क्रोनिक माइग्रेन: लक्षण, कारण, इलाज | Medtalks

क्रोनिक माइग्रेन: लक्षण, कारण, इलाज | Medtalks

क्रोनिक माइग्रेन: लक्षण, कारण, इलाज | Chronic Migraine: Symptoms, Causes, Treatment in Hindi

क्रोनिक माइग्रेन सामान्य आबादी के 1-2 फीसदी और माइग्रेन के लगभग 8 फीसदी रोगियों को प्रभावित करता है।


माइग्रेन सबसे आम अक्षम मस्तिष्क विकार है। क्रोनिक माइग्रेन एक डिसएबल न्यूरोलोजीकल  स्थिति है जो सामान्य आबादी के 2 फीसदी को प्रभावित करती है। क्रोनिक माइग्रेन के मरीजों को महीने में कम से कम 15 दिन सिरदर्द होता है। क्रोनिक माइग्रेन आमतौर पर महीनों से वर्षों तक सिर का दर्द धीरे-धीरे बढ़ता है। क्रोनिक माइग्रेन आमतौर पर एपिसोडिक माइग्रेन से विकसित होता है जो धीरे-धीरे हमले की आवृत्ति में लगभग 3 फीसदी की वार्षिक प्रगति दर के साथ बढ़ता है। यह डायरेक्ट और इनडायरेक्ट चिकित्सा लागत के माध्यम से समाज को भी प्रभावित करता है।



एनसीबीआई के मुताबिक, माइग्रेन 20 फीसदी से ज्यादा लोगों को उनके जीवन में कभी न कभी प्रभावित करता है; महामारी विज्ञान के अध्ययनों से पता चला है कि पश्चिमी यूरोप की आबादी के 4.5% लोगों को महीने में कम से कम 15 दिन सिरदर्द होता है।

क्या अन्तर है माइग्रेन और क्रोनिक माइग्रेन मे | Difference between Migraine and Chronic Migraine in Hindi

उभरते हुए सबूत बताते हैं कि एपिसोडिक माइग्रेन और क्रोनिक माइग्रेन न केवल डिग्री में, बल्कि कई तरह से अलग होते हैं। एपिसोडिक माइग्रेन महीनों या वर्षों के दौरान बढ़ता है और क्रोनिक माइग्रेन बन सकता है। यह स्पष्ट नहीं है कि एपिसोडिक माइग्रेन कैसे बढ़ता है और कैसे क्रोनिक होता है? कुछ शोधकर्ताओं को संदेह है कि सूजन के कारण मस्तिष्क में रक्त वाहिकाएं सूज जाती हैं और आस-पास की नसों को संकुचित कर देती हैं, जिससे सिरदर्द होता है।


1. पहला, एपिसोडिक माइग्रेन की विशेषता माइग्रेन से पीड़ित लोगों को होती है, जिन्हें प्रति माह 0 से 14 दिन सिरदर्द होता है, जबकि क्रोनिक माइग्रेन में प्रति माह 15 या ज्यादा दिन सिरदर्द होते हैं।

2. दुसरा, क्रोनिक माइग्रेन के साथ एपिसोडिक माइग्रेन वाले लोगों की तुलना में प्रति माह ज्यादा सिरदर्द वाले दिन होते हैं। वे औसतन लंबे समय तक सिरदर्द का भी अनुभव करते हैं।

3. तीसरा, एपिसोडिक माइग्रेन और क्रोनिक माइग्रेन सिरदर्द का इलाज करने के लिए, आपका डॉक्टर ओवर-द-काउंटर दवाओं को दे सकता है। आपके लक्षणों की आवृत्ति और गंभीरता के आधार पर, वे डॉक्टर के पर्चे की दवाएं भी लिख सकते हैं।

4. चौथा, क्रोनिक माइग्रेन एपिसोडिक माइग्रेन की तुलना में सेन्सोरी स्टिमुली के कॉर्टिकल प्रोसेसिंग में ज्यादा मात्रा में नुकसान के साथ जुड़ा हुआ है, शायद ज्यादा व्यापक या लगातार कॉर्टिकल हाइपरेन्क्विटिबिलिटी के कारण।

5. पांचवा, एपिसोडिक माइग्रेन के रोगियों की तुलना में, क्रोनिक माइग्रेन के रोगियों में अवसाद और चिंता, श्वसन और हृदय रोगों जैसे मनोरोग संबंधी रोग होने की संभावना ज्यादा होती है।


माइग्रेन: कारण, उपचार, प्रकार और लक्षण | Migraine in Hindi

क्रोनिक माइग्रेन का कारण | Cause of Chronic Migraine in Hindi

क्रोनिक माइग्रेन कई कारकों के कारण समय के साथ विकसित होता है:- जिसे माइग्रेन की समस्या पहले से है उसमे एपिसोडिक सिरदर्द की संख्या समय के साथ लगातार बढ़ती जाती है, जो बाद मे क्रोनिक माइग्रेन का रूप ले लेती है।एक बार सिरदर्द के एपिसोड का इलाज करने के लिए उपयोग की जाने वाली दवाएं सिरदर्द की बढ़ती संख्या को नियंत्रण में रखने के कोशिश में अत्यधिक उपयोग हो जाती हैं; जो की सिरदर्द के समय को और बढ़ा सकती है। दवा के अति प्रयोग के लिए जिम्मेदार सबसे आम दवाएं ओवर-द-काउंटर दवाएं हैं, जैसे कि एक्सेड्रिन® और जेनेरिक इक्विवैलेन्ट, नॉन-स्टेरायडल इन्फ्लामेटरी दवाएं और एसिटामिनोफेन है।


तेज दवाएं वे हैं जो माइग्रेन के अटैक की शुरुआत में ली जाती हैं। ये पैनाडोल, पैनाडीन या ट्रिप्टान जैसे उपचार हो सकते हैं। दवा के ज्यादा प्रयोग का अर्थ है बहुत ज्यादा तेज इलाज का उपयोग करना। जब लोग सप्ताह में दो या तीन बार से अधिक इन इलाज का उपयोग करते हैं, तो समय के साथ वे सिरदर्द और माइग्रेन का ज्यादा क्रोनिक पैटर्न विकसित कर सकते हैं। यानी की दवाओ के ज्यादा उपयोग से भी क्रोनिक माइग्रेन की समस्या हो सकती है। एपिसोडिक माइग्रेन के रोगियों की तुलना में क्रोनिक माइग्रेन के रोगियों में ज्यादा आयरन जमा  पाया जाता है। जो की माइग्रेन को क्रोनिक करने मे भुमिका निभाता है।

क्रोनिक माइग्रेन का जोखिम कारक | Risk Factors of Chronic Migraine

क्रोनिक माइग्रेन से जुड़े अन्य कारकों में शामिल हैं:-

  • क्रोनिक माइग्रेन पाने वाले ज्यादातर लोग मे महिलाएं शामिल होती हैं।

  • मोटापा

  • खर्राटे

  • मनोदशा संबंधी विकार, विशेष रूप से चिंता और अवसाद

  • नींद के पैटर्न मे बाधा 

  • अत्यधिक कैफीन का सेवन

  • गंभीर भावनात्मक (तनावपूर्ण जीवन की घटनाओं) या शारीरिक ट्रौमा ।

क्रोनिक माइग्रेन का लक्षण | Symptoms of Chronic Migraine in Hindi

एपिसोडिक माइग्रेन और क्रोनिक माइग्रेन के लक्षण समान होते हैं। सिर्फ लक्षणो का प्रभाव इसमे ज्यादा हो जाता है, जैसे -

  • प्रकाश, आवाज या गंध के प्रति संवेदनशील होना

  • थकान

  • भोजन की लालसा या भूख की कमी

  • मनोदशा में बदलाव

  • गंभीर प्यास

  • सूजन

  • कब्ज या दस्त

  • सर के एक या दोनो तरफ दर्द होना

  • सर का धड़कना जैसा महसूस होना


एक एपिसोडिक माइग्रेन के क्रोनिक माइग्रेन में बदलने के संकेतों में शामिल हैं:-

  • माइग्रेन के अटैक की बढ़ती संख्या ।

  • फअटैक की बढ़ती संख्या के कारण ज्यादा दवा लेने लगे ।

क्रोनिक माइग्रेन का जांच और टेस्ट | Chronic Migraine Detection and Test in Hindi

क्रोनिक माइग्रेन का निदान करने के लिए, प्रति माह सटीक दिनों के लिये एक व्यक्ति को किसी भी प्रकार के सिरदर्द का अनुभव होता है तो इसकी  संख्या जानना बहुत ज़रूरत है।


आपका डॉक्टर एक विस्तृत चिकित्सा इतिहास लेगा। डॉक्टर इसके बारे में पूछेगें:

माइग्रेन के दर्द का आपका पैटर्न, जिसमें माइग्रेन कब और कैसे शुरू होता है; यदि वे एपिसोडीक या निरंतर हैं; माइग्रेन कितने समय तक रहता है; अगर कोई ट्रिगर या कारक हैं जो माइग्रेन को दर्दनाक बनाते हैं।दर्द का आपका विवरण, इसके स्थान, सनसनी और गंभीरता सहित। आपके वर्तमान और पहले किए गए उपचार, जिसमें दवाएं कब ली जाती हैं, खुराक, परिणाम और दुष्प्रभाव और वैकल्पिक या पूरक उपचारों का उपयोग शामिल है। अन्य स्वास्थ्य समस्याओं (विशेष रूप से नींद की समस्या, अवसाद, चिंता या फाइब्रोमायल्गिया), सिरदर्द का पारिवारिक इतिहास, वर्तमान गैर-सिरदर्द दवाएं, और जीवन शैली विकल्प (धूम्रपान करने वाला, शराब का सेवन, कैफीन का सेवन) सहित आपका चिकित्सा इतिहास। इन सब बातों के बारे मे डॉक्टर आपसे पुछेगा, इसी के आधार पर आपका इमजिंग टेस्ट करेगे जैसे सीटी स्कैन, इलेक्ट्रोएन्सेफलोग्राम (ईईजी)।

क्रोनिक माइग्रेन का इलाज | Chronic Migraine Treatment in Hindi

माइग्रेन के उपचार की तीन मुख्य श्रेणियां हैं:-

  • जीवनशैली में सुधार (लाइफस्टाइल ट्रीटमेंट)

  • तीव्र इलाज (ऐक्यूट ट्रीटमेंट)

  • निवारक इलाज (प्रेवेन्टीव ट्रीटमेंट)

जीवनशैली में सुधार (लाइफस्टाइल ट्रीटमेंट) ?

जीवनशैली में बदलाव से मरीज के माइग्रेन के पैटर्न में बड़ा बदलाव आ सकता है। ये इस बात पर आधारित हैं कि माइग्रेन के रोगी अपने शरीर और वातावरण में होने वाले परिवर्तनों के प्रति संवेदनशील होते हैं।

जीवनशैली सुधार (लाइफस्टाइल ट्रीटमेंट) में शामिल हैं:-

  • नियमित एरोबिक व्यायाम

  • नींद की स्वच्छता

  • हाइड्रेशन

  • नियमित भोजन 

  • कैफीन की भूमिका

  • आहार ट्रिगर

  • शराब में कमी

  • माइग्रेन ट्रिगर्स की पहचान


  • नियमित एरोबिक व्यायाम-

नियमित एरोबिक व्यायाम मददगार हो सकता है। आमतौर पर यह बेहतर होता है कि माइग्रेन से पीड़ित लोग सप्ताह में कुछ समय लगभग 30 मिनट का कार्डियो व्यायाम करें।


  • नींद -

नियमित नींद से भी बहुत फर्क पड़ता है। बहुत से लोग मानते हैं कि बहुत कम नींद या नींद की कमी अक्सर अटैक को ट्रिगर कर सकती है। बहुत ज्यादा नींद भी कुछ लोगों के लिए एक ट्रिगर हो सकती है। डॉक्टर सलाह करते हैं कि लोग पूरे सप्ताह में लगभग एक ही समय पर सोने और जागने की कोशिश करें, और नींद की स्वच्छता के लिए अन्य सभ सलाह को यहां भी लागू करे। सोने से पहले उपकरणों का उपयोग करना या बहुत ज्यादा स्क्रीन समय जैसे टेलीविजन या मोबाइल का उपयोग नही करे। एक नियमित दिनचर्या बनाए रखने की कोशिश करें ताकि आपकी नींद की गुणवत्ता को अनुकूलित किया जा सके।


  • हाइड्रेशन -

हाइड्रेशन एक बहुत ही बुनियादी सलाह है जो अक्सर हमारे व्यस्त जीवन में किनारे हो जाती है। डीहाइड्रेशन एक माइग्रेन को ट्रिगर कर सकता है। व्यावहारिक सुझाव है जैसे हाइड्रेटेड रहना और पास में पानी की बोतल रखना मदद कर सकता है।


  • नियमित भोजन -

नियमित भोजन भी एक बड़ा बदलाव ला सकता है, खासकर उन लोगों के लिए जिनके लिये भूख एक ट्रिगर है। भोजन आमतौर पर कार्बोहाइड्रेट में कम और प्रोटीन में उच्च बेहतर होता है क्योंकि ब्लड शुगर में उतार-चढ़ाव भी माइग्रेन के लिए एक ट्रिगर हो सकता है। प्रोटीन भाग को एक बड़ा हिस्सा मे लेने की ज़रूरत नहीं है, यह नाश्ते या मछली या फलियां या कुछ इसी तरह के लिए मुट्ठी भरकता है। प्रत्येक भोजन के साथ कुछ प्रोटीन लेने से आपके ब्लड शुगर को स्थिर रखने और संभावित रूप से अन्य अटैक अटैकने में मदद मिल सकती है।


  • कैफीन -

कैफीन नुकसानदेह हो सकता है, खासकर उन शहरों में जहां कॉफी सामाजिक संस्कृति का एक बड़ा हिस्सा है। अधिकांश लोगों के लिए, एक दिन में एक कॉफी ठीक है, लेकिन जब आप नियमित रूप से इससे ज्यादा पी रहे हैं, तो यह बहुत ज्यादा है।

कैफीन वास्तव में एक बार-बार सिरदर्द के साथ उसी तरह जुड़ा हो सकता है जिस तरह से दवा का अति प्रयोग हो सकता है। यदि आप ज्यादा से ज्यादा कैफीन पी रहे हैं, तो आपको ज्यादा से ज्यादा अटैक हो सकते हैं। जब कम मात्रा मे कैफीन सेवन किया जाता है, तो कैफीन का उपयोग तीव्र उपचार (ऐक्यूट ट्रीटमेंट) के रूप में भी किया जा सकता है। आप में से कई लोगों ने पाया होगा कि अगर आपको माइग्रेन है तो कॉफी या कोक वास्तव में मदद करता है और यह संभवतः रक्त वाहिकाओं पर कैफीन के प्रभाव से संबंधित है। कैफीन कुछ माइग्रेन उपचारों के अवशोषण में भी मदद कर सकता है जिनका उपयोग तीव्र उपचार के लिए किया जा सकता है। अपने कैफीन सेवन को सीमित करने का यह एक महत्वपूर्ण कारण है।


  • आहार ट्रिगर -

हम उन खाद्य पदार्थों से बचने की कोशिश कर सकते हैं जिनमें बहुत सारे एडिटिव्स और प्रिजर्वेटिव होते हैं क्योंकि उनमें से कुछ चीजें माइग्रेन को ट्रिगर कर सकती हैं। शराब माइग्रेन के लिए एक प्रसिद्ध ट्रिगर है, जैसे कि कुछ अन्य चीजें जैसे एमएसजी या नाइट्रेट्स जो ठीक किए गए मांस या डेली मीट से जुड़ी होती हैं। कृत्रिम मिठास भी ट्रिगर हो सकती है।यह पक्के तौर पर नही बताया जा सकता की कौन सा खाद पदार्थ या खाने की चीज़ माइग्रेन को ट्रीगर का सकती है। यह हर एक इन्सान पर अलग-अलग होता है। यह पहचानना कि आपके ट्रिगर क्या हैं, माइग्रेन के प्रबंधन में सहायता करने में सहायक हो सकते हैं।


निवारक इलाज (प्रेवेन्टीव ट्रीटमेंट) -

निवारक इलाज का उद्देश्य सिरदर्द की संख्या और गंभीरता को कम करना है। निवारक इलाज पर तब भी सोचा जा सकता है यदि कोई रोगी तीव्र इलाज (ऐक्यूट ट्रीटमेंट) के लिए उत्तरदायी नहीं है, या उनका वर्तमान उपचार साइड इफेक्ट से जुड़ा है, या यदि वे सामान्य तीव्र इलाज के लिए तैयार नही हैं। यह पारंपरिक निवारक दवाओं की एक सूची है जो निवारक इलाज मे मदद करेगी -


रक्तचाप की दवाएं

बीटा-ब्लॉकर्स - प्रोप्रानोलोल, मेटोप्रोलोल

कैल्शियम चैनल ब्लॉकर्स - वेरापामिल


एंटीडिप्रेसन्ट

ट्राइसाइक्लिक एंटीडिप्रेसेंट्स - एमिट्रिप्टिलाइन, नॉर्ट्रिप्टिलाइन

एसएनआरआई - वेनालाफैक्सिन, डुलोक्सेटीन


मिरगीरोधी

टोपिरामेट

सोडियम वैल्प्रोएट

गाबापेंटीन

इनमें से कई उपचार लंबे समय से उपयोग किए जा रहे हैं और उनमें से कई कुछ रोगियों के लिए अच्छा काम करते हैं। बीटा ब्लॉकर्स, ट्राइसाइक्लिक एंटीडिप्रेसेंट्स और कुछ एंटी-एपिलेप्टिक्स, विशेष रूप से टोपिरामेट और सोडियम वैल्प्रोएट जैसे इलज़ो का प्रभावशीलता का एक अच्छा ट्रैक रिकॉर्ड है।

ओनाबोटुलिनम टॉक्सिन ए (बोटॉक्स) इंजेक्शन

बोटॉक्स आमतौर पर अच्छी तरह से सहन किया जाता है। रोगी अक्सर बोटॉक्स पसंद करते हैं क्योंकि इसमें दैनिक दवाएं शामिल नहीं होती हैं और न ही कोई संज्ञानात्मक दुष्प्रभाव होता है। ऑस्ट्रेलिया मे बोटॉक्स आमतौर पर माइग्रेन के दवा के रूप मे प्रयोग होता है।

सीजीआरपी (कैल्सीटोनिन जीन-संबंधित पेप्टाइड) एक न्यूरोपैप्टाइड है जो माइग्रेन के हमले के दौरान जारी किया जाता है।

तीन एंटी-सीजीआरपी एंटीबॉडी हैं जो बहुत से स्टेज पर शामिल है -

  • ऐमोविग (एरेनुमाब)

  • एम्गलिटी (गल्कन्ज़ुमैब)

  • अजोवी (फ़्रेमनेज़ुमाब)


लेकिन याद रखे कोई भी दवा बिना डॉक्टर और एक्सपर्ट के राय के ना ले, डॉक्टर आपको आपके स्थिति और लक्षण के अनुसार दवा बताएगें।


व्यवहारिक इलाज (बिहेवियरल ट्रीटमेंट) -

कोग्नेटीव बिहेवियरल थेरेपी (सीबीटी)

विश्राम चिकित्सा

माइंडफुलनेस मेडिटेशन

बायोफीडबैक


ये बिहेवियरल ट्रीटमेंट रोगियों को माइग्रेन और तनाव के प्रति उनकी प्रतिक्रिया को बेहतर ढंग से समझने में मदद करते हैं। यह लोगों को आत्म-जागरूकता बढ़ाकर और मन-शरीर के संबंध पर नियंत्रण करके उनकी माइग्रेन की स्थिति पर ज्यादा नियंत्रण रखने देता है। बायोफीडबैक एक ऐसी प्रक्रिया है जिसके द्वारा लोग अपनी तनाव प्रतिक्रिया का आकलन कर सकते हैं और फिर इसे नियंत्रित करने के तरीके सीखते हैं। आप बिहेवियरल ट्रीटमेंट के लिये क्लास भी कर सकते है जिसमे माइंडफुलनेस मेडिटेशन और दूसरे इसे जुड़ी चीजे सिखाई जाती है और ज्यादा मदद भी मिलती है।

परिणाम

माइग्रेन को पुराना माना जाता है जब लोगों को प्रति माह 15 या अधिक सिरदर्द वाले दिन होते हैं, जिनमें से कम से कम 8 दिन माइग्रेन के क्रिटेरीया को पूरा करते हैं।  क्रोनिक माइग्रेन एक बहुत ही अक्षम करने वाली स्थिति हो सकती है। क्रोनिक माइग्रेन का विकास कई संभावित इलाज योग्य जोखिम कारकों से जुड़ा हुआ है। क्रोनिक माइग्रेन उपचार मुख्य रूप से दवा के उपयोग और गैर-दवा निवारक इलाज केंद्रित होना चाहिए, इसमे आप बिहेवियरल ट्रीटमेंट भी अपना सकते है।