पित्त का कैंसर, दुर्लभ लेकिन गंभीर – कारण, लक्षण, और उपचार | Gallbladder Cancer in Hindi

पित्त का कैंसर, दुर्लभ लेकिन गंभीर – कारण, लक्षण, और उपचार 

वक्त के साथ-साथ कैंसर जैसी गंभीर बीमारी भी काफी गंभीर होती जा रही है, लेकिन फिर भी तमाम प्रकार के कैंसर का कोई सटीक इलाज तक मौजूद नहीं है जिसकी मदद से कैंसर को हमेशा के लिए जड़ से खत्म किया जा सके। यह मसला न केवल सामान्य कैंसर के साथ है बल्कि दुर्लभ कैंसर के साथ भी कुछ ऐसा ही है, जिसकी वजह से दुर्लभ कैंसर और भी ज्यादा गंभीर हो जाते हैं। पित्ताशय का कैंसर भी एक दुर्लभ कैंसर की श्रेणी में आता है जो कि काफी गंभीर है क्योंकि इसकी पहचान कर पाना काफी मुश्किल होता है। इसके साथ ही पित्त की थैली में बने कैंसर के बारे में कम जानकारी के चलते भी यह और भी गंभीर हो जाता है। इस लेख के लिए आप पित्त की थैली यानि पित्ताशय के कैंसर के बारे में जानकारी प्राप्त कर सकते हैं। इस लेख में पित्त के कैंसर के कारण, पित्त के कैंसर के लक्षण, पित्त के कैंसर के स्टेज और सबसे जरूरी इस गंभीर कैंसर के इलाज के बारे में जानकारी प्राप्त कर सकते हैं। 

पित्त का कैंसर क्या है? What is gallbladder cancer?

पित्ताशय की थैली में हुई कैंसर कोशिकाओं की असामान्य वृधि को पित्त का कैंसर या पित्ताशय का कैंसर कहा जाता है। पित्त का कैंसर काफी दुर्लभ है इसलिए इसकी पहचान कर पाना काफी मुश्किल होता है। पित्त की थैली एक नाशपाती के सामान दिखाई देती है और यह पेट पेट की दाईं ओर लिवर के नीचे स्थित होती है। पित्त की थैली, लीवर द्वारा बनाए गये पाचन तरल उत्पाद को संग्रहित करती है। 

जब पित्ताशय की थैली के कैंसर का पता उसके शुरुआती चरणों में लगाया जाता है, तो इलाज की संभावना बहुत अच्छी होती है। लेकिन अधिकांश पित्ताशय की थैली के कैंसर का पता देर से चलता है, जब तक कैंसर की पहचान की जाती है तब तक स्थिति काफी खराब हो चुकी होती है। 

पित्ताशय की थैली के कैंसर की खोज तब तक नहीं की जा सकती जब तक कि यह उन्नत न हो जाए क्योंकि यह अक्सर कोई विशिष्ट लक्षण या लक्षण नहीं पैदा करता है। इसके अलावा, पित्ताशय की थैली की अपेक्षाकृत छिपी प्रकृति पित्ताशय की थैली के कैंसर का पता लगाए बिना बढ़ना आसान बनाती है।

पित्ताशय की थैली के कैंसर के लक्षण क्या हैं? What are the symptoms of gallbladder cancer? 

स्पष्ट लक्षणों की कमी के कारण पित्ताशय की थैली के कैंसर का जल्दी पता लगाना मुश्किल होता है और क्योंकि जब लक्षण दिखाई देते हैं, तो वे अन्य, कम गंभीर स्थितियों के समान होते हैं। इसके अलावा, पित्ताशय की थैली का स्थान कैंसर का पता लगाना अधिक कठिन बना देता है। निम्नलिखित लक्षण पित्ताशय की थैली के कैंसर के लक्षण हो सकते हैं:

  1. पीलिया (त्वचा का पीला पड़ना और आंखों का पीला सफेद होना)।

  2. पेट क्षेत्र के ऊपर दर्द।

  3. बुखार।

  4. मतली और उल्टी।

  5. सूजन।

  6. पेट की गांठें। 

  7. उपरोक्त लक्षणों के साथ कमजोरी। 

पित्त की थैली के कैंसर के कारण क्या हैं?

फ़िलहाल तक इस बारे में कोई सटीक जानकारी नहीं है कि पित्ताशय की थैली में कैंसर क्यों होता है, इस विषय में फ़िलहाल शोध जारी है। 

हाँ लेकिन, डॉक्टर इस बारे में जानते हैं कि पित्ताशय की थैली का कैंसर तब बनता है। चिकित्सकों के अनुसार जब पित्ताशय की थैली की स्वस्थ कोशिकाएं अपने DNA में परिवर्तन (म्यूटेशन – mutations) विकसित करती हैं। एक सेल के DNA में निर्देश होते हैं जो एक सेल को बताते हैं कि क्या करना है। परिवर्तन कोशिकाओं को नियंत्रण से बाहर होने और अन्य कोशिकाओं के सामान्य रूप से मरने पर जीवित रहने के लिए कहते हैं। संचित कोशिकाएं एक ट्यूमर बनाती हैं जो पित्ताशय की थैली से आगे बढ़ सकती है और शरीर के अन्य क्षेत्रों में फैल सकती है।

अधिकांश पित्ताशय की थैली का कैंसर ग्रंथियों की कोशिकाओं में शुरू होता है जो पित्ताशय की थैली की आंतरिक सतह को रेखाबद्ध करती हैं। इस प्रकार की कोशिका में शुरू होने वाले पित्ताशय की थैली के कैंसर को एडेनोकार्सिनोमा (adenocarcinoma) कहा जाता है। यह शब्द उस तरह से संदर्भित करता है जिस तरह से माइक्रोस्कोप (microscope) के तहत जांच करने पर कैंसर कोशिकाएं दिखाई देती हैं।

क्या पित्ताशय की थैली का कैंसर शरीर के अन्य क्षेत्रों में फैल सकता है? Can gallbladder cancer spread to other areas of the body? 

हाँ, पित्ताशय का कैंसर शरीर अन्य हिस्सों में भी फ़ैल सकता है, इसे मेटास्टेसिस (metastasis) के नाम से जाना जाता है। कैंसर निम्नलिखित कुछ चीजों की मदद से शरीर के बाकी हिस्सों में फ़ैल सकता है :- 

  1. ऊतक Tissue :- कैंसर आस-पास के क्षेत्रों में बढ़ता है।

  2. लसीका प्रणाली Lymph system :- कैंसर लसीका वाहिकाओं के माध्यम से अन्य क्षेत्रों में जाता है।

  3. रक्त Blood :- कैंसर रक्त वाहिकाओं के माध्यम से अन्य क्षेत्रों में जाता है।

कैंसर का नाम वहीं रखा गया है जहां से उन्होंने शुरुआत की थी। यदि आपके लीवर में कैंसर है जो आपके पित्ताशय की थैली में शुरू हुआ है, तो इसे मेटास्टेटिक पित्ताशय की थैली का कैंसर (metastatic gallbladder cancer) कहा जाता है।

पित्त की थैली के कैंसर के कितने चरण होते हैं? How many stages are there of gallbladder cancer?

कैंसर के बारे में सबसे बड़ी चिंताओं में से एक यह है कि क्या यह अपने मूल (प्राथमिक) स्थान से परे फैल गया है (मेटास्टेसाइज्ड – metastasized)। प्रसार की मात्रा निर्धारित करने के लिए, आपका डॉक्टर निदान के लिए एक संख्या (शून्य से पांच तक) निर्दिष्ट करेगा। इस प्रक्रिया को मंचन कहा जाता है; संख्या जितनी अधिक होगी, कैंसर आपके पूरे शरीर में उतना ही अधिक फैल गया है। पित्ताशय की थैली के कैंसर के 5 चरण होते हैं जो कि निमं वर्णित हैं : -

चरण 0 (जिसे कार्सिनोमा इन सीटू भी कहा जाता है) :- कैंसर पित्ताशय की थैली की श्लेष्मा (आंतरिक) परत तक ही सीमित होता है।

चरण 1 :- कैंसर मांसपेशियों की परत तक फैल गया है।

चरण 2 :- कैंसर मांसपेशियों की परत से परे संयोजी ऊतक परत तक फैल गया है।

चरण 3 :- कैंसर यकृत या उसके आस-पास के अंगों, या बाहरी परत (सीरोसल) और संभवतः लिम्फ नोड्स में चला गया है।

चरण 4 :- कैंसर तीन से अधिक आसन्न लिम्फ नोड्स, आस-पास के जहाजों और/या उन अंगों में चला गया है जो पित्ताशय की थैली से दूर स्थित हैं।

क्या पित्ताशय की थैली का कैंसर वंशानुगत (विरासत में मिला) है? Is gallbladder cancer hereditary (inherited)? 

नहीं, पित्ताशय की थैली का कैंसर वंशानुगत नहीं माना जाता है। अभी इस बारे में शोध जारी है लेकिन अब तक ऐसा कोई मामला सामने नहीं आया है जिससे इसकी पुष्टि हो सके कि पित्त का कैंसर वंशानुगत होता है। हालाँकि, कुछेक कैंसर हैं जो कि विरासत में मिल सकते हैं जिसमें स्तन कैंसर, पेट का कैंसर और अंडाशीय कैंसर आम है। 

क्या गॉलब्लैडर कैंसर को गॉल स्टोन समझ लिया जा सकता है? Can gallbladder cancer be mistaken for gallstones? 

पित्ताशय की पथरी और पित्ताशय की थैली का कैंसर दोनों आपके ऊपरी दाहिने पेट में दर्द पैदा कर सकते हैं, जहाँ आपकी पित्ताशय की थैली स्थित है। कभी-कभी पित्ताशय की थैली के कैंसर का पता तब चलता है जब कोई डॉक्टर पित्त पथरी का निदान कर रहा हो।

क्या पित्ताशय की थैली का कैंसर घातक है? जीवित रहने की दर क्या है? Is gallbladder cancer fatal? What’s the survival rate? 

पित्ताशय की थैली का कैंसर आमतौर पर तब तक नहीं पाया जाता जब तक कि यह बाद के चरण में न हो। एक अध्ययन में पाया गया कि 43 प्रतिशत पित्ताशय की थैली के कैंसर का निदान कैंसर के आस-पास के अंगों या लिम्फ नोड्स में फैलने के बाद किया गया था, और 42 प्रतिशत कैंसर दूर के अंगों या लिम्फ नोड्स में फैलने के बाद पाया गया था। क्योंकि यह अक्सर देर से पाया जाता है, शरीर के अन्य क्षेत्रों में फैलने के बाद, पित्ताशय की थैली का कैंसर घातक हो सकता है।

पित्त के कैंसर के क्या जोखिम कारक है? What are the risk factors for gall cancer? 

पित्ताशय की थैली के कैंसर के खतरे को बढ़ाने वाले कारकों में शामिल हैं:

  • महिला होना Being female :- पित्ताशय की थैली का कैंसर महिलाओं में अधिक आम है।

  • आपकी उम्र Your age :- उम्र बढ़ने के साथ आपके पित्ताशय की थैली के कैंसर का खतरा बढ़ जाता है।

  • पथरी का इतिहास A history of gallstones :- पित्ताशय की थैली का कैंसर उन लोगों में सबसे आम है जिनके पास पित्त पथरी है या अतीत में पित्त पथरी है। बड़े पित्त पथरी में बड़ा जोखिम हो सकता है। फिर भी, पित्त पथरी बहुत आम है और इस स्थिति वाले लोगों में भी पित्ताशय की थैली का कैंसर बहुत दुर्लभ है।

  • अन्य पित्ताशय की थैली रोग और स्थितियां Other gallbladder diseases and conditions :- अन्य पित्ताशय की थैली की स्थिति जो पित्ताशय की थैली के कैंसर के खतरे को बढ़ा सकती है उनमें पॉलीप्स, पुरानी सूजन और संक्रमण शामिल हैं।

  • पित्त नलिकाओं की सूजन Inflammation of the bile ducts :- प्राइमरी स्क्लेरोजिंग हैजांगाइटिस, जो पित्ताशय की थैली और यकृत से पित्त निकालने वाली नलिकाओं की सूजन का कारण बनता है, पित्ताशय की थैली के कैंसर के खतरे को बढ़ाता है।

पित्ताशय के कैंसर का निदान कैसे किया जाता है? How is gallbladder cancer diagnosed?

पित्ताशय की थैली के कैंसर का निदान करने के लिए इस्तेमाल की जाने वाली टेस्ट और प्रक्रियाओं में निमं वर्णित शामिल हैं :- 

रक्त परीक्षण Blood Test :- आपके जिगर के कार्य का मूल्यांकन करने के लिए रक्त परीक्षण आपके डॉक्टर को यह निर्धारित करने में मदद कर सकता है कि आपके लक्षण और लक्षण क्या हैं।

पित्ताशय की थैली की छवियों को बनाने की प्रक्रिया Procedures to create images of the gallbladder :- इमेजिंग टेस्ट जो पित्ताशय की थैली की तस्वीरें बना सकते हैं उनमें अल्ट्रासाउंड, कम्प्यूटरीकृत टोमोग्राफी (सीटी) और चुंबकीय अनुनाद इमेजिंग (एमआरआई) शामिल हैं।

पित्ताशय की थैली के कैंसर की सीमा का निर्धारण करने के लिए जांच निम्नलिखित है Following are the tests to determine the extent of gallbladder cancer :- 

एक बार जब आपका डॉक्टर आपके पित्ताशय की थैली के कैंसर का निदान कर लेता है, तो वह आपके कैंसर की सीमा यानी चरण का पता लगाने के लिए काम करता है। आपके पित्ताशय की थैली के कैंसर का चरण आपके रोग का निदान और आपके उपचार के विकल्पों को निर्धारित करने में मदद करता है।

पित्ताशय की थैली के कैंसर को चरणबद्ध करने के लिए उपयोग किए जाने वाले परीक्षणों और प्रक्रियाओं में निमं शामिल हैं :- 

खोजपूर्ण सर्जरी Exploratory surgery :- पित्ताशय की थैली का कैंसर फैल गया है, इसके संकेतों के लिए आपका डॉक्टर आपके पेट के अंदर देखने के लिए सर्जरी की सिफारिश कर सकता है। लैप्रोस्कोपी नामक एक प्रक्रिया में, सर्जन आपके पेट में एक छोटा चीरा लगाता है और एक छोटा कैमरा सम्मिलित करता है। कैमरा सर्जन को आपके पित्ताशय की थैली के आसपास के अंगों की जांच करने की अनुमति देता है ताकि कैंसर फैल गया हो।

पित्त नलिकाओं की जांच के लिए टेस्ट Tests to examine the bile ducts :- आपका डॉक्टर पित्त नलिकाओं में डाई लगाने के लिए प्रक्रियाओं की सिफारिश कर सकता है। इसके बाद एक इमेजिंग टेस्ट होता है जो रिकॉर्ड करता है कि डाई कहां जाती है। ये परीक्षण पित्त नलिकाओं में रुकावट दिखा सकते हैं।

इन परीक्षणों में चुंबकीय अनुनाद कोलेजनोग्राफी और एंडोस्कोपिक रेट्रोग्रेडेड कोलांगियोपैंक्रेटोग्राफी (ईआरसीपी – ERCP) शामिल हो सकते हैं।

अतिरिक्त इमेजिंग परीक्षण Additional imaging tests :- पित्ताशय की थैली के कैंसर वाले अधिकांश लोगों को यह निर्धारित करने में मदद करने के लिए स्कैन की एक श्रृंखला से गुजरना होगा कि क्या कैंसर फैल गया है या स्थानीय बना हुआ है। आपकी परिस्थितियों के आधार पर कौन सा स्कैन किया जाना चाहिए, यह अलग-अलग होता है। सामान्य स्कैन में पेट और छाती का सीटी और एमआरआई स्कैन शामिल होता है। 

आपका डॉक्टर आपके कैंसर को एक चरण निर्धारित करने के लिए इन प्रक्रियाओं की जानकारी का उपयोग करता है। पित्ताशय की थैली के कैंसर के चरण 0 से 4 तक होते हैं। शुरुआती चरण एक कैंसर का संकेत देते हैं जो पित्ताशय की थैली तक ही सीमित है। बाद के चरण अधिक उन्नत कैंसर का संकेत देते हैं जो आस-पास के अंगों को शामिल करने के लिए बढ़ गया है या शरीर के अन्य क्षेत्रों में फैल गया है। 

पित्ताशय के कैंसर का इलाज कैसे किया जाता है? How is gallbladder cancer treated?

आपके लिए कौन से पित्ताशय की थैली के कैंसर के उपचार के विकल्प उपलब्ध हैं, यह आपके कैंसर के स्तर, आपके समग्र स्वास्थ्य और आपकी प्राथमिकताओं पर निर्भर करेगा।

उपचार का प्रारंभिक लक्ष्य पित्ताशय की थैली के कैंसर को दूर करना होता है, लेकिन जब यह संभव नहीं होता है, तो अन्य उपचार रोग के प्रसार को नियंत्रित करने और आपको यथासंभव आरामदायक रखने में मदद कर सकते हैं। इस गंभीर और दुर्लभ कैंसर का इलाज निम्न वर्णित तरीकों से किया जा सकता है :- 

प्रारंभिक चरण के पित्ताशय की थैली के कैंसर के लिए सर्जरी Surgery for early-stage gallbladder cancer 

यदि आपके पास प्रारंभिक चरण के पित्ताशय की थैली का कैंसर है तो सर्जरी एक विकल्प हो सकता है। विकल्पों में शामिल हैं:

पित्ताशय की थैली को हटाने के लिए सर्जरी Surgery to remove the gallbladder :- प्रारंभिक पित्ताशय की थैली का कैंसर जो पित्ताशय की थैली तक ही सीमित है, पित्ताशय की थैली (कोलेसिस्टेक्टोमी – cholecystectomy) को हटाने के लिए एक ऑपरेशन के साथ इलाज किया जाता है। 

पित्ताशय की थैली और लीवर के एक हिस्से को निकालने के लिए सर्जरी Surgery to remove the gallbladder and a portion of the liver :- पित्ताशय की थैली का कैंसर जो पित्ताशय की थैली से परे और लीवर में फैलता है, कभी-कभी पित्ताशय की थैली को हटाने के लिए सर्जरी के साथ इलाज किया जाता है, साथ ही साथ यकृत यानी लीवर और पित्त नलिकाओं के हिस्से जो पित्ताशय की थैली को घेरते हैं।

यदि आपका पित्ताशय की थैली का कैंसर बहुत छोटा है और कोलेसिस्टेक्टोमी (cholecystectomy) से पूरी तरह से हटाया जा सकता है, तो आपको अतिरिक्त उपचार की आवश्यकता नहीं हो सकती है। यदि कोई जोखिम है कि सर्जरी के बाद भी कैंसर कोशिकाएं बनी रह सकती हैं, तो आपका डॉक्टर कीमोथेरेपी या अन्य उपचारों की सिफारिश कर सकता है।

कीमोथेरपी Chemotherapy 

कीमोथेरेपी कैंसर कोशिकाओं सहित तेजी से बढ़ती कोशिकाओं को मारने के लिए दवाओं का उपयोग करती है। कीमोथेरेपी आपके हाथ की नस के माध्यम से, गोली के रूप में या दोनों में दी जा सकती है।

सर्जरी के बाद कीमोथेरेपी की सिफारिश की जा सकती है यदि कोई जोखिम है कि कुछ पित्ताशय की थैली कैंसर कोशिकाएं रह सकती हैं। यदि सर्जरी का कोई विकल्प नहीं है तो इसका उपयोग कैंसर को नियंत्रित करने के लिए भी किया जा सकता है।

विकिरण उपचार Radiation therapy 

विकिरण चिकित्सा कैंसर कोशिकाओं को मारने के लिए ऊर्जा के उच्च शक्ति वाले बीम, जैसे एक्स-रे और प्रोटॉन का उपयोग करती है। ऊर्जा पुंज एक मशीन से आती है जो टेबल पर लेटते ही आपके चारों ओर घूमती है। यदि कैंसर को पूरी तरह से हटाया नहीं जा सकता है, तो पित्ताशय की थैली के कैंसर के लिए सर्जरी के बाद विकिरण चिकित्सा को कभी-कभी कीमोथेरेपी के साथ जोड़ा जाता है। विकिरण चिकित्सा पित्ताशय की थैली के कैंसर को भी नियंत्रित कर सकती है जो सर्जरी का विकल्प नहीं होने पर दर्द पैदा कर रहा है।

लक्षित दवा चिकित्सा Targeted drug therapy 

लक्षित दवा उपचार कैंसर कोशिकाओं के भीतर मौजूद विशिष्ट कमजोरियों पर ध्यान केंद्रित करते हैं। इन कमजोरियों को रोककर, लक्षित दवा उपचार कैंसर कोशिकाओं को मरने का कारण बन सकते हैं। उन्नत पित्ताशय की थैली के कैंसर वाले लोगों के लिए लक्षित दवाएं एक विकल्प हो सकती हैं। आपका डॉक्टर यह देखने के लिए आपके कैंसर कोशिकाओं का परीक्षण कर सकता है कि आपके लिए कौन सी लक्षित दवाएं काम कर सकती हैं।

इम्यूनोथेरेपी Immunotherapy

इम्यूनोथेरेपी एक दवा उपचार है जो आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली को कैंसर से लड़ने में मदद करता है। आपके शरीर की रोग से लड़ने वाली प्रतिरक्षा प्रणाली कैंसर पर हमला नहीं कर सकती है क्योंकि कैंसर कोशिकाएं प्रोटीन उत्पन्न करती हैं जिससे प्रतिरक्षा प्रणाली की कोशिकाओं के लिए कैंसर कोशिकाओं को खतरनाक के रूप में पहचानना मुश्किल हो जाता है। इम्यूनोथेरेपी उस प्रक्रिया में हस्तक्षेप करके काम करती है। उन्नत पित्ताशय की थैली के कैंसर के इलाज के लिए इम्यूनोथेरेपी एक विकल्प हो सकता है।

क्या पित्ताशय की थैली की सर्जरी के कोई दुष्प्रभाव हैं? Are there any side effects of gallbladder surgery?

सर्जरी हमेशा जोखिम के साथ आती है जिसका आपको खास ख्याल रखना चाहिए। पित्त की थैली की सर्जरी के बाद संभावित जोखिम होने की आशंका बनी रहती है :- 

  1. अतिरिक्त रक्तस्राव।

  2. रक्त के थक्के।

  3. न्यूमोनिया।

  4. संज्ञाहरण से जटिलताओं।

  5. संक्रमण।

मैं पित्ताशय की थैली के कैंसर को कैसे रोक सकता हूँ? How can I prevent gallbladder cancer?

पित्ताशय की थैली के कैंसर को रोका नहीं जा सकता। इसका सबसे बड़ा कारण ये है कि अभी तक पित्त की थैली में कैंसर होने के कारण के विषय में फ़िलहाल कोई पुष्ट जानकारी नहीं है। हाँ लेकिन, आप पित्ताशय की थैली के कैंसर के कुछ जोखिम कारकों से बचने की पूरी कोशिश कर सकते हैं। आप अच्छी तरह से खाने और स्वस्थ वजन बनाए रखने की कोशिश कर सकते हैं। लेकिन इस बात की कोई गारंटी नहीं है कि आपके कार्यों से इसे रोका जा सकेगा। 

Get our Newsletter

Filter out the noise and nurture your inbox with health and wellness advice that's inclusive and rooted in medical expertise.

Your privacy is important to us

MEDICAL AFFAIRS

CONTENT INTEGRITY

NEWSLETTERS

© 2022 Medtalks