ADHD के बारे में सब जाने – लक्षण, कारण और प्रकार | Medtalks

ADHD के बारे में सब जाने – लक्षण, कारण और प्रकार | Medtalks

ADHD के बारे में सब जाने – लक्षण, कारण और प्रकार

बच्चों को अक्सर कोई न कोई शारीरिक समस्या हो ही जाती है। कुछ समस्याएँ ऐसी होती है जो कि कुछ ही समय में उचित उपचार मिलने के बाद ठीक हो जाती है, लेकिन कुछ शारीरिक समस्याएँ ऐसी भी है जो कि उम्र भर साथ रहती है। उम्र भर साथ रहने वाली समस्याओं में सबसे गंभीर ADHD – एडीएचडी है। ADHD यानि अटेंशन डेफिसिट हाइपरएक्टिविटी डिसऑर्डर है जो कि एक चिकित्सीय स्थिति है। जो लोग एडीएचडी से जूझते हैं उनके मस्तिष्क के विकास और मस्तिष्क की गतिविधि में सामान्य व्यक्ति के मुकाबले काफी अंतर होता है, आम भाषा में कहा जाए तो मस्तिष्क का विकास ठीक से नहीं हो पाता। ADHD से जूझने वाले लोगों को ध्यान लगाने, स्थिर बैठने, ठीक से चलने की क्षमता और आत्म-नियंत्रण प्रभावित रहता है, साथ ही ऐसे बच्चों को दूसरों से दोस्ती करने और किसी के साथ घुलने मिलने में भी समस्या होती है। 

ऐसे बहुत से बच्चे हैं जो कि ADHD से जूझ रहे हैं, लेकिन उन्हें और उनके माता-पिता को इस बारे में कोई जानकारी नहीं है,। इसका एक ही कारण है जानकारी का अभाव। चलिए ADHD के बारे में विस्तार से जानते हैं। 

एडीएचडी के लक्षण क्या है? What are the symptoms of ADHD?

बच्चों को कभी न कभी ध्यान केंद्रित करने और ठीक से व्यवहार करने में परेशानी होना सामान्य बात है। हालांकि, ADHD वाले बच्चे न केवल इन व्यवहारों से बढ़ते हैं। यह शारीरिक समस्या होने पर इसके लक्षण उम्र भर जारी रह सकते हैं, लक्षण गंभीर से सामान्य हो सकते हैं, और स्कूल में, घर पर या दोस्तों के साथ कठिनाई पैदा कर सकते हैं।  इसके अलावा निम्नलिखित लक्षण भी दिखाई दे सकते हैं :- 

  • कल्पना, सपनो और ख्यालों में खोएं रहना 

  • काफी बार चीजों को भूल जाना 

  • फुसफुसाहट और फिजूलखर्ची ज्यादा करना 

  • बहुत अधिक बोलना या बिलकुल न बोलना

  • लापरवाह गलतियाँ करें या अनावश्यक जोखिम उठाएं

  • प्रलोभन का विरोध करने में कठिनाई होना

  • मोड़ लेने में परेशानी होती है

  • दूसरों के साथ मिलने में कठिनाई होती है

चलिए अब एडीएचडी में दिखाई देने वालें लक्षणों को और करीब से जानते हैं :- 

असावधानी Inattentiveness – एडीएचडी होने पर अक्सर असावधानी महसूस हो सकती हैं, जिसमे निम्नलिखित लक्षण दिखाई दे सकते हैं :-

  • कम ध्यान अवधि होना और आसानी से विचलित होना

  • भुलक्कड़ दिखना या चीजों को खोना

  • लगातार बदलती गतिविधि या कार्य

  • थकाऊ या समय लेने वाले कार्यों से चिपके रहने में असमर्थ होना

  • निर्देशों को सुनने या पालन करने में असमर्थ प्रतीत होना

  • कार्यों को व्यवस्थित करने में कठिनाई होना

  • लापरवाह गलतियाँ करना – उदाहरण के लिए, स्कूल के काम में

अति सक्रियता और आवेग Hyperactivity and impulsiveness – एडीएचडी होने पर व्यक्ति ज्यादा सक्रिय हो सकता है और वह बहुत जल्द आवेग में आ सकते हैं। लक्षण बच्चे के जीवन में महत्वपूर्ण समस्याएं पैदा कर सकते हैं। जिसके मुख्य लक्षण निम्नलिखित हैं :-

  • लगातार फिजूलखर्ची

  • अत्यधिक शारीरिक हलचल

  • अत्यधिक बात करना

  • बिना सोचे समझे अभिनय

  • बातचीत में बाधा डालना

  • खतरे का कम या कोई आभास नहीं

  • स्थिर बैठने में असमर्थ होना, विशेष रूप से शांत या शांत वातावरण में

  • कार्यों पर ध्यान केंद्रित करने में असमर्थ होना

  • अपनी बारी का इंतजार करने में असमर्थ होने के कारण

एडीएचडी होने पर वयस्कों में दिखाई देने वाले लक्षण – वयस्कों में, एडीएचडी के लक्षणों को परिभाषित करना अधिक कठिन होता है। यह काफी हद तक एडीएचडी वाले वयस्कों में शोध की कमी के कारण है। जैसा कि एडीएचडी एक विकासात्मक विकार है, ऐसा माना जाता है कि यह वयस्कों में विकसित नहीं हो सकता है जब तक कि यह पहली बार बचपन के दौरान प्रकट न हो। इस दौरान निम्नलिखित लक्षण दिखाई देते हैं :- 

  • लापरवाही और ध्यान देने की कमी

  • खराब संगठनात्मक कौशल

  • चीजों को लगातार खोना या गलत स्थान पर रखना

  • विस्मृति होने की समस्या 

  • बेचैनी और तीक्ष्णता होना 

  • चुप रहने में कठिनाई, और बार-बार या बारी-बारी से बोलना

  • मिजाज, चिड़चिड़ापन और तेज गुस्सा

  • तनाव से निपटने में असमर्थता

  • अत्यधिक अधीरता होने की समस्या 

  • पुराने कार्यों को पूरा करने से पहले लगातार नए कार्य को शुरू करना

  • ध्यान केंद्रित करने या प्राथमिकता देने में असमर्थता

  • गतिविधियों में जोखिम लेना, अक्सर व्यक्तिगत सुरक्षा या दूसरों की सुरक्षा के लिए बहुत कम या कोई ध्यान नहीं देना। उदाहरण के लिए – खतरनाक तरीके से गाड़ी चलाना

एडीएचडी होने के क्या कारण है? What Causes ADHD?

एडीएचडी के कारण और जोखिम कारक अज्ञात हैं, फ़िलहाल तक इसके मूल कारणों के बारे में कोई जानकारी नहीं है। लेकिन वर्तमान समय में कुछ जारी शोधों से जानकारी मिली है कि एडीएचडी होने का मूल कारण आनुवंशिकी हैं। अब तक किये गये शोधों के अनुसार एडीएचडी होने के मुख्य कारण निम्नलिखित :- 

  • दिमाग की चोट

  • जन्म के बाद मस्तिष्क का ठीक से विकास न होना

  • समय से पहले डिलीवरी 

  • जन्म के समय कम वजन

  • बच्चे को मिरगी के दौरे आना 

  • अगर परिवार में पहले किसी को एडीएचडी की समस्या है तो बच्चे को होना 

  • गर्भावस्था के दौरान मस्तिष्क ठीक से विकसित न होना

  • गर्भावस्था के दौरान शराब और तंबाकू का सेवन

  • गर्भावस्था के दौरान या कम उम्र में पर्यावरणीय जोखिमों के संपर्क में आना

क्या एडीएचडी के कई प्रकार है? Are there many types of ADHD?

हाँ, एडीएचडी यानि अटेंशन डेफिसिट हाइपरएक्टिविटी डिसऑर्डर तीन प्रकार का होता हैं, जिन्हें निम्न वर्णित किया गया है। 

असावधान Inattentive – इसमें व्यक्ति के लिए किसी कार्य को व्यवस्थित करना या समाप्त करना, विवरणों पर ध्यान देना, या निर्देशों या वार्तालापों का पालन करना कठिन होता है। व्यक्ति आसानी से विचलित हो जाता है या दैनिक दिनचर्या का विवरण भूल जाता है। इस दौरान निम्नलिखित लक्षण दिखाई दे सकते हैं :- 

  • जल्दी ऊब जाना 

  • किसी बात को न सुनना 

  • निर्देशों का पालन करने में परेशानी होती है

  • किसी एक कार्य पर ध्यान केंद्रित करने में परेशानी होती है

  • विचारों को व्यवस्थित करने और नई जानकारी सीखने में कठिनाई होती है

  • किसी कार्य को पूरा करने के लिए आवश्यक पेंसिल, कागज़ात या अन्य सामान खोना

  • धीरे-धीरे आगे बढ़ें और ऐसा प्रतीत हो जैसे वे दिवास्वप्न देख रहे हों

  • जानकारी को दूसरों की तुलना में अधिक धीरे और कम सटीक रूप से संसाधित करें

मुख्य रूप से अतिसक्रिय-आवेगी प्रस्तुति Predominantly Hyperactive-Impulsive Presentation – इस प्रकार के एडीएचडी को आवेग और अति सक्रियता के लक्षणों की विशेषता है। इस प्रकार के लोग असावधानी के लक्षण दिखाई दे सकते हैं, लेकिन रोगी में निम्नलिखित लक्षण भी दिखाई दे सकते हैं :- 

  • स्थिर बैठने में कठिनाई होना 

  • लगातार बात करना 

  • लगातार चलते रहना 

  • हमेशा अधीर बने रहना 

  • उत्तर और अनुचित टिप्पणियों को स्पष्ट रूप से प्रदर्शित करना करें 

  • हाथ में काम के लिए अनुपयुक्त होने पर भी वस्तुओं को छूना और खेलना

  • शांत गतिविधियों में शामिल होने में परेशानी होती है।

संयुक्त प्रस्तुति Combined Presentation – संयुक्त प्रस्तुति होने पर रोगी को एडीएचडी के उपरोक्त दो प्रकार के लक्षण दिखाई दे सकते हैं। इसके साथ ही यह लक्षण बढ़ भी सकते हैं और कम भी हो सकते हैं। 

Benefits of Breastfeeding In Hindi


एडीएचडी का निदान कैसे किया जाता है? How is ADHD diagnosed?

अगर आपको लगता है कि आपके बच्चे को एडीएचडी है, तो इस बारे में तुरंत एक पंजीकृत डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए। डॉक्टर अपनी जांच में बक्स की दृष्टि और श्रवण जांच कर सकते हैं और साथ ही बच्चे की मानसिक स्थिति की जांच भी कर सकते हैं, जिससे इस बात की पुष्टि की जा सके कि बच्चे में ADHD की समस्या है या नहीं। इस दौरान डॉक्टर बच्चे में लक्षणों की पहचान भी कर सकते हैं, जिसके लिए वह बच्चे को अपनी निगरानी में भी रख सकते हैं। 

निदान के दौरान अगर माता पिता डॉक्टर की ठीक से मदद करे और डॉक्टर को बच्चे की उचित जानकारी दें तो उससे उपचार में काफी सहायता मिलती है। अगर बच्चा स्कूल में जाता है तो इस दौरान अध्यापक भी उपचार में काफी सहायता प्रदान कर सकते हैं। लेकिन सबसे जरूरी है कि डॉक्टर को उचित और पूरी जानकारी प्रदान की जाए। 

बच्चे की जानकारी प्राप्त करने के बाद डॉक्टर निम्नलिखित चिकित्सीय जानकारी भी लेते हैं :- 

  • मधुमेह स्तर 

  • रक्तचाप की जानकारी 

  • रक्त संबंधित जांच 

  • पाचन तंत्र संबंधित जानकारी 

  • मस्तिष्क का MRI और CT-SCAIN 

इन सभी के अलावा डॉक्टर जरूरत पड़ने पर बच्चे की और भी कई जरूरी जांच करवा सकते हैं। 

एडीएचडी का इलाज कैसे किया जाता है? How is ADHD treated?

अगर बच्चे में एडीएचडी होने की पुष्टि होती है निम्नलिखित प्रकार से बच्चे का उपचार किया जा सकता है :- 

  • दवाएं –  यह मस्तिष्क की ध्यान देने, धीमा करने और अधिक आत्म-नियंत्रण का उपयोग करने की क्षमता को सक्रिय करता है।

  • व्यवहार चिकित्सा – चिकित्सक बच्चों को सामाजिक, भावनात्मक और नियोजन कौशल विकसित करने में मदद कर सकते हैं। 

  • अभिभावक कोचिंग – कोचिंग के माध्यम से बच्चों के प्रति माता-पिता के व्यवहार को बदलने की कोशिश की जाती है। क्योंकि अक्सर देखा गया है कि ऐसे बच्चों के साथ माता पिता और अन्य परिवार वाले ठीक से व्यवहार नहीं करते।

  • स्कूल का समर्थन – शिक्षक एडीएचडी वाले बच्चों पर ज्यादा ध्यान दे सकते हैं और उन्हें हमेशा खास और सभी के साथ घुलने-मिलने में मदद कर सकते हैं। 

एडीएचडी से जूझने वाले बच्चे या वयस्कों को क्या करना चाहिए। What to do for a child or adult struggling with ADHD.

अगर कोई एडीएचडी से जूझता है तो उन्हें अपने जीवन में खास बदलाव करने की कोशिश करनी चाहिए और निम्नलिखित उपायों को अपनाना चाहिए :- 

  1. दिन की योजना बनाएं

  2. स्पष्ट सीमाएँ निर्धारित करें

  3. सकारात्मक रहें

  4. निर्देश देना और लेना सीखें 

  5. हमेशा खुद को उत्तेजित रखें 

  6. लोगों से सामने से बात करें 

  7. सोने का समय निर्धारित करें 

  8. रात के समय ज्यादा न सोचें 

  9. सामाजिक परिस्तिथियों को समझने की कोशिश करें 

  10. व्यायाम करें इसमें आप योग और जिम दोनों अपना सकते हैं 

  11. जो आपको खाना पसंद हो उसे जरूर खाएं और ध्यान रहे पौष्टिक आहार लें 

ध्यान रहें चिकित्सक की सलाहों पर विशेष ध्यान दें और दवाओं को समय पर लें।


Dr. KK Aggarwal

Recipient of Padma Shri, Vishwa Hindi Samman, National Science Communication Award and Dr B C Roy National Award, Dr Aggarwal is a physician, cardiologist, spiritual writer and motivational speaker. He was the Past President of the Indian Medical Association and President of Heart Care Foundation of India. He was also the Editor in Chief of the IJCP Group, Medtalks and eMediNexus

 More FAQs by Dr. KK Aggarwal

Get our Newsletter

Filter out the noise and nurture your inbox with health and wellness advice that's inclusive and rooted in medical expertise.

Your privacy is important to us

MEDICAL AFFAIRS

CONTENT INTEGRITY

NEWSLETTERS

© 2022 Medtalks