रिएक्टिव आर्थराइटिस क्या है? लक्षण, कारण और इलाज | Reactive Arthritis in Hindi

बढ़ती उम्र के साथ जोड़ो के दर्द की समस्या होना बहुत ही आम बात है जो कि कई कारणों से होता है, जिसके पीछे कई कारण है। आर्थराइटिस यानि गठिया जोड़ो में दर्द होने के पीछे का सबसे आम कारण माना जाता है। आर्थराइटिस न केवल जोड़ों के दर्द की समस्या को खड़ी करता है बल्कि यह और भी कई गंभीर समस्याओं को जन्म दे सकता है। गठिया की वजह से आपको क्या-क्या समस्याएँ हो सकती है यह गठिया के प्रकार पर निर्भर करता है। रिएक्टिव आर्थराइटिस, आर्थराइटिस का एक ऐसा प्रकार है जो कि न केवल दर्द बल्कि और भी कई गंभीर समस्याओं को जन्म देता है। इस लेख के जरिये हम रिएक्टिव आर्थराइटिस के बारे में विस्तार से जानेंगे, जिसमें हम रिएक्टिव आर्थराइटिस के लक्षण, रिएक्टिव आर्थराइटिस के कारण और रिएक्टिव आर्थराइटिस के इलाज के बारे में बात करेंगे। 

रिएक्टिव आर्थराइटिस क्या है? What is Reactive Arthritis?

रिएक्टिव आर्थराइटिस या प्रतिक्रियाशील गठिया एक प्रकार का गठिया है जो कि शरीर के दूसरे हिस्से में संक्रमण के कारण होता है, जिसमें आंतों, जननांगों या मूत्र पथ में हुआ संक्रमण सबसे आम है। इस गठिया की समस्या के कारण जोड़ो का दर्द और सूजन की समस्या होना सबसे आम है। रिएक्टिव आर्थराइटिस में होने वाला दर्द आमतौर पर से घुटनों, टखनों और पैरों को लक्षित करती है। वहीं, सूजन आंखों, त्वचा और शरीर से मूत्र को बाहर निकालने वाली ट्यूब (मूत्रमार्ग) को भी प्रभावित कर सकती है। पहले, प्रतिक्रियाशील गठिया को रेइटर सिंड्रोम (Reiter's syndrome) के नाम भी जाना जाता था। रिएक्टिव आर्थराइटिस, अन्य प्रकार के गठिया के मुकाबले आम नहीं है, यह दुर्लभ है। ज्यादातर लोगों में इसके संकेत और लक्षण आते-जाते रहते हैं और आखिर में 12 महीनों के भीतर दिखाई देना बंद हो जाते हैं। 

रिएक्टिव आर्थराइटिस के लक्षण क्या है? What are the symptoms of reactive arthritis?

रिएक्टिव आर्थराइटिस के संकेत और लक्षण आमतौर पर एक ट्रिगरिंग संक्रमण (triggering infection) के संपर्क में आने के 1 से 4 सप्ताह बाद शुरू होते हैं। रिएक्टिव आर्थराइटिस होने पर निम्नलिखित लक्षण दिखाई देते हैं :-

दर्द और जकड़न Pain and stiffness :- रिएक्टिव आर्थराइटिस के कारण होने वाला जोड़ों का दर्द सबसे अधिक घुटनों, टखनों और पैरों में होता है। इसके साथ ही दर्द एड़ी, पीठ के निचले हिस्से या नितंबों में भी हो सकता है। 

आँख की सूजन Eye inflammation :- बहुत से लोग जिन्हें प्रतिक्रियाशील गठिया होता है, उनमें भी आंखों की सूजन (नेत्रश्लेष्मलाशोथ – Conjunctivitis) की समस्या हो सकती है।

मूत्र संबंधी समस्याएं Urinary problems :- पेशाब के दौरान बढ़ी हुई आवृत्ति और परेशानी हो सकती है, जैसे प्रोस्टेट ग्रंथि या गर्भाशय ग्रीवा (uterine cervix) की सूजन हो सकती है।

कण्डरा और स्नायुबंधन की सूजन जहां यह हड्डी (एंथेसाइटिस) से जुड़ते हैं Inflammation of tendons and ligaments where they attach to bone (enthesitis) :- सूजन की यह समस्या ज्यादातर एड़ी और पैरों के तलवों में होता है।

सूजे हुए पैर की उंगलियां या अंगूठे Swollen toes or fingers :- कुछ मामलों में, पैर के अंगुठे या उंगलियां इतनी सूज सकती हैं कि वे सॉसेज की तरह दिखती हैं।

त्वचा संबंधी समस्याएं Skin problems :- प्रतिक्रियाशील गठिया कई तरह से त्वचा को प्रभावित कर सकता है, जिसमें मुंह के छाले और पैरों के तलवों और हाथों की हथेलियों पर दाने शामिल हैं।

पीठ के निचले भाग में दर्द Low back pain :-  रिएक्टिव गठिया के कारण रात में या सुबह में पीठ के नीचले हिस्से में तेज हो जाता है।

रिएक्टिव अर्थराइटिस होने के पीछे क्या कारण है? What is the reason behind having Reactive Arthritis?

रिएक्टिव गठिया आपके शरीर में संक्रमण की प्रतिक्रिया में विकसित होता है, खासकर आंतों, जननांगों या मूत्र पथ में हुए संक्रमण के कारण। ट्रिगरिंग संक्रमण भी इस गठिया के पीछे का कारण बनता है, लेकिन इसकी पहचान करना काफी मुश्किल होता है क्योंकि इसके लक्षण बहुत हल्के या बिलकुल नहीं दिखाई देते।

कई बैक्टीरिया रिएक्टिव आर्थराइटिस का कारण बन सकते हैं, जिसमें कुछ यौन संचारित होते हैं, और अन्य खाद्य जनित होते हैं। इनमें निम्नलिखित सबसे आम हैं :-

  1. कैम्पिलोबैक्टर (Campylobacter) 

  2. क्लैमाइडिया (Chlamydia) 

  3. क्लोस्ट्रीडायोइड्स डिफिसाइल (Clostridioides difficile)

  4. इशरीकिया कोली (Escherichia coli)

  5. साल्मोनेला (Salmonella)

  6. शिगेला (Shigella) 

  7. येर्सिनिया (Yersinia) 

यहाँ यह स्पष्ट करना जरूरी है कि प्रतिक्रियाशील गठिया (Reactive arthritis) संक्रामक नहीं है और न ही यह कोई संक्रमण है बल्कि यह संक्रमण की वजह से होता है। हालांकि, इसका कारण बनने वाले बैक्टीरिया यौन या दूषित भोजन में संचरित हो सकते हैं। इन जीवाणुओं के संपर्क में आने वाले कुछ ही लोग रिएक्टिव आर्थराइटिस को विकसित करते हैं।

रिएक्टिव आर्थराइटिस के जोखिम कारक क्या है? What are the risk factors for reactive arthritis?

निम्न वर्णित कुछ ऐसी स्थिति या कारक है जो कि रिएक्टिव आर्थराइटिस के होने के जोखिम को बढ़ा सकते हैं :-

आयु Age :- रिएक्टिव आर्थराइटिस 20 से 40 वर्ष की आयु के वयस्कों में सबसे अधिक बार होता है।

सेक्स Sex :- खाद्य जनित संक्रमणों के जवाब में महिलाओं और पुरुषों को समान रूप से रिएक्टिव आर्थराइटिस विकसित होने की संभावना है। हालांकि, यौन संचारित बैक्टीरिया के जवाब में पुरुषों की तुलना में महिलाओं में प्रतिक्रियाशील गठिया विकसित होने की संभावना अधिक होती है। लेकिन इस गठिया की वजह से महिलाओं के मुकाबले पुरुषों को ज्यादा समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है।

वंशानुगत कारक Hereditary factors :- काफी बार रिएक्टिव आर्थराइटिस अनुवांशिक भी हो सकता है, लेकिन यह काफी दुर्लभ है। ऐसा नहीं है कि अगर आपके माता-पिता या पहले किसी को रिएक्टिव आर्थराइटिस की समस्या रही है तो आपको भी यह होगा, ऐसा होना काफी दुर्लभ है। 

रिएक्टिव आर्थराइटिस का निदान कैसे किया जाता है? How is reactive arthritis diagnosed?

रिएक्टिव आर्थराइटिस का निदान करना काफी मुश्किल होता है, क्योंकि इसके लक्षण स्पष्ट रूप से दिखाई नहीं देते और साथ ही इसके लक्षण आते-जाते रहते हैं। इतना ही नहीं इसके लक्षण समय के साथ बदलते रहते हैं। 

अगर आपको लगता है कि आप रिएक्टिव गठिया से जूझ रहे हैं तो ऐसे में आपको जल्द से जल्द डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए। शारीरिक परीक्षा के दौरान, आपका डॉक्टर आपके जोड़ों में सूजन, गर्मी और कोमलता, और आपकी रीढ़ और प्रभावित जोड़ों में दर्द और उनके कार्य करने की क्षमता और गति की जांच कर सकता है। आपका डॉक्टर आपकी आंखों में सूजन और आपकी त्वचा पर रैशेज के लिए भी जांच कर सकता है। आपका डॉक्टर आपको मौजूदा स्थिति के अनुसार निम्नलिखित जांच करवाने के लिए कह सकता है :- 

 रक्त और मूत्र परीक्षण Blood and urine test

  1. पिछले या वर्तमान संक्रमण के साक्ष्य

  2. सूजन के लक्षण

  3. अन्य प्रकार के गठिया से जुड़े एंटीबॉडी

  4. प्रतिक्रियाशील गठिया से जुड़ा एक आनुवंशिक मार्कर

  5. मूत्र मार्ग में हुई समस्या के कारण शरीर में जमा हुए अपशिष्ट उत्पादों की जानकारी

संयुक्त द्रव परीक्षण Joint fluid tests

इस जांच के लुए आपका डॉक्टर प्रभावित जोड़ के भीतर से तरल पदार्थ का एक नमूना निकालने के लिए सुई का उपयोग कर सकता है। इस द्रव की मदद से कई परिक्षण किये जा सकते हैं :-

श्वेत रुधिर कोशिका गणना White blood cell count :- श्वेत रक्त कोशिकाओं की बढ़ी हुई संख्या सूजन या संक्रमण का संकेत दे सकती है।

संक्रमण Infections :- आपके संयुक्त द्रव में बैक्टीरिया सेप्टिक गठिया (septic arthritis) का संकेत दे सकता है, जिसके परिणामस्वरूप गंभीर संयुक्त क्षति हो सकती है।

क्रिस्टल Crystals :- आपके संयुक्त द्रव में यूरिक एसिड क्रिस्टल गाउट (Uric acid crystals) का संकेत दे सकते हैं। यह बहुत ही दर्दनाक प्रकार का गठिया अक्सर बड़े पैर की अंगुली को प्रभावित करता है।

इमेजिंग परीक्षण Imaging tests 

आपकी पीठ के निचले हिस्से, श्रोणि और जोड़ों के एक्स-रे की मदद से इस बारे में जानकारी प्राप्त की जा सकती है कि क्या आपको गंभीर रिएक्टिव गठिया हुआ है या नहीं। न केवल रिएक्टिव गठिया बल्कि अन्य प्रकार के गठिया होने पर भी एक्स-रे किया जा सकता है।

रिएक्टिव गठिया का उपचार कैसे किया जाता है? How is reactive arthritis treated?

अगर आपको रिएक्टिव गठिया होने की पुष्टि होती है तो ऐसे में डॉक्टर आपका इलाज निम्न वर्णित प्रकार से कर सकते हैं। रिएक्टिव आर्थराइटिस के उपचार का लक्ष्य लक्षणों का प्रबंधन करना और संक्रमण से छुटकारा पाना होता है।  इसके उपचार में निम्नलिखित शामिल है 

दवाएं Medicines :-

यदि आपका रिएक्टिव आर्थराइटिस एक जीवाणु संक्रमण से शुरू हुआ था, तो लगातार संक्रमण का प्रमाण होने पर आपका डॉक्टर एक एंटीबायोटिक लिख सकता है। आप कौन सा एंटीबायोटिक लेते हैं यह मौजूद बैक्टीरिया पर निर्भर करता है। निम्न दवाओं की मदद से रिएक्टिव आर्थराइटिस के संकेत और लक्षणों को कम किया जा सकता है :-

नॉनस्टेरॉइडल एंटी-इंफ्लेमेटरी ड्रग्स (NSAIDs) Nonsteroidal anti-inflammatory drugs (NSAIDs) :- डॉक्टर आपको NSAIDs, जैसे इंडोमेथेसिन (इंडोसिन) दे सकते हैं जो कि रिएक्टिव गठिया की सूजन और दर्द से राहत दे सकते हैं।

स्टेरॉयड Steroids :- प्रभावित जोड़ों में एक स्टेरॉयड इंजेक्शन सूजन को कम कर सकता है और आपको अपने सामान्य गतिविधि स्तर पर लौटने की अनुमति देता है। आंखों के लक्षणों के लिए स्टेरॉयड आई ड्रॉप का इस्तेमाल किया जा सकता है, और त्वचा पर चकत्ते के लिए स्टेरॉयड क्रीम का इस्तेमाल किया जा सकता है।

रुमेटीइड गठिया की दवाएं Rheumatoid arthritis drugs :- सीमित सबूत बताते हैं कि सल्फासालजीन (एज़ुल्फिडाइन) – sulfasalazine (Azulfidine), मेथोट्रेक्सेट (ट्रेक्सल) – methotrexate (Trexall) या एटैनरसेप्ट (एनब्रेल) – etanercept (Enbrel) जैसी दवाएं प्रतिक्रियाशील गठिया वाले कुछ लोगों के लिए दर्द और कठोरता को दूर कर सकती हैं।

भौतिक चिकित्सा Physical treatment

एक भौतिक चिकित्सक आपको अपने जोड़ों और मांसपेशियों के लिए लक्षित व्यायाम प्रदान कर सकता है। मजबूत करने वाले व्यायाम प्रभावित जोड़ों के आसपास की मांसपेशियों को विकसित करके जोड़ों के समर्थन को बढ़ाते हैं। रेंज-ऑफ-मोशन व्यायाम आपके जोड़ों के लचीलेपन को बढ़ा सकते हैं और कठोरता को कम कर सकते हैं।

क्या रिएक्टिव गठिया से बचाव संभव है? Is it possible to prevent reactive arthritis?

आनुवंशिक कारक एक भूमिका निभाते हैं कि क्या आप प्रतिक्रियाशील गठिया विकसित करने की संभावना रखते हैं या नहीं। यद्यपि आप अपने अनुवांशिक कारक को नहीं बदल सकते हैं, आप बैक्टीरिया के संपर्क को कम कर सकते हैं जिससे रिएक्टिव गठिया हो सकता है।

अपने भोजन को उचित तापमान पर स्टोर करें और ठीक से पकाएं। इन चीजों को करने से आपको कई खाद्य जनित बैक्टीरिया से बचने में मदद मिलती है जो साल्मोनेला, शिगेला, यर्सिनिया और कैम्पिलोबैक्टर सहित प्रतिक्रियाशील गठिया का कारण बन सकते हैं। कुछ यौन संचारित संक्रमण प्रतिक्रियाशील गठिया को ट्रिगर कर सकते हैं। अपने जोखिम को कम करने में मदद के लिए सेक्स के दौरान कंडोम का प्रयोग करें। इस संबंध में अधिक या खास जानकारी के लिए आप अपने डॉक्टर से बात कर सकते हैं।

Get our Newsletter

Filter out the noise and nurture your inbox with health and wellness advice that's inclusive and rooted in medical expertise.

Your privacy is important to us

MEDICAL AFFAIRS

CONTENT INTEGRITY

NEWSLETTERS

© 2022 Medtalks