टॉन्सिलाइटिस क्या है? लक्षण, कारण, इलाज और घरेलू उपचार | Tonsils in Hindi

टॉन्सिलाइटिस क्या है? What is Tonsillitis?

हमारे मुंह के अंदर गले के पीछे ऊतक के दो अंडाकार आकार के पैड होते हैं जिन्हें टॉन्सिल्स कहा जाता है। टॉन्सिल्स में आई सूजन को ही टॉन्सिलिटिस कहा जाता है। टॉन्सिलिटिस होने की वजह से पीड़ित को गले में खराश, निगलने में कठिनाई,  गर्दन के किनारों पर कोमल लिम्फ नोड्स और काफी बार बोलने में भी समस्या का सामना करना पड़ सकता है। 

टॉन्सिलिटिस के अधिकांश मामले एक सामान्य वायरस के संक्रमण के कारण होते हैं, लेकिन बैक्टीरिया के संक्रमण से भी टॉन्सिलिटिस हो सकता है। आमतौर पर टॉन्सिलाइटिस स्ट्रेप्टोकोकल बैक्टीरिया (streptococcal bacteria) के कारण होता है, जो कि स्ट्रेप थ्रोट (एक जीवाणु संक्रमण जिसके कारण गले में सूजन और दर्द होता है) का कारण बनता है। स्ट्रेप थ्रोट के कारण होने वाले टॉन्सिलाइटिस का यदि उपचार न करवाया जाये तो गंभीर जटिलतायें पैदा हो सकती हैं।चूंकि टॉन्सिलिटिस के लिए उपयुक्त उपचार कारण पर निर्भर करता है, इसलिए शीघ्र और सटीक निदान प्राप्त करना महत्वपूर्ण है। टॉन्सिल को हटाने के लिए सर्जरी की जा सकती है जो कि तब की जाती है जब यह समस्या बार-बार होने लग जाए और व्यक्ति को इसकी वजह से कई जटिलताओं का सामना करना पड़े। 

टॉन्सिल्स (टॉन्सिलिटिस) के कितने प्रकार है? How many types of tonsils are there?

जो लोग टॉन्सिलाइटिस से जूझते हैं उन्हें इसकी गंभीरता के बारे में काफी अच्छे से मालूम है। बाकी आप इसकी गंभीरता के बारे में इस बात से अंदाजा लगा सकते हैं कि इसके छः प्रकार होते हैं। टॉन्सिलाइटिस के सभी छः प्रकारों को निचे वर्णित किया गया है :- 

एक्यूट टॉन्सिलाइटिस Acute Tonsillitis :- टॉन्सिलाइटिस के इस पराक्र में एक जीवाणु या वायरस टॉन्सिल्स को संक्रमित करता है, जिसके कारण गले में सूजन और खराश होती है। इस प्रकार में टॉन्सिल एक ग्रे या सफेद रंग की कोटिंग विकसित कर सकता है। एक्यूट टॉन्सिलाइटिस अचानक से होता है और यह लंबे समय तक नहीं रहता।

क्रोनिक टॉन्सिलाइटिस Chronic tonsillitis :- अगर किसी व्यक्ति को बार-बार टॉन्सिल्स हो रहा है तो उसे क्रोनिक टॉन्सिलाइटिस की श्रेणी में रखा जाता है। कभी-कभी एक्यूट टॉन्सिलाइटिस के बार-बार होने के परिणामस्वरूप क्रोनिक टॉन्सिलाइटिस होता है। 

पेरिटॉन्सिलर एब्सेस Peritonsillar abscess :- टॉन्सिलाइटिस के इस प्रकार में संक्रमित हुए टॉन्सिल्स के आसपास मवाद जमा हो जाता है जो इसे विपरीत दिशा की ओर धकेलता है। पेरिटॉन्सिलर फोड़ों को तत्काल सुखा देना चाहिए। टॉन्सिलाइटिस का प्रकार काफी गंभीर माना जाता है।

एक्यूट मोनोन्यूक्लियोसिस Acute mononucleosis :- एक्यूट मोनोन्यूक्लियोसिस का प्रकार आमतौर पर एपस्टीन बार वायरस (Epstein barr virus) की चपेट में आने के कारण होता है। 'मोनो' के कारण टॉन्सिल्स में गंभीर सूजन, बुखार, गले में खराश, लाल चकत्ते और थकान हो सकती है। 

स्ट्रेप थ्रोट Strep throat :- स्ट्रेप थ्रोट प्रकार का टॉन्सिलाइटिस स्ट्रेप्टोकोकस (streptococcus) नामक एक बैक्टीरिया की वजह से होता है। इसमें न केवल टॉन्सिल्स बल्कि गला भी काफी गंभीर तौर पर संक्रमित हो जाता है। गले की खराश के साथ अक्सर बुखार और गर्दन मेँ दर्द भी होता है। 

टॉन्सिलोइथ्स या टॉन्सिल स्टोन्स Tonsilloliths or Tonsil Stones :- टॉन्सिल स्टोन्स या टॉन्सिलोइथ्स प्रकार का टॉन्सिलाइटिस व्यक्ति को तब होता है जब कोई अपशिष्ट गले में फसा हो और वह सख्त हो जाए।

टॉन्सिलिटिस होने पर क्या लक्षण दिखाई देते हैं? What are the symptoms of tonsillitis?

टॉन्सिलिटिस की समस्या वैसे तो कभी भी हो सकती है। लेकिन यह समस्या मुख्य रूप से किशोरावस्था और मध्य-किशोर के दौरान ज्यादा होती है। जब किसी व्यक्ति को टॉन्सिलिटिस होते हैं तो उस दौरान निम्नलिखित लक्षण दिखाई देते हैं :-

  1. सूजे हुए टॉन्सिल

  2. टॉन्सिल का लाल होना

  3. टॉन्सिल पर सफेद या पीले रंग का लेप या धब्बे

  4. गले में खरास होना

  5. निगलने में कठिनाई या दर्द

  6. गंभीर स्थिति होने पर बोलने में कठिनाई होना

  7. बुखार होना (कई बार बुखार होने की वजह से भी टॉन्सिल्स हो जाते हैं)

  8. गर्दन में बढ़े हुए, कोमल ग्रंथियां (लिम्फ नोड्स)

  9. एक कर्कश, दबी हुई या गले की आवाज

  10. बदबूदार सांस आना

  11. पेटदर्द होना

  12. गर्दन में दर्द 

  13. गर्दन में अकड़न

  14. सिरदर्द की समस्या (यह सामान्य से गंभीर तक हो सकता है)

जिन छोटे बच्चों ने अभी बोलना शुरू नहीं किया हैं उन्हें भी टॉन्सिलिटिस की समस्या हो सकती है। छोटे बच्चों में टॉन्सिलिटिस के लक्षणों की ऐसे पहचान की जा सकती है :-

  1. मुश्किल या दर्दनाक निगलने के कारण लार आना

  2. खाने से इंकार

  3. असामान्य उतावलापन

अगर मेरे बच्चे को टॉन्सिलिटिस है तो मुझे डॉक्टर को कब दिखाना चाहिए? When should I see a doctor if my child has tonsillitis?

यदि आपके बच्चे में ऐसे लक्षण हैं जो टॉन्सिलिटिस का संकेत दे सकते हैं, तो सटीक निदान प्राप्त करना महत्वपूर्ण है। इस दौरान आपको अपने बच्चे में ऊपर बताए गये लक्षणों के साथ-साथ निम्नलिखित समस्याएँ नज़र आए तो जल्द से जल्द डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए :-

  1. बुखार के साथ गले में खराश

  2. गले में खराश जो 24 से 48 घंटों के भीतर दूर नहीं होती है

  3. दर्दनाक या निगलने में मुश्किल

  4. अत्यधिक कमजोरी, थकान या उधम मचाना

उपरोक्त लक्षणों के साथ-साथ अगर आपके बच्चे को या किसी व्यस्क व्यक्ति में टॉन्सिलिटिस के कारण निम्नलिखित समस्याएँ नज़र आने लग जाए तो आपात स्थिति में डॉक्टर से मिलना चाहिए :-

  1. सांस लेने मे तकलीफ

  2. निगलने में अत्यधिक कठिनाई

  3. अत्यधिक लार गिरना (excessive drooling) 

टॉन्सिलिटिस होने के कारण क्या है? What is the cause of tonsillitis?

टोंसिल बीमारी के खिलाफ आपकी रक्षा की पहली पंक्ति है। वः सफेद रक्त कोशिकाओं का उत्पादन करते हैं जो आपके शरीर को संक्रमण से लड़ने में मदद करते हैं।

टॉन्सिल बैक्टीरिया और वायरस से लड़ते हैं जो आपके मुंह और नाक के माध्यम से आपके शरीर में प्रवेश करते हैं। हालांकि, टॉन्सिल भी उन रोगजनकों से संक्रमण की चपेट में हैं जिन्हें वह दूर रखने में मदद करते हैं। सरल शब्दों में कहा जाए तो किसी व्यक्ति को टॉन्सिलिटिस की समस्या वायरस से लड़ कर शरीर को सुरक्षा देते हुए होती है।  

एक वायरस, जैसे कि सामान्य सर्दी, टॉन्सिलिटिस को ट्रिगर कर सकता है। जीवाणु संक्रमण, जैसे स्ट्रेप गले, भी संभावित कारण हैं।

टॉन्सिलिटिस के जोखिम कारक क्या है? What are the risk factors for tonsillitis?

टॉन्सिलिटिस होने के ज्यादा जोखिम कारक नहीं है, इसके केवल दो ही निम्नलिखित जोखिम कारक है :-

युवा उम्र Young age :- टॉन्सिलिटिस सबसे अधिक बार बच्चों को प्रभावित करता है, और बैक्टीरिया के कारण होने वाला टॉन्सिलिटिस 5 से 15 वर्ष की आयु के बच्चों में सबसे आम है।

बार-बार कीटाणुओं के संपर्क में आना Frequent exposure to germs :- स्कूली उम्र के बच्चे अपने साथियों के साथ निकट संपर्क में होते हैं और अक्सर वायरस या बैक्टीरिया के संपर्क में आते हैं जो टॉन्सिलिटिस का कारण बन सकते हैं।

टॉन्सिलिटिस की वजह से क्या जटिलताएं पैदा हो सकती है? What complications can arise from tonsillitis? 

अगर किसी व्यक्ति को बार बार टॉन्सिलिटिस हो रहा है तो इससे टॉन्सिल्स की सूजन और सूजन से जुड़ी जटिलताएँ हो सकती है, इनमें निम्नलिखित मुख्य है :-

  1. नींद के दौरान बाधित श्वास (ऑब्सट्रक्टिव स्लीप एपनिया)

  2. संक्रमण जो आसपास के ऊतकों में गहराई तक फैलता है (टॉन्सिलर सेल्युलाइटिस)

  3. संक्रमण जिसके परिणामस्वरूप टॉन्सिल के पीछे मवाद जमा हो जाता है (पेरिटोनसिलर फोड़ा)

टॉन्सिलिटिस बनाम स्ट्रेप थ्रोट Tonsillitis vs Strep Throat in hindi 

टॉन्सिलिटिस और स्ट्रेप गले कुछ मामलों में एक ही बैक्टीरिया के परिणामस्वरूप हो सकते हैं, लेकिन यह दोनों एक नहीं है। 

ग्रुप ए स्ट्रेप्टोकोकस बैक्टीरिया (A Streptococcus bacteria) सहित कई अलग-अलग बैक्टीरिया या वायरस टॉन्सिलिटिस का कारण बन सकते हैं। यही बैक्टीरिया स्ट्रेप थ्रोट का एकमात्र कारण है। दोनों स्थितियां संक्रामक हैं, इसलिए आपको अन्य लोगों से दूर रहने की कोशिश करनी चाहिए यदि आपको लगता है कि आप इन दोनों में से किसी भी एक समस्या से जूझ रहे हैं।

यदि ग्रुप ए स्ट्रेप्टोकोकस या स्ट्रेप्टोकोकल बैक्टीरिया के किसी अन्य स्ट्रेन के कारण होने वाले टॉन्सिलिटिस का इलाज नहीं किया जाता है या यदि एंटीबायोटिक उपचार अधूरा है, तो आपके बच्चे में दुर्लभ विकारों का खतरा बढ़ जाता है जैसे :-

  1. आमवाती बुखार, एक गंभीर सूजन की स्थिति जो हृदय, जोड़ों, तंत्रिका तंत्र और त्वचा को प्रभावित कर सकती है

  2. स्कार्लेट ज्वर की जटिलताएं, एक स्ट्रेप्टोकोकल संक्रमण जो एक प्रमुख दाने की विशेषता है

  3. किडनी की सूजन (पोस्टस्ट्रेप्टोकोकल ग्लोमेरुलोनेफ्राइटिस - Poststreptococcal Glomerulonephritis)

  4. पोस्टस्ट्रेप्टोकोकल प्रतिक्रियाशील गठिया, एक ऐसी स्थिति जो जोड़ों की सूजन का कारण बनती है।

टॉन्सिलिटिस की जांच कैसे की जाती है? How is tonsillitis diagnosed?

अगर आपको लगता है कि आपके बच्चे को टॉन्सिलिटिस की समस्या हो गई तो ऐसे में डॉक्टर सबसे पहले लक्षणों की पहचान करेंगे और इसके साथ ही निम्नलिखित शारीरिक जांच करेंगे :- 

  1. स्कार्लेटिना के रूप में जाने जाने वाले दाने की जाँच करना, जो स्ट्रेप गले के कुछ मामलों से जुड़ा होता है।

  2. सूजी हुई ग्रंथियों (लिम्फ नोड्स) की जांच के लिए अपने बच्चे की गर्दन को धीरे से महसूस करना (धड़कना।)

  3. स्टेथोस्कोप से उसकी सांसों को सुनना।

  4. प्लीहा (spleen) के बढ़ने की जाँच करना (मोनोन्यूक्लिओसिस पर विचार करने के लिए, जो टॉन्सिल को भी फुलाता है)।

कंठ फाहा Throat swab

इस सरल परीक्षण के साथ, डॉक्टर स्राव का एक नमूना प्राप्त करने के लिए आपके बच्चे के गले के पीछे एक स्टेराइल स्वाब (sterile swab) को रगड़ते हैं। स्ट्रेप्टोकोकल बैक्टीरिया के लिए क्लिनिक या प्रयोगशाला में नमूने की जाँच की जाएगी।

यदि रैपिड इन-क्लिनिक परीक्षण सकारात्मक आता है, तो आपके बच्चे को लगभग निश्चित रूप से एक जीवाणु संक्रमण है। यदि परीक्षण नकारात्मक आता है, तो आपके बच्चे को वायरल संक्रमण होने की संभावना है। आपका डॉक्टर, हालांकि, संक्रमण के कारण को निर्धारित करने के लिए अधिक विश्वसनीय आउट-ऑफ-क्लिनिक लैब परीक्षण की प्रतीक्षा करेगा।

पूर्ण रक्त कोशिका गणना (सीबीसी) Complete blood cell count (CBC) 

आपका डॉक्टर आपके बच्चे के रक्त के एक छोटे से नमूने के साथ पूर्ण रक्त कोशिका गणना (सीबीसी) का आदेश दे सकता है। इस परीक्षण का परिणाम, जिसे अक्सर एक क्लिनिक में पूरा किया जा सकता है, विभिन्न प्रकार की रक्त कोशिकाओं की गणना करता है। शरीर में क्या बढ़ा हुआ है और किस चीज का स्तर निम्न है इस बारे में पूरी जानकारी मिल जाती है और इससे यह जानकारी मिलती है कि क्या संक्रमण बैक्टीरिया या वायरल एजेंट के कारण होने की अधिक संभावना है। स्ट्रेप थ्रोट का निदान करने के लिए अक्सर सीबीसी की आवश्यकता नहीं होती है। हालांकि, यदि स्ट्रेप थ्रोट लैब टेस्ट नकारात्मक है, तो टॉन्सिलिटिस के कारण को निर्धारित करने में मदद करने के लिए सीबीसी की आवश्यकता हो सकती है। 

टॉन्सिलिटिस का उपचार कैसे किया जाता है? How is tonsillitis treated? 

टॉन्सिलिटिस के एक हल्के मामले में उपचार की आवश्यकता नहीं होती है, खासकर अगर कोई वायरस, जैसे कि सर्दी के कारण से यह समस्या हुई हो। टॉन्सिलिटिस के अधिक गंभीर मामलों के उपचार में एंटीबायोटिक्स या टॉन्सिल्लेक्टोमी शामिल हो सकते हैं। यदि कोई व्यक्ति टॉन्सिलिटिस के कारण निर्जलीकरण का अनुभव करता है, तो उसे अंतःशिरा तरल पदार्थ की भी आवश्यकता हो सकती है। गले में खराश को दूर करने के लिए दर्द की दवाएं भी गले के ठीक होने में मदद कर सकती हैं। अगर समस्या बढ़ जाए तो मौजूदा स्थिति के अनुसार इस समस्या का उपचार निचे बताए गये तरीकों से किया जा सकता है :-

एंटीबायोटिक दवाएं Antibiotics

यदि टॉन्सिलिटिस किसी जीवाणु संक्रमण के कारण होता है, तो आपका डॉक्टर आपको एंटीबायोटिक दवाएं लेने की सलाह देंगे। 10 दिनों के लिए मुंह से लिया गया पेनिसिलिन समूह ए स्ट्रेप्टोकोकस के कारण होने वाले टॉन्सिलिटिस के लिए निर्धारित सबसे आम एंटीबायोटिक उपचार है। यदि आपके बच्चे को पेनिसिलिन से एलर्जी है, तो आपका डॉक्टर एक वैकल्पिक एंटीबायोटिक लिख सकते हैं।

आपके बच्चे को निर्धारित एंटीबायोटिक दवाओं का पूरा कोर्स लेना चाहिए, भले ही लक्षण पूरी तरह से दूर हो जाएं। निर्देशानुसार सभी दवाएं लेने में विफलता के परिणामस्वरूप संक्रमण बिगड़ सकता है या शरीर के अन्य भागों में फैल सकता है। एंटीबायोटिक दवाओं का पूरा कोर्स पूरा नहीं करने से, विशेष रूप से, आपके बच्चे में आमवाती बुखार (rheumatic fever) और किडनी की गंभीर सूजन का खतरा बढ़ सकता है। 

शल्य चिकित्सा Surgery 

टॉन्सिल (टॉन्सिलेक्टोमी) को हटाने के लिए सर्जरी का उपयोग बार-बार होने वाले टॉन्सिलिटिस, क्रोनिक टॉन्सिलिटिस या बैक्टीरियल टॉन्सिलिटिस के इलाज के लिए किया जा सकता है जो कि एंटीबायोटिक उपचार से ठीक नहीं हो पाते। बार-बार होने वाले टॉन्सिलिटिस को आमतौर पर इस प्रकार परिभाषित किया जाता है:

  1. पिछले वर्ष में कम से कम सात बार या इससे ज्यादा होना 

  2. पिछले दो वर्षों में एक वर्ष में कम से कम पांच बार या इससे ज्यादा होना

  3. पिछले तीन वर्षों में एक वर्ष में कम से कम तीन बार या इससे ज्यादा होना 

यदि टॉन्सिलिटिस होने की वजह से व्यक्ति को कई गंभीर स्थितियों से जूझना पड़ रहा है और अन्य जटिलताओं (ऊपर बताई गई) का सामना करना पद रहा है तो ऐसे में टॉन्सिल्लेक्टोमी (tonsillectomy) भी किया जा सकता है। टॉन्सिल्लेक्टोमी, टॉन्सिलिटिस की सर्जरी को कहा जाता है जो कि निम्न स्थितियों के दौरान किया जाता है :- 

  1. बाधक निंद्रा अश्वसन

  2. सांस लेने में कठिनाई

  3. निगलने में कठिनाई (विशेष रूप से मीट और अन्य चंकी खाद्य पदार्थ)

  4. एक फोड़ा जो एंटीबायोटिक उपचार से नहीं सुधरता

टॉन्सिल्लेक्टोमी आमतौर पर एक आउट पेशेंट प्रक्रिया के रूप में की जाती है, जब तक कि आपका बच्चा बहुत छोटा न हो, एक जटिल चिकित्सा स्थिति न हो या सर्जरी के दौरान जटिलताएं उत्पन्न न हों। इसका मतलब है कि आपका बच्चा सर्जरी के दिन घर जाने में सक्षम होना चाहिए। एक पूर्ण पुनर्प्राप्ति में आमतौर पर सात से 14 दिन लगते हैं।

टॉन्सिलिटिस में घरेलू उपचार Home remedies for tonsillitis in hindi

चाहे टॉन्सिलिटिस एक वायरल या जीवाणु संक्रमण के कारण होता है, घर पर देखभाल की रणनीतियाँ आपके बच्चे को अधिक आरामदायक बना सकती हैं और वह काफी जल्दी ठीक हो सकते हैं। यदि कोई वायरस टॉन्सिलिटिस का अपेक्षित कारण है, तो निम्न बताई गई रणनीतियाँ ही एकमात्र उपचार हैं। आपका डॉक्टर एंटीबायोटिक्स लेने की सलाह नहीं देगा। आपका बच्चा सात से 10 दिनों में ठीक हो जाएगा। पुनर्प्राप्ति समय के दौरान उपयोग की जाने वाली घरेलू देखभाल रणनीतियों में निम्नलिखित शामिल हैं :-

आराम को प्रोत्साहित करें Encourage rest :- अपने बच्चे को भरपूर नींद लेने के लिए प्रोत्साहित करें।

पर्याप्त तरल पदार्थ प्रदान करें Provide comforting foods and beverage :- अपने बच्चे के गले को नम रखने और निर्जलीकरण को रोकने के लिए उसे भरपूर पानी दें।

आरामदायक भोजन और पेय पदार्थ प्रदान करें। गर्म तरल पदार्थ :- शोरबा, कैफीन मुक्त चाय या शहद के साथ गर्म पानी - और बर्फ के चबूतरे जैसे ठंडे उपचार गले की खराश को शांत कर सकते हैं।

खारे पानी से गरारे करवाएं Prepare a saltwater gargle :- यदि आपका बच्चा गरारे कर सकता है, तो 1/2 चम्मच (2.5 मिलीलीटर) टेबल सॉल्ट को 8 औंस (237 मिलीलीटर) गर्म पानी में मिलाकर खारे पानी से गरारे करने से गले की खराश से राहत मिल सकती है। अपने बच्चे को घोल से गरारे करने के लिए कहें और फिर उसे थूक दें।

हवा को नम करें Humidify the air :- शुष्क हवा को खत्म करने के लिए एक ठंडी हवा के ह्यूमिडिफायर का उपयोग करें जो गले में खराश को और बढ़ा सकता है, या अपने बच्चे के साथ भाप से भरे बाथरूम में कई मिनट तक बैठने के लिए कहे।

लोज़ेंग दें Offer lozenges :- 4 साल से अधिक उम्र के बच्चे गले की खराश से राहत पाने के लिए लोजेंज चूस सकते हैं।

जलन से बचाव करें Avoid irritants :- अपने घर को सिगरेट के धुएं और सफाई उत्पादों से मुक्त रखें जो गले में जलन पैदा कर सकते हैं।

दर्द और बुखार का इलाज करें Treat pain and fever :- गले के दर्द को कम करने और बुखार को नियंत्रित करने के लिए इबुप्रोफेन (एडविल, चिल्ड्रन मोट्रिन, अन्य) या एसिटामिनोफेन (टाइलेनॉल, अन्य) का उपयोग करने के बारे में अपने डॉक्टर से बात करें। बिना दर्द के कम बुखार के इलाज की आवश्यकता नहीं होती है।

जब तक किसी विशेष बीमारी के इलाज के लिए डॉक्टर द्वारा एस्पिरिन निर्धारित नहीं किया जाता है, तब तक बच्चों और किशोरों को एस्पिरिन नहीं लेनी चाहिए। सर्दी या फ्लू जैसी बीमारियों के लक्षणों का इलाज करने के लिए बच्चों द्वारा एस्पिरिन का उपयोग रेये सिंड्रोम से जोड़ा गया है, जो एक दुर्लभ लेकिन संभावित जीवन-धमकी वाली स्थिति है।

टॉन्सिलिटिस संक्रामक है? Is Tonsillitis Contagious?

टोंसिलिटिस संक्रामक नहीं है, लेकिन इसके कारण होने वाले संक्रामक जीव किसी भी लक्षण को विकसित करने से पहले 24 से 48 घंटों तक अन्य लोगों तक पहुंच सकते हैं। जब तक आप बीमार नहीं होंगे तब तक वह दूसरों तक फैल सकते हैं। एंटीबायोटिक्स लेने के लगभग 24 घंटों के बाद, बैक्टीरिया या वायरस अन्य लोगों तक नहीं पहुंच पाएंगे।

यदि आपके पास पहले से ही टॉन्सिलिटिस संक्रामक से जूझने वाला कोई व्यक्ति खांसता या छींकता है, और आप बूंदों में सांस लेते हैं, तो आप टॉन्सिलिटिस विकसित कर सकते हैं। यदि आप किसी ऐसी वस्तु को छूते हैं जिसमें संभावित रूप से संक्रामक जीव होते हैं, जैसे कि डोरकनॉब, और फिर अपनी नाक या मुंह को छूते हैं, तो आपको टॉन्सिलिटिस भी हो सकता है।

बहुत सारे लोगों के संपर्क में रहने से टॉन्सिलिटिस पैदा करने वाले बैक्टीरिया और वायरस के संपर्क में आने का खतरा बढ़ जाता है। यही कारण है कि स्कूली बच्चों को अक्सर यह बीमारी हो जाती है। यदि आपके लक्षण हैं, तो टॉन्सिलिटिस फैलाने से बचने के लिए घर पर रहना सबसे अच्छा है।

एक्सपोजर के बाद लक्षण विकसित होने में आमतौर पर 2 से 4 दिन लगते हैं। पता करें कि टॉन्सिलिटिस होने या फैलने के आपके जोखिम को कैसे कम किया जाए।

टॉन्सिलाइटिस दर्दनाक क्यों हैं? Why are tonsillitis painful?

हम सभी इस बारे में जानते हैं कि टॉन्सिलाइटिस एक दर्दनाक समस्या है, लेकिन अब सवाल यह है कि इसमें दर्द आखिर होता क्यों है? तो निम्न वर्णित कुछ ऐसे कारण हैं जिनकी वजह से टॉन्सिलाइटिस होने पर रोगी को सामान्य से लेकर गंभीर दर्द होता है :-

  1. टॉन्सिल जब सूजन की वजह से बढ़ जाते हैं तो उनमें दर्द होता है।

  2. टॉन्सिलाइटिस होने पर गले में खराश या गला ख़राब हो जाता है जिसकी वजह से दर्द होता है।

  3. टॉन्सिल आई सूजन के कारण किसी भी चीज को निगलने में परेशानी होती है जिससे दर्द होता है।

  4. टॉन्सिल वाली जगहों पर सफेद रंग के धब्बे पड़ना जिससे समस्याएँ होने लगती है।

  5. रोगी को 100 डिग्री सेंटिग्रेड से ज्यादा बुखार होना, जिससे काफी ज्यादा थकान हो जाती है।

  6. पेट दर्द और उलटी होने की समस्या होना।

टॉन्सिलाइटिस की समस्या कितने दिनों तक रहती है? How long does tonsillitis last? 

टॉन्सिलाइटिस कितने दिन तक रहेगा और उससे कितनी समस्या होगी यह इस बात पर निर्भर करता है कि व्यक्ति को कौन से प्रकार टॉन्सिलाइटिस हुआ है। एक व्यक्ति को छः प्रकार का टॉन्सिलाइटिस होने के आशंका रहती है। टॉन्सिलाइटिस अपने प्रकार के हिसाब से निम्न दिनों तक रह सकता है :- 

एक्यूट टॉन्सिलाइटिस Acute Tonsillitis :- एक्यूट टॉन्सिलाइटिस होने पर इसके लक्षण सिर्फ 3 से 4 दिन तक रहते हैं। अगर समस्या गंभीर हो जाए तो ज्यादा से ज्यादा 2 हफ्ते तक लक्षण रह सकते हैं।

रिकरंट टॉन्सिलाइटिस Recurrent tonsillitis :- टॉन्सिलाइटिस यह प्रकार रोगी को एक साल में कई बार परेशान कर सकता है और इसके लक्षण दो सप्ताह तक रह सकते हैं।

क्रोनिक टॉन्सिलाइटिस Chronic tonsillitis :- क्रोनिक टॉन्सिलाइटिस तब होता है जब कोई व्यक्ति लंबे वक्त से टॉन्सिल इंफेक्शन से पीड़ित चल रहा हो। 

टॉन्सिलाइटिस होने पर क्या खाएं और क्या नहीं? What to eat and what not to eat when you have tonsillitis? 

अगर आप या आपका बच्चा टॉन्सिलाइटिस से जूझ रहा हैं तो ऐसे में आपको सबसे पहले इस बात का ध्यान रखना होगा कि इस दौरान गले में आई सूजन के कारण कुछ भी निगल पाना काफी मुश्किल है, इसलिए ऐसा खाना ही लेना चाहिए जिसको आसानी से निगला जा सके और उससे शरीर को ताक़त भी मिलें। 

टॉन्सिलाइटिस होने पर आपको नीचे बताए गये खाने को लेना चाहिए :- 

  1. गरम चावल 

  2. दलिया

  3. सूजी से बना हुआ उपमा 

  4. अदरक 

  5. शहद 

  6. उबला हुआ पालक 

  7. उबले हुए आलू 

  8. इडली 

  9. दूध 

  10. गुनगुना पानी 

  11. उबला हुआ अंडा या ऑमलेट

टॉन्सिलाइटिस होने पर आपको नीचे बताए गये खाद्य उत्पाद से दूर रहना चाहिए :- 

  1. खट्टी चीजें – जिसमें सब्जियां, फल, चटनी और अचार शामिल है।

  2. दही और छाछ 

  3. कढ़ी

  4. सभी मसालेदार सब्जियां और अन्य आहार 

  5. तले हुए आहार

  6. मांस – जिसे ज्यादा तेल, मसालेदार, भुनकर बनाया गया हो।

  7. सभी तरह की सॉस

  8. कैफीन युक्त आहार

  9. सभी तरह का डिब्बाबंद आहार

  10. फ्रोजेन आहार

Get our Newsletter

Filter out the noise and nurture your inbox with health and wellness advice that's inclusive and rooted in medical expertise.

Your privacy is important to us

MEDICAL AFFAIRS

CONTENT INTEGRITY

NEWSLETTERS

© 2022 Medtalks