रेक्टल प्रोलैप्स क्या है? लक्षण, कारण, और इलाज | Rectal Prolapse in Hindi

रेक्टल प्रोलैप्स एक चिकित्सा स्थिति है जो कि तब होती है जब मलाशय (बड़ी आंत का सबसे निचला हिस्सा) गुदा के माध्यम से बाहर निकलता है। मलाशय आपकी बड़ी आंत का अंतिम भाग है, और गुदा वह द्वार है जिसके माध्यम से मल आपके शरीर से बाहर निकलता है। वैसे तो यह एक गंभीर स्थिति है क्योंकि यह एक से ज्यादा प्रकार की होती है, लेकिन शायद ही यह कभी आपातकालीन स्थिति के रूप में देखि गई है।

रेक्टल प्रोलैप्स के कितने प्रकार है? How many types of rectal prolapse are there?

रेक्टल प्रोलैप्स तीन प्रकार के होते हैं। रेक्टल प्रोलैप्स में मलाशय की गति से प्रकार की पहचान की जाती है जो कि निम्न वर्णित है :-

  1. आंतरिक प्रोलैप्स Internal prolapse :- इस प्रकार में मलाशय गिरना शुरू हो जाता है लेकिन अभी तक गुदा से नहीं निकला है।

  2. आंशिक प्रोलैप्स Partial prolapse :- रेक्टल प्रोलैप्स के इस प्रकार में मलाशय का केवल एक हिस्सा गुदा के माध्यम से निकलता जाता है।

  3. पूर्ण प्रोलैप्स Complete prolapse :- रेक्टल प्रोलैप्स के पूर्ण प्रोलैप्स प्रकार में पूरा मलाशय गुदा के माध्यम से बाहर निकल जाता है।

रेक्टल प्रोलैप्स के लक्षण क्या है? What are the symptoms of rectal prolapse?

यदि आप रेक्टल प्रोलैप्स से जूझ रहे हैं, तो आप एक लाल रंग का द्रव्यमान देख सकते हैं जो गुदा से निकलता है, अक्सर मल त्याग के दौरान तनाव के कारण होता है। द्रव्यमान गुदा के अंदर वापस खिसक सकता है, या यह बाद में भी दिखाई दे सकता है। इसके अतिरिक्त रेक्टल प्रोलैप्स होने पर निम्न कुछ अन्य लक्षण भी दिखाई दे सकते हैं :-

  1. मल त्याग को नियंत्रित करने में असमर्थता (फेकल असंयम – Fecal incontinence)

  2. कब्ज या दस्त की समस्या लगातार बने रहना

  3. मलाशय से खून या बलगम निकलने की समस्या का सामना करना 

  4. यह महसूस करना कि मल त्याग के बाद आपका मलाशय खाली नहीं हुआ है

रेक्टल प्रोलैप्स क्यों होता है? Why does rectal prolapse happen?

रेक्टल प्रोलैप्स का कारण स्पष्ट नहीं है। हालांकि यह एक आम धारणा है कि रेक्टल प्रोलैप्स बच्चे के जन्म से जुड़ा होता है, इस स्थिति वाली लगभग एक तिहाई महिलाओं के कभी बच्चे नहीं होते हैं। लेकिन, रेक्टल प्रोलैप्स कई चिकित्सीय स्थितियों के कारण हो सकता है, जिनमें निम्न वर्णित शामिल हैं :-

नसों का क्षतिग्रस्त होना  Nerve damage :-

यदि रेक्टल और एनल मसल्स (rectal and anal muscles) को नियंत्रित करने वाली नसें क्षतिग्रस्त हो जाती हैं, तो रेक्टल प्रोलैप्स विकसित हो सकता है। ये नसें कभी-कभी निम्नलिखित कारणों से क्षतिग्रस्त हो सकती हैं :-

  1. गर्भावस्था या मुश्किल योनि जन्म

  2. रीढ़ की हड्डी में चोट

  3. श्रोणि क्षेत्र में सर्जरी

कमजोर गुदा दबानेवाला यंत्र Weakened anal sphincter :-

यह वह मांसपेशी है जो मल को आपके मलाशय से अनैच्छिक रूप से गुजरने से रोकती है। इस मांसपेशी के कमजोर होने के सामान्य निम्नलिखित कारण हैं :-

  1. गर्भावस्था

  2. प्रसव

  3. बढ़ी हुई उम्र

पुराना कब्ज Chronic constipation :-

पुरानी मल त्याग की समस्याओं का तनाव आपके मलाशय को अपने स्थान से नीचे जाने की अधिक संभावना बना सकता है। मल त्याग करते समय तनाव, यदि अक्सर वर्षों की अवधि में किया जाता है, तो भी मलाशय के आगे को बढ़ाव का कारण बन सकता है। 

Hydrocephalus in Hindi

रेक्टल प्रोलैप्स के जोखिम कारक क्या है? What are the risk factors for rectal prolapse?

कुछ स्थितियां रेक्टल प्रोलैप्स के जोखिम को बढ़ा सकती हैं, जबकि सीधे रेक्टल प्रोलैप्स से जुड़े नहीं है।  रेक्टल प्रोलैप्स के जोखिम को बढ़ाने वाले कारक निम्नलिखित है :-

  1. पुराना कब्ज Chronic constipation :– अगर आप लंबे समय से कब्ज की समस्या से जूझ रहे हैं तो आपको रेक्टल प्रोलैप्स की समस्या होने की आशंका बढ़ सकती है।

  2. क्रोनिक दस्त Chronic diarrhea :– अगर आपको अक्सर सामान्य से ज्यादा कब्ज की समस्या रहती है तो आपको रेक्टल प्रोलैप्स का खतरा बना रहता है।

  3. पुटीय तंतुशोथ Cystic fibrosis :– पुटीय तंतुशोथ यानि सिस्टिक फाइब्रोसिस (सीएफ) एक गंभीर अनुवांशिक स्थिति है जो श्वसन और पाचन तंत्र को गंभीर नुकसान पहुंचाती है।

  4. मनोभ्रंश Dementia :– मनोभ्रंश संज्ञानात्मक कार्यप्रणाली का नुकसान है जो कि सोच, याद रखना और तर्क करना की क्षमता के बीच हस्तक्षेप करता है। इसकी वजह से रेक्टल प्रोलैप्स का खतरा बढ़ सकता है।

  5. रीढ़ की हड्डी की समस्या Spinal cord problems :– अगर आपको रीढ़ की हड्डी से जुड़ी कोई समस्या है तो आपको रेक्टल प्रोलैप्स के होने का जोखिम हो सकता है।

  6. आघात Stroke :–  आघात भी रेक्टल प्रोलैप्स के खतरे को बढ़ाने में सहयोग करता है।

  7. गर्भाशय Hysterectomy :- हिस्टरेक्टॉमी गर्भ (गर्भाशय) को हटाने के लिए एक शल्य प्रक्रिया है। अब आप ऑपरेशन के बाद गर्भवती नहीं हो पाएंगी। इसके कारण से भी रेक्टल प्रोलैप्स का जोखिम बढ़ता है।

  8. लिंग Sex :- पुरुषों के मुकाबले महिलाओं को रेक्टल प्रोलैप्स का खतरा ज्यादा रहता है। 

रेक्टल प्रोलैप्स से क्या जटिलताएं हो सकती है? What complications can result from rectal prolapse?

रेक्टल प्रोलैप्स कई गंभीर जटिलताओं से जुड़ा हो सकता है। यह अक्सर मलाशय में अल्सर का कारण बनता है, जिसके परिणामस्वरूप रक्तस्राव (bleeding) और दर्द हो सकता है।

यह स्फिंक्टर (sphincter) को भी नुकसान पहुंचा सकता है, जो रिंग के आकार की मांसपेशी है जो गुदा को खोलता और बंद करता है। इससे मल असंयम सहित आंत्र नियंत्रण के साथ समस्याएं हो सकती हैं।

बहुत गंभीर मामलों में, यह गला घोंटने (strangulation) का कारण भी बन सकता है, जिससे मलाशय के उस हिस्से में रक्त की आपूर्ति बंद हो जाती है, जो गुदा के माध्यम से धकेला गया है। इसे एक मेडिकल इमरजेंसी माना जाता है और इसके लिए तत्काल सर्जिकल हस्तक्षेप की आवश्यकता होती है।

रेक्टल प्रोलैप्स का निदान कैसे किया जाता है? How is rectal prolapse diagnosed?

कभी-कभी बवासीर से रेक्टल प्रोलैप्स को अलग करना मुश्किल हो सकता है। रेक्टल प्रोलैप्स का निदान करने और अन्य संबंधित स्थितियों से इंकार करने में मदद करने के लिए, आपका डॉक्टर निम्न सिफारिश कर सकता है :-

डिजिटल रेक्टल परीक्षा Digital rectal exam :- आपका डॉक्टर आपके स्फिंक्टर की मांसपेशियों की ताकत का मूल्यांकन करने और रेक्टल क्षेत्र में किसी भी असामान्यता की जांच करने के लिए आपके मलाशय में एक चमकदार और चिकनाई वाली उंगली डालता है। परीक्षा के दौरान आपका डॉक्टर आपको रेक्टल प्रोलैप्स की जांच करने के लिए सहन करने के लिए कह सकता है।

गुदा मैनोमेट्री Anal manometry :- गुदा और मलाशय में एक संकीर्ण, लचीली ट्यूब डाली जाती है। ट्यूब की नोक पर एक छोटा गुब्बारा फैलाया जा सकता है। यह परीक्षण आपके गुदा दबानेवाला यंत्र की जकड़न और आपके मलाशय की संवेदनशीलता और कार्यप्रणाली को मापने में मदद करता है।

कोलोनोस्कोपी Colonoscopy :- पॉलीप्स या कोलन कैंसर जैसी अन्य स्थितियों से बचने के लिए, आपके पास एक कोलोनोस्कोपी हो सकती है, जिसमें पूरे कोलन का निरीक्षण करने के लिए आपके मलाशय में एक लचीली ट्यूब डाली जाती है।

डेफेकोग्राफी Defecography :- यह प्रक्रिया एक्स-रे या चुंबकीय अनुनाद इमेजिंग (एमआरआई) – Magnetic resonance imaging (MRI) जैसे इमेजिंग अध्ययन के साथ एक विपरीत एजेंट के उपयोग को जोड़ती है। डेफेकोग्राफी आपके निचले जठरांत्र संबंधी मार्ग में और उसके आसपास संरचनात्मक परिवर्तनों को प्रकट करने में मदद कर सकती है और यह दिखा सकती है कि आपकी मलाशय की मांसपेशियां कितनी अच्छी तरह काम कर रही हैं।

रेक्टल प्रोलैप्स का उपचार कैसे किया जाता है? How is rectal prolapse treated?

रेक्टल प्रोलैप्स के उपचार में आमतौर पर सर्जरी शामिल होती है। अन्य उपचारों में कब्ज के लिए विभिन्न उपचार शामिल हैं, जिनमें मल सॉफ़्नर, सपोसिटरी और अन्य दवाएं शामिल हैं। रेक्टल प्रोलैप्स के इलाज के लिए कुछ अलग सर्जिकल तरीके हैं। आपका डॉक्टर आपकी उम्र, शारीरिक स्थिति और आंत्र समारोह पर विचार करने के बाद आपके लिए सबसे अच्छा तरीका चुनेगा। 

सर्जरी आमतौर पर रेक्टल प्रोलैप्स को ठीक करने में मदद करने और मल असंयम और बाधित मल त्याग जैसे लक्षणों का इलाज करने के लिए आवश्यक है। कुछ प्रकार की सर्जरी में पेट की दीवार में चीरा लगाना और मलाशय को वापस अपनी जगह पर खींच कर किया जाता है। यह सर्जरी, जिसे एब्डोमिनल रेक्टोपेक्सी (abdominal rectopexy) के रूप में भी जाना जाता है, इसको एक विशेष कैमरे और उपकरणों के साथ छोटे चीरों का उपयोग करके लैप्रोस्कोपिक (laparoscopic) रूप से भी किया जा सकता है।

पेरिनियल रेक्टोसिग्मोइडेक्टोमी (perineal rectosigmoidectomy) के दो अलग-अलग प्रकार भी हैं, जो सर्जिकल प्रक्रियाएं हैं जो पेरिनेम, या गुदा और जननांगों के बीच के क्षेत्र के माध्यम से रेक्टल प्रोलैप्स को ठीक करती हैं। यह निम्न प्रकार इस सर्जरी में शामिल है :-

  1. अल्टेमियर प्रक्रिया Altemeier procedure :- इस प्रकार की सर्जरी में मलाशय के उस हिस्से को हटाया जाता है जो बाहर चिपक जाता है और दोनों सिरों को वापस एक साथ जोड़ देता है।

डेलोर्म प्रक्रिया Delorme procedure :- यह प्रक्रिया छोटे प्रोलैप्स वाले लोगों के लिए सबसे खास है। इसमें मलाशय की बाहरी परत को हटाया जाता और फिर मांसपेशियों की परत को मोड़ना और सिलाई कर दी जाती है।

Get our Newsletter

Filter out the noise and nurture your inbox with health and wellness advice that's inclusive and rooted in medical expertise.

Your privacy is important to us

MEDICAL AFFAIRS

CONTENT INTEGRITY

NEWSLETTERS

© 2022 Medtalks