स्लीप डिसॉर्डर (नींद विकार) : स्लीप डिसॉर्डर के प्रकार, लक्षण | Medtalks

स्लीप डिसॉर्डर (नींद विकार) : स्लीप डिसॉर्डर के प्रकार, लक्षण | Medtalks


नींद विकार हिंदी में मतलब || Sleep Disorder Meaning in Hindi


स्लीप डिसऑर्डर (या स्लीप-वेक डिसऑर्डर) में नींद की गुणवत्ता, समय और मात्रा की परेशानी शामिल होती हैं, जिसके कारण दिन में ऐक्टिव रहने मे और कामकाज में कमी आती है। स्लीप डिसऑर्डर अक्सर चिकित्सा स्थितियों या दूसरे मानसिक स्वास्थ्य स्थितियों, जैसे अवसाद, चिंता, या संज्ञानात्मक विकारों के कारण भी होते हैं। अनिद्रा, पैर हिलाने की समस्या, नार्कोलेप्सी और स्लीप एपनिया जैसे सामान्य नींद विकार आपके जीवन के हर पहलू को प्रभावित कर सकते हैं, जिसमें आपकी सुरक्षा, रिश्ते, स्कूल और कार्य प्रदर्शन, सोच, मानसिक स्वास्थ्य, वजन और मधुमेह और हृदय रोग का विकास शामिल है। पर्याप्त गुणवत्ता वाली नींद न लेना आपके जीवन की गुणवत्ता को प्रभावित कर सकता है।हालांकि, अधिकांश नींद संबंधी विकारों को निम्नलिखित चार लक्षणों में से एक या उसे ज्यादा से पहचाना जा सकता है, जैसे : -


  • आपको सोने में परेशानी होती है, बार-बार नींद थोड़े समय मे खुल जाती है।

  • आपको दिन में जागते रहना मुश्किल लगता है या थकान महसूस हो।

  • अगर सर्कैडियन रिदम असंतुलन हैं जो एक स्वस्थ नींद कार्यक्रम में हस्तक्षेप करते हैं।

  • आप असामान्य व्यवहारों से ग्रस्त हैं जो आपकी नींद को बाधित करते हैं।


इनमें से कोई भी लक्षण नींद की बीमारी का संकेत दे सकता है। अगर आप इनमें से किसी भी समस्या का अनुभव करते हैं, तो अपने डॉक्टर से परामर्श ज़रूर करे।

स्लीप डिसॉर्डर के प्रकार || Types of Sleeping Disorder in Hindi

एनसीबीआई के मुताबिक, द इंटरनेशनल क्लस्सिफिकेसन ऑफ़ स्लीप डिसॉर्डर -2 (2005) (आईसीएसडी -2) स्लीप डिसॉर्डर को छह प्रमुख श्रेणियों में वर्गीकृत करता है:


  • अनिद्रा

  • नींद संबंधी श्वास विकार

  • हाइपरसोमनिया

  • सर्कैडियन रिदम स्लीप डिसऑर्डर

  • पैरासोमनिया

  • स्लीप रिलेटेड मूवमेंट डिसॉर्डर


स्लीप एपनिया के कारण, लक्षण, इलाज और प्रकार

अनिद्रा (Insomnia) || Insomnia Meaning in Hindi

अनिद्रा एक नींद विकार है जिसमें लोगों को सोने में दिक्कत होती है। अनिद्रा कितनी देर तक रहती है और कितनी बार होती है, इस पर निर्भर करता है। अनिद्रा अपने आप हो सकती है या चिकित्सा या मानसिक स्थितियों से जुड़ी हो सकती है। लगभग 50 फीसदी ऐडल्ट को कभी-कभी अनिद्रा का अनुभव होता है और 10 में से एक व्यक्ति क्रोनिक अनिद्रा से पीड़ित होता है। अनिद्रा को क्रोनिक कहा जाता है जब किसी व्यक्ति को एक महीने या उससे ज्यादा समय तक सप्ताह में कम से कम तीन रात अनिद्रा होती है। ऐक्यूट या समायोजन अनिद्रा एक रात से कुछ हफ्तों तक रह सकती है। अल्पकालिक या ऐक्यूट अनिद्रा जीवन के तनाव (जैसे नौकरी छूटना या बदलना, किसी प्रियजन की मृत्यु, या हिलना), एक बीमारी, या प्रकाश, शोर या अत्यधिक तापमान जैसे पर्यावरणीय कारकों के कारण हो सकता है। लंबे समय तक या क्रोनिक अनिद्रा (अनिद्रा जो कम से कम तीन महीने या उससे अधिक समय तक सप्ताह में कम से कम तीन रात होती है) अवसाद, पुराने तनाव और रात में दर्द या बेचैनी जैसे कारकों के कारण हो सकती है।



नींद संबंधी श्वास विकार (Sleep related breathing disorders in Hindi) -

नींद से संबंधित श्वास विकारों में कई संभावित गंभीर स्थितियां शामिल हैं जिनमें प्राथमिक खर्राटे, अप्पर एयरवेज़ रेसिस्टेनस सिंड्रोम (यूएआरएस), ऑब्सट्रक्टिव स्लीप एपनिया-हाइपोपनिया सिंड्रोम (ओएसएएचएस), सेंट्रल स्लीप एपनिया, अस्थमा और क्रॉनिक ऑब्सट्रक्टिव पल्मोनरी डिजीज शामिल हैं। स्लीप एपनिया एक संभावित गंभीर नींद विकार है जो तब होता है जब किसी व्यक्ति की नींद के दौरान सांस लेने में बाधा आती है। अनुपचारित स्लीप एपनिया वाले लोग अपनी नींद के दौरान बार-बार सांस लेना बंद कर देते हैं। इसके कारण उन्हे खराटे की परेशानी भी होती है।


हाइपरसोमनिया (Hypersomnia) - 

अत्यधिक दिन की नींद, नींद जो दिन की गतिविधियों, प्रोडक्टीवीटी या आनंद में हस्तक्षेप करती है, आमतौर पर असामान्य होती है और अपर्याप्त नींद, बाधित नींद या प्राथमिक नींद विकार होती है जैसे नार्कोलेप्सीइसमे अचानक नींद के दौरे दिन के किसी भी समय किसी भी प्रकार की गतिविधि के दौरान हो सकते हैं। नार्कोलेप्सी आमतौर पर 15 से 25 साल की उम्र के बीच शुरू होती है, लेकिन यह किसी भी उम्र में हो सकती है।


सर्कैडियन रिदम स्लीप डिसऑर्डर (Circadian Rhythm Sleep Disorders) -

सर्कैडियन रिदम स्लीप डिसऑर्डर में स्लीप डिसऑर्डर शामिल होता है जिसमें स्लीप-वेक यानी सोने-जागने का साइकल गड़बड़ हो जाता है। सर्कैडियन रिदम डिसऑर्डर आंतरिक कारकों (किसी व्यक्ति की बॉडी क्लॉक है) या बाहरी कारकों (जैसे शिफ्ट वर्क या जेट लैग) के कारण हो सकता है।


पैरासोमनिया (Parasomnia) -

पारासोम्नीया असामान्य स्लीप बिहेवियर का एक ग्रुप है जो सोने से पहले, सोने के दौरान, या नींद और जागने के बीच के समय में हो सकता है। ये आमतौर पर बच्चों में ज्यादा पाए जाते हैं, लेकिन कुछ ऐडल्ट भी इनका अनुभव कर सकते हैं। इनमें स्लीपवॉकिंग, नाइट टेरर और एक्सप्लोडिंग हेड सिंड्रोम शामिल हैं। पैरासोमनिया को तीन श्रेणियों में बाटा गया है: एनआरईएम -संबंधित पैरासोमनिया, आरईएम-संबंधित पैरासोमनिया और अन्य।


स्लीप रिलेटेड मूवमेंट डिसॉर्डर (Sleep related Movement Disorder in Hindi) - 

नींद के दौरान कई तरह की इन्वोलन्टरी गतिविधियां होती हैं और ये स्लीप रिलेटेड मूवमेंट डिसॉर्डर श्रेणी के अंतर्गत आती हैं।


  • पीरियोडिक लिम्ब मूवमेंट डिसऑर्डर (पीएलएमडी) सबसे आम न्यूरोलॉजिकल विकारों में से एक है और यह महत्वपूर्ण विकलांगता का कारण बन सकता है।


  • रेस्टलेस लैग सिंड्रोम (आरएलएस) एक प्रकार का नींद से संबंधित विकार है जो यू.एस. आबादी के 7-10 फीसदी को प्रभावित करता है। इसे विलिस-एकबॉम रोग के रूप में भी जाना जाता है, आरएसएल को पैरों में धड़कन, खुजली और अन्य दर्दनाक संवेदनाओं की विशेषता होती है और जब पैर रेस्ट स्थिति मे होते हैं तो पैरों को हिलाने के लिए ज्यादा ज़ोर लगाना पड़ता हैं।

स्लीप डिसॉर्डर के लक्षण || Sleeping Disorder Symptoms in Hindi

स्लीप डिसॉर्डर की गंभीरता और प्रकार के आधार पर लक्षण अलग-अलग होते हैं। वे तब भी अलग हो सकते हैं जब नींद संबंधी विकार किसी दूसरे स्थिति का परिणाम हों।

कुछ समान्य लक्षण ये है :-

  • सोने में कठिनाई।

  • दिन भर की थकान।

  • दिन के दौरान झपकी लेने की तीव्र इच्छा।

  • असामान्य श्वास पैटर्न।

  • सोते समय हिलने-डुलने का असामान्य स्थिति।

  • सोते समय असामान्य हलचल या अन्य अनुभव।

  • आपके सोने/जागने के कार्यक्रम में अनजाने में हुए बदलाव

  • चिड़चिड़ापन या चिंता।

  • काम या स्कूल में खराब प्रदर्शन।

  • ध्यान की कमी 

  • डिप्रेशन।

  • वजन बढ़ना।

स्लीप डिसॉर्डर का कारण || Cause of Sleep Disorder in Hindi

स्लीप डिसॉर्डर की समस्या बहुत से अलग-अलग कारकों के कारण हो सकती है।  हालांकि कारण अलग हो सकते हैं, लेकिन सभी स्लीप डिसॉर्डर का अंतिम परिणाम यह है कि शरीर की नींद और दिन के समय जागने का प्राकृतिक का चक्र बाधित होता है। नींद की समस्या पैदा करने वाले कारकों में शामिल हैं:-


1. शारीरिक गड़बड़ी (उदाहरण: गठिया, सिरदर्द, फाइब्रोमायल्गिया से पुराना दर्द)।


2. चिकित्सा मुद्दे (उदाहरण: स्लीप एपनिया, अस्थमा, अनिद्रा)।


3. मानसिक विकार (उदाहरण: अवसाद और चिंता विकार)।


4. पर्यावरण के मुद्दे (उदाहरण: खर्राटे, शराब)।


स्लीप डिसॉर्डर के अन्य कारकों में शामिल हैं:- 


1. जेनेटिक : शोधकर्ताओं ने नार्कोलेप्सी को एक जेनेटिक आधार पाया है, जो नींद के नियमन का एक न्यूरोलोजीकल डिसॉर्डर है और जो सोने और जागने के नियंत्रण को प्रभावित करता है।


2. नाइट शिफ्ट वर्क : रात में काम करने वाले लोग अक्सर नींद की बीमारी का अनुभव करते हैं, क्योंकि जब उन्हें नींद आने लगती है तो वे सो नहीं पाते हैं। उनकी गतिविधियाँ उनकी जैविक घड़ी के विपरीत चलती हैं।


3. दवाएं: कई दवाएं नींद में हस्तक्षेप कर सकती हैं, जैसे कि कुछ एंटीडिप्रेसेंट, रक्तचाप की दवा और ठंड की दवा।


4. उम्र : 65 वर्ष से ज्यादा आयु के सभी वयस्कों में से लगभग आधे को किसी न किसी प्रकार की नींद की बीमारी है। यह स्पष्ट नहीं है कि यह उम्र बढ़ने का एक सामान्य हिस्सा है या दवाओं का परिणाम है जो आमतौर पर वृद्ध लोग उपयोग करते हैं।

कितना नींद जरूरी है ? 

नींद एक बुनियादी मानवीय ज़रूरत है और यह शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य दोनों के लिए महत्वपूर्ण है। नींद दो प्रकार की होती है जो आम तौर पर हर रात तीन से पांच चक्रों के पैटर्न में होती है: -


रैपिड आई मूवमेंट (आरईएम) - जब सबसे ज्यादा सपने आते हैं।

नॉन-आरईएम - यह तीन चरणों में होता है, जिसमें सबसे गहरी नींद भी शामिल है।


आप कब सोते हैं यह भी जरूरी है। आपका शरीर आमतौर पर 24 घंटे के चक्र (सर्कैडियन रिदम) पर काम करता है जो आपको यह जानने में मदद करता है कि कब सोना है। हमें कितनी नींद की जरूरत होती है यह उम्र के आधार और हर व्यक्ति में अलग-अलग होता है। नेशनल स्लीप फ़ाउंडेशन के अनुसार, अधिकांश वयस्कों/ऐडल्ट को प्रत्येक रात लगभग सात से नौ घंटे की आरामदायक नींद की जरूरत होती है। हम में से बहुत से लोग पर्याप्त नींद नहीं लेते हैं। लगभग 30 प्रतिशत वयस्कों को हर रात छह घंटे से कम नींद आती है और केवल 30 प्रतिशत हाई स्कूल के छात्रों को औसत स्कूल की रात में कम से कम आठ घंटे की नींद आती है।


नेशनल स्लीप फ़ाउंडेशन ने हर उम्र के व्यक्ति के लिये समय बताया है जो उनके बेहतर नींद के लिये जरूरी है -

व्यक्ति का उम्र

नींद का समय

शिशु (4-11 महीने) 


बच्चा (1-2 वर्ष) 


प्रीस्कूलर (3-5 वर्ष) 


स्कूली उम्र का बच्चा (6-13 साल)


किशोर (14-17 वर्ष) 


युवा वयस्क (18-25 वर्ष) 


वयस्क/ऐडल्ट (26-64 वर्ष)


वृद्ध वयस्क (65+ वर्ष) 

12-15 घंटे


11-14 घंटे


10-13 घंटे


9-11 घंटे


8-10 घंटे


7-9 घंटे


7-9 घंटे


7-8 घंटे

लाइफस्टाइल मे जरूरी बदलाव -

अगर आपको स्लीप डिसॉर्डर है, नींद मे किसी तरह की दिक्कत आ रही है या समान्य जीवन मे भी सोने के वक़्त परेशानी महसूस हो तो अपने लाइफस्टाइल मे कुछ बेहतर बदलाव के साथ आप इस दिक्कत को जल्द खत्म कर सकते है।


  • अपने आहार में अधिक सब्जियां और मछली शामिल करें, और चीनी का सेवन कम करें।

  • तनाव और चिंता को व्यायाम और एक्सरसाइज से कम करे।

  • नियमित रूप से सोने का कार्यक्रम बनाना और उससे फोलो करे।

  • सोने से पहले कम पानी पीना।

  • अपने कैफीन का सेवन सीमित करें, खासकर दोपहर या शाम को तंबाकू और शराब का सेवन कम करना।

  • सोने से पहले कम कार्बोहाइड्रेट वाले छोटे भोजन करना।

  • अपने डॉक्टर की सलाह के अनुशार पर स्वस्थ वजन बनाए रखना।


हर दिन एक ही समय पर बिस्तर पर जाना और जागना भी आपकी नींद की गुणवत्ता में काफी सुधार कर सकता है।

स्लीप डिसॉर्डर का जांच 

यदि आपको लग रहा है कि आपको स्लीप डिसॉर्डर हो सकता है या नींद आने मे किसी तरह की परेशानी है, तो अपने स्वास्थ्य सेवा प्रदाता के साथ अपने लक्षणों पर चर्चा करें। वह एक शारीरिक टेस्ट कर सकता है और आपको नींद के साथ होने वाली कठिनाइयों की पहचान करने में मदद कर सकता है। यदि आपके स्वास्थ्य सेवा प्रदाता को संदेह है कि आपको नींद की बीमारी है, तो वह आपको स्लीप डिसऑर्डर क्लिनिक में भेज सकता है। एक नींद विशेषज्ञ आपके लक्षणों की समीक्षा करेगा और सुझाव देगें कि आप एक स्लीप स्टडी कराये।


पॉलीसोम्नोग्राफी (पीएसजी): यह एक लैब स्लीप स्टडी है जो यह तय करने के लिए है की ऑक्सीजन के स्तर, शरीर की गतिविधियों और मस्तिष्क तरंगों का मूल्यांकन करता है कि वे नींद बनाम घर की नींद अध्ययन (एचएसटी) को कैसे बाधित करते हैं जो आप खुद किया जाता है और इसे स्लीप एपनिया का निदान करने के लिए उपयोग किया जाता है।


इलेक्ट्रोएन्सेफलोग्राम (ईईजी): यह एक टेस्ट है जो मस्तिष्क में इलेक्ट्रिकल गतिविधि का आकलन करता है और इस गतिविधि से जुड़ी किसी भी संभावित समस्या का पता लगाता है। यह एक पॉलीसोम्नोग्राफी का हिस्सा है।


मल्टीपल स्लीप लेटेंसी टेस्ट (एमएसएलटी): नार्कोलेप्सी का जांच करने में मदद के लिए रात में पीएसजी के साथ इस दिन के नैपिंग अध्ययन का उपयोग किया जाता है।


नींद संबंधी विकारों के उपचार के सही तरीके को तय करने में ये परीक्षण/जांच महत्वपूर्ण हो सकते हैं।

स्लीप डिसॉर्डर का इलाज || Sleep Disorder Treatment in Hindi

नींद संबंधी विकारों के लिए इलाज कई प्रकार और अंतर्निहित कारण के आधार पर अलग-अलग हो सकते हैं। हालांकि, इसमें आम तौर पर चिकित्सा उपचार और जीवनशैली में बदलाव का संयोजन शामिल होता है।


  • परामर्श: कुछ नींद विशेषज्ञ संज्ञानात्मक व्यवहार चिकित्सा की सलाह देते हैं। इस तरह की काउंसलिंग आपको "तनाव पैदा करने वाले विचारों को पहचानने, चुनौती देने और बदलने" में मदद करती है जो आपको रात में नींद मे बाधा डालते है।

  • दवाएं का इस्तेमाल करे।

  • नींद की स्वच्छता का अभ्यास करें जैसे कि नियमित नींद का समय निर्धारित करना।

  • नियमित व्यायाम करें।

  • सोते समय प्रकाश कम से कम करें।

  • तापमान को प्रबंधित करें ताकि आप सहज हों।

  • ब्रीदिंग डिवाइस या सर्जरी (आमतौर पर स्लीप एपनिया के लिए)।

स्लीप डिसॉर्डर के लिये दवाए का इस्तेमाल

आपके डॉक्टर आपको कुछ इस तरह के दवाओ की सलाह दे सकते है, स्लीप डिसॉर्डर को ठीक करने के प्रक्रिया मे - मेलाटोनिन, ज़ोलपिडेम, ज़ेलप्लॉन, एस्ज़ोपिक्लोन, रेमेलटन, सुवोरेक्सेंट, लैंबोरेक्सेंट, या डॉक्सपिन सहित अनिद्रा के कुछ मामलों में नींद के साथ सहायक हो सकती है। रेस्टलेस लेग्स सिंड्रोम का इलाज गैबापेंटिन, गैबापेंटिन एनकार्बिल या प्रीगैबलिन दवाओं से किया जा सकता है। नार्कोलेप्सी का इलाज कई उत्तेजक या जगाने वाली दवाओं के साथ किया जा सकता है, जैसे कि मोडाफिनिल, आर्मोडाफिनिल, पिटोलिसेंट और सोलिरामफेटोल।

परिणाम

स्लीपिंग डिसॉर्डर से निजात पाना मुश्किल नही है, शुरुआती दौर मे सही इलाज से इसे ठीक किया जा सकता है। दुर्भाग्य से, लंबी अवधि के मामलों को हल होने में थोड़ा अधिक समय लग सकता है। नींद संबंधी विकार घातक नहीं हो होते हैं, लेकिन वे आपके जीवन की गुणवत्ता को इतनी बार और इतनी गंभीर रूप से प्रभावित करते हैं कि वे आपकी सोच, वजन, स्कूल/कार्य प्रदर्शन, मानसिक स्वास्थ्य और आपके सामान्य शारीरिक स्वास्थ्य को बाधित कर सकते हैं। बताये गए लाइफस्टाइल बदलाव, जांच, और इलाज स्लीप डिसॉर्डर से निजात पाने मे मदद करेगें।