शीघ्र स्खलन का इलाज | शीघ्र स्खलन की दवा का नाम

शीघ्र स्खलन का इलाज | शीघ्र स्खलन की दवा का नाम

जब कोई पुरुष सेक्स क्रिया करने से पहले ही अपना नियंत्रण खोकर वीर्य खो देता है तो उसे ही शीघ्रपतन कहते हैं । इसकी वजह से सेक्स की उत्तेजना खत्म हो जाती है और नतीजा यह होता है किसेक्स करने वाले दोनों लोग संतुष्ट नहीं हो पाते ।अगर यही प्रक्रिया लंबे समय तक चलती है तो पुरुष के मानसिक स्तर पर इसका नकारात्मक प्रभाव पड़ता है और वह दबाव, तनाव और चिंता का का शिकार हो जाता है ।

शीघ्र स्खलन का मुख्य कारण क्या होता है?

यह कोई रोग नहीं है, इसलिए इसका कोई स्थायी इलाज भी नहीं है । यह एक मनोवैज्ञानिक समस्या है और इसका हल भी मनोविज्ञान चिकित्सक कर सकता है या कोई सैक्सोलॉजिस्ट ।यह समस्या ही मानसिक स्तर से जुड़ी हुई है । किसी भी तरह का मानसिक तनाव पुरुष को हीन भावना, चिंता और डिप्रेशन दे सकता है। इसकी वजह कुछ और भी हो सकती है, जैसे हार्मोन के साथ समस्याएं, चोट या कुछ दवाओं के साइड इफेक्ट आदि। 


ट्रामाडॉल कितनी उपयोगी ?

शीघ्रपतन एक पेनकिलर दवा है, जो इसी रोग से संबंध रखती है । ट्रामाडॉल एक थर्ड लाइन मेडिसिन है, जो शीघ्रपतन में राहत देती है । इस समस्या में अक्सर यह दवा दी जाती है लेकिन यह ध्यान रखिए कि यह ओपीआर जैसी दवाई है, जिसकी लत लग सकती है और जो बाद में बहुत परेशान करेगी । इसलिए बिना किसी डॉक्टरी सलाह के ट्रामाडॉल न लें । 

शीघ्र स्खलन का इलाज कैसे किया जाता है?

शीघ्र स्खलन उपचार:

  1. टॉपिकल एनेस्थेटिक: ये ऐसी क्रीम हैं जो लिंग को सुन्न कर देती है और कभी-कभी इनका उपयोग इस समस्या को ठीक करने के लिए किया जाता है। कई बार इस क्रिम के साइड इफेक्ट भी होते हैं और सैक्स सुख में कमी हो सकती है ।
  2. एनाल्जेसिक: किसी प्रकार के दर्द का इलाज करने के लिए ट्रामाडॉल का उपयोग किया जाता है जिसका साइड इफेक्ट आमतौर पर शीघ्रपतन में देरी करता हैं। ट्रामाडॉल को अधिकांश समय एसएसआरआइ(SSRIs) के संयोजन के साथ निर्धारित किया जाता है।
  3. काउंसिलिंग: इसमें डॉक्टर पुरुषों से उनकी समस्या के बारे में बात करते हैं । डॉक्टर पुरुष से परफॉर्मेंस प्रैशर के बारे में भी बात करते हैं और तनाव से निपटने के तरीके भी बताते हैं । 
शीघ्रपतन के इलाज में उपयोग की जाने वाली बहुत सारी औषधियाँ हैं जो इलाज में काफी हद तक बदलाव लाती हैं। जिसमें क्लोमीप्रामाइन जैसे फ्लुओक्सेटीन, पेरोक्सेटीन, या सेरट्रलाइन और ट्राइसाइक्लिक एंटीडिप्रेसेंट जैसे ड्रग्स भी दिए जाते हैं।