स्किन कैंसर - स्किन कैंसर क्यों होता है, लक्षण, इलाज, दवा

स्किन कैंसर - स्किन कैंसर क्यों होता है, लक्षण, इलाज, दवा

स्किन कैंसर - स्किन कैंसर क्यों होता है, लक्षण, इलाज, दवा 

स्कीन कैंसर क्या है ?

स्कीन कैंसर एक ऐसी बीमारी है जिसमें त्वचा के टीस्सू में घातक (कैंसर) कोशिकाएं बनती हैं यानी जब त्वचा की कोशिकाएँ (स्किन सेल) असमान्य रूप से बढ़ने लगे तो उसे स्किन कैंसर कहते है। स्कीन कैंसर कई प्रकार के होते है, ये समान्यत त्वचा के उन हिस्सो मे होता है जो सूरज के किरणों के सम्पर्क मे आते है जैसे चेहरा, गर्दन, और हाथ। या कभी-कभी उन हिस्सो मे भी होता जो बिल्कुल भी सूरज के सम्पर्क मे नही आते। वैसे तो स्किन कैंसर किसी भी स्किन कलर के लोगो को हो सकता है, लेकिन ये ज्यादतर फ़ेयर यानी गोरे त्वचा पर होती है क्योंकि उनमे मेलेनिन नामक पिग्मेंट की मात्रा कम होती है। 

स्किन कैंसर त्वचा के कौन-सा कोशिकाओ से शुरु होता है -

त्वचा में कई परतें होती हैं, लेकिन दो मुख्य परतें एपिडर्मिस (ऊपरी या बाहरी परत) और डर्मिस (निचली या भीतरी परत) होती हैं। त्वचा का कैंसर 'एपिडर्मिस' में शुरू होता है, जो तीन प्रकार की कोशिकाओं से बना होता है:-


स्क्वैमस कोशिकाएं: पतली, फ्लैट कोशिकाएं जो एपिडर्मिस की ऊपरी परत बनाती हैं।

बेसल कोशिकाएं: स्क्वैमस कोशिकाओं के नीचे गोल कोशिकाएं होती है।

मेलानोसाइट्स: ये कोशिकाएं मेलेनिन बनाती हैं और एपिडर्मिस के निचले हिस्से में पाई जाती हैं। मेलेनिन वह पिग्मेंट है जो त्वचा को उसका प्राकृतिक रंग देता है। जब त्वचा सूरज के संपर्क में आती है, तो मेलानोसाइट्स ज्यादा पिग्मेंट बनाते हैं और त्वचा को डार्क (काला) कर देते हैं।स्किन कैंसर बेसल कोशिकाओं या स्क्वैमस कोशिकाओं में बनता है और मेलेनोमा, एक अन्य प्रकार का आम कैंसर है, लेकिन अधिक खतरनाक है।

प्रोस्टेट कैंसर - प्रोस्टेट कैंसर क्यों होता है, लक्षण, उपचार, दवा

स्किन कैंसर का लक्षण

त्वचा पर सभी विकास स्किन कैंसर नहीं होते हैं, और सभी स्किन कैंसर एक जैसे नहीं दिखते।

कुछ संकेत और लक्षण के जरिये आप स्किन कैंसर की शुरुआत मे ही पहचान कर सकते है, जैसे -

  • त्वचा पर तिल का आकार, या संख्या का अचानक बढ़ना ।

  • भूरे या लाल रंग का घाव होना और लम्बे वक़्त तक ठीक ना होना।

  • त्वचा पर घाव का पपड़ी का परत उतरना।

  • बेसल सेल कार्सिनोमा स्किन कैंसर मे त्वचा में बदलाव होता है, जैसे कि वृद्धि या घाव जो ठीक नहीं होगा।

  • आंखो के आसपास अक्सर जलन महसूस होना।

  • सपाट, पपड़ीदार, लाल रंग का पैच पीठ या छाती पर होता है। समय के साथ, ये पैच काफी बड़े हो सकते हैं।


    Ashwagandha Benefits in Hindi

    स्किन कैंसर के मोल्स या तिल का कैसे जांच करे-

    'एबीसीडीई' नियम आपको यह याद रखने में मदद कर सकता है कि मोल्स (तिल) की जांच करते समय क्या देखना है। अगर आपको इनमें से कोई भी लक्षण दिखाई दें तो तुरंत अपने डॉक्टर से बात करें।


    1. ए - ए मतलब अस्य्म्मेट्री, अगर आपका तिल स्य्म्मेट्री नहीं है। इसका मतलब है कि यह दोनों तरफ एक जैसा नहीं है। यदि मोल्स आधे में मुड़ा हुआ हो, और दोनों तरफ एक जैसा ना हो।

    2. बी - बी मतलब बॉर्डर, यानी तिल का बॉर्डर (किनारा) धुंधला या दांतेदार होते है।

    3. सी -  सी मतलब कलर, तिल के रंग में बदलाव काला पड़ना, रंग का गिरना, फैला हुआ रंग या कई रंग भी हो सकता है जैसे भूरा या लाल।

    4. डी - डी मतलब डायमीटर, अगर तील या मोल्स डायमीटर में ¼ इंच से ज्यादा है।

    5. ई - ई मतलब ईवोल्विंग, कोई तिल अलग दिखता है, आकार या रंग में बदल रहा है।

    स्किन कैंसर के प्रकार -

    बेसल सेल कार्सिनोमा- कैंसर जो एपिडर्मिस (त्वचा की बाहरी परत) के निचले हिस्से में शुरू होता है। यह एक छोटे सफेद या मांस के रंग की गांठ के रूप में प्रकट हो सकता है जो धीरे-धीरे बढ़ता है और खून बह सकता है। बेसल सेल कार्सिनोमा आमतौर पर सूर्य के संपर्क में आने वाले शरीर के क्षेत्रों पर पाए जाते हैं। बेसल सेल कार्सिनोमा शायद ही कभी शरीर के अन्य भागों में फैल सकता है। ये स्किन कैंसर का सबसे आम रूप हैं। इसे बेसल सेल कैंसर भी कहा जाता है।


    स्क्वैमस सेल कार्सिनोमा- कैंसर उन कोशिकाओं में शुरू होता है जो एपिडर्मिस (त्वचा की बाहरी परत) बनाते हैं। यह आमतौर पर त्वचा के उन क्षेत्रों पर होता है जो लंबे समय तक प्राकृतिक धूप या आर्टिफिशियल धूप (जैसे टैनिंग बेड से) के संपर्क में आते हैं। इन क्षेत्रों में चेहरा, कान, निचला होंठ, गर्दन, हाथ या हाथों का पिछला भाग शामिल हैं।त्वचा का स्क्वैमस सेल कार्सिनोमा एक सख्त लाल उभार, एक पपड़ीदार लाल पैच, खुले घाव, या मस्सा के रूप में हो सकता है जो आसानी से पपड़ी या खून बह सकता है। स्क्वैमस सेल कार्सिनोमा जो अभी तक नहीं फैला है उसे आमतौर पर ठीक किया जा सकता है।


    मेलेनोमा- कैंसर का एक रूप जो मेलानोसाइट्स में शुरू होता है (कोशिकाएं जो पिग्मेंट मेलेनिन बनाती हैं)। यह एक तिल (त्वचा मेलेनोमा) में शुरू हो सकता है, लेकिन यह अन्य टीस्सू में भी शुरू हो सकता है, जैसे कि आंख या आंतों में।

    एक्टिनिक केराटोसिस- त्वचा का एक मोटा, पपड़ीदार पैच जो कैंसर बन सकता है। यह आमतौर पर सूर्य के संपर्क में आने वाले क्षेत्रों पर बनता है, जैसे कि चेहरा, खोपड़ी, हाथों के पीछे या छाती। यह गोरे त्वचा वाले लोगों में सबसे आम है। इसे सेनील केराटोसिस और सोलर केराटोसिस भी कहा जाता है।

    स्किन कैंसर के जोखिम कारक -

    कोई भी चीज जिससे आपके रोग होने की संभावना बढ़ जाती है, वो जोखिम कारक कहलाती है। जोखिम कारक होने का मतलब यह नहीं है कि आपको कैंसर हो जाएगा; या फिर जोखिम कारक नहीं होने का मतलब यह भी नहीं है कि आपको कैंसर नहीं होगा। अपने चिकित्सक से बात करें यदि आपको लगता है कि आपको जोखिम है। लंबे समय तक प्राकृतिक धूप या आर्टिफिशियल धूप (जैसे टैनिंग बेड से) के संपर्क में रहना।


    गोरा रंग होना, जिसमें ये सब शामिल हो :

    • गोरी त्वचा जो आसानी से झाइयां और जल जाती है।

    • नीली, हरी या अन्य हल्के रंग की आंखें।

    • लाल या भूरे बाल।


    अगर पहले कभी सनबर्न हुआ हो। किसी भी प्रकार के स्किन कैंसर का पारिवाररिक इतिहास हो। जीन या वंशानुगत सिंड्रोम में कुछ बदलाव होना, जैसे कि बेसल सेल नेवस सिंड्रोम, जो त्वचा के कैंसर से जुड़े होते हैं। त्वचा में सूजन होना जो लंबे समय तक बनी रहे। प्रतिरक्षण प्रणाली यानी इम्मून सिस्टम का कमजोर होना। आर्सेनिक के संपर्क में आना। रेडीयेसन के साथ अगर कभी उपचार हुआ हो। अधिकांश कैंसर के लिए वृद्धावस्था मुख्य जोखिम कारक है। उम्र बढ़ने के साथ कैंसर होने की संभावना बढ़ जाती है।

    स्किन कैंसर को जाँचने के लिये टेस्ट प्रक्रिया-

    1. त्वचा की जांच: रंग, आकार या बनावट में असामान्य दिखने वाले दाग या धब्बों के लिए त्वचा की जांच।

    2. त्वचा की बायोप्सी: कैंसर के लक्षणों की जांच के लिए असामान्य दिखने वाली वृद्धि को त्वचा से काट दिया जाता है और एक रोगविज्ञानी द्वारा माइक्रोस्कोप के नीचे देखा जाता है।

    त्वचा बायोप्सी के चार मुख्य प्रकार हैं:

    1. शेव बायोप्सी: असामान्य दिखने वाली वृद्धि को "शेव-ऑफ" करने के लिए एक स्टेरायल रेजर ब्लेड का उपयोग किया जाता है।

    2. पंच बायोप्सी: असामान्य दिखने वाले विकास से टीस्सू के एक चक्र को हटाने के लिए पंच या ट्रेफिन नामक एक विशेष उपकरण का उपयोग किया जाता है।

    3. इन्सिज्नल बायोप्सी: एक स्केलपेल का उपयोग विकास यानी ग्रोथ के हिस्से को हटाने के लिए किया जाता है।

    4. एक्सिसनल बायोप्सी: पूरे असमान्य विकास को हटाने के लिए एक स्केलपेल का उपयोग किया जाता है।

    स्कीन कैंसर से बचाव - 

    • त्वचा के कैंसर से खुद को बचाने का एक तरीका यह है कि आप अपनी त्वचा को सूरज की अल्ट्रावायलेट किरणों से बचा लें। सनबर्न से बचना विशेष रूप से जरूरी है, क्योंकि इससे मेलेनोमा का खतरा बढ़ जाता है। 


    • ऐसा करने के अच्छे तरीके हैं सनस्क्रीन का उपयोग करना और सुरक्षात्मक कपड़े पहनना, जो आपके सर को भी ढक सके।


    • अगर त्वचा से कुछ भी असमान्य महसूस कर रहे तो तुरंत डॉक्टर से सम्पर्क करे।


    • महिलाए अपने पैर पर असमान्य दाग या घाव पर ध्यान रखे क्योकिं महिलयो मे पैर से स्किन कैंसर की शुरुआत हो सकती है।

    स्किन कैंसर का इलाज -

    बेसल सेल कार्सिनोमा, स्क्वैमस सेल कार्सिनोमा और एक्टिनिक केराटोसिस वाले रोगियों के लिए विभिन्न प्रकार के इलाज हैं-आठ प्रकार के मानक उपचार का उपयोग किया जाता है:


    1. सर्जरी- सर्जरी एक या अधिक सर्जिकल प्रक्रियाओं का उपयोग बेसल सेल कार्सिनोमा, त्वचा के स्क्वैमस सेल कार्सिनोमा, या एक्टिनिक केराटोसिस के इलाज के लिए किया जा सकता है।


    2. रेडिएशन थेरपी- रेडिएशन थेरपी एक कैंसर उपचार है जो कैंसर कोशिकाओं को मारने या उन्हें बढ़ने से रोकने के लिए उच्च-ऊर्जा एक्स-रे या अन्य प्रकार के रेडिएशन का उपयोग करता है। बाहरी रेडिएशन थेरपी शरीर के बाहर एक मशीन का उपयोग करती है जो कैंसर वाले जगह पर रेडिएशन भेजती है।


    3. कीमोथेरपी- कीमोथेरेपी एक कैंसर इलाज है जो कैंसर कोशिकाओं के विकास को रोकने के लिए दवाओं का उपयोग करता है, कोशिकाओं को मारकर या उन्हें विभाजित करने से रोककर।


    4.फ़ोटोडायनॉमिक थेरेपी- फोटोडायनामिक थेरेपी (पीडीटी) एक कैंसर इलाज है जो कैंसर कोशिकाओं को मारने के लिए एक दवा और एक तरह के प्रकाश का उपयोग करता है। एक दवा जो प्रकाश के संपर्क में आने तक सक्रिय नहीं होती है उसे नस में इंजेक्ट किया जाता है या त्वचा पर लगाया जाता है। दवा सामान्य कोशिकाओं की तुलना में कैंसर कोशिकाओं में अधिक एकत्रित होती है।  त्वचा के कैंसर के लिए, त्वचा पर लेजर प्रकाश डाला जाता है और दवा सक्रिय हो जाती है और कैंसर कोशिकाओं को मार देती है।


    5. इम्मयुनो थेरपी - इम्यूनोथेरेपी एक ऐसा इलाज है जो कैंसर से लड़ने के लिए रोगी की प्रतिरक्षा प्रणाली (इम्मून सिस्टम) का उपयोग करता है। शरीर द्वारा बनाए गए या प्रयोगशाला में बने पदार्थों का उपयोग कैंसर के खिलाफ शरीर की प्राकृतिक सुरक्षा को बढ़ावा देने, निर्देशित करने या बहाल करने के लिए किया जाता है।  यह कैंसर उपचार एक प्रकार की बियोलोजिकल थेरपी है।


    6. टारगेट थेरपी - टारगेट थेरपी एक प्रकार का उपचार है जो विशिष्ट कैंसर कोशिकाओं की पहचान करने और उन पर हमला करने के लिए दवाओं या अन्य पदार्थों का उपयोग करता है। टारगेट थेरपी आमतौर पर कीमोथेरेपी या रेडिएशन थेरपी की तुलना में सामान्य कोशिकाओं को कम नुकसान पहुंचाते हैं।


    7. रासायनिक पील - एक रासायनिक पील एक ऐसी प्रक्रिया है जिसका उपयोग त्वचा की कुछ स्थितियों को बेहतर बनाने के लिए किया जाता है। त्वचा की कोशिकाओं की ऊपरी परतों को घोलने के लिए त्वचा पर एक रासायनिक घोल डाला जाता है। 

    एक्टिनिक केराटोसिस के इलाज के लिए रासायनिक छिलके का उपयोग किया जा सकता है। इस प्रकार के उपचार को केमब्रेसन और केमेक्सफोलिएशन भी कहा जाता है।


    इसके अलावा अन्य दवा चिकित्सा भी होता है जो स्किन कैंसर को ठीक करने मे बेहतर है। डॉक्टर के राय के कोई भी इलाज के कदम ना उठाये और स्किन कैंसर के बारे मे इन बातों का ध्यान रखे।