न्यूमोथोरैक्स क्या है? कारण, लक्षण, इलाज और बचाव | Pneumothorax in Hindi

हमारे फेफड़े शरीर के सबसे खास अंग है यह हमें सांस लेने में मदद करते हैं और रक्त वाहिनियों को रक्त पहुंचाने में मदद करते हैं। अगर फेफड़ों से जुड़ी कोई भी समस्या हो जाए तो उसकी वजह से व्यक्ति को सबसे पहले सांस से जुड़ी समस्या होना शुरू हो जायगी। फेफड़े भले ही हमारे शरीर के अहम अंग हैं लेकिन फिर भी हम इसके स्वास्थ्य के लिए कोई खास कदम नहीं उठाते हैं, बल्कि इसे और भी समस्याओं में झोंक देते हैं इसका सबसे बड़ा उदहारण है धुम्रपान और लगातार बढ़ता प्रदुषण। फेफड़ों से जुड़ी वैसे तो कई बीमारियाँ है जो कि सामान्य से गंभीर, गंभीर से अति गंभीर की श्रेणी में आती है। फेफड़ों से जुड़ी एक और बीमारी है जिसके बारे में लोगों को जानना जरूरी है और वह है न्यूमोथोरैक्स (Pneumothorax)। न्यूमोथोरैक्स के विषय में लोगों को फ़िलहाल खास जानकारी नहीं है। चिकित्सा जानकारी से जुड़ी Medtalks वेबसाइट पर लिखे इस लेख में हम फेफड़ों के इस रोग के बारे में विस्तार से जानेंगे। इस लेख में हम न्यूमोथोरैक्स के लक्षण, न्यूमोथोरैक्स के कारण और न्यूमोथोरैक्स का इलाज के बारे में विस्तार से जानेंगे।

न्यूमोथोरैक्स क्या है? What is pneumothorax?

संकुचित फेफड़ों को न्यूमोथोरैक्स कहते हैं और यह स्थिति तब आती है जब फेफड़ों और छाती की दीवार के बीच में हवा पास होती है। इससे फेफड़ों पर हवा बाहर की तरफ से दबाव बनाती है, जिससे यह सिकुड़ जाते हैं। अधिकांश मामलों में फेफड़ों में इसका केवल एक हिस्सा सिकुड़ता है। न्यूमोथोरैक्स दर्दनाक या गैर-दर्दनाक हो सकता है, यह दोनों न्यूमोथोरैक्स के प्रकार के तौर पर भी देखे जाते हैं।

दर्दनाक न्यूमोथोरैक्स एक चोट के परिणामस्वरूप होता है, जैसे छाती को झटका। यदि आपको फेफड़े की बीमारी है, जैसे क्रॉनिक ऑब्सट्रक्टिव पल्मोनरी डिजीज (सीओपीडी) – Chronic obstructive pulmonary disease (COPD) तो नॉनट्रूमैटिक न्यूमोथोरैक्स (Nontraumatic Pneumothorax) हो सकता है, लेकिन यह बिना फेफड़ों की बीमारी वाले लोगों में बिना किसी स्पष्ट कारण के भी हो सकता है।

न्यूमोथोरैक्स का दीर्घकालिक प्रभाव भिन्न हो सकता है। यदि फुफ्फुस स्थान में केवल थोड़ी मात्रा में हवा फंस जाती है, तो आगे कोई जटिलता नहीं हो सकती है। यदि हवा का आयतन अधिक है या यह हृदय को प्रभावित करता है, तो यह जीवन के लिए खतरा हो सकता है।

यदि आघात से न्यूमोथोरैक्स का परिणाम होता है, तो लक्षण अक्सर चोट के समय या उसके तुरंत बाद दिखाई देते हैं। सहज न्यूमोथोरैक्स के लक्षण तब प्रकट हो सकते हैं जब कोई व्यक्ति आराम कर रहा हो। सीने में दर्द का अचानक हमला अक्सर पहला लक्षण होता है।

न्यूमोथोरैक्स के कितने प्रकार है? How many types of pneumothorax are there?

न्यूमोथोरैक्स को उनके कारणों या उनके प्रभाव के अनुसार वर्गीकृत करने के विभिन्न तरीके हैं। इसी आधार पर न्यूमोथोरैक्स के मुख्य तीन प्रकार है जो कि निम्नलिखित हैं :-

  1. दर्दनाक न्यूमोथोरैक्स (traumatic pneumothorax)

  2. गैर-दर्दनाक न्यूमोथोरैक्स (nontraumatic pneumothorax)

  1. प्राथमिक स्वतःस्फूर्त (primary spontaneous)

  2. माध्यमिक स्वतःस्फूर्त (secondary spontaneous)

  1. तनाव न्यूमोथोरैक्स (Tension pneumothorax)

अन्य उपप्रकार या तो दर्दनाक या गैर-दर्दनाक कारणों से हैं :-

  1. सरल, जब यह अन्य संरचनाओं की स्थिति को प्रभावित नहीं करता है।

  2. तनाव, जो हृदय की तरह अन्य संरचनाओं की स्थिति को प्रभावित करता है।

  3. खुली, जब छाती में खुले घाव से हवा अंदर और बाहर जाती है।

न्यूमोथोरैक्स होने पर क्या लक्षण दिखाई देते हैं? What are the symptoms of pneumothorax?

न्यूमोथोरैक्स होने पर निम्नलिखित संकेत और लक्षण दिखाई दे सकते हैं :-

  1. सीने में अचानक, तेज, चुभने वाला दर्द होना

  2. तेजी से सांस लेना या सांस की तकलीफ (डिस्पेनिया – dyspnea)

  3. शरीर का नीला पड़ना, जिसे सायनोसिस के रूप में जाना जाता है (यह शरीर में ऑक्सीजन की कमी को दर्शाता है)

  4. हृदय गति का सामान्य से ज्यादा तेज होना

  5. कम रक्त दबाव

  6. चिंता का भाव बने रहना 

  7. थकान महसूस होना

  8. एक तरफ फेफड़े का विस्तार

  9. यदि आप छाती पर टैप करते हैं तो एक खोखली आवाज आना

  10. गले में एक नस का आकार बढ़ जाना 

कुछ लोगों को निगने में भी समस्या होती है। उपरोक्त लक्षण हर रोगी में अलग दिखाई देते हैं जो कि कुछ लोगों में सामान्य तो कुछ लोगों गंभीर और कुछ में अति गंभीर दिखाई देते हैं। 

न्यूमोथोरैक्स के क्या कारण है? What causes pneumothorax?

न्यूमोथोरैक्स के प्रकार के आधार पर न्यूमोथोरैक्स होने के पीछे निम्न वर्णित कारण है :-

दर्दनाक न्यूमोथोरैक्स Traumatic pneumothorax :-

दर्दनाक न्यूमोथोरैक्स छाती या फेफड़ों की दीवार पर किसी प्रकार के आघात या चोट लगने के बाद होता है। यह मामूली या महत्वपूर्ण चोट हो सकती है। आघात छाती की संरचनाओं को नुकसान पहुंचा सकता है और फुफ्फुस स्थान में हवा के रिसाव का कारण बन सकता है। नीचे कुछ प्रकार की चोटें हैं जो दर्दनाक न्यूमोथोरैक्स का कारण बन सकती हैं :-

  1. एक मोटर वाहन दुर्घटना से छाती को आघात

  2. टूटी पसलियां

  3. एक संपर्क खेल के दौरान छाती पर एक झटका, जैसे फुटबॉल टैकल

  4. छाती पर छुरा या गोली का घाव

  5. सेंट्रल लाइन प्लेसमेंट, वेंटिलेटर उपयोग, फेफड़ों की बायोप्सी, या सीपीआर जैसी चिकित्सा प्रक्रिया के दौरान आकस्मिक क्षति

  6. हवा के दबाव में बदलाव के कारण गोताखोरी, उड़ान, या उच्च ऊंचाई पर होना

छाती के आघात के कारण न्यूमोथोरैक्स का त्वरित उपचार महत्वपूर्ण है क्योंकि इससे हृदय गति रुकना, श्वसन विफलता, सदमा और मृत्यु जैसी घातक जटिलताएं हो सकती हैं।

गैर-दर्दनाक न्यूमोथोरैक्स Nontraumatic pneumothorax :-

इस प्रकार के न्यूमोथोरैक्स को सहज कहा जाता है, क्योंकि यह आघात से उत्पन्न नहीं होता है। जब प्राथमिक सहज न्यूमोथोरैक्स होता है, तो ऐसा होने का कोई स्पष्ट कारण नहीं होता है। निम्नलिखित कुछ संभावनाए हैं जो कि इसके होने के पीछे का कारण बन सकता है :- 

  1. धूम्रपान करने वालों में

  2. गर्भावस्था के दौरान

  3. मार्फन सिंड्रोम वाले लोगों में

  4. न्यूमोथोरैक्स के पारिवारिक इतिहास वाले लोगों में

  5. लम्बे, पतले शरीर वाले किसी अन्य स्वस्थ व्यक्ति में

द्वितीयक स्वतःस्फूर्त न्यूमोथोरैक्स (Secondary spontaneous pneumothorax) निम्न कारणों से हो सकता है :-

क्रॉनिक ऑब्सट्रक्टिव पल्मोनरी डिजीज (COPD) – Chronic obstructive pulmonary disease (COPD) का एक रूप, जिसमें वातस्फीति और पुरानी ब्रोंकाइटिस शामिल हैं

  1. एक्यूट या क्रोनिक संक्रमण, जैसे तपेदिक या निमोनिया;

  2. फेफड़े का कैंसर

  3. पुटीय तंतुशोथ (cystic fibrosis)

  4. दमे की बीमारी 

  5. गंभीर एक्यूट श्वसन संकट सिंड्रोम (एआरडीएस) – severe acute respiratory distress syndrome (ARDS)

  6. आइडियोपैथिक पलमोनेरी फ़ाइब्रोसिस (Idiopathic pulmonary fibrosis)

  7. कोलेजन संवहनी रोग (Collagen vascular disease)

कोकीन या मारिजुआना जैसे नशीले उत्पाद के सेवन से इसके होने की संभवना बढ़ सकती है।

तनाव न्यूमोथोरैक्स Tension pneumothorax 

तनाव न्यूमोथोरैक्स न्यूमोथोरैक्स का वर्गीकरण नहीं है बल्कि एक शब्द है जो न्यूमोथोरैक्स की गंभीरता को दर्शाता है। अगर आप निम्न समस्याओं से जूझ रहे हैं तो आपको तनाव न्यूमोथोरैक्स हो सकता है :-

  1. छाती पर वार

  2. एक मर्मज्ञ चोट

  3. गोताखोरी, उड़ान, या पर्वतारोहण के दौरान दबाव में परिवर्तन

  4. एक सहज न्यूमोथोरैक्स एक तनाव प्रकार के लिए प्रगति कर रहा है

  5. कुछ चिकित्सा प्रक्रियाएं 

न्यूमोथोरैक्स के जोखिम कारक क्या है? What are the risk factors for pneumothorax?

सामान्य तौर पर, पुरुषों में महिलाओं की तुलना में न्यूमोथोरैक्स होने की संभावना अधिक होती है। हवा के फटने के कारण होने वाले न्यूमोथोरैक्स का प्रकार 20 से 40 वर्ष के बीच के लोगों में होने की सबसे अधिक संभावना है, खासकर यदि व्यक्ति बहुत लंबा और कम वजन का हो तो उसके साथ यह समस्या जल्दी हो सकती है। पुरुषों के साथ यह समस्या होने के वैसे तो कई कारण हो सकते है लेकिन धुम्रपान करना इसके सबसे अहम् कारणों में गिना जा सकता है। सामान्य तौर पर महिलाओं के मुकाबले पुरुष ज्यादा धुम्रपान करते हैं।

अंतर्निहित फेफड़ों की बीमारी (underlying lung disease) या यांत्रिक वेंटिलेशन (mechanical ventilation) न्यूमोथोरैक्स के लिए एक कारण या जोखिम कारक हो सकता है। इसके अन्य जोखिम कारकों में निम्नलिखित शामिल हैं :-

  1. धूम्रपान Smoking :- जोखिम समय की लंबाई के साथ बढ़ता है और सिगरेट की संख्या में धूम्रपान किया जाता है, यहां तक ​​​​कि वातस्फीति के बिना भी।

  2. आनुवंशिकी Genetics :- कुछ प्रकार के न्यूमोथोरैक्स परिवारों में चलते दिखाई देते हैं।

  3. न्यूमोथोरैक्स का पुराना इतिहास History of pneumothorax :- जिस किसी को भी पहले न्यूमोथोरैक्स हुआ है, उसे दूसरे का खतरा बढ़ जाता है।

न्यूमोथोरैक्स से क्या जटिलताएं हो सकती है? What complications can occur from pneumothorax?

न्यूमोथोरैक्स के आकार और गंभीरता के साथ-साथ कारण और उपचार के आधार पर संभावित जटिलताएं अलग-अलग होती हैं। यदि फेफड़े में उद्घाटन बंद नहीं होगा या न्यूमोथोरैक्स की पुनरावृत्ति होती है तो कभी-कभी हवा का रिसाव जारी रह सकता है। फेफड़ो से जुड़ी इस समस्या के होने से पेट में भी कई बार हवा जमा होने की आशंका बनी रहती है और इसके चलते पेट से जुड़ी समस्याएँ का सामना करना पड़ सकता है।

अधिकांश मामलों में फेफड़ों में इसका केवल एक हिस्सा सिकुड़ता है जिसकी वजह से दिल से जुड़ी जटिलताएं होने की आशंका बनी रहती है। क्योंकि न्यूमोथोरैक्स होने से ऑक्सीजन से जुड़ी समस्या बनी रहती है जिसके कारण दिल तक सही मात्रा में ऑक्सीजन की पूर्ति नहीं होती और इसके कारण धड़कन तेज हो जाती है, ऊतकों तक ऑक्सीजन की कम आपूर्ति के कारण त्वचा नीली पड़ना और थकान महसूस होने लगती है।इतना ही नहीं न्यूमोथोरैक्स की वजह से सांस लेने की परिक्रिया बाधित हो जाती है जिसके कारण दिल का दौरा पड़ने का खतरा बढ़ जाता है और सांस न आने के कारण कई मामलों में मौत भी हो सकती है। 

न्यूमोथोरैक्स का निदान कैसे किया जा सकता है? How can pneumothorax be diagnosed?

न्यूमोथोरैक्स का निदान मुख्य तौर पर एक्स-रे द्वारा किया जाता है। लेकिन कई मामलों में, न्यूमोथोरैक्स एक आपातकालीन स्थिति के रूप में सामने आता हैं जिसके कारण डॉक्टर जल्द से जल्द स्थिति का मूल्यांकन करते हैं और निदान परिक्रिया शुरू करते हैं।

न्यूमोथोरैक्स होने की आशंका होने पर डॉक्टर रोगी के फेफड़ों की जांच करेगा और फेफड़ों के आसपास की जगह में हवा के संकेतों की तलाश करेगा। इस दौरान डॉक्टर रोगी से निम्न जानकारी भी प्राप्त करेगा ताकि निदान बेहतर और सटीक हो सके :-

  1. लक्षण के बारे में 

  2. व्यक्तिगत और पारिवारिक चिकित्सा इतिहास

  3. हाल की गतिविधियां

  4. न्यूमोथोरैक्स के किसी भी पिछले मामले

  5. धुम्रपान करने की आदत

रोगी से प्राप्त हुई जानकारी के आधार पर डॉक्टर रोगी को जल्द से जल्द निम्नलिखित जांच करवाने की सलाह दे सकते हैं ताकि उपचार जल्द से जल्द शुरू किया जा सके :-

  1. एक्स-रे

  2. सीटी स्कैन

  3. थोरैसिक अल्ट्रासाउंड (Thoracic ultrasound)

न्यूमोथोरैक्स होने पर रोगी को जल्द से जल्द सारी जांच करवानी चाहिए ताकि उपचार जल्द शुरू किया जा सके और साथ ही रोगी को डॉक्टर को अपने स्वास्थ्य से जुड़ी सटीक जानकारी प्रदान करनी चाहिए।

न्यूमोथोरैक्स का उपचार कैसे किया जा सकता है? How can pneumothorax be treated?

न्यूमोथोरैक्स का इलाज करने का पहला लक्ष्य सीधा है कि रोगी के फेफड़े पर दबाव को कम किया जाए जिससे यह फिर से फैल सके और अपने सभी काम बिना किसी रूकावट के सुचारू रूप से कर सके। न्यूमोथोरैक्स होने के कारण के आधार पर, उपचार का दूसरा लक्ष्य पुनरावृत्ति को रोकना हो सकता है। इन लक्ष्यों को प्राप्त करने के तरीके फेफड़े के पतन की गंभीरता और कभी-कभी आपके समग्र स्वास्थ्य पर निर्भर करते हैं।

उपचार के विकल्पों में अवलोकन यानि निगरानी, सुई की आकांक्षा (needle aspiration), चेस्ट ट्यूब इंसर्शन (chest tube insertion), नॉनसर्जिकल रिपेयर (nonsurgical repair) या सर्जरी शामिल हो सकते हैं। वायु पुनर्अवशोषण (air reabsorption) और फेफड़ों के विस्तार को गति देने के लिए आप पूरक ऑक्सीजन थेरेपी (supplemental oxygen therapy) प्राप्त कर सकते हैं। चलिए न्यूमोथोरैक्स के उपचार के विषय में विस्तार से जानते हैं :-

निगरानी Observation :-

यदि आपके फेफड़े का केवल एक छोटा सा हिस्सा ढह गया है, तो आपके डॉक्टर छाती के एक्स-रे की एक श्रृंखला के साथ आपकी स्थिति की निगरानी कर सकते हैं जब तक कि अतिरिक्त हवा पूरी तरह से अवशोषित न हो जाए और आपका फेफड़ा फिर से फैल न जाए। इसमें कई सप्ताह लग सकते हैं। यह अपनाए गये सभी उपचार के तरीकों में किया जाता है ताकि इस बारे में जानकारी मिल सके कि रोगी को उपचार से कितना फायदा मिल रहा है।

सुई आकांक्षा या छाती ट्यूब सम्मिलन Needle aspiration or chest tube insertion :-

यदि आपके फेफड़े का एक बड़ा क्षेत्र ढह गया है, तो संभावना है कि अतिरिक्त हवा को निकालने के लिए सुई या छाती की नली का उपयोग किया जाएगा।

सुई आकांक्षा Needle aspiration :- एक छोटी लचीली ट्यूब (कैथेटर) के साथ एक खोखली सुई को पसलियों के बीच हवा से भरी जगह में डाला जाता है जो ढहे हुए फेफड़े पर दबाव डालती है। फिर डॉक्टर सुई निकालता है, कैथेटर से एक सीरिंज लगाता है और अतिरिक्त हवा को बाहर निकालता है। यह सुनिश्चित करने के लिए कि फेफड़े का फिर से विस्तार हो और न्यूमोथोरैक्स की पुनरावृत्ति न हो, कैथेटर को कुछ घंटों के लिए अंदर छोड़ा जा सकता है।

छाती ट्यूब सम्मिलन Chest tube insertion :- एक लचीली चेस्ट ट्यूब को हवा से भरे स्थान में डाला जाता है और इसे वन-वे वॉल्व डिवाइस से जोड़ा जा सकता है जो छाती की गुहा से हवा को तब तक लगातार हटाता है जब तक कि आपका फेफड़ा फिर से विस्तारित और ठीक नहीं हो जाता।

नॉनसर्जिकल उपचार Nonsurgical treatment :-

यदि चेस्ट ट्यूब आपके फेफड़े को फिर से नहीं फैलाती है, तो हवा के रिसाव को बंद करने के गैर-सर्जिकल विकल्पों में निम्न वर्णित शामिल हो सकते हैं :-

  1. फेफड़ों के आसपास के ऊतकों में जलन पैदा करने के लिए किसी पदार्थ का उपयोग करना ताकि वह आपस में चिपके रहें और किसी भी रिसाव को बंद कर दें। यह चेस्ट ट्यूब के माध्यम से किया जा सकता है, लेकिन यह सर्जरी के दौरान किया जा सकता है।

  2. अपनी बांह से खून निकालना और छाती की नली में डालना। रक्त फेफड़ों (ऑटोलॉगस ब्लड पैच – Autologous blood patch) पर एक रेशेदार पैच बनाता है, जिससे हवा का रिसाव बंद हो जाता है।

  3. एक पतली ट्यूब (ब्रोंकोस्कोप – Bronchoscope) को अपने गले से नीचे और अपने फेफड़ों में पास करके अपने फेफड़ों और वायु मार्ग को देखें और एक तरफा वाल्व लगाएं। वाल्व फेफड़ों को फिर से विस्तार करने और हवा के रिसाव को ठीक करने की अनुमति देता है। इस परिक्रिया को ब्रोंकोस्कोपी (Bronchoscopy) कहा जाता है।

शल्य चिकित्सा Surgery :-

कभी-कभी हवा के रिसाव को बंद करने के लिए सर्जरी की आवश्यकता हो सकती है। ज्यादातर मामलों में, एक छोटे फाइबर-ऑप्टिक कैमरे (small fiber-optic cameras) और संकीर्ण, लंबे समय तक संभाले जाने वाले सर्जिकल उपकरणों का उपयोग करके, छोटे चीरों के माध्यम से सर्जरी की जा सकती है। सर्जन लीक वाले क्षेत्र या टूटे हुए एयर ब्लिस्टर (air blister) की तलाश करेगा और इसे बंद कर देगा। शायद ही, सर्जन को कई या बड़े वायु रिसाव तक बेहतर पहुंच प्राप्त करने के लिए पसलियों के बीच एक बड़ा चीरा लगाना पड़ता है।

आगे तक चलने वाली देखभाल Ongoing care :-

अगर आप न्यूमोथोरैक्स से जूझ रहे हैं आपको कुछ ऐसी गतिविधियों से बचने की आवश्यकता हो सकती है जो आपके न्यूमोथोरैक्स के ठीक होने के बाद कुछ समय के लिए आपके फेफड़ों पर अतिरिक्त दबाव डालती हैं। उदाहरणों में शामिल हैं उड़ना, स्कूबा डाइविंग या पवन वाद्य बजाना (playing wind instrument) आदि। अपने गतिविधि प्रतिबंधों के प्रकार और समय की लंबाई के बारे में अपने डॉक्टर से बात करें। अपने उपचार की निगरानी के लिए अपने चिकित्सक के साथ अनुवर्ती अपॉइंटमेंट रखें।

Get our Newsletter

Filter out the noise and nurture your inbox with health and wellness advice that's inclusive and rooted in medical expertise.

Your privacy is important to us

MEDICAL AFFAIRS

CONTENT INTEGRITY

NEWSLETTERS

© 2022 Medtalks