हाइड्रोसिफ़लस कितना गंभीर? लक्षण, कारण और इलाज | Hydrocephalus in Hindi

हाइड्रोसिफ़लस क्या है? What is Hydrocephalus?

हाइड्रोसिफ़लस दिमाग से जुड़ी एक गंभीर समस्या है जिसमें दिमाग यानि गुहाओं (निलय) में पानी यानि द्रव भर जाता है। गिमाग में पानी भरने की वजह से निलय (ventricles) के आकार को बढ़ाता है और मस्तिष्क पर दबाव डालता है। दिमाग में द्रव यानि पानी भरने की इस समस्या को हाइड्रोसिफ़लस, जलशीर्ष और दिमाग में पानी भरने के नाम से जाना जाता है। 

मस्तिष्कमेरु द्रव (Cerebrospinal fluid) सामान्य रूप से निलय के माध्यम से बहता है और मस्तिष्क और रीढ़ की हड्डी के स्तंभ (spinal column) को गीला रखता है। लेकिन हाइड्रोसिफ़लस से जुड़े बहुत अधिक मस्तिष्कमेरु द्रव का दबाव मस्तिष्क के ऊतकों को नुकसान पहुंचा सकता है और मस्तिष्क की कई समस्याओं का कारण बन सकता है। हाइड्रोसिफ़लस किसी भी उम्र में हो सकता है, लेकिन यह 60 वर्ष और कम उम्र के शिशुओं और वयस्कों में अधिक बार होता है। हाइड्रोसिफ़लस के लिए सर्जिकल उपचार मस्तिष्क में सामान्य मस्तिष्कमेरु द्रव के स्तर को बहाल और बनाए रख सकता है। 

दिमाग में पानी भरना (जलशीर्ष) के कितने प्रकार होते हैं? How many types of hydrocephalus are there?

दिमाग में पानी भरने की यह समस्या तीन प्रकार की होती है जिन्हें नीचे वर्णित किया गया है :-

कॉन्जेनिटल हाइड्रोसिफलस Congenital hydrocephalus :- अगर किसी व्यक्ति के दिमाग में जन्म से पानी भरने यानि जलशीर्ष की समस्या है तो इस स्थिति को कॉन्जेनिटल हाइड्रोसिफलस कहा जाता है। इसके लक्षण आमतौर बचपन से ही शुरू हो जाते हैं। 

एक्वायर्ड हाइड्रोसिफलस Acquired Hydrocephalus :- हाइड्रोसिफ़लस का यह प्रकार जन्म लेने के बाद हो जाता है, इसी कारण इसे एक्वायर्ड हाइड्रोसिफलस कहा जाता है। एक्वायर्ड हाइड्रोसिफलस उम्र के किसी भी दौर हो सकता है। इसके होने के पीछे सिर में चोट लगने, स्ट्रोक, ट्यूमर, मेनिनजाइटिस या हेमरेज आदि सर से जुड़ी समस्याएँ होती है। 

नॉर्मल प्रेशर हाइड्रोसिफलस Normal pressure hydrocephalus :- जलशीर्ष के इस प्रकार के होने के कारण का अभी तक कोई पता नहीं चला है। यह सेरिब्रोस्पाइनल द्रव का पुर्नअवशोषण में किसी प्रकार का बदलाव का क्षति ना होने के बावजूद भी हो सकता है। यह आमतौर पर वृद्ध लोगों में होता है।

हाइड्रोसिफ़लस होने पर क्या लक्षण दिखाई देते हैं? What are the symptoms of hydrocephalus?

जलशीर्ष यानि हाइड्रोसिफ़लस के संकेत और लक्षण उम्र के अनुसार भिन्न होते हैं। नीचे उम्र के अनुसार दिमाग में पानी भरने के लक्षणों को वर्णित किया गया है :-

शिशुओं में In infants :-

शिशुओं में जलशीर्ष के सामान्य संकेत और लक्षणों में निम्नलिखित शामिल हैं :-

  1. सिर में परिवर्तन

  2. एक असामान्य रूप से बड़ा सिर

  3. सिर के आकार में तेजी से वृद्धि

  4. सिर के शीर्ष पर एक उभड़ा हुआ या तनावपूर्ण नरम स्थान (फॉन्टानेल)

शारीरिक संकेत और लक्षण

  1. मतली और उल्टी

  2. तंद्रा या सुस्ती 

  3. चिड़चिड़ापन

  4. भूख की कमी 

  5. मिर्गी के दौरे

  6. आंखें नीचे की ओर स्थिर (आंखों का सूर्यास्त)

  7. मांसपेशी टोन और ताकत के साथ समस्याएं

बच्चे और बड़े बच्चे Toddlers and older children :-

टॉडलर्स और बड़े बच्चों में, संकेत और लक्षणों में निम्नलिखित शामिल हो सकते हैं :-

शारीरिक संकेत और लक्षण

  1. सिर दर्द

  2. धुंधली या दोहरी दृष्टि

  3. आंखों की असामान्य हलचल

  4. बच्चे के सिर का असामान्य रूप से बढ़ना

  5. तंद्रा या सुस्ती

  6. उलटी अथवा मितली

  7. अस्थिर संतुलन

  8. खराब समन्वय

  9. अपर्याप्त भूख

  10. मूत्राशय पर नियंत्रण खोना या बार-बार पेशाब आना

व्यवहार और संज्ञानात्मक परिवर्तन

  1. चिड़चिड़ापन

  2. व्यक्तित्व में बदलाव

  3. स्कूल के प्रदर्शन में गिरावट

  4. पहले से अर्जित कौशल में देरी या समस्याएं, जैसे चलना या बात करना

युवा और मध्यम आयु वर्ग के वयस्क Young and middle-aged adults :-

इस आयु वर्ग के सामान्य संकेत और लक्षणों में निम्नलिखित शामिल हो सकते हैं :-

  1. सिर दर्द

  2. ढिलाई

  3. समन्वय या संतुलन का नुकसान

  4. मूत्राशय पर नियंत्रण खोना या बार-बार पेशाब करने की इच्छा होना

  5. नज़रों की समस्या

  6. स्मृति, एकाग्रता और अन्य सोच कौशल में गिरावट जो नौकरी के प्रदर्शन को प्रभावित कर सकती है

वरिष्ट व्यस्क Senior adult :-

60 वर्ष और उससे अधिक उम्र के वयस्कों में, हाइड्रोसिफ़लस के अधिक सामान्य संकेत और लक्षणों में निम्नलिखित शामिल हो सकते हैं :- 

  1. स्मृति लोप 

  2. मूत्राशय पर नियंत्रण खोना या बार-बार पेशाब करने की इच्छा होना

  3. अन्य सोच या तर्क कौशल का प्रगतिशील नुकसान

  4. चलने में कठिनाई, जिसे अक्सर एक फेरबदल चाल या पैरों के फंसने की भावना के रूप में वर्णित किया जाता है

  5. खराब समन्वय या संतुलन 

हाइड्रोसिफ़लस होने के पीछे क्या कारण है? What is the reason behind having hydrocephalus?

हाइड्रोसिफ़लस, मस्तिष्कमेरु द्रव (cerebrospinal fluid) की मात्रा और रक्तप्रवाह में कितना अवशोषित होता है और कितना नहीं इसके बीच असंतुलन के कारण होता है। 

मस्तिष्कमेरु द्रव मस्तिष्क के निलय को अस्तर करने वाले ऊतकों द्वारा निर्मित होता है। यह इंटरकनेक्टिंग चैनलों (interconnecting channels) के माध्यम से निलय के माध्यम से बहती है। द्रव अंततः मस्तिष्क और रीढ़ की हड्डी के स्तंभ के आसपास के रिक्त स्थान में बहता है। यह मुख्य रूप से मस्तिष्क की सतह पर ऊतकों में रक्त वाहिकाओं द्वारा अवशोषित होता है।

मस्तिष्कमेरु द्रव मस्तिष्क के कार्य में निम्न प्रकार से महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है :-

  1. मस्तिष्क को प्रफुल्लित रखना, अपेक्षाकृत भारी मस्तिष्क को खोपड़ी के भीतर तैरने देना

  2. चोट को रोकने के लिए मस्तिष्क को कुशन करना

  3. मस्तिष्क के चयापचय के अपशिष्ट उत्पादों को हटाना 

  4. मस्तिष्क के भीतर एक निरंतर दबाव बनाए रखने के लिए मस्तिष्क गुहा (brain cavity) और रीढ़ की हड्डी के स्तंभ यानि स्पाइनल कॉलम (spinal column) के बीच आगे और पीछे बहना 

  5. मस्तिष्क में रक्तचाप में परिवर्तन की भरपाई करना

निलय (ventricles) में बहुत अधिक मस्तिष्कमेरु द्रव निम्न कारणों में से एक के लिए होता है:

बाधा Obstruction :- सबसे आम समस्या मस्तिष्कमेरु द्रव के प्रवाह का आंशिक रुकावट है, या तो एक वेंट्रिकल से दूसरे में या वेंट्रिकल्स से मस्तिष्क के आसपास के अन्य स्थानों में।

खराब अवशोषण Poor absorption :- मस्तिष्कमेरु द्रव को अवशोषित करने में समस्या कम आम है। यह अक्सर बीमारी या चोट से मस्तिष्क के ऊतकों की सूजन से संबंधित होता है।

अतिउत्पादन Overproduction :- शायद ही कभी, मस्तिष्कमेरु द्रव को अवशोषित किए जाने की तुलना में अधिक तेज़ी से बनाया जाता है।

Rectal Prolapse in Hindi

हमारे लिए मस्तिष्कमेरु द्रव क्यों महत्वपूर्ण है? Why is cerebrospinal fluid important to us?

मस्तिष्कमेरु द्रव आमतौर पर आपके मस्तिष्क और रीढ़ की हड्डी से होकर बहती है। यह महत्वपूर्ण द्रव मस्तिष्क और रीढ़ की हड्डी की रक्षा करता है, एक कुशन के रूप में कार्य करता है जो आघात या चोट से सदमे को अवशोषित करता है। यह अपशिष्ट उत्पादों को केंद्रीय तंत्रिका तंत्र से दूर ले जाने में भी मदद करता है, जिससे इसे पूरी क्षमता से काम करने में मदद मिलती है। मस्तिष्कमेरु द्रव आपके मस्तिष्क और रीढ़ की हड्डी को निम्न प्रकार का समर्थन प्रदान करता है :-

  1. पेशी गति (muscle movement)

  2. अंग कार्य (organ function)

  3. संज्ञानात्मक प्रक्रियाएं, जैसे स्मृति (cognitive processes, like memory) 

जलशीर्ष के जोखिम कारक क्या है? What are the risk factors for hydrocephalus?

कई मामलों में, जलशीर्ष का कारण अज्ञात है। हालांकि, कई विकासात्मक या चिकित्सा समस्याएं हाइड्रोसिफ़लस में योगदान या ट्रिगर कर सकती हैं।

नवजात शिशुओं में In newborns

जन्म के समय (जन्मजात) या जन्म के तुरंत बाद मौजूद हाइड्रोसिफ़लस निम्नलिखित में से किसी के कारण हो सकता है :-

  1. केंद्रीय तंत्रिका तंत्र का असामान्य विकास जो मस्तिष्कमेरु द्रव के प्रवाह को बाधित कर सकता है

  2. निलय के भीतर रक्तस्राव, समय से पहले जन्म की संभावित जटिलता

  3. गर्भाशय में संक्रमण - जैसे रूबेला या सिफलिस - गर्भावस्था के दौरान, जो भ्रूण के मस्तिष्क के ऊतकों में सूजन पैदा कर सकता है

अन्य योगदान कारक Other contributing factors 

अन्य कारक जो किसी भी आयु वर्ग में हाइड्रोसिफ़लस में योगदान कर सकते हैं उनमें निम्नलिखित शामिल हैं :-

  1. मस्तिष्क या रीढ़ की हड्डी के घाव या ट्यूमर

  2. केंद्रीय तंत्रिका तंत्र के संक्रमण, जैसे बैक्टीरियल मैनिंजाइटिस या कण्ठमाला

  3. स्ट्रोक या सिर की चोट से मस्तिष्क में खून बहना

  4. मस्तिष्क को अन्य दर्दनाक चोट

हाइड्रोसिफ़लस से क्या जटिलताएं हो सकती है? What complications can occur from hydrocephalus?

ज्यादातर मामलों में, हाइड्रोसिफ़लस आगे बढ़ता है, जिसका अर्थ है कि बौद्धिक, विकासात्मक और शारीरिक अक्षमताओं सहित जटिलताएं हो सकती हैं, लेकिन ऐसा तभी होता यदि इसका इलाज न किया जाए। इस रोग में जटिलताएं बहुत कम होती है क्योंकि अक्सर इस रोग में जल्द ही उपचार शुरू कर दिया जाता है और इस दौरान डॉक्टर भी रोगी पर नज़र बनाए रखते हैं। अगर फिर भी कोई जटिलताएँ नज़र आती है तो वह ज्यादा गंभीर नहीं होती, उनसे आसानी से निपटा जा सकता है। हाँ, अगर उपचार सही समय पर और सही से न किया जाए तो रोगी की जांह जाने का खतरा भी बना रहता है। इतना ही नहीं, रोगी को इन्फेक्शन, मिर्गी के दौरे और सुनने या समन्वय बनाने में भी समस्या हो सकती है।

जलशीर्ष रोग का निदान कैसे किया जाता है? How is hydrocephalus diagnosed?

जलशीर्ष रोग या दिमाग में पानी भरने की समस्या यानि हाइड्रोसिफ़लस का निदान आमतौर पर निम्नलिखित पर आधारित होता है :-

  1. संकेतों और लक्षणों के बारे में डॉक्टर के सवालों के आपके जवाब

  2. सामान्य शारीरिक परीक्षा (A general physical exam)

  3. स्नायविक परीक्षा (A neurological exam)

  4. मस्तिष्क-इमेजिंग परीक्षण

इन सभी के आधार पर डॉक्टर आपको निम्न परिक्षण का आदेश देंगे –

न्यूरोलॉजिकल परीक्षा  Neurological exam

न्यूरोलॉजिकल परीक्षा का प्रकार व्यक्ति की उम्र पर निर्भर करता है। न्यूरोलॉजिस्ट प्रश्न पूछ सकता है और कार्यालय में अपेक्षाकृत सरल परीक्षण कर सकता है ताकि मांसपेशियों की स्थिति, गति, कल्याण और इंद्रियां कितनी अच्छी तरह काम कर रही हैं इस बारे में सटीक जानकारी मिल सके।

मस्तिष्क इमेजिंग Brain imaging

हाइड्रोसिफ़लस का शक होने पर डॉक्टर आपको संकेत और लक्षणों के आधार पर निम्न इमेजिंग परीक्षण करवाने के लिए कहेंगे, ताकि जल्द से जल्द उपचार शुरू किया जा सके :-

अल्ट्रासाउंड Ultrasound :- यह परीक्षण अक्सर शिशुओं के प्रारंभिक मूल्यांकन के लिए प्रयोग किया जाता है क्योंकि यह अपेक्षाकृत सरल, कम जोखिम वाली प्रक्रिया है। अल्ट्रासाउंड डिवाइस को बच्चे के सिर के शीर्ष पर नरम स्थान (फॉन्टनेल – Fontanel) पर रखा जाता है। अल्ट्रासाउंड नियमित प्रसवपूर्व परीक्षाओं के दौरान जन्म से पहले जलशीर्ष का भी पता लगा सकता है।

एमआरआई MRI :- यह परीक्षण मस्तिष्क की विस्तृत छवियों का उत्पादन करने के लिए रेडियो तरंगों और चुंबकीय क्षेत्र का उपयोग करता है। यह परीक्षण दर्द रहित होता है, लेकिन यह शोरगुल वाला होता है और इसके लिए लेटने की आवश्यकता होती है।एमआरआई स्कैन अतिरिक्त मस्तिष्कमेरु द्रव के कारण बढ़े हुए निलय दिखा सकते हैं। उनका उपयोग हाइड्रोसिफ़लस के कारणों या लक्षणों में योगदान करने वाली अन्य स्थितियों की पहचान करने के लिए भी किया जा सकता है। कुछ एमआरआई स्कैन के लिए बच्चों को हल्के बेहोश करने की भी आवश्यकता हो सकती है। हालांकि, कुछ अस्पताल एमआरआई के एक तेज संस्करण का उपयोग करते हैं जिसमें आमतौर पर बेहोश करने की क्रिया की आवश्यकता नहीं होती है।

सीटी स्कैन CT scan :- यह विशेष एक्स-रे तकनीक मस्तिष्क के क्रॉस-अनुभागीय दृश्य (cross-sectional view) उत्पन्न करती है। स्कैनिंग दर्द रहित और त्वरित है। लेकिन इस परीक्षण के लिए भी लेटने की आवश्यकता होती है, इसलिए एक बच्चे को आमतौर पर हल्का बेहोश किया जाता जाता है। सीटी स्कैनिंग एमआरआई की तुलना में कम विस्तृत छवियां उत्पन्न करती है और विकिरण की एक छोटी मात्रा के संपर्क में आती है। हाइड्रोसिफ़लस के लिए सीटी स्कैन आमतौर पर केवल आपातकालीन परीक्षाओं के लिए उपयोग किया जाता है।

जलशीर्ष का उपचार कैसे किया जाता है? How is hydrocephalus treated?

हाइड्रोसिफ़लस की पुष्टि होने के बाद इसके इलाज के लिए दो सर्जिकल उपचारों में से एक का उपयोग किया जा सकता है।

शंट प्रवेश कराना Shunt penetration

हाइड्रोसिफ़लस के लिए सबसे आम उपचार एक जल निकासी प्रणाली का सर्जिकल सम्मिलन है, जिसे शंट कहा जाता है। इसमें वाल्व के साथ एक लंबी, लचीली ट्यूब होती है जो कि मस्तिष्क से तरल पदार्थ को सही दिशा में और उचित दर पर प्रवाहित करती है।ट्यूबिंग का एक सिरा आमतौर पर मस्तिष्क के एक निलय में रखा जाता है। टयूबिंग को तब त्वचा के नीचे शरीर के दूसरे हिस्से में - जैसे पेट या हृदय कक्ष में डाल दिया जाता है जहां अतिरिक्त तरल पदार्थ को बड़ी आसानी से अवशोषित किया जा सकता है। जिन लोगों को हाइड्रोसिफ़लस होता है, उन्हें आमतौर पर अपने शेष जीवन के लिए शंट सिस्टम की आवश्यकता होती है। उन्हें नियमित निगरानी की आवश्यकता है।

एंडोस्कोपिक थर्ड वेंट्रिकुलोस्टॉमी Endoscopic third ventriculostomy  

एंडोस्कोपिक थर्ड वेंट्रिकुलोस्टॉमी एक सर्जिकल प्रक्रिया है जिसका उपयोग कुछ लोगों के लिए किया जा सकता है। सर्जन मस्तिष्क के अंदर एक छोटे से वीडियो कैमरा का उपयोग करता है। आपका सर्जन किसी एक निलय के नीचे या निलय के बीच एक छेद बनाता है जिससे मस्तिष्कमेरु द्रव (cerebrospinal fluid) मस्तिष्क से बाहर निकल सके।

सर्जरी की जटिलताएं Complications of surgery 

दोनों सर्जिकल प्रक्रियाओं के परिणामस्वरूप जटिलताएं हो सकती हैं। शंट सिस्टम यांत्रिक समस्याओं, रुकावट या संक्रमण के कारण मस्तिष्कमेरु द्रव की निकासी को रोक सकता है या जल निकासी को खराब तरीके से नियंत्रित कर सकता है। वेंट्रिकुलोस्टॉमी की जटिलताओं में रक्तस्राव और संक्रमण शामिल हैं।किसी भी विफलता पर तत्काल ध्यान देने, सर्जिकल संशोधन या अन्य हस्तक्षेप की आवश्यकता होती है। हाइड्रोसिफ़लस के मूल लक्षणों का बुखार या पुनरावृत्ति आपके डॉक्टर के साथ एक नियुक्ति का संकेत देना चाहिए।

अन्य उपचार Other treatments 

हाइड्रोसिफ़लस वाले कुछ लोगों, विशेष रूप से बच्चों को, हाइड्रोसिफ़लस की दीर्घकालिक जटिलताओं की गंभीरता के आधार पर अतिरिक्त उपचार की आवश्यकता हो सकती है। बच्चों की देखभाल टीमों में निम्नलिखित शामिल हो सकते हैं :-

  1. बाल रोग विशेषज्ञ या चिकित्सक (Pediatrician or physiatrist), जो उपचार योजना और चिकित्सा देखभाल की देखरेख करते हैं।

  2. बाल चिकित्सा न्यूरोलॉजिस्ट (Pediatric neurologist), जो बच्चों में तंत्रिका संबंधी विकारों के निदान और उपचार में माहिर हैं।

  3. व्यावसायिक चिकित्सक (Occupational therapist), जो रोज़मर्रा के कौशल विकसित करने के लिए चिकित्सा में माहिर हैं।

  4. विकासात्मक चिकित्सक (Developmental therapist), जो आपके बच्चे को आयु-उपयुक्त व्यवहार, सामाजिक कौशल और पारस्परिक कौशल विकसित करने में मदद करने के लिए चिकित्सा में माहिर हैं।

  5. मानसिक स्वास्थ्य पेशेवर (Mental health professional), जैसे मनोवैज्ञानिक या मनोचिकित्सक।

  6. सामाजिक कार्यकर्ता (Social worker), जो आवश्यक सेवाओं को प्राप्त करने और देखभाल में संक्रमण की योजना बनाने में परिवार की सहायता करता है।

जो बच्चे स्कूल में हैं उन्हें विशेष शिक्षा शिक्षकों की आवश्यकता होगी, जो सीखने की अक्षमताओं को संबोधित करते हैं, शैक्षिक आवश्यकताओं को निर्धारित करते हैं और आवश्यक संसाधनों की पहचान करते हैं।

अधिक गंभीर जटिलताओं वाले वयस्कों को भी व्यावसायिक चिकित्सक, सामाजिक कार्यकर्ताओं, मनोभ्रंश देखभाल के विशेषज्ञों या अन्य चिकित्सा विशेषज्ञों की सेवाओं की आवश्यकता हो सकती है।


Get our Newsletter

Filter out the noise and nurture your inbox with health and wellness advice that's inclusive and rooted in medical expertise.

Your privacy is important to us

MEDICAL AFFAIRS

CONTENT INTEGRITY

NEWSLETTERS

© 2022 Medtalks