एनीमिया कितना गंभीर? लक्षण, कारण, प्रकार, और इलाज सब जाने | Anemia in Hindi

“गाजर खाया करो शरीर में खून की कमी नहीं होगी”, आपने अक्सर यह वाक्य अपने जीवन में जरूर सुना होगा। हम सभी लोग बचपन से ही हमारे शरीर में खून के स्तर को बढ़ाने पर खासा जोर देते हैं, क्योंकि अगर शरीर में खून की कमी हो गई तो एनीमिया जैसी गंभीर बीमारी होने का खतरा रहता है। बहुत से लोगों को लगता है कि खाली शरीर में खून की कमी होने को ही एनीमिया कहा जाता है, लेकिन ऐसा नहीं है। एनीमिया इससे भी कहीं ज्यादा है। तो चलिए इस लेख के जरिये आज खून से जुड़ी इस बीमारी पर विस्तार से जानते हैं। हम इस लेख में एनीमिया के लक्षण, एनीमिया होने के कारण, एनीमिया के प्रकार और एनीमिया का इलाज कैसे किया जा सकता है इस बारे में विस्तार से जानेंगे। 

एनीमिया क्या है? What is anemia? 

एनीमिया एक ऐसी स्थिति या रोग है जिसमें व्यक्ति के शरीर में लाल रक्त कोशिकाओं (Red blood cells) की कमी हो जाती है, जिसके चलते ऊतकों (Tissue) तक प्रयाप्त मात्रा में ऑक्सीजन नहीं पहुँच पाता। इस समस्या की वजह से व्यक्ति काफी कमजोर और थका हुआ महसूस करना शुरू कर देता है, साथ ही त्वचा भी पीली पड़नी शुरू हो जाती है। सरल शब्दों में कहा जाए तो शरीर में हुई खून की कमी एनीमिया है, जिसे कम हीमोग्लोबिन (low hemoglobin) स्तर भी कहा जाता है।

एनीमिया एक ऐसी खून की बीमारी है जो कि सामान्य से लेकर काफी गंभीर तक हो सकती है, क्योंकि यह अस्थायी से लेकर दीर्घकालिक तक हो सकती है। इसके अलावा एक शोध के अनुसार एनीमिया के 400 से ज्यादा प्रकार हैं, लेकिन फ़िलहाल इसके सात प्रकार ही माने जाते हैं। एनीमिया के हर प्रकार के लक्षण और कारण दुसरे से अलग होते हैं। महिलाओं और छोटे बच्चों में एनीमिया की समस्या होने की सबसे ज्यादा आशंका होती है। भारत में हर साल करोड़ों लोग एनीमिया का शिकार होते हैं, जिसमें छोटे बच्चे और महिलाओं की संख्या सबसे ज्यादा होती है।

एनीमिया के कितने प्रकार है? How many types of anemia are there?

एनीमिया के मुख्य रूप से सात प्रकार हैं, जिन्हें नीचे वर्णित किया गया है :-  

आयरन की कमी से होने वाला एनीमिया Iron deficiency anemia :-

एनीमिया का सबसे आम रूप आयरन की कमी से होने वाला एनीमिया है जो कि आमतौर पर महिलाओं को माहवारी के दौरान हुई रक्त हानि के कारण होता है। अगर शरीर में आयरन की मांग सामान्य से बढ़ने लग जाए तो भी एनीमिया का यह प्रकार हो सकता है। गर्भावस्था में भ्रूण के विकास, शैशवावस्था (infancy) और किशोरावस्था में तेजी से विकास के दौर से गुजर रहे बच्चों के शरीर में आयरन की मांग सामान्य से ज्यादा होती है और इसी दौरान इन्हें एनीमिया की शिकायत हो सकती है। इस स्थिति का इलाज आयरन सप्लीमेंट के साथ-साथ आयरन की कमी के अंतर्निहित कारण के उपचार के साथ किया जाता है।

थैलेसीमिया Thalassemia :-

थैलेसीमिया वंशानुगत रक्त विकार (blood disorder) हैं जो कि शरीर को कम स्वस्थ लाल रक्त कोशिकाओं और कम हीमोग्लोबिन (लाल रक्त कोशिकाओं में एक आयरन युक्त प्रोटीन) बनाने का कारण बनते हैं। 

थैलेसीमिया के दो प्रमुख प्रकार हैं अल्फा थैलेसीमिया और बीटा थैलेसीमिया (Alpha Thalassemia and Beta Thalassemia)। अल्फा थैलेसीमिया के सबसे गंभीर रूप को अल्फा थैलेसीमिया मेजर (alpha thalassemia major) या हाइड्रोप्स फेटलिस (hydrops fetalis) के रूप में जाना जाता है, जबकि बीटा थैलेसीमिया के गंभीर रूप को थैलेसीमिया मेजर (thalassemia major) या कूली के एनीमिया (Cooley's anemia) के रूप में जाना जाता है।

थैलेसीमिया पुरुषों और महिलाओं दोनों को प्रभावित करता है और अक्सर इतालवी, ग्रीक, मध्य पूर्वी, एशियाई और अफ्रीकी मूल के लोगों में होता है। गंभीर रूपों का आमतौर पर बचपन में निदान किया जाता है और यह जीवन भर साथ रहने वाली स्थिति है।

अप्लास्टिक एनीमिया Aplastic anemia :-

अप्लास्टिक एनीमिया एक रक्त विकार है जिसमें शरीर का अस्थि मज्जा (bone marrow) पर्याप्त नई रक्त कोशिकाओं का निर्माण नहीं करता है। इसके परिणामस्वरूप अतालता (arrhythmia), बढ़े हुए हृदय (enlarged heart), हृदय गति रुकना, संक्रमण और रक्तस्राव (bleeding) सहित कई स्वास्थ्य समस्याएं हो सकती हैं।

अप्लास्टिक एनीमिया एक दुर्लभ लेकिन गंभीर स्थिति है। यह अचानक या धीरे-धीरे विकसित हो सकता है और समय के साथ यह काफी गंभीर हो सकता है। इस एनीमिया की सबसे गंभीर बात यह है कि जब तक इसके कारण का पता नहीं लगता, तब तक इसका इलाज शुरू नहीं किया जा सकता और इसके कारण के बारे में जानकारी मिल पाना काफी मुश्किल होता है।

हेमोलिटिक एनीमिया Haemolytic Anaemia :-

हेमोलिटिक एनीमिया एक ऐसी स्थिति है जिसमें लाल रक्त कोशिकाओं को नष्ट कर दिया जाता है और उनके सामान्य जीवनकाल से पहले रक्तप्रवाह से हटा दिया जाता है। कई बीमारियां, स्थितियां और कारक शरीर को अपनी लाल रक्त कोशिकाओं को नष्ट करने का कारण बन सकते हैं। हेमोलिटिक एनीमिया थकान, दर्द, अतालता (arrhythmia), बढ़े हुए दिल और दिल की विफलता (heart failure) जैसी विभिन्न स्वास्थ्य समस्याओं को जन्म दे सकता है।

हेमोलिटिक एनीमिया कई प्रकार के होते हैं – जिनमें से कुछ विरासत में मिलते हैं और अन्य जो अधिग्रहित (acquired) होते हैं।

वंशानुगत हेमोलिटिक एनीमिया (Hereditary haemolytic anaemia’s) में शामिल हैं :- 

  1. रक्त की लाल कोशिकाओं की कमी

  2. थैलेसीमियास

  3. वंशानुगत खून की बीमारी (Hereditary spherocytosis)

  4. वंशानुगत इलिप्टोसाइटोसिस (Hereditary elliptocytosis)

  5. ग्लूकोज-6-फॉस्फेट डिहाइड्रोजनेज (G6PD) की कमी (Glucose-6-phosphate dehydrogenase (G6PD) deficiency)

  6. पाइरूवेट किनेज की कमी (Pyruvate kinase deficiency)

एक्वायर्ड हेमोलिटिक एनीमिया (Acquired haemolytic anaemia’s) में शामिल हैं :-

  1. इम्यून हेमोलिटिक एनीमिया (Immune haemolytic anaemia) के प्रकार हैं –

  1. ऑटोइम्यून हेमोलिटिक एनीमिया

  2. एलोइम्यून हेमोलिटिक एनीमिया

  3. दवा से प्रेरित हेमोलिटिक एनीमिया

  1. यांत्रिक रक्तलायी अरक्तता (Mechanical haemolytic anaemia’s)

  2. पैरॉक्सिस्मल निशाचर हीमोग्लोबिनुरिया (Paroxysmal nocturnal haemoglobinuria)

  3. कुछ संक्रमण और पदार्थ भी लाल रक्त कोशिकाओं को नुकसान पहुंचा सकते हैं और हेमोलिटिक एनीमिया का कारण बन सकते हैं

सिकल सेल एनीमिया कमी Sickle cell Anaemia :-

सिकल सेल एनीमिया एक गंभीर बीमारी है जिसमें शरीर सिकल के आकार की ("सी" आकार की) लाल रक्त कोशिकाओं का निर्माण करता है। सामान्य लाल रक्त कोशिकाएं डिस्क के आकार की होती हैं और आपकी रक्त वाहिकाओं के माध्यम से आसानी से चलती हैं। लाल रक्त कोशिकाओं में प्रोटीन हीमोग्लोबिन (protein haemoglobin) होता है जो कि एक आयरन युक्त प्रोटीन जो रक्त को उसका लाल रंग देता है और फेफड़ों से ऑक्सीजन को शरीर के बाकी हिस्सों में ले जाता है।

सिकल कोशिकाओं में असामान्य हीमोग्लोबिन होता है जो कोशिकाओं को एक दरांती (sickle) का आकार देता है, जो रक्त वाहिकाओं के माध्यम से आसानी से नहीं चलती है। यह कठोर और चिपचिपी होती हैं और रक्त वाहिकाओं में गुच्छों का निर्माण करती हैं और फंस जाती हैं। सिकल सेल के गुच्छे रक्त वाहिकाओं में रक्त के प्रवाह को अवरुद्ध करते हैं जो अंगों तक ले जाते हैं। अवरुद्ध रक्त वाहिकाओं में दर्द, गंभीर संक्रमण और अंग क्षति हो सकती है।

सिकल सेल एनीमिया में, लाल रक्त कोशिकाओं की सामान्य से कम संख्या होती है क्योंकि सिकल सेल बहुत लंबे समय तक नहीं रहते हैं। सिकल सेल आमतौर पर लगभग 10 से 20 दिनों के बाद मर जाते हैं और शरीर लाल रक्त कोशिकाओं को इतनी तेजी से पुन: उत्पन्न नहीं कर पाता है कि मरने वाली कोशिकाओं को बदल दिया जाता है, जो एनीमिया का कारण बनता है।

हानिकारक रक्त की कमी Pernicious Anaemia :-

पर्निशियस एनीमिया एक ऐसी स्थिति है जिसमें शरीर पर्याप्त स्वस्थ लाल रक्त कोशिकाओं का निर्माण नहीं कर पाता है क्योंकि इसमें पर्याप्त विटामिन बी 12 (कुछ खाद्य पदार्थों में पाया जाने वाला पोषक तत्व) नहीं होता है। जिन लोगों को घातक रक्ताल्पता है, वह आंतरिक कारक (पेट में बनने वाला प्रोटीन) की कमी के कारण पर्याप्त विटामिन बी12 को अवशोषित नहीं कर पाते हैं। हालांकि, अन्य स्थितियां और कारक भी विटामिन बी 12 की कमी का कारण बन सकते हैं।

फैंकोनी एनीमिया Fanconi Anaemia :-

फैंकोनी एनीमिया, या एफए, एक दुर्लभ, विरासत में मिला रक्त विकार है जो अस्थि मज्जा की विफलता की ओर जाता है। फैंकोनी एनीमिया एक प्रकार का अप्लास्टिक एनीमिया है जो आपके अस्थि मज्जा को आपके शरीर को सामान्य रूप से काम करने के लिए पर्याप्त नई रक्त कोशिकाओं को बनाने से रोकता है। फैंकोनी एनीमिया आपके अस्थि मज्जा को कई असामान्य रक्त कोशिकाओं को बनाने का कारण बन सकता है। इससे ल्यूकेमिया जैसी गंभीर स्वास्थ्य समस्याएं हो सकती हैं।

एफए एक रक्त विकार है, लेकिन यह शरीर के कई अंगों, ऊतकों और प्रणालियों को भी प्रभावित कर सकता है। जिन बच्चों को फैंकोनी एनीमिया विरासत में मिला है, उनमें जन्म दोषों के साथ पैदा होने का खतरा अधिक होता है, और जिन लोगों को फैंकोनी एनीमिया होता है, उनमें कुछ कैंसर और अन्य गंभीर स्वास्थ्य समस्याओं का खतरा अधिक होता है। फैंकोनी एनीमिया एक अप्रत्याशित बीमारी है। एफए वाले लोगों का औसत जीवनकाल 20 से 30 वर्ष के बीच होता है। एफए से संबंधित मृत्यु के सबसे आम कारण अस्थि मज्जा की विफलता, ल्यूकेमिया और ठोस ट्यूमर हैं।

एनीमिया के लक्षण क्या है? What are the symptoms of anemia?

एनीमिया के संकेत और लक्षण एनीमिया के कारण और गंभीरता के आधार पर भिन्न होते हैं। आपके एनीमिया के कारणों के आधार पर हो सकता है कि आपको कोई लक्षण भी दिखाई न दें। सामान्य तौर पर एनीमिया होने पर निम्नलिखित लक्षण दिखाई देते हैं :-

  1. थकान

  2. दुर्बलता

  3. हल्की या पीली त्वचा

  4. अनियमित दिल की धड़कन

  5. सांस लेने में कठिनाई

  6. चक्कर आना 

  7. हल्कापन महसूस होना

  8. छाती में दर्द

  9. ठंडे हाथ और पैर

  10. सिर दर्द

सबसे पहले, एनीमिया इतना हल्का हो सकता है कि आप इसे नोटिस नहीं करते हैं। लेकिन एनीमिया के बिगड़ने पर लक्षण बिगड़ जाते हैं और फिर स्पष्ट रूप से इसके लक्षण दिखाई देते हैं।

एनीमिया के कुछ रूपों में विशिष्ट समस्याएँ खड़ी करने वाले लक्षण होते हैं, जिनमें निम्नलिखित शामिल हैं :-

  1. अप्लास्टिक एनीमिया : इससे बुखार, बार-बार संक्रमण और त्वचा पर चकत्ते हो सकते हैं।

  2. फोलिक एसिड की कमी से एनीमिया : इससे चिड़चिड़ापन, दस्त और एक चिकनी जीभ हो सकती है।

  3. हेमोलिटिक एनीमिया : इससे पीलिया, गहरे रंग का मूत्र, बुखार और पेट में दर्द हो सकता है।

  4. सिकल सेल एनीमिया : इससे पैरों और हाथों में दर्दनाक सूजन, साथ ही थकान और पीलिया हो सकता है।

एनीमिया होने के कारण क्या है? What is the cause of anemia?

एनीमिया जन्म के समय मौजूद स्थिति (जन्मजात) या आपके द्वारा विकसित (अधिग्रहित) की स्थिति के कारण हो सकता है। एनीमिया तब होता है जब आपके रक्त में पर्याप्त लाल रक्त कोशिकाएं नहीं होती हैं। आमतौर पर एनीमिया होने के पीछे निम्नलिखित कुछ स्थितियां मानी जाती हैं :-

  1. आपका शरीर पर्याप्त लाल रक्त कोशिकाओं का निर्माण नहीं करता है।

  2. रक्तस्राव के कारण आप लाल रक्त कोशिकाओं को बदलने की तुलना में अधिक तेज़ी से खो देते हैं।

  3. आपका शरीर लाल रक्त कोशिकाओं को नष्ट कर देता है।

एक व्यक्ति को एनीमिया होने का कारण क्या है यह इस बात पर निर्भर करता है कि उसे कौन से प्रकार का एनीमिया हुआ है। एनीमिया के कारण उसके प्रकार के आधार पर भिन्न होते हैं जिन्हें नीचे वर्णित किया गया है :- 

आयरन की कमी से होने वाला एनीमिया Iron deficiency anemia :- यह सबसे आम प्रकार का एनीमिया आपके शरीर में आयरन की कमी के कारण होता है। आपके अस्थि मज्जा को हीमोग्लोबिन बनाने के लिए आयरन की आवश्यकता होती है। पर्याप्त आयरन के बिना, आपका शरीर लाल रक्त कोशिकाओं के लिए पर्याप्त हीमोग्लोबिन का उत्पादन नहीं कर सकता है।

आयरन सप्लीमेंट के बिना इस प्रकार का एनीमिया कई गर्भवती महिलाओं में होता है। यह खून की कमी के कारण भी होता है, जैसे कि मासिक धर्म से रक्तस्राव; पेट या छोटी आंत में अल्सर; बड़ी आंत का कैंसर; और कुछ दर्द निवारक दवाओं का नियमित उपयोग जो बिना प्रिस्क्रिप्शन के इस्तेमाल की गई हैं, विशेष रूप से एस्पिरिन, जो पेट की परत में सूजन पैदा कर सकता है जिसके परिणामस्वरूप रक्त की हानि हो सकती है। एनीमिया की पुनरावृत्ति को रोकने के लिए आयरन की कमी के स्रोत को निर्धारित करना महत्वपूर्ण है।

विटामिन की कमी से एनीमिया Vitamin deficiency anemia :- आयरन के अलावा, आपके शरीर को पर्याप्त स्वस्थ लाल रक्त कोशिकाओं के उत्पादन के लिए फोलेट और विटामिन बी-12 की आवश्यकता होती है। इन और अन्य प्रमुख पोषक तत्वों की कमी वाले आहार से लाल रक्त कोशिका का उत्पादन कम हो सकता है। कुछ लोग जो पर्याप्त बी-12 का सेवन करते हैं, वे विटामिन को अवशोषित करने में सक्षम नहीं होते हैं। इससे विटामिन की कमी से एनीमिया हो सकता है, जिसे पर्निशियस एनीमिया भी कहा जाता है।

सूजन का एनीमिया Anemia of inflammation :- कुछ रोग जिनमें सुजन आती है जैसे कि कैंसर, एचआईवी एड्स, संधिशोथ (rheumatoid arthritis), किडनी की बीमारी, क्रोहन रोग (Crohn's disease) और अन्य एक्यूट या क्रोनिक सूजन संबंधी बीमारियां लाल रक्त कोशिकाओं के उत्पादन में हस्तक्षेप कर सकती हैं। जिसकी वजह से एनीमिया की समस्या हो जाती है।

अप्लास्टिक एनीमिया Aplastic anemia :- यह दुर्लभ, जानलेवा एनीमिया तब होता है जब आपका शरीर पर्याप्त लाल रक्त कोशिकाओं का उत्पादन नहीं करता है। अप्लास्टिक एनीमिया के कारणों में संक्रमण, कुछ दवाएं, ऑटोइम्यून रोग और जहरीले रसायनों के संपर्क में शामिल हैं।

अस्थि मज्जा रोग से जुड़े एनीमिया Anemias associated with bone marrow disease :- ल्यूकेमिया और मायलोफिब्रोसिस (myelofibrosis) जैसी कई तरह की बीमारियां आपके अस्थि मज्जा में रक्त उत्पादन को प्रभावित करके एनीमिया का कारण बन सकती हैं। इस प्रकार के कैंसर और कैंसर जैसे विकारों के प्रभाव हल्के से लेकर जानलेवा तक हो सकते हैं।

हेमोलिटिक एनीमिया Hemolytic anemias :- एनीमिया का यह समूह तब विकसित होता है जब लाल रक्त कोशिकाओं को अस्थि मज्जा की तुलना में तेजी से नष्ट किया जा सकता है। कुछ रक्त रोग लाल रक्त कोशिका के विनाश को बढ़ाते हैं। आप एक हेमोलिटिक एनीमिया विरासत में प्राप्त कर सकते हैं, या आप इसे बाद में जीवन में विकसित कर सकते हैं।

सिकल सेल एनीमिया कमी Sickle cell Anaemia :- यह विरासत में मिली और कभी-कभी गंभीर स्थिति हेमोलिटिक एनीमिया है। यह हीमोग्लोबिन के एक दोषपूर्ण रूप के कारण होता है जो लाल रक्त कोशिकाओं को एक असामान्य अर्धचंद्राकार (सिकल) आकार ग्रहण करने के लिए मजबूर करता है। ये अनियमित रक्त कोशिकाएं समय से पहले मर जाती हैं, जिसके परिणामस्वरूप लाल रक्त कोशिकाओं की पुरानी कमी हो जाती है।

एनीमिया के जोखिम कारक क्या है? What are the risk factors for anemia?

निम्न वर्णित कारक आपको एनीमिया के बढ़ते जोखिम में डाल सकते हैं :-

कुछ विटामिन और खनिजों में कमी वाला आहार (A diet lacking in certain vitamins and minerals) :- आयरन, विटामिन बी-12, फोलेट और कॉपर में लगातार कम आहार से आपके एनीमिया का खतरा बढ़ जाता है।

उम्र (Age) :- 65 वर्ष से अधिक उम्र के लोगों में एनीमिया का खतरा बढ़ जाता है।

आंतों के विकार (Intestinal disorders) :- आंतों का विकार होना जो आपकी छोटी आंत में पोषक तत्वों के अवशोषण को प्रभावित करता है - जैसे क्रोहन रोग और सीलिएक रोग आपको एनीमिया के खतरे में डालता है।

मासिक धर्म (Menstruation) :- सामान्य तौर पर, जिन महिलाओं को रजोनिवृत्ति नहीं हुई है, उनमें पुरुषों और पोस्टमेनोपॉज़ल महिलाओं की तुलना में आयरन की कमी से होने वाले एनीमिया का अधिक खतरा होता है। मासिक धर्म लाल रक्त कोशिकाओं के नुकसान का कारण बनता है।

गर्भावस्था (Pregnancy) :- गर्भवती होने और फोलिक एसिड और आयरन के साथ मल्टीविटामिन न लेने से आपके एनीमिया का खतरा बढ़ जाता है।

पुरानी स्थितियां (Chronic conditions) :- यदि आपको कैंसर, गुर्दे की विफलता या कोई अन्य पुरानी स्थिति है, तो आपको पुरानी बीमारी के एनीमिया का खतरा हो सकता है। इन स्थितियों से लाल रक्त कोशिकाओं की कमी हो सकती है। आपके शरीर के भीतर एक अल्सर या अन्य स्रोत से धीमी, क्रोनिक ब्लड लोस आपके शरीर के आयरन के भंडार को समाप्त कर सकती है, जिससे आयरन की कमी से एनीमिया हो सकता है।

परिवार के इतिहास (Family history) :- यदि आपके परिवार में वंशानुगत एनीमिया का इतिहास है, जैसे सिकल सेल एनीमिया, तो आपको भी इस स्थिति का खतरा बढ़ सकता है।

अन्य कारक (Other factors) :- कुछ संक्रमणों, रक्त रोगों और ऑटोइम्यून विकारों का इतिहास आपके एनीमिया के जोखिम को बढ़ाता है। शराब, जहरीले रसायनों के संपर्क में आने और कुछ दवाओं के उपयोग से लाल रक्त कोशिका उत्पादन प्रभावित हो सकता है और एनीमिया हो सकता है।

एनीमिया की वजह से क्या जटिलताएं हो सकती है? What complications can be caused by anemia? 

अगर एनीमिया का उपचार न किया जाए तो इसकी वजह से कई स्वास्थ्य समस्याओं का कारण बन सकता है और निम्न वर्णित जटिलताएं हो सकती हैं :- 

अत्यधिक थकान Extreme fatigue :- गंभीर एनीमिया आपको इतना थका सकता है कि आप अपने दैनिक कार्यों को पूरा नहीं कर सकते और आपको हर समय चक्कर और कमजोरी महसूस होती रहेगी।

गर्भावस्था की जटिलताएं Pregnancy complications :- फोलेट की कमी वाले एनीमिया वाली गर्भवती महिलाओं में समय से पहले जन्म जैसी जटिलताएं होने की संभावना अधिक हो सकती है।

हृदय की समस्याएं Heart problems :- एनीमिया तेजी से या अनियमित दिल की धड़कन (अतालता) का कारण बन सकता है। जब आप एनीमिक होते हैं तो आपका हृदय रक्त में ऑक्सीजन की कमी को पूरा करने के लिए अधिक रक्त पंप करता है। इससे बढ़े हुए दिल या दिल की विफलता हो सकती है।

मौत Death :- कुछ विरासत में मिले एनीमिया, जैसे सिकल सेल एनीमिया, जीवन के लिए खतरा पैदा कर सकते हैं। बहुत अधिक रक्त की कमी से तीव्र, गंभीर एनीमिया होता है और यह घातक हो सकता है। वृद्ध लोगों और छोटे बच्चों में, एनीमिया मृत्यु के बढ़ते जोखिम से जुड़ा है।

एनीमिया का निदान कैसे किया जाता है? How is anemia diagnosed?

एनीमिया का निदान करना आसान होता है, इसके लिए सबसे पहले डॉक्टर लक्षणों की जांच करेगा और उसके बाद आपसे आपके और आपके परिवार के चिकित्सा इतिहास के बारे में जानकारी ले सकते हैं। इसके साथ ही डॉक्टर आपको निम्नलिखित जांच करवाने के लिए कह सकते हैं जिससे इस गंभीर रोग एनीमिया की जानकारी मिल सके :-

पूर्ण रक्त गणना (सीबीसी) Complete blood count (CBC) :- पूर्ण रक्त गणना (सीबीसी) आपके रक्त के नमूने में रक्त कोशिकाओं की संख्या की गणना करने के लिए एक सीबीसी का उपयोग किया जाता है। एनीमिया के लिए, आपका डॉक्टर आपके रक्त (हेमटोक्रिट) में निहित लाल रक्त कोशिकाओं के स्तर और आपके रक्त में हीमोग्लोबिन के स्तर में रुचि रखेगा।

स्वस्थ वयस्क हेमटोक्रिट मान आमतौर पर पुरुषों के लिए 38.3% और 48.6% और महिलाओं के लिए 35.5% और 44.9% के बीच होते हैं। स्वस्थ वयस्क हीमोग्लोबिन मान आमतौर पर पुरुषों के लिए 13.2 से 16.6 ग्राम प्रति डेसीलीटर और महिलाओं के लिए 11.6 से 15 ग्राम प्रति डेसीलीटर होते हैं। ये मूल्य एक चिकित्सा पद्धति से दूसरे में थोड़ा भिन्न हो सकते हैं।

उन लोगों के लिए संख्या कम हो सकती है जो गहन शारीरिक गतिविधि में संलग्न हैं, गर्भवती हैं या अधिक उम्र के हैं। धूम्रपान और अधिक ऊंचाई पर रहने से संख्या बढ़ सकती है।

आपके लाल रक्त कोशिकाओं के आकार और आकार को निर्धारित करने के लिए एक परीक्षण। असामान्य आकार, आकार और रंग के लिए आपकी कुछ लाल रक्त कोशिकाओं की भी जांच की जा सकती है।

अतिरिक्त नैदानिक ​​परीक्षण Additional diagnostic tests :-

यदि आप एनीमिया का निदान प्राप्त करते हैं, तो आपका डॉक्टर कारण निर्धारित करने के लिए अन्य परीक्षणों का आदेश दे सकता है। कभी-कभी, एनीमिया का निदान करने के लिए आपके अस्थि मज्जा के नमूने का अध्ययन करना आवश्यक हो सकता है।

एनीमिया का उपचार कैसे किया जाता है? How is anemia treated?

एनीमिया का उपचार शुरू करने से पहले इस बारे में पूरी जानकारी प्राप्त करनी पड़ती है कि व्यक्ति को किस प्रकार का एनीमिया हुआ है और उसके पीछे का कारण क्या है। क्योंकि एनीमिया के प्रकार और उसके पीछे के कारण के बीना इसका उपचार कर पाना काफी मुश्किल होता है। एनीमिया होने पर निम्न वर्णित प्रकार से इसका उपचार किया जा सकता है :- 

आयरन की कमी से एनीमिया Iron deficiency anemia :- एनीमिया के इस रूप के उपचार में आमतौर पर आयरन सप्लीमेंट लेना और अपने आहार में बदलाव करना शामिल है। कुछ लोगों के लिए, इसमें नस के माध्यम से आयरन प्राप्त करना शामिल हो सकता है। यदि आयरन की कमी का कारण रक्त की हानि है - मासिक धर्म के अलावा, रक्तस्राव के स्रोत का पता लगाना चाहिए और रक्तस्राव बंद हो जाना चाहिए। इसमें सर्जरी शामिल हो सकती है।

विटामिन की कमी से एनीमिया Vitamin deficiency anemias :-  फोलिक एसिड और विटामिन सी की कमी के उपचार में आहार की खुराक और अपने आहार में इन पोषक तत्वों को बढ़ाना शामिल है। यदि आपके पाचन तंत्र को आपके द्वारा खाए जाने वाले भोजन से विटामिन बी-12 को अवशोषित करने में परेशानी होती है, तो आपको विटामिन बी-12 शॉट्स की आवश्यकता हो सकती है। सबसे पहले, आपके पास हर दूसरे दिन शॉट हो सकते हैं। आखिरकार, आपको अपनी स्थिति के आधार पर, संभवतः जीवन के लिए, महीने में केवल एक बार शॉट्स की आवश्यकता होगी।

पुरानी बीमारी का एनीमिया Anemia of chronic disease :- इस प्रकार के एनीमिया के लिए कोई विशिष्ट उपचार नहीं है। डॉक्टर अंतर्निहित बीमारी के इलाज पर ध्यान केंद्रित करते हैं। यदि लक्षण गंभीर हो जाते हैं, तो सामान्य रूप से आपके गुर्दे (एरिथ्रोपोइटिन - erythropoietin) द्वारा उत्पादित सिंथेटिक हार्मोन का रक्त आधान (blood transfusion of synthetic hormones) या इंजेक्शन लाल रक्त कोशिका के उत्पादन को प्रोत्साहित करने और थकान को कम करने में मदद कर सकता है।

अप्लास्टिक एनीमिया Aplastic anemia :- इस एनीमिया के उपचार में लाल रक्त कोशिकाओं के स्तर को बढ़ाने के लिए रक्त आधान (blood transfusion) शामिल हो सकता है। यदि आपका अस्थि मज्जा स्वस्थ रक्त कोशिकाओं का निर्माण नहीं कर सकता है तो आपको अस्थि मज्जा प्रत्यारोपण (bone marrow transplant) की आवश्यकता हो सकती है।

अस्थि मज्जा रोग से जुड़े एनीमिया Anemias associated with bone marrow disease :- इन विभिन्न रोगों के उपचार में दवा, कीमोथेरेपी या अस्थि मज्जा प्रत्यारोपण शामिल हो सकते हैं।

हेमोलिटिक एनीमिया Hemolytic anemias :- हेमोलिटिक एनीमिया के प्रबंधन में संदिग्ध दवाओं से बचना, संक्रमण का इलाज करना और आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली को दबाने वाली दवाएं लेना शामिल है, जो आपकी लाल रक्त कोशिकाओं पर हमला कर सकती हैं। गंभीर हेमोलिटिक एनीमिया को आम तौर पर चल रहे उपचार की आवश्यकता होती है।

सिकल सेल एनीमिया कमी Sickle cell Anaemia :- उपचार में दर्द को कम करने और जटिलताओं को रोकने के लिए ऑक्सीजन, दर्द निवारक, और मौखिक और अंतःस्रावी तरल पदार्थ शामिल हो सकते हैं। डॉक्टर रक्त आधान, फोलिक एसिड की खुराक और एंटीबायोटिक दवाओं की भी सिफारिश कर सकते हैं। सिकल सेल एनीमिया के इलाज के लिए हाइड्रोक्सीयूरिया (ड्रोक्सिया, हाइड्रिया, सिक्लोस) नामक एक कैंसर की दवा का भी उपयोग किया जाता है।

थैलेसीमिया Thalassemia :- थैलेसीमिया के अधिकांश रूप हल्के होते हैं और उपचार की आवश्यकता नहीं होती है। थैलेसीमिया के अधिक गंभीर रूपों में आमतौर पर रक्त आधान, फोलिक एसिड की खुराक, दवा, प्लीहा को हटाने या रक्त और अस्थि मज्जा स्टेम सेल प्रत्यारोपण की आवश्यकता होती है। 

एनीमिया से बचाव कैसे किया जा सकता है? How can anemia be prevented?

कई प्रकार के एनीमिया को रोका नहीं जा सकता है। लेकिन आप आयरन की कमी से होने वाले एनीमिया और विटामिन की कमी से होने वाले एनीमिया से बचने के लिए ऐसे आहार का सेवन कर सकते हैं जिसमें विभिन्न प्रकार के विटामिन और खनिज शामिल हों, जिनमें निम्नलिखित शामिल हैं :-

आयरन Iron :- आयरन से भरपूर खाद्य पदार्थों में  लाल मांश, समुद्री मांस और अन्य मीट, बीन्स, दाल, आयरन से भरपूर अनाज, गहरे हरे पत्तेदार सब्जियां और सूखे मेवे शामिल कर सकते हैं। सर्दियों के मौसम में आप चकुंदर और गाजर को विशेष रूप से शामिल कर सकते हैं। 

फोलेट Folate :- यह पोषक तत्व, और इसका सिंथेटिक रूप फोलिक एसिड, फलों और फलों के रस, गहरे हरे पत्तेदार सब्जियों, हरी मटर, राजमा, मूंगफली, और समृद्ध अनाज उत्पादों, जैसे रोटी, अनाज, पास्ता और चावल में पाया जा सकता है। आप अपने डॉक्टर की सलाह से इसकी गोलियां भी ले सकते हैं।

विटामिन बी 12 Vitamin B12 :- विटामिन बी-12 से भरपूर खाद्य पदार्थों में मांस, डेयरी उत्पाद और गढ़वाले अनाज और सोया उत्पाद शामिल हैं।

विटामिन सी Vitamin C :- विटामिन सी से भरपूर खाद्य पदार्थों में खट्टे फल और जूस, मिर्च, ब्रोकोली, टमाटर, खरबूजे और स्ट्रॉबेरी शामिल हैं। ये आयरन के अवशोषण को बढ़ाने में भी मदद करते हैं।

ध्यान दें, “यदि आप भोजन से पर्याप्त विटामिन और खनिज प्राप्त करने के बारे में चिंतित हैं, तो अपने डॉक्टर से पूछें कि क्या मल्टीविटामिन मदद कर सकता है। अगर आपको लगता है कि आपको दवा या अन्य सप्लीमेंट की आवश्यकता है तो आपको इसके लिए अपने डॉक्टर से बात करनी चाहिए।”

Get our Newsletter

Filter out the noise and nurture your inbox with health and wellness advice that's inclusive and rooted in medical expertise.

Your privacy is important to us

MEDICAL AFFAIRS

CONTENT INTEGRITY

NEWSLETTERS

© 2022 Medtalks