न्यूरोप्रैक्सिया क्या है? कारण, लक्षण और इलाज | Neuropraxia in Hindi

न्यूरोप्रैक्सिया क्या है? What is neuropraxia?

न्यूरोप्रैक्सिया या न्यूरोप्रेक्सिया आपकी परिधीय नसों (peripheral nerves) में आई चोट है। ये नसें आपके मस्तिष्क और रीढ़ की हड्डी से विद्युत संकेतों (impulses) को आपके शरीर के बाकी हिस्सों तक ले जाती हैं। इस स्थिति को नर्व न्यूरोप्रैक्सिया (nerve neuropraxia) या पेरिफेरल न्यूरोप्रैक्सिया (peripheral neuropraxia) के नाम से भी जाना जाता है।

न्यूरोप्रैक्सिया किसे प्रभावित करता है? Who does neuropraxia affect?

किसी को भी न्यूरोप्रैक्सिया हो सकता है। यह स्थिति किसी चोट के बाद हो सकती है, जैसे कि गिरना या कार दुर्घटना, या खेल चोटों से।

परिधीय तंत्रिकाएं क्या करती हैं? What do peripheral nerves do?

आपकी परिधीय नसें आपके मस्तिष्क और रीढ़ की हड्डी (केंद्रीय तंत्रिका तंत्र – Central nervous system) से आपके शरीर के बाकी हिस्सों तक संदेश ले जाती हैं। ये संदेश विद्युत आवेग हैं जो आपकी मांसपेशियों को अनुबंधित करने और स्थानांतरित करने के लिए कहते हैं और आपको अपनी इंद्रियों का उपयोग करने में मदद करते हैं।

तंत्रिका कोशिकाओं (न्यूरॉन्स – nerve cells) में अक्षतंतु नामक तंतु होते हैं। ये तंतु तंत्रिका (fiber nerve) आवेगों को ले जाते हैं। वसा और प्रोटीन (मायेलिन – myelin) की एक सुरक्षात्मक परत अक्षतंतु (axon) को कवर करती है और आवेगों को तेज़ी से आगे बढ़ने में मदद करती है।

अन्य प्रकार के परिधीय तंत्रिका चोटें क्या हैं? What are the other types of peripheral nerve injuries?

न्यूरोप्रैक्सिया एक मामूली चोट है। लेकिन अन्य प्रकार की परिधीय तंत्रिका चोटें हैं, जिनमें निम्न शामिल हैं :-

1.     एक्सोनोटेसिस (Axonotmesis) :- यह अधिक गंभीर तंत्रिका चोटों का एक समूह है, जहां आपकी नसें खिंचती हैं और क्षतिग्रस्त हो जाती हैं।

2.     न्यूरोटमेसिस (neurotomesis) :- इस गंभीर तंत्रिका चोट में, आपकी तंत्रिका पूरी तरह से कट जाती है (टूट जाती है)।

यह पता लगाने के लिए अपने स्वास्थ्य सेवा प्रदाता से मिलें कि क्या आपको न्यूरोप्राक्सिया बनाम एक्सोनोटेसिस या न्यूरोटेमेसिस है। आपका स्वास्थ्य सेवा प्रदाता एक सटीक निदान प्रदान कर सकता है।

न्यूरोप्रैक्सिया मुझे कैसे प्रभावित करता है? How does neuropraxia affect me?

न्यूरोप्रैक्सिया में, आपकी नस बरकरार रहती है। लेकिन तंत्रिका आवेग आपके शरीर के घायल हिस्से से नहीं निकल सकते। ये अवरुद्ध आवेग (blocked impulse) आपके लक्षणों (समस्याओं) का कारण बनते हैं।

न्यूरोप्रैक्सिया के क्या कारण हैं? What are the causes of neuropraxia?

न्यूरोप्रैक्सिया कई कारणों से हो सकता है। यदि आपकी नसें कुचली हुई या संकुचित हो जाती है तो यह स्थिति उत्पन्न हो सकती हैं। जब ऐसा होता है, तो वे विद्युत आवेग नहीं भेज सकते। दर्दनाक न्यूरोप्रैक्सिया निम्न स्थितियों के कारण हो सकता हैं :-

1.     हड्डी टूटना।

2.     डिस्लोकेशन (Dislocation), यह एक ऐसी चोट है जिसमें आपकी हड्डियों के सिरे अपनी सामान्य स्थिति से हट जाते हैं।

3.     स्नायुबंधन और टेंडन में छेद और चोटें।

आप निम्न स्थितियों में भी न्यूरोप्राक्सिया विकसित कर सकते हैं :-

1.     सर्जरी।

2.     जन्म देना।

3.     दांतों का काम, अगर संवेदनाहारी इंजेक्शन (anesthetic injection), दांत निकालने या एंडोडोंटिक प्रक्रियाओं (endodontic procedures) के दौरान तंत्रिका क्षति होती है।

न्यूरोप्राक्सिया के लक्षण क्या हैं? What are the symptoms of neuropraxia?

न्यूरोप्रैक्सिया होने पर आपको न्यूरोपैथी (neuropathy) का अनुभव हो सकता है। न्यूरोपैथी के लक्षणों में निम्न शामिल हो सकते हैं :-

1.     जलन महसूस होना।

2.     सुन्न होना (Numbness)।

3.     चुभन होना।

4.     कमज़ोरी।

मुझे न्यूरोप्रैक्सिया कहाँ महसूस होगा? Where would I feel neuropraxia?

आपको चोट वाली जगह के पास न्यूरोप्रैक्सिया के लक्षण महसूस होते हैं। विभिन्न प्रकार के न्यूरोप्रैक्सिया में निम्नलिखित शामिल हैं :-

1.     एक्सिलरी न्यूरोप्रैक्सिया (axillary neuropraxia) :- चोट आपकी एक्सिलरी नर्व (axillary nerve) में होती है, जो आपके कंधे के जोड़ और बांह की मांसपेशियों को संकेत देती है। आप अपने कंधे, बांह और हाथ में लक्षण महसूस कर सकते हैं।

2.     ब्रैकियल प्लेक्सस न्यूरोप्रैक्सिया (brachial plexus neuropraxia) :- आपके कंधे (ब्रेकियल प्लेक्सस) की नसें क्षतिग्रस्त हो जाती हैं। ये नसें आपकी रीढ़ की हड्डी से आवेगों को आपकी बाहों और हाथों तक ले जाती हैं। आप आमतौर पर एक हाथ में लक्षण महसूस करते हैं।

3.     रेडियल नर्व न्यूरोप्रैक्सिया (radial nerve neuropraxia) :- चोट आपकी रेडियल नर्व में होती है, जो आपके हाथ और हाथ के पीछे के बीच संकेतों को ले जाती है। आप आमतौर पर अपने हाथ में लक्षण महसूस करते हैं, विशेष रूप से अपने अंगूठे, मध्य और तर्जनी, या अपने हाथ के पिछले हिस्से में।

4.     सुरल नर्व न्यूरोप्रैक्सिया (sural nerve neuropraxia) :- आपकी सुरल नर्व क्षतिग्रस्त हो गई है। यह तंत्रिका आपके मस्तिष्क और आपकी पिंडलियों, एड़ी और पैर के बीच आवेगों को ले जाती है। आप आमतौर पर अपने टखने और पैर में लक्षण महसूस करते हैं।

न्यूरोप्राक्सिया का निदान कैसे किया जाता है? How is neuropraxia diagnosed?

यदि आप घायल हो गए थे या सर्जरी या आघात के बाद लक्षण दिखाई देते हैं, तो निदान के लिए अपने स्वास्थ्य सेवा प्रदाता से मिलें। आपका स्वास्थ्य सेवा प्रदाता तंत्रिका क्षति की जांच के लिए एक शारीरिक परीक्षण करेगा। वे आपकी जाँच के लिए रक्त परीक्षण का आदेश भी दे सकते हैं :-

1.     पूर्ण रक्त गणना (complete blood count)।

2.     किडनी फंशन टेस्ट (kidney function test)।

3.     लीवर फंशन टेस्ट (liver function test)।

4.     थायरॉयड के प्रकार्य (thyroid function)।

न्यूरोप्राक्सिया का निदान करने के लिए डॉक्टर कौन से अन्य परीक्षणों का उपयोग करते हैं? What other tests do doctors use to diagnose neuropraxia?

आपका स्वास्थ्य सेवा प्रदाता इमेजिंग स्कैन (imaging scan) और तंत्रिका और मांसपेशी कार्य परीक्षण का आदेश दे सकता है। ये परीक्षण तंत्रिका क्षति (nerve damage) और चोट की गंभीरता की जाँच करते हैं। वे उपयोग कर सकते हैं:

1.     सीटी स्कैन (CT scan)।

2.     इलेक्ट्रोमोग्राम (electromyogram)।

3.     एमआरआई (MRI)।

4.     परिधीय तंत्रिका और मांसपेशियों का अल्ट्रासाउंड (Ultrasound of peripheral nerves and muscles)।

5.     एक्स-रे (x-ray)।

न्यूरोप्रैक्सिया उपचार क्या है? What is neuropraxia treatment?

न्यूरोप्रैक्सिया आमतौर पर अपने आप ठीक हो जाता है। आपका स्वास्थ्य सेवा प्रदाता दर्द को प्रबंधित करने में मदद कर सकता है। वे निम्न की सिफारिश कर सकते हैं :-

1.     ब्रेसिज़, कास्ट और स्प्लिंट्स (braces, casts and splints)।

2.     आराम, बर्फ, संपीड़न (compression)।

आपका स्वास्थ्य सेवा प्रदाता रेंज-ऑफ-मोशन अभ्यास (range-of-motion exercises) जैसे न्यूरोप्राक्सिया फिजियोथेरेपी (neuropraxia physiotherapy) उपचार की सिफारिश कर सकता है। मालिश और एक्यूपंक्चर भी मददगार हो सकते हैं, लेकिन केवल तभी जब आपका डॉक्टर उनकी सिफारिश करे।

न्यूरोप्राक्सिया के इलाज के लिए डॉक्टर कौन सी दवाओं का उपयोग करते हैं? What medications do doctors use to treat neuropraxia?

आपका स्वास्थ्य सेवा प्रदाता लक्षणों को प्रबंधित करने में मदद के लिए कुछ दवाओं की सिफारिश कर सकता है, जिनमें शामिल हैं:

1.     अवसादरोधी (antidepressant)।

2.     कॉर्टिकोस्टेरॉइड्स (corticosteroids)।

3.     नॉनस्टेरॉइडल एंटी-इंफ्लेमेटरी ड्रग्स (nonsteroidal anti-inflammatory drugs NSAIDs)

क्या न्यूरोप्राक्सिया की जटिलताएं हैं? Are there complications of neuropraxia?

न्यूरोप्राक्सिया वाले अधिकांश लोग पूरी तरह से ठीक हो जाते हैं। लेकिन कुछ लोगों में जटिलताएं विकसित हो जाती हैं जैसे:

1.     सूजन और जलन।

2.     लंबे समय तक तंत्रिका दर्द, सुन्नता या कमजोरी।

3.     चोट स्थल के पास ऊतक में निशान।

यदि निशान ऊतक बनता है, तो आपको सर्जरी की आवश्यकता हो सकती है। सर्जन आपके तंत्रिका को निशान ऊतक से मुक्त करते हैं या तंत्रिका संपीड़न (nerve compression) जारी करते हैं ताकि आपकी तंत्रिका ठीक हो सके।

मैं न्यूरोप्राक्सिया के लक्षणों का प्रबंधन कैसे करूं? How do I manage the symptoms of neuropraxia?

अपने स्वास्थ्य सेवा प्रदाता के निर्देशों का पालन करें। अपने किसी भी नए लक्षण के बारे में उन्हें अवश्य बताएं।

मैं न्यूरोप्राक्सिया के अपने जोखिम को कैसे कम कर सकता हूँ? How can I reduce my risk of neuropraxia?

आप हेलमेट और एल्बो पैड जैसे सुरक्षात्मक उपकरण पहनकर न्यूरोप्रेक्सिया को रोकने में मदद कर सकते हैं, जब आप उन गतिविधियों में भाग ले रहे हैं जहाँ आप कठोर संपर्क बना सकते हैं।

ध्यान दें, कोई भी दवा बिना डॉक्टर की सलाह के न लें। सेल्फ मेडिकेशन जानलेवा है और इससे गंभीर चिकित्सीय स्थितियां उत्पन्न हो सकती हैं।

Subscribe To Our Newsletter

Filter out the noise and nurture your inbox with health and wellness advice that's inclusive and rooted in medical expertise.

Subscribe Now   

Medtalks is India's fastest growing Healthcare Learning and Patient Education Platform designed and developed to help doctors and other medical professionals to cater educational and training needs and to discover, discuss and learn the latest and best practices across 100+ medical specialties. Also find India Healthcare Latest Health News & Updates on the India Healthcare at Medtalks