रिकेट्स यानि सूखा रोग कितना गंभीर? कारण, लक्षण, इलाज और बचाव | Rickets in Hindi

सूर्य हमारे जीवन में कितना महत्वपूर्ण है इस बारे में हम सभी जानते हैं, सरल शब्दों में कहा जाए तो इसके बिना जीवन संभव नहीं है। सूर्य से अन्य फायदों के साथ-साथ हमारे शरीर को इससे विटामिन डी मिलता है जो कि हमारी हड्डियों के लिए सबसे जरूरी होता है। अगर विटामिन डी की शरीर में कमी हो जाए तो इसकी वजह से हड्डियों से जुड़ी बीमारी होने की आशंका बनी रहती है। रिकेट्स या सूखा रोग हड्डियों की एक ऐसी बीमारी है जो कि विटामिन डी की शरीर में कमी होने के कारण होती है। भारत में हड्डियों की यह बीमारी आम नहीं है, क्योंकि भारत एक ऐसा देश है जहाँ विटामिन डी की भरमार है क्योंकि यहाँ पुरे साल सूर्य दिखाई देता है। 

पहले रिकेट्स यानि सूखे रोग को गरीबी और कुपोषण से जोड़ कर देखा जाता था, लेकिन अब हालात बदल चुके हैं अब संपन्न परिवारों में भी यह रोग आम हो चूका है। इंडियन स्पाइनल इंजरी सेंटर (ISIC) Indian Spinal Injury Center (ISIC) ने एक बयान में कहा कि उसके पास पिछले एक साल से हर महीने रिकेट्स के करीब 12 मामले आ रहे हैं, जो इस बीमारी में 300 प्रतिशत की वृद्धि है और इन मरीजों की उम्र 2 से 12 साल की है। इस लेख के जरिये हम सूखे रोग के बारे में विस्तार से जानेंगे। लेख में हम रिकेट्स के कारण, रिकेट्स के लक्षण और सूखा रोग का इलाज के बारे में जानेंगे। 

सूखा रोग (रिकेट्स) क्या है? What is Rickets?

रिकेट्स या सूखा रोग बच्चों में होने वाली हड्डियों की एक बीमारी है जो विटामिन डी, कैल्सियम और फास्फोरस जैसे पोषक तत्वों की कमी के कारण होती है। इस रोग में रोगी को हड्डियों में दर्द, हड्डियों का कमजोर होना या नरम पड़ना और अन्य हड्डियों से जुड़ी विकृतियों का सामना करना पड़ता हैं। रिकेट्स के कारण बच्चों मे बो लेग डिफॉर्मिटी (bow leg deformity) और नोक नी डिफॉर्मिटी (tip knee deformity) (चलते समय घुटनों का आपस में टकराना) की समस्या हो जाती है, जिसकी वजह से बच्चों के पैर टेढ़े हो जाते हैं। डॉक्टर्स का कहना है कि लंबे समय तक घर के भीतर रहने, सूर्य की रोशनी शरीर पर नहीं पड़ने के कारण शरीर में विटामिन डी की कमी हो रही है और इस कारण उन्हें रिकेट्स हो जाता है। पहले जहाँ इसे कुपोषण के कारण होने वाली बीमारी माना जाता था, वहीं अब डॉक्टर इसे कुपोषण के कारण होने वाली बीमारी मानने से इंकार कर रहे हैं।

रिकेट्स के लक्षण क्या है? What are the symptoms of Rickets?

सूखा रोग होने पर निम्नलिखित संकेत और लक्षण दिखाई देते हैं, जिनकी मदद से इस गंभीर रोग की पहचान की जा सकती है :-

  1. हाथ, पैर, श्रोणि (pelvis), या रीढ़ की हड्डियों में दर्द या कोमलता

  2. ठीक से विकास न होना 

  3. सामान्य से छोटा कद

  4. अस्थि भंग (bone fracture)

  5. मांसपेशियों में ऐंठन

  6. दांतों की विकृति, जैसे :-

  1. देर से दांत बनना

  2. तामचीनी में छेद (hole in enamel)

  3. फोड़े 

  4. दांतों की संरचना में दोष

  5. गुहाओं की संख्या में वृद्धि (an increased number of cavities)

  1. कंकाल विकृति होना, सहित :-

  1. एक अजीब आकार का सर

  2. कटोरे, या पैर जो झुकते हैं (bowlegs, or legs that bow out)

  3. पसली में धक्कों का निर्माण होना (bumps in the ribcage)

  4. उभरी हुई छाती (protruding chest)

  5. एक घुमावदार रीढ़

  6. श्रोणि विकृति (pelvic deformity)

यदि आपके बच्चे में सूखा रोग के लक्षण दिखाई देते हैं तो आपको जल्द से जल्द डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए। यदि बच्चे के विकास की अवधि के दौरान विकार का इलाज नहीं किया जाता है, तो बच्चे का कद एक वयस्क के रूप में बहुत छोटा हो सकता है। अगर विकार का इलाज नहीं किया जाता है तो विकृति भी स्थायी हो सकती है। बच्चे को भविष्य में न केवल शरीरिक समस्याओं का सामना करना पड़ता है बल्कि साथ में मानसिक रूप से भी समस्याओं का सामना करना पड़ता है, जैसे – कम दोस्त बनना, खुद को हाशिये पर महसूस करना, खुद को कलंक के रूप में देखना आदि।

सूखा रोग होने के क्या कारण है? What are the causes of Rickets?

आपके बच्चे के शरीर को भोजन से कैल्शियम और फास्फोरस को अवशोषित करने के लिए विटामिन डी की आवश्यकता होती है। यदि आपके बच्चे के शरीर को पर्याप्त विटामिन डी नहीं मिलता है या उसके शरीर को विटामिन डी का सही उपयोग करने में समस्या होती है, तो रिकेट्स हो सकता है। कभी-कभी, पर्याप्त कैल्शियम नहीं मिलने या कैल्शियम और विटामिन डी की कमी से रिकेट्स हो सकता है।

विटामिन डी की कमी Lack of vitamin D :-

जिन बच्चों को इन दो स्रोतों से पर्याप्त विटामिन डी नहीं मिलता है, उनमें कमी हो सकती है :-

सूरज की रोशनी Sunlight :- सूरज की रोशनी के संपर्क में आने पर आपके बच्चे की त्वचा विटामिन डी का उत्पादन करती है। लेकिन विकसित देशों में बच्चे बाहर कम समय बिताते हैं। वह सनस्क्रीन का उपयोग करने के भी काफी आदि होते हैं जो कि सूर्य की किरणों को अवरुद्ध करती है जो त्वचा के विटामिन डी के उत्पादन को ट्रिगर करते हैं।

खाना Food :- मछली के तेल, अंडे की जर्दी और वसायुक्त मछली जैसे सैल्मन और मैकेरल में विटामिन डी होता है। कुछ खाद्य पदार्थों और पेय पदार्थों जैसे दूध, अनाज और कुछ फलों के रस में विटामिन डी भी मिलता है। यहाँ से भी आपके बच्चे विटामिन डी की कमी को बड़ी आसानी से पूरा कर सकते हैं। 

अवशोषण में समस्या Problems with absorption :-

कुछ बच्चे ऐसी चिकित्सीय स्थितियों के साथ पैदा होते हैं या विकसित होते हैं जो उनके शरीर द्वारा विटामिन डी को अवशोषित करने के तरीके को प्रभावित करते हैं। कुछ उदाहरणों में शामिल हैं:

  1. सीलिएक रोग (Celiac disease)

  2. पेट दर्द या पेट से जुड़े अन्य रोग

  3. पुटीय तंतुशोथ (Cystic fibrosis)

  4. गुर्दे से संबंधित समस्याएं  (Kidney problems)

रिकेट्स के जोखिम कारक क्या है? What is the risk factor for Rickets?

निम्न वर्णित कुछ स्थितियां आपके बच्चे को रिकेट्स के जोखिम में डाल सकती है :-

आयु Age :-

रिकेट्स उन बच्चों में सबसे आम है जिनकी उम्र 6 से 36 महीने के बीच है। इस अवधि के दौरान, बच्चे आमतौर पर तेजी से विकास का अनुभव करते हैं। यह तब होता है जब उनके शरीर को अपनी हड्डियों को मजबूत और विकसित करने के लिए सबसे अधिक कैल्शियम और फॉस्फेट की आवश्यकता होती है।

आहार Food :-

यदि आपके बच्चे को दूध पचाने में परेशानी होती है या दूध की चीनी (लैक्टोज) से एलर्जी है, तो आपको भी इसका खतरा बढ़ जाता है। ऐसे में आपके बच्चे को भरपूर मात्रा में वो पोषक तत्व नहीं मिलेंगे जो कि हड्डियों को मजबूत करने के लिए चाहिए। इस स्थिति में अगर आप अपने बच्चे को शाकाहारी भोजन देते हैं जिसमें मछली, अंडे या दूध शामिल नहीं है, तो आपको रिकेट्स विकसित होने का अधिक खतरा होता है। जिन शिशुओं को छः माह की आयु के बाद भी केवल मां का दूध पिलाया जाता है, उनमें भी विटामिन डी की कमी हो सकती है। स्तन के दूध में रिकेट्स को रोकने के लिए पर्याप्त विटामिन डी नहीं होता है।

त्वचा का रंग Skin color :-

अफ्रीकी, प्रशांत द्वीप वासी और मध्य पूर्वी मूल के बच्चों को रिकेट्स होने का सबसे अधिक खतरा होता है क्योंकि उनकी त्वचा का रंग सांवला होता है। गहरी त्वचा सूर्य के प्रकाश के प्रति उतनी तीव्र प्रतिक्रिया नहीं करती जितनी हल्की त्वचा करती है, इसलिए यह कम विटामिन डी का उत्पादन करती है।

भौगोलिक स्थान Geographic location :-

धूप के संपर्क में आने पर हमारा शरीर अधिक विटामिन डी का उत्पादन करता है, इसलिए यदि आप कम धूप वाले क्षेत्र में रहते हैं तो आपको रिकेट्स होने का खतरा अधिक होता है। यदि आप दिन के उजाले के दौरान घर के अंदर काम करते हैं तो आपको भी अधिक जोखिम होता है।

जीन Gene :-

कई बच्चों को जीन के माध्यम से रिकेट्स विरासत में भी मिल सकता है। इसका मतलब है कि विकार आपके जीन के माध्यम से पारित हो गया है। इस प्रकार का रिकेट्स, जिसे वंशानुगत रिकेट्स कहा जाता है या आपकी किडनी को फॉस्फेट को अवशोषित करने से रोकता है।

गर्भवती महिला के शरीर में विटामिन डी की कमी Vitamin D deficiency in pregnant woman's body :-

अगर गर्भावस्था के दौरान माँ में विटामिन डी की कमी होने कारण उसे पैदा होने वाली संतान में शुरुआत से ही सूखा रोग यानि रिकेट्स के लक्षण दिखाई दे सकते हैं। अगर जन्म के दौरान रिकेट्स के लक्षण दिखाई नहीं देते तो जन्म के कुछ महीनों या साल भर के भीतर इसके लक्षण दिखाई दे सकते हैं।

समय से पहले जन्म Premature birth :-

नियत तारीख से पहले पैदा हुए शिशुओं में विटामिन डी का स्तर कम होता है क्योंकि उनके पास गर्भ में अपनी मां से विटामिन प्राप्त करने के लिए कम समय होता है। यह स्थिति सातवें माह में जन्मे बच्चे को ज्यादा हो सकती है। आठवें महीने में बच्चे का जन्म होना आम बात है।

दवाएं Medicines :-

एचआईवी संक्रमण के इलाज के लिए उपयोग की जाने वाली कुछ प्रकार की जब्ती-रोधी दवाएं (anti-seizure drugs) और एंटीरेट्रोवायरल दवाएं, विटामिन डी का उपयोग करने की शरीर की क्षमता में हस्तक्षेप करती हैं। इसकी वजह से हड्डियों की यह बीमारी होने की आशंका बनी रहती है।

अनन्य स्तनपान Exclusive breastfeeding :-

स्तन के दूध में रिकेट्स को रोकने के लिए पर्याप्त विटामिन डी नहीं होता है। जिन शिशुओं को विशेष रूप से स्तनपान कराया जाता है, उन्हें विटामिन डी की पूर्ति होनी चाहिए। ऐसे में शिशु को छः माह के बाद आहार देना शुरू कर देना चाहिए।

रिकेट्स के कारण किन जटिलताओं का सामना करना पड़ सकता है? What are the complications caused by Rickets?

अगर रिकेट्स को अनुपचारित छोड़ दिया जाए तो निम्नलिखित जतिलाएं होने की संभवना बनी रहती है :- 

  1. बढ़ने में विफलता

  2. अस्थि विकृति

  3. दंत दोष

  4. मिर्गी के दौरे

  5. एक असामान्य रूप से घुमावदार रीढ़

रिकेट्स का निदान कैसे किया जाता है? How is Rickets Diagnosed? 

किसी भी रोग की जांच करने से पहले डॉक्टर लक्षणों के जरिये रोग को समझने की कोशिश करता है ताकि उचित परिक्षण किये जा सके। रिकेट्स यानि सूखा रोग होने पर भी डॉक्टर सबसे पहले आपके बच्चे में सबसे पहले लक्षणों की पहचान करेगा और इस वह आपके बच्चे की हड्डियों को धीरे से या जरूरत के हिसाब से दबाव डाल कर देखेंगे और असामान्यताओं की जाँच करेंगे। स्थिति के अनुसार डॉक्टर आपके बच्चे में रिकेट्स का निदान करने के लिए जल्द से जल्द निम्न वर्णित कुछ जांच करवाने के लिए कह सकते हैं :-

खोपड़ी की जाँच Skull examination :-

जिन शिशुओं में रिकेट्स होता है, उनकी खोपड़ी की हड्डियां अक्सर नरम होती हैं और नरम धब्बे (फॉन्टानेल्स) को बंद करने में देरी हो सकती है।

पैर का परिक्षण Legs test :-

जबकि स्वस्थ बच्चे भी थोड़े झुके हुए होते हैं, लेकिन अगर बच्चा सामान्य से ज्यादा झुका हुआ है तो यह गंभीर स्थिति है। इसके साथ ही पैरों में और अन्य असमानताओं को भी देखा जाता है।

छाती का परिक्षण Chest test :-

रिकेट्स वाले कुछ बच्चे अपने पसली के पिंजरों में असामान्यताएं विकसित करते हैं, जो चपटे हो सकते हैं और उनके स्तनों को बाहर निकालने का कारण बन सकते हैं।

कलाई और टखनों का परिक्षण Wrist and ankle test :-

जिन बच्चों को रिकेट्स होता है उनमें अक्सर कलाई और टखने होते हैं जो सामान्य से बड़े या मोटे होते हैं।

प्रभावित हड्डियों के एक्स-रे से हड्डी की विकृति का पता चल सकता है। रक्त और मूत्र परीक्षण रिकेट्स के निदान की पुष्टि कर सकते हैं और उपचार की प्रगति की निगरानी भी कर सकते हैं। एमआरआई के साथ अन्य कुछ जांच भी करवाई जा सकती है। 

रिकेट्स का इलाज कैसे किया जाता है? How is Rickets treated?

सबसे पहले आप इस बात का ध्यान रखे कि रिकेट्स के इलाज में किसी भी तरह का गंभीर ऑपरेशन शामिल नहीं है, हाँ कुछ स्थितियों में मामूली चीरे लगाए जा सकते हैं। रिकेट्स का मुख्य उपचार शरीर में लापता विटामिन या खनिज को बदलने पर केंद्रित है। इससे रिकेट्स से जुड़े ज्यादातर लक्षण खत्म हो जाएंगे। यदि आपके बच्चे में विटामिन डी की कमी है, तो संभव है कि यदि संभव हो तो आपका डॉक्टर आपके बच्चे को सूर्य के प्रकाश के संपर्क में रहने की सलाह देगा ताकि शरीर में विटामिन डी की मात्रा को आसानी से बढ़ाया जा सके। इस दौरान डॉक्टर बच्चे को किसी तरह की संसक्रीम या कोई भी ऐसा अन्य उत्पाद न लेने की सलाह देगा जिससे शरीर में सूर्य की किरणें आने में समस्या पैदा हो। 

ऐसा संभव नहीं है तो डॉक्टर आपके बच्चे को मछली, लीवर, दूध और अंडे जैसे विटामिन डी से भरपूर खाद्य उत्पादों का सेवन करने के लिए भी प्रोत्साहित करेंगे। रिकेट्स के इलाज के लिए कैल्शियम और विटामिन डी की खुराक का भी उपयोग किया जा सकता है। अपने डॉक्टर से सही खुराक के बारे में पूछें, क्योंकि यह आपके बच्चे के शरीर के आकार और उम्र के आधार पर भिन्न हो सकती है। बहुत अधिक विटामिन डी या कैल्शियम असुरक्षित हो सकता है।

यदि आपके बच्चे में कंकाल की विकृति मौजूद है, तो आपके बच्चे को अपनी हड्डियों को बढ़ने के साथ सही स्थिति में रखने के लिए ब्रेसिज़ की आवश्यकता हो सकती है। गंभीर मामलों में, आपके बच्चे को सुधारात्मक सर्जरी की आवश्यकता हो सकती है। वंशानुगत रिकेट्स के लिए, रोग के इलाज के लिए फॉस्फेट की खुराक और विटामिन डी के एक विशेष रूप के उच्च स्तर के संयोजन की आवश्यकता होती है।

क्या रिकेट्स से बचाव संभव है? Is it possible to prevent Rickets?

हाँ, सूखे रोग से बचाव करना एक दम संभव है, इसके लिए शरीर में बस विटामिन डी की पूर्ति करने की आवश्यकता होती है। सूर्य के प्रकाश का एक्सपोजर विटामिन डी का सबसे अच्छा स्रोत प्रदान करता है। अधिकांश मौसमों के दौरान, दोपहर के करीब सूर्य के संपर्क में 10 से 15 मिनट का समय पर्याप्त होता है। हालाँकि, यदि आप गहरे रंग के हैं, यदि यह सर्दी है या यदि आप उत्तरी अक्षांशों में रहते हैं, तो हो सकता है कि आप सूर्य के संपर्क में आने से पर्याप्त विटामिन डी प्राप्त करने में सक्षम न हों।

इसके अलावा, त्वचा कैंसर की चिंताओं के कारण, शिशुओं और छोटे बच्चों को, विशेष रूप से, सीधे धूप से बचने या हमेशा सनस्क्रीन और सुरक्षात्मक कपड़े पहनने की चेतावनी दी जाती है। ऐसे में आप सीधे तौर पर सूर्य कि रौशनी में न बैठे। 

रिकेट्स को रोकने के लिए, सुनिश्चित करें कि आपका बच्चा प्राकृतिक रूप से विटामिन डी युक्त खाद्य पदार्थ खाता है - वसायुक्त मछली जैसे सैल्मन और टूना, मछली का तेल और अंडे की जर्दी या जो विटामिन डी से समृद्ध हैं, जैसे:

  1. आरंभिक फार्मूला

  2. दलिया जैसा व्यंजन

  3. रोटी

  4. दूध, लेकिन दूध से बने खाद्य पदार्थ नहीं, जैसे कुछ दही और पनीर

  5. संतरे का रस

गढ़वाले खाद्य पदार्थों की विटामिन डी सामग्री निर्धारित करने के लिए लेबल की जाँच करें।

यदि आप गर्भवती हैं, तो अपने डॉक्टर से विटामिन डी की खुराक लेने के बारे में पूछें।

दिशानिर्देश अनुशंसा करते हैं कि सभी शिशुओं को विटामिन डी का एक दिन में 400 आईयू प्राप्त करना चाहिए। क्योंकि मानव दूध में केवल थोड़ी मात्रा में विटामिन डी होता है, जो शिशुओं को विशेष रूप से स्तनपान कराया जाता है उन्हें प्रतिदिन पूरक विटामिन डी प्राप्त करना चाहिए। बोतल से दूध पीने वाले कुछ शिशुओं को भी विटामिन डी की खुराक की आवश्यकता हो सकती है यदि वे अपने फार्मूले से पर्याप्त मात्रा में प्राप्त नहीं कर रहे हैं।

आहार के संबंध में ज्यादा जानकारी के लिए आप अपने डॉक्टर से भी जानकारी ले सकते हैं।

Get our Newsletter

Filter out the noise and nurture your inbox with health and wellness advice that's inclusive and rooted in medical expertise.

Your privacy is important to us

MEDICAL AFFAIRS

CONTENT INTEGRITY

NEWSLETTERS

© 2022 Medtalks