नवजात शिशुओं में एनीमिया – कारण, लक्षण और इलाज | Anemia in Newborns in Hindi

नवजात शिशुओं में एनीमिया क्या है? What is anemia in newborns?

जिन नवजात शिशुओं को एनीमिया होता है उनमें लाल रक्त कोशिकाओं की संख्या सामान्य से कम होती है। लाल रक्त कोशिकाएं पूरे शरीर में ऑक्सीजन ले जाती हैं। ऐसी स्थिति में नवजात को काफी समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है, जिसमें कमजोर इम्यून सिस्टम (immune system) मुख्य है. 

नवजात शिशुओं में एनीमिया क्यों होता है? Why does anemia occur in newborns?

एक नवजात शिशु कई कारणों से एनीमिया विकसित कर सकता है। इनमें निम्न कारण शामिल हो सकते हैं :-

  1. बच्चे का शरीर पर्याप्त लाल रक्त कोशिकाओं का उत्पादन नहीं कर रहा है। अधिकांश शिशुओं को जीवन के पहले कुछ महीनों में कुछ एनीमिया होता है। इसे फिजियोलॉजिकल एनीमिया के रूप में जाना जाता है। इस एनीमिया के होने का कारण यह है कि बच्चे का शरीर तेजी से बढ़ रहा है और लाल रक्त कोशिकाओं के उत्पादन को पकड़ने में समय लगता है।

  2. शरीर लाल रक्त कोशिकाओं को बहुत जल्दी तोड़ देता है। यह समस्या तब आम होती है जब मां और बच्चे का ब्लड ग्रुप मैच नहीं करता। इसे Rh/ABO असंगति कहा जाता है। इन शिशुओं को आमतौर पर पीलिया (Jaundice) होता है, जिसके कारण उनकी त्वचा पीली पड़ सकती है। कुछ शिशुओं में एनीमिया संक्रमण या आनुवंशिक (वंशानुगत) विकारों के कारण भी हो सकता है। 

  3. किसी कारण बच्चे का खून बहुत ज्यादा निकल जाता है। नियोनेटल इंटेंसिव केयर यूनिट (एनआईसीयू) (Neonatal Intensive Care Unit (NICU) में रक्त की कमी आमतौर पर इसलिए होती है क्योंकि स्वास्थ्य सेवा प्रदाताओं को बार-बार रक्त परीक्षण करने की आवश्यकता होती है। मेडिकल टीम को आपके बच्चे की स्थिति का प्रबंधन करने में मदद करने के लिए इन परीक्षणों की आवश्यकता होती है। जो खून लिया जाता है उसे जल्दी से नहीं बदला जाता है, जिससे एनीमिया हो जाता है।

  4. बच्चा समय से पहले पैदा (premature birth) हुआ है। जिन शिशुओं का जन्म समय से पहले (जल्दी) होता है उनमें लाल रक्त कोशिकाओं की संख्या कम होती है। पूर्ण अवधि के शिशुओं की लाल रक्त कोशिकाओं की तुलना में इन लाल रक्त कोशिकाओं का जीवन काल भी कम होता है। इसे प्रीमेच्योरिटी का एनीमिया कहा जाता है।

अन्य कारणों में आंतरिक रक्तस्राव (internal bleeding) और विकासशील और गर्भवती के बीच रक्त का स्थानांतरण (blood transfusion) शामिल है।

नवजात शिशुओं में एनीमिया के लक्षण क्या हैं? What are the symptoms of anemia in newborns?

एनीमिया से पीड़ित कई शिशुओं में कोई लक्षण नहीं होते हैं। अगर लक्षण दिखाई देते हैं तो वह निम्नलिखित हो सकते हैं :-

  1. पीली त्वचा होना, यह पीलिया का स्पष्ट लक्षण है।

  2. सुस्ती महसूस होना (कम ऊर्जा होना)।

  3. स्तनपान या खाना कम खाना.

  4. सामान्य से बहुत जल्दी थक जाना.

  5. आराम करने पर तेज हृदय गति.

  6. तेजी से सांस लेना।

नवजात शिशुओं में एनीमिया का निदान कैसे किया जाता है? How is anemia in newborns diagnosed?

आपके स्वास्थ्य सेवा प्रदाता द्वारा रक्त परीक्षण से एनीमिया का निदान किया जाता है। एनीमिया (anemia) का निदान करने में मदद के लिए उपयोग किए जाने वाले टेस्ट में निम्न के माप शामिल हैं :-

  1. हीमोग्लोबिन (hemoglobin) :- लाल रक्त कोशिकाओं में प्रोटीन जो ऑक्सीजन ले जाता है।

  2. हेमेटोक्रिट (hematocrit) :- रक्त का वह प्रतिशत जो लाल रक्त कोशिकाओं से बना होता है।

  3. रेटिकुलोसाइट्स (reticulocytes) :-  रक्त में अपरिपक्व लाल रक्त कोशिकाओं का प्रतिशत। यह इस बात का माप है कि कितनी नई कोशिकाएं बन रही हैं।

नवजात शिशुओं में एनीमिया के लिए कौन से उपचार का उपयोग किया जाता है? What treatments are used for anemia in newborns?

आपके बच्चे का स्वास्थ्य सेवा प्रदाता यह निर्धारित करेगा कि आपके बच्चे के लिए कौन सा उपचार सबसे अच्छा है। एनीमिया से पीड़ित कई शिशुओं को किसी उपचार की आवश्यकता नहीं होती है। हालांकि, बहुत समय से पहले या बहुत बीमार बच्चों को शरीर में लाल रक्त कोशिकाओं की संख्या बढ़ाने के लिए रक्त आधान की आवश्यकता हो सकती है।

अन्य शिशुओं का दवा से इलाज किया जाएगा ताकि उनके शरीर को अधिक लाल रक्त कोशिकाएं बनाने में मदद मिल सके। एनीमिया से पीड़ित सभी शिशुओं के आहार की जांच की जाएगी, क्योंकि सही आहार आपके बच्चे को लाल रक्त कोशिकाएं बनाने में मदद करेगा।

Logo

Medtalks is India's fastest growing Healthcare Learning and Patient Education Platform designed and developed to help doctors and other medical professionals to cater educational and training needs and to discover, discuss and learn the latest and best practices across 100+ medical specialties. Also find India Healthcare Latest Health News & Updates on the India Healthcare at Medtalks