन्हें वेरिसेस कहा जाता है। 

लीवर सिरोसिस का उपचार कैसे किया जा सकता है? How can liver cirrhosis be treated? 

एक बार लीवर सिरोसिस की पुष्टि हो जाए तो डॉक्टर बड़ी तेजी से उसका उपचार शुरू कर देते हैं। लेकिन डॉक्टर उपचार शुरू करने से पहले इस बात का ध्यान रखते हैं कि रोगी को लीवर सिरोसिस किस कारण से हुआ है? रोगी लीवर सिरोसिस के कौन-कौन से लक्षणों को अनुभव कर रहे हैं? सबसे जरूरी है कि लीवर सिरोसिर कितना बढ़ चूका है और इसकी वजह से रोगी को कोई दूसरी शारीरिक समस्याएँ होनी तो शुरू नहीं हो गई है? इन सभी के आधार पर डॉक्टर लीवर सिरोसिस के रोगी का उपचार निम्न वर्णित तरीकों से करना शुरू करते हैं :- 

दवाएं Medications : सिरोसिस के कारण के आधार पर, आपका डॉक्टर कुछ दवाओं की सिफारिश कर सकता है, जैसे कि बीटा-ब्लॉकर्स या नाइट्रेट्स (पोर्टल उच्च रक्तचाप के लिए)। डॉक्टर हेपेटाइटिस के इलाज के लिए एंटीबायोटिक्स या दवाओं की भी सिफारिश कर सकते हैं। 

जीवन शैली में परिवर्तन Lifestyle changes : डॉक्टर यह सिफारिश कर सकते हैं कि यदि रोगी इसे चिकित्सकीय रूप से आवश्यक मानते हैं तो आप अपना वजन कम करें। यदि रोगी जलोदर से जूझ रहे हैं, तो कम सोडियम वाले आहार की भी सिफारिश की जा सकती है।

शराब पर निर्भरता के लिए उपचार  Treatment for alcohol dependence : यदि रोगी का सिरोसिस लंबे समय तक, नियमित रूप से भारी शराब के सेवन के कारण होता है, तो रोगी के लिए शराब पीना बंद कर देना महत्वपूर्ण है। कई मामलों में, डॉक्टर शराब पर निर्भरता के इलाज के लिए एक उपचार कार्यक्रम की सिफारिश करेंगे। 

पोर्टल शिरा में दबाव को नियंत्रित करना Controlling pressure in the portal vein : पोर्टल शिरा में रक्त "बैक अप" कर सकता है जो लीवर को रक्त की आपूर्ति करता है, जिससे पोर्टल शिरा में ब्लड प्रेशर हाई होता है। अन्य रक्त वाहिकाओं में बढ़ते दबाव को नियंत्रित करने के लिए आमतौर पर दवाएं निर्धारित की जाती हैं। इसका उद्देश्य गंभीर रक्तस्राव को रोकना है। एंडोस्कोपी (endoscopy) के माध्यम से रक्तस्राव के लक्षणों का पता लगाया जा सकता है। 

सर्जरी Surgery : यदि डॉक्टर को लगता है कि अब दवाओं से या अन्य उपायों की मदद से रोगी को ठीक करना मुश्किल है तो ऐसे डॉक्टर उन्हें लीवर ट्रांसप्लांट करवाने की सलाह देते हैं। लीवर ट्रांसप्लांट सबसे अंतिम उपचार के तौर पर इस्तेमाल किया जाता है। 

एसोफेजेल वेरिस (esophageal varices) होने पर तत्काल चिकित्सा :

यदि रोगी खून की उल्टी करता है या खूनी मल पास करता है, तो संभवतः है कि रोगी इस दौरान एसोफेजेल वेरिस (esophageal varices) से जूझ रहा है। एसोफेजेल वेरिस होने की वजह से रोगी को तत्काल चिकित्सा देने की आवश्यकता है। आपको बता दें कि एसोफेजेल वैरिस एसोफैगस में बढ़ी हुई नसों हैं। यह अक्सर पोर्टल शिरा के माध्यम से बाधित रक्त प्रवाह के कारण होते हैं, जो आंत, अग्न्याशय (pancreas) और प्लीहा (spleen) से लीवर तक रक्त ले जाती है। एसोफैगल वेरिस असामान्य, ट्यूब में बढ़े हुए नस होते हैं जो गले और पेट (ग्रासनली) को जोड़ते हैं। इस दौरान तत्काल चिकित्सा में निम्नलिखित प्रक्रियाएं मदद कर सकती हैं:

बैंडिंग Banding : रक्तस्राव को नियंत्रित करने के लिए वैरिकाज़ (varicose) के आधार के चारों ओर एक छोटा बैंड लगाया जाता है।

इंजेक्शन स्क्लेरोथेरेपी Injection Sclerotherapy : एंडोस्कोपी के बाद, एक पदार्थ को वेरिस में इंजेक्ट किया जाता है, जो रक्त के थक्के और निशान ऊतक को बनाने के लिए ट्रिगर करता है। यह रक्तस्राव को रोकने में मदद करता है। 

एक गुब्बारे के साथ एक सेंगस्टेकन-ब्लेकमोर ट्यूब A Sengstaken-Blakemore tube with a balloon : एक “सेंगस्टेकन-ब्लेकमोर ट्यूब” एक ट्यूब है जिसका उपयोग आपातकालीन चिकित्सा में रोगी के पेट या अन्नप्रणाली में रक्तस्राव को रोकने के लिए किया जाता है। ट्यूब को लगाने के लिए जिस तकनीक का इस्तेमाल किया जाता है उसे बैलून टैम्पोनैड कहा जाता है। लीवर सिरोसिस होने पर यदि एंडोस्कोपी रक्तस्राव को नहीं रोकता है, तो ट्यूब रोगी के गले से नीचे और उनके पेट में चली जाती है। गुब्बारा फुलाया जाता है। यह वैरिकाज़ पर दबाव डालता है और रक्तस्राव को रोकता है।

ट्रांसजुगुलर इंट्राहेपेटिक पोर्टोसिस्टमिक स्टेंट शंट (टीआईपीएसएस) Transjugular Intrahepatic Portosystemic Stent Shunt (TIPSS) : यदि ऊपर वर्णित उपचार रक्तस्राव को नहीं रोकते हैं, तो पोर्टल और हेपेटिक नसों में शामिल होने के लिए लीवर में एक धातु ट्यूब डाली जाती है, जिससे रक्त प्रवाह के लिए एक नया मार्ग बन जाता है। यह उस दबाव को कम करता है जो वैरायटी पैदा कर रहा था। 

लीवर सिरोसिस होने पर अन्य जटिलताओं के होने की आशंका बनी रहती है जिसके बारे में हम पहले ही ऊपर बात कर चुके हैं। इस दौरान जटिलताएँ होने पर रोगी का उपचार निम्नलिखित उपचार से किया जा सकता है :- 

संक्रमण Infection : रोगी को होने वाले किसी भी संक्रमण के लिए एंटीबायोटिक दवाएं दी जाएंगी।

लीवर कैंसर के लिए स्क्रीनिंग Screening for liver cancer : सिरोसिस के मरीजों में लीवर कैंसर होने का खतरा बहुत अधिक होता है। डॉक्टर नियमित रक्त परीक्षण और इमेजिंग स्कैन की सिफारिश कर सकते हैं। लीवर कैंसर होने पर उसका उपचार जल्द से जल्द शुरू किया जाता है। 

हेपेटिक एन्सेफैलोपैथी, या उच्च रक्त विष स्तर Hepatic encephalopathy, or high blood toxin levels : दवाएं अत्यधिक रक्त विष के स्तर का इलाज करने में मदद कर सकती हैं।

किडनी फेल्योर Kidney failure : लीवर सिरोसिस होने पर अक्सर रोगियों को किडनी से जुड़ी समस्याएँ और किडनी खराब होने की आशंका बनी रहती है। ऐसे में दोनों का साथ में उपचार किया जाता है। 

लीवर सिरोसिस से बचाव कैसे किया जा सकता है? How can liver cirrhosis be prevented? 

आप अभी तक इस बारे में जान ही चुके हैं कि लीवर सिरोसिस कितना गंभीर रोग है और इसकी वजह से कितनी समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है। तो ऐसे में सबसे बेहतर है कि इस रोग को होने से पहले ही रोका जाए। तो अगर आप नहीं चाहते कि आप कभी भी लीवर से जुड़ी किसी भी समस्या या रोग की चपेट में आए तो इसके लिए आप निम्नलिखित उपायों पर काम कर सकते हैं :- 

शराब से दूरी बनाएं – अगर आप बहुत ज्यादा शराब पीते हैं तो कोशिश करें कि इसे पीना छोड़ दें या महीने में एक से दो बार ही लें। 

वजन कम करें – अगर आप बहुत मोटे हैं तो ऐसे में आपको कोशिश करनी चाहिए कि अपना वजन कम करें, नहीं तो इसकी वजह से आपको फैटी लीवर की समस्या हो सकती है। 

उच्च ट्राइग्लिसराइड्स और मधुमेह को निरंत्रित करें – अगर आप इन दोनों समस्याओं से जूझ रहे हैं तो आपको इन्हें नियंत्रण में रखना चाहिए। अगर आपने ऐसा नहीं किया तो इसकी वजह से भी आपको फैटी लीवर की समस्या हो सकती है जो कि भविष्य में लीवर सिरोसिस का कारण बन सकता है। 

स्वस्थ भोजन लें – खाने की गलत आदतों की वजह से लीवर से जुड़ी समस्याएँ हो सकती है। ऐसे में हमेशा ताज़ा खाना ही लेना चाहिए। 

खुद को हेपेटाइटिस बी और सी से बचा कर रखें, जिसके लिए आप निम्नलिखित सावधानियां बरत सकते हैं :- 

  1. सेक्स करते समय कंडोम का प्रयोग करें।

  2. नशा करने के लिए इस्तेमाल की जाने वाली इंजेक्शन सुइयों को साझा न करें।

  3. हेपेटाइटिस बी से संक्रमित होने पर टिका लगवाएं।  


    इन उपायों के अलावा भी आप अन्य खास उपायों के लिए डॉक्टर से भी सलाह ले सकते हैं।

Get our Newsletter

Filter out the noise and nurture your inbox with health and wellness advice that's inclusive and rooted in medical expertise.

Your privacy is important to us

MEDICAL AFFAIRS

CONTENT INTEGRITY

NEWSLETTERS

© 2022 Medtalks