खसरा रोग क्या है? कारण, लक्षण, इलाज, घरेलु उपाय - सब जाने | Measles Meaning in Hindi

बदलते मौसम में अक्सर बच्चों और वयस्क लोगों को कई संक्रमण होने की आशंका बनी रहती है जो कि सामान्य बुखार, सर्दी-जुखाम से लेकर गंभीर खसरा तक भी हो सकता है। बाकी सामान्य संक्रमण को छोड़ दें तो खसरा सबसे गंभीर है, क्योंकि इसकी वजह से गंभीर स्थिति का सामना करना पड़ता है। माना जाता है कि अब खसरा खत्म हो चूका है जिसकी वजह से लोगों के पास इससे जुड़ी ज्यादा जानकारी नहीं और इसकी वजह से यह और भी ज्यादा गंभीर साबित होता है। व्यस्क लोगो की तुलना में यह खसरा बच्चों को ज्यादा चपेट में लेता है, लेकिन यह किसी भी उम्र के व्यक्ति को अपनी चपेट में ले सकता है। तो चलिए इस लेख के जरिये खसरे के बारे में विस्तार से जानते हैं।

खसरा क्या है? What is measles?

खसरा रोग संक्रामक वायरस के कारण होने वाला एक संक्रमण रोग है। यह एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में बड़ी आसानी से फैल सकता है। खसरा होने पर इसमें पूरे शरीर पर लाल चकत्ते उभर आते हैं। खसरा होने पर यह लाल दाने शरूआत में सिर पर होते हैं और फिर धीरे-धीरे पूरे शरीर पर फैल जाते हैं। खसरा रोग को रूबेला (Rubeola) भी कहा जाता है।

खसरे के कितने चरण होते हैं? How many stages does measles have?

खसरे के शुरू होने से लेकर खत्म होने तक इसे चार चरणों में बांटा जा सकता है यह चरण दो से तीन सप्ताह तक होते हैं, लेकिन गंभीर स्थिति होने पर चार सप्ताह तक भी चल सकते हैं। खसरे के चारों चरणों को निचे वर्णित किया गया है :-

ऊष्मायन चरण या इन्क्यूबेशन (the incubation phase) – इन्क्यूबेशन को खसरे का पहला चरण माना जाता है। इस चरण में व्यक्ति खसरे यानि खसरा वायरस के संपर्क में आता है। यह आमतौर पर खसरे के लक्षण शुरू होने से 10 से 14 दिन पहले का होता है। 

प्रोड्रोमल (कैटरल) (the prodromal – catarrhal) – खसरे के दूसरे चरण को प्रोड्रोमल के नाम से जाना जाता हैं। प्रोड्रोमल में यानि दुसरे चरण में खसरे के कुछ शुरूआती लक्षण दिखाई दिखाई देने लग जाते हैं। दुसरे चरण में खसरे के बुखार, घबराहट, खांसी, आंख आना (कंजंक्टिवाइटिस - conjunctivitis) और सर्दी जुखाम जैसे लक्षण स्पष्ट रूप से दिखाई देने लगते हैं। 

रैश या दाने का चरण (the rash phase) – प्रोड्रोमल चरण के ​दो से चार दिन बाद मैकुलोपापुलर (चपटे और लाल) रैश या दाने दिखाई देने लग जाते हैं। यह खसरा का तीसरा चरण होता है और इस दौरान भी रोगी को दुसरे चरण के लक्षण दिखाई देते हैं, लेकिन यह पहले के मुकाबले बढ़े हुए दिखाई दे सकते हैं। इस दौरान आने वाला बुखार 104 से 105।8 F (40 to 41 C) तक हो सकता है। 

रिकवरी या पुनर्प्राप्ति चरण (the recovery phase) – इस चरण में आते-आते मरीज रिकवर होने लगता है। इस चरण में यानी रोगी आमतौर पर दाने आने के चार दिन बाद तक संक्रामक होते हैं। फिर धीरे-धीरे खसरा का असर कम होने लगता है। जब यह चरण आता है तो बुखार आदि जैसे लक्षण भी दिखाई देने बंद हो जाते हैं और साथ ही दानों से भी छुराकारा मिलना शुरू हो जाता है।

खसरा होने के कारण क्या है? What is the cause of measles?

खसरा पैरामाइक्सोवायरस परिवार के एक वायरस के संक्रमण के कारण होता है। यह वायरस छोटे परजीवी रोगाणु होते हैं। एक बार जब आप संक्रमित हो जाते हैं, तो वायरस शरीर में मौजूद कोशिकाओं पर आक्रमण करना शुरू कर देते हैं और अपने जीवन चक्र को पूरा करने के लिए सेलुलर घटकों का उपयोग करता है। खसरा का वायरस सबसे पहले श्वसन तंत्र को संक्रमित करता है। हालाँकि, यह अंततः रक्तप्रवाह के माध्यम से शरीर के अन्य भागों में फैल जाता है।

खसरा केवल मनुष्यों में होता है, इसके अलावा यह किसी भी दुसरे जीव में नहीं होता। विश्व भर में ऐसे 24 ज्ञात अनुवांशिक प्रकार के खसरे भी हैं जिससे यह मालूम होता यह एक अनुवांशिक रोग भी हो सकता है, हालाँकि वर्तमान समय में केवल 6 अनुवांशिक प्रकार के खसरे ही मौजूद हैं।

जब एक व्यक्ति खसरे से जूझ रहा होता है तो उसके आसपास रहने वाले व्यक्तियों को भी इसके होने की काफी संभवना होती है क्योंकि यह वायरस छिकने और खासने से हवा में फ़ैल जाते हैं जो कि दुसरे व्यक्ति को बड़ी आसानी से अपनी चपेट में ले सकता है। सरल शब्दों में कहा जाए तो यह एक फैलने वाली बीमारी है। 

खसरे के लक्षण क्या है? What are the symptoms of measles?

खसरे के संकेत और लक्षण वायरस के संपर्क में आने के लगभग 10 से 14 दिनों के बाद दिखाई देते हैं। खसरे के संकेत और लक्षणों में आम तौर पर निम्नलिखित शामिल हैं:

  1. सामान्य से तेज बुखार आना 

  2. सूखी खाँसी होना 

  3. लगातार नाक बहना 

  4. गले में खरास बने रहना 

  5. आँखों में सूजन आना (नेत्रश्लेष्मलाशोथ Conjunctivitis)

  6. गाल की अंदरूनी परत पर मुंह के अंदर पाए जाने वाले लाल रंग की पृष्ठभूमि पर नीले-सफेद केंद्रों वाले छोटे सफेद धब्बे – जिन्हें कोप्लिक स्पॉट भी कहा जाता है।

  7. बड़े, चपटे धब्बों से बना एक त्वचा लाल चकत्ते जो अक्सर एक दूसरे में प्रवाहित होते हैं। 

एक व्यापक त्वचा लाल चकत्ते खसरे का एक क्लासिक संकेत है। यह दाने 7 दिनों तक रह सकते हैं और आमतौर पर वायरस के संपर्क में आने के 14 दिनों के भीतर दिखाई देते हैं। यह आमतौर पर सिर पर विकसित होता है और धीरे-धीरे शरीर के अन्य हिस्सों में फैलता है।

खसरे के जोखिम कारक क्या है? What are the risk factors for measles? 

निचे बताए गये कुछ खास कारक खसरे के जोखिम को बढ़ा सकते हैं :-

  1. टीकाकरण न लिया हो – यदि आपको खसरे का टीका नहीं मिला है, तो आपको खसरे के होने की अधिक संभावना है।

  2. अंतरराष्ट्रीय स्तर पर यात्रा – यदि आप विकासशील देशों की यात्रा करते हैं, जहां खसरा अधिक आम है, तो आपको बीमारी होने का अधिक खतरा है।

  3. विटामिन ए की कमी होना – यदि आपके आहार में पर्याप्त विटामिन ए नहीं है, तो आपको अधिक गंभीर लक्षण और जटिलताएं होने की संभावना है। 

  4. पांच साल की उम्र से छोटे बच्चे – बड़ों के मुकाबले खसरा वायरस छोटे बच्चों को ज्यादा चपेट में लेता है।

  5. 20 साल तक के युवा – इस उम्र तक अक्सर बच्चों को इम्यून सिस्टम सही से विकसित नहीं हो पाता है जिसकी वजह से उन्हें खरा होने का खतरा बना रहता है।

  6. गर्भवतियां – शरीर में चल रहे लगातार हार्मोनल बदलाव की वजह से गर्भवस्था के दौरान महिलाओं को खसरा होने का खतरा रहता है।

  7. कमजोर रोग प्रतिरोधक क्षमता – यदि किसी बीमारी से रोग प्रतिरोधक क्षमता कमजोर होने लग जाए तो उसकी वजह से भी खसरा हो सकता है।

  8. खसरे से संक्रमित के संपर्क में आने से – अगर आप किसी ऐसे व्यक्ति की चपेट में आ जाते हैं जो कि फ़िलहाल खसरे से जूझ रहे हैं तो ऐसे में आपको भी खसरा होने की संभवना बढ़ जाती है।

क्या खसरा हवा में फैलता है? Does measles spread through the air?

हाँ, यह सत्य है कि खसरा हवा में फैलता है जिसकी वजह से यह एक से दुसरे व्यक्ति में बड़ी आसानी से फ़ैल सकता है। खसरा श्वसन की बूंदों और छोटे एरोसोल कणों से हवा के माध्यम से फैल सकता है। एक संक्रमित व्यक्ति खांसने या छींकने पर वायरस को हवा में छोड़ सकता है।

यह श्वसन कण वस्तुओं और सतहों पर भी बस सकते हैं। यदि आप किसी दूषित वस्तु, जैसे दरवाज़े के हैंडल के संपर्क में आते हैं, और फिर अपने चेहरे, नाक या मुँह को छूते हैं, तो आप संक्रमित हो सकते हैं। खसरे का वायरस आपके विचार से अधिक समय तक शरीर के बाहर रह सकता है। वास्तव में, यह हवा में या सतहों पर दो घंटे तक संक्रामक रह सकता है।

क्या खसरा संक्रामक है? Is measles contagious? 

आपने अभी ऊपर जाना कि खसरा कैसे एक व्यक्ति से दुसरे व्यक्ति में बड़ी आसानी से फ़ैल सकता है। आप इसी से समझ सकते हैं कि यह संक्रमण कितना है। खसरे से होने वाली जटिलताओं को देखते हुए भी इसका अंदाजा लगाया जा सकता है कि यह कितना संक्रामक है। (खसरे से होने वाली जटिलताओं के बारे में निचे बताया गया है)

एक अतिसंवेदनशील व्यक्ति जो खसरे के वायरस के संपर्क में आता है, उसके संक्रमित होने की 90 प्रतिशत संभावना होती है। इसके अतिरिक्त, एक संक्रमित व्यक्ति 9 से 18 संवेदनशील व्यक्तियों के बीच कहीं भी वायरस फैला सकता है।

एक व्यक्ति जिसे खसरा है, वह वायरस को दूसरों तक फैला सकता है, इससे पहले कि उन्हें पता भी चले कि उन्हें खसरा हो चूका है। एक संक्रमित व्यक्ति चार दिनों तक संक्रामक होता है, जब तक कि इसकी खास पहचान यानि दाने दिखाई नहीं देते। दाने दिखाई देने के बाद, रोगी अभी भी एक और चार दिनों के लिए संक्रामक हैं।

रूबेला, खसरे से कैसे अलग है? How is rubella different from measles?

खसरा और रूबेला दो अलग-अलग वायरल रोग हैं। आम तौर पर, रूबेला खसरे की तुलना में हल्के संक्रमण का कारण बनता है, लेकिन इसके परिणामस्वरूप गंभीर जन्म दोष होते हैं। यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि रूबेला खसरा के समान नहीं है। हालांकि दोनों रोगों में लाल चकत्ते सहित समान विशेषताएं हैं, लेकिन यह दोनों अलग हैं। रूबेला खसरा जितना संक्रामक नहीं है। हालांकि, यह गंभीर जटिलताएं पैदा कर सकता है यदि गर्भवती होने पर एक महिला संक्रमण विकसित करती है।

निम्न सरणी से आप इन दोनों के अंतर को अच्छे से समझ सकते हैं :-

खसरा

रूबेला

यह अत्यधिक संक्रामक है

यह खसरे की तरह संक्रामक नहीं है

लक्षण दस दिनों तक रह सकते हैं

लक्षण पांच दिनों तक रह सकते हैं

प्रोड्रोमल चरण की उपस्थिति

प्रोड्रोमल चरण की अनुपस्थिति

ऊष्मायन की अवधि 1 से 2 सप्ताह है

ऊष्मायन की अवधि 2 से 3 सप्ताह है

लिम्फ नोड्स हमेशा सूजे हुए नहीं होते हैं

सूजी हुई लसीका ग्रंथियां

आमतौर पर >40°C का तेज बुखार

आमतौर पर कम बुखार <38.3°C

खसरे में चकत्ते लाल धब्बों के साथ धब्बेदार होते हैं

रूबेला में चकत्ते ऐसे धब्बे हैं जो तेजी से फीके पड़ जाते हैं


शिशुओं के लिए खसरा कितना खतरनाक है? How dangerous is measles for babies?

आपने ऊपर जाना कि बड़ों की तुलना में बच्चों को और खासकर शिशुओं को खसरा होने का जोखिम होता है, इसका कारण है टीकाकरण। खसरे का टीका बच्चों को तब तक नहीं दिया जाता जब तक वह कम से कम 12 महीने के नहीं हो जाते। टीके की अपनी पहली खुराक प्राप्त करने से पहले वह समय होता है जब वह खसरे के वायरस से संक्रमित होने के लिए सबसे अधिक संवेदनशील होते हैं।

शिशुओं को निष्क्रिय प्रतिरक्षा के माध्यम से खसरे से कुछ सुरक्षा प्राप्त करवाई जाती है, जो मां से बच्चे को प्लेसेंटा के माध्यम से और स्तनपान के दौरान प्रदान की जाती है। हालांकि, शोध से पता चला है कि जन्म के ढाई  महीने बाद या स्तनपान बंद करने के समय में यह प्रतिरक्षा दूर हो सकती है।

5 साल से कम उम्र के बच्चों में खसरे के कारण जटिलताएं होने की संभावना अधिक होती है। इनमें निमोनिया (Pneumonia), एन्सेफलाइटिस (Encephalitis) और कान में संक्रमण (Ear infections) जैसी चीजें शामिल हो सकती हैं जिसके परिणामस्वरूप सुनवाई हानि (Hearing loss) यानि बेहरापन की भी समस्या हो सकती है।

वयस्कों के लिए खसरा कितना खतरनाक है? How dangerous is measles for adults? 

वैसे तो खसरा मूल रूप से बच्चों से जुड़ा एक संक्रामक रोग है जो कि अक्सर बचपन में होता है, लेकिन इसका यह मतलब बिलकुल नहीं है कि यह बड़ों को अपना शिकार नहीं बनता। शिशुओं और बच्चों के साथ-साथ वयस्कों को भी खसरा होने की संभवना बनी रहती है। खसरा विशेष रूप से उन वयस्कों को अपनी चपेट में लेता है जिन्होंने बचपन में खसरे का टीकाकरण नहीं करवाया होता है। 

यह आमतौर पर स्वीकार किया जाता है कि 1957 के दौरान या उससे पहले पैदा हुए वयस्क स्वाभाविक रूप से खसरे से प्रतिरक्षित होते हैं। ऐसा इसलिए है क्योंकि वैक्सीन को पहली बार 1963 में लाइसेंस दिया गया था। इससे पहले, अधिकांश लोग अपने किशोरों के वर्षों में स्वाभाविक रूप से संक्रमण के संपर्क में आ गए थे और परिणामस्वरूप प्रतिरक्षा बन गए थे।

संयुक्त राष्ट्र के रोग नियंत्रण और रोकथाम केंद्र (सीडीसी) (Centers for Disease Control and Prevention) के अनुसार, गंभीर जटिलताएं न केवल छोटे बच्चों में, बल्कि 20 वर्ष से अधिक उम्र के वयस्कों में भी अधिक आम हैं। इन जटिलताओं में निमोनिया, एन्सेफलाइटिस और अंधापन जैसी चीजें शामिल हो सकती हैं।

यदि आप एक वयस्क हैं जिसे टीका नहीं लगाया गया है या टीकाकरण की स्थिति के बारे में सुनिश्चित नहीं है, तो आपको टीकाकरण प्राप्त करने के लिए अपने डॉक्टर से इस बारे में बात करनी चाहिए। टीके की कम से कम एक खुराक की सिफारिश बिना टीकाकरण वाले वयस्कों के लिए की जाती है।

क्या गर्भवती के लिए भी खसरा खतरनाक है? Is measles dangerous for pregnant women?

हाँ, महिलाएं गर्भवती है उन्हें भी खसरे का बराबर खतरा बना रहता है, लेकिन देखा जाए तो उन्हें बाकी लोगों के मुकाबले खसरे से ज्यादा नुकसान हो सकता है। ऐसे में जिन गर्भवती महिलाओं में खसरे की प्रतिरोधक क्षमता नहीं है, उन्हें गर्भावस्था के दौरान जोखिम से बचने के लिए सावधानी बरतनी चाहिए। गर्भावस्था के दौरान खसरा होने से मां और भ्रूण दोनों पर महत्वपूर्ण नकारात्मक स्वास्थ्य प्रभाव पड़ सकते हैं।

गर्भवती महिलाओं को निमोनिया जैसे खसरे से होने वाली जटिलताओं का खतरा बढ़ जाता है। इसके अतिरिक्त, गर्भवती होने पर खसरा होने से निम्नलिखित गर्भावस्था जटिलताएँ हो सकती हैं :-

  1. गर्भपात

  2. अपरिपक्व प्रसूति (preterm labor)

  3. जन्म के समय कम वजन

  4. स्टीलबर्थ (stillbirth)

अगर मां को उसकी डिलीवरी की तारीख के करीब खसरा हो तो मां से बच्चे में भी खसरा फैल सकता है। इसे जन्मजात खसरा कहते हैं। जन्मजात खसरे वाले शिशुओं में जन्म के बाद दाने होते हैं या कुछ ही समय बाद विकसित होते हैं। ऐसे शिशु जटिलताओं के बढ़ते जोखिम में होते हैं, जो कि शिशु के जीवन के लिए खतरा हो सकता है।

यदि आप गर्भवती हैं, आपके पास खसरे के प्रति प्रतिरोधक क्षमता नहीं है, और आपको लगता है कि आप संक्रमित हो गए हैं, तो आपको तुरंत अपने डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए। इम्युनोग्लोबुलिन (immunoglobulin) का एक इंजेक्शन प्राप्त करने से संक्रमण को रोकने में मदद मिल सकती है।

खसरे की वजह से रोगी को क्या जटिलताएं हो सकती है? What complications can occur due to measles? 

अगर कोई व्यक्ति खसरा वायरस की चपेट में आ जाता है तो उसे निम्न वर्णित जटिलताओं का सामना करना पड़ सकता है :-

  1. कान का संक्रमण (Ear infections) :- खसरे की सबसे आम जटिलताओं में से एक जीवाणु कान का संक्रमण है।

  2. ब्रोंकाइटिस, लैरींगाइटिस या क्रुप (Bronchitis, laryngitis or croup) :- खसरा आपके वॉयस बॉक्स (स्वरयंत्र - larynx) की सूजन या आंतरिक दीवारों की सूजन का कारण बन सकता है जो आपके फेफड़ों (ब्रोन्कियल ट्यूब - bronchial tubes) के मुख्य वायु मार्ग की रेखा बनाते हैं।

  3. न्यूमोनिया (Pneumonia) :- निमोनिया खसरे की एक सामान्य जटिलता है। समझौता प्रतिरक्षा प्रणाली वाले लोग निमोनिया की एक विशेष रूप से खतरनाक किस्म विकसित कर सकते हैं जो कभी-कभी घातक होती है।

  4. एन्सेफलाइटिस (Encephalitis) :- खसरा से पीड़ित लगभग 1,000 में से 1 व्यक्ति को एन्सेफलाइटिस नामक एक जटिलता विकसित होती है। एन्सेफलाइटिस खसरा के ठीक बाद हो सकता है, या यह महीनों बाद तक नहीं हो सकता है।

  5. गर्भावस्था की समस्याएं (Pregnancy problems) :- यदि आप गर्भवती हैं, तो आपको खसरे से बचने के लिए विशेष सावधानी बरतने की आवश्यकता है क्योंकि यह रोग समय से पहले प्रसव, जन्म के समय कम वजन और मातृ मृत्यु का कारण बन सकता है। (ऊपर इस संबंध में विस्तार से बात की गई है)

खसरे की जांच कैसे की जाती है? How is measles tested?

यदि आपको संदेह है कि आपको खसरा है या किसी व्यक्ति को खसरा हो गया है, तो तुरंत अपने चिकित्सक से संपर्क करें। डॉक्टर आपका मूल्यांकन कर सकते हैं और आपको यह निर्धारित करने के लिए निर्देशित कर सकते हैं कि आपको संक्रमण है या नहीं।

डॉक्टर आपकी त्वचा पर लाल चकत्ते की जांच करके और उन लक्षणों की जांच करके खसरे की पुष्टि कर सकते हैं जो इस बीमारी के लक्षण हैं, जैसे कि मुंह में सफेद धब्बे, बुखार, खांसी और गले में खराश।

यदि उन्हें संदेह है कि आपके इतिहास और अवलोकन के आधार पर आपको खसरा हो सकता है, तो आपका डॉक्टर खसरा वायरस की जांच के लिए रक्त परीक्षण का आदेश देगा। इस दौरान डॉक्टर रोगी को ब्लड टेस्ट करवाने के लिए कह सकते हैं, ताकि खसरे की गंभीरता के बारे में स्पष्ट पता लगाया जा सके।

खसरे का उपचार कैसे किया जाता है? How is measles treated?

फिलाहल तक खसरे जैसे गंभीर संक्रमण के लिए कोई विशिष्ट उपचार नहीं है। बच्चे के जन्म के बाद खसरे के टीकाकरण की मदद से बच्चे के शरीर में प्रतिरोधक क्षमता बनाई जाती है ताकि उसे भविष्य में खसरे जैसी गंभीर समस्या का सामना न करना पड़े। हालाँकि, जब कोई व्यक्ति इसकी चपेट में आ जाता है तो उस दौरान कुछ निम्न वर्णित उपाय अपनाए जाते हैं :-

एक्सपोजर के बाद टीकाकरण Post-exposure vaccination :- शिशुओं के साथ-साथ गैर-प्रतिरक्षित लोगों को बीमारी से सुरक्षा प्रदान करने के लिए खसरा वायरस के संपर्क में आने के 72 घंटों के भीतर खसरा का टीकाकरण दिया जा सकता है। यदि खसरा अभी भी विकसित होता है, तो बीमारी में आमतौर पर हल्के लक्षण होते हैं और कम समय तक रहता है।

इम्यून सीरम ग्लोब्युलिन Immune serum globulin :- गर्भवती महिलाओं, शिशुओं और कमजोर प्रतिरक्षा प्रणाली वाले लोग जो वायरस के संपर्क में आते हैं, उन्हें प्रोटीन (एंटीबॉडी) का इंजेक्शन मिल सकता है जिसे इम्यून सीरम ग्लोब्युलिन कहा जाता है। जब वायरस के संपर्क में आने के छह दिनों के भीतर दिया जाता है, तो यह एंटीबॉडी खसरे को रोक सकते हैं या लक्षणों को कम गंभीर बना सकते हैं।

खसरे के लिए दवाएं Medicines for measles

बुखार कम करने वाली दवाएं Fever reducers :-  आप या आपका बच्चा खसरे के साथ होने वाले बुखार से राहत पाने के लिए एसिटामिनोफेन (टाइलेनॉल, अन्य), इबुप्रोफेन (एडविल, चिल्ड्रन मोट्रिन, अन्य) या नेप्रोक्सन सोडियम (एलेव) जैसी ओवर-द-काउंटर दवाएं भी ले सकते हैं।

खसरे के लक्षण वाले बच्चों या किशोरों को एस्पिरिन बिलकुल नहीं देनी चाहिए (Do not give aspirin to children or adolescents who have symptoms of measles)। हालांकि एस्पिरिन को 3 वर्ष से अधिक उम्र के बच्चों में उपयोग के लिए अनुमोदित किया गया है, चिकनपॉक्स या फ्लू जैसे लक्षणों से उबरने वाले बच्चों और किशोरों को कभी भी एस्पिरिन नहीं लेना चाहिए। ऐसा इसलिए है क्योंकि एस्पिरिन को ऐसे बच्चों में रेये सिंड्रोम (Reye syndrome) से जोड़ा गया है, जो एक दुर्लभ लेकिन संभावित जानलेवा स्थिति है।

एंटीबायोटिक्स Antibiotics :- यदि आपको या आपके बच्चे को खसरा होने पर निमोनिया या कान का संक्रमण जैसे जीवाणु संक्रमण विकसित होता है, तो आपका डॉक्टर एंटीबायोटिक लिख सकता है।

विटामिन ए Vitamin A :- विटामिन ए के निम्न स्तर वाले बच्चों में खसरे के अधिक गंभीर मामले होने की संभावना अधिक होती है। विटामिन ए देने से खसरे की गंभीरता कम हो सकती है। यह आम तौर पर एक वर्ष से अधिक उम्र के बच्चों के लिए 200,000 अंतरराष्ट्रीय इकाइयों (आईयू) की एक बड़ी खुराक के रूप में दिया जाता है 

खसरे में यह घरेलु उपाय अपनाएं Follow these home remedies in measles

भारत के कई हिस्सों में आज भी खसरे को घर पर ही ठीक कर लिया जाता है, लेकिन इसके लिए डॉक्टर से संपर्क करना जरूरी है। अगर आप या आपका बच्चा खसरे से जूझ रहे हैं तो आप नीचे बताए गये कुछ खास घरेलु उपायों को अपना सकते हैं जिससे इससे होने वाली समस्याओं से बचा जा सकता है। 

नीम के पत्तों का इस्तेमाल करें :- 

खसरा वायरस होने पर शरीर में खुजली होना बहुत ही सामान्य है। खुजली होने की वजह से रोगी को न सिर्फ त्वचा से जुडे नुकसान होते हैं बल्कि वह चिड़चिड़े भी हो जाते हैं। इस खुजली को कम करने के लिए नीम के पत्ते लाभकारी साबित हो सकते हैं। रोगी की खुजली को कम करने के लिए गुनगुने पानी में नीम के पत्ते डालकर उससे नहा सकते हैं। अगर नहाना संभव नहीं है तो रोगी के आसपास साफ़ नीम के पत्ते भी रखे जा सकते हैं, इससे त्वचा पर हुए दानों में खुजली नहीं होगी। इतना ही नहीं, खसरा के ठीक होने के बाद भी रोगी को कुछ दिनों तक तीन के पानी से ही नहाना चाहिए, साथ ही घर में सफाई के लिए नीम के पानी का इस्तेमाल किया जाना चाहिए ताकि संक्रमण और ज्यादा न फैले। दरअसल, नीम में मौजूद एंटीबैक्टीरियल व एंटीफंगल गतिविधि खसरा वायरस के असर को कम करके इससे राहत दिला सकते हैं। साथ ही नीम में एंटी इंफेक्शन प्रभाव भी होता है, जिसे खसरा के लिए अच्छा माना जाता है।

नारियल पानी पियें :-

खसरा रोग से राहत पाने के लिए नारियल पानी का उपयोग किया जा सकता है। यह संक्रमण होने पर रोगी अक्सर चिडचिडा हो जाता है और खसरा के कारण हुए चकत्ते की वजह से होने वाली जलन की वजह से उसे काफी समस्या होती है। ऐसे में अगर रोगी को नारियल पानी दिया जाए तो उसे अंदर से शांति मिलती है क्योंकि यह ठंडा होता है। इतना ही नहीं एक शोध के अनुसार अगर नारियल पानी को खसरे के कारण हुए चातकों पर लगाया जाए तो उनमें ठंडक भी मिलती है और उसे आगे बढने से रोकता है।

गुनगुना पानी पियें :- 

जो व्यक्ति खसरे से जूझ रहा है उन्हें ठंडा पानी बिलकुल भी नहीं पीना चाहिए, क्योंकि इस दौरान उन्हें सर्दी-जुकाम और बुखार की समस्या हो सकती है। ऐसे में गुनगुने पानी का सेवन करने से खसरा के दौरान होने वाली सर्दी-जुकाम और नाक बहने से राहत मिल सकती है।

फोन, टीवी, कम्पूटर आदि का इस्तेमाल न करें :-

खसरा होने पर आँखों से जुड़ी समस्याएँ होने की आशंका काफी ज्यादा होती है, ऐसे में रोगी को फोन, टीवी, कम्पूटर आदि का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए। इतना ही नहीं, रोगी को किताब आदि भी नहीं पढनी चाहिए और न ही तेज संगीत सुनना चाहिए।

जितना हो सके आराम करें :-

खसरा रोगी को जितना हो सके उतना आराम करना चाहिए और इस बात का ध्यान रखना चाहिए कि उन्हें दुसरे लोगों से अलग रहना चाहिए ताकि संक्रमण दुसरे व्यक्ति को न हो।

संतुलित आहार लें :-

खसरा होने पर रोगी को अपने खाने पीने का खास ख्याल रखना चाहिए, क्योंकि किसी भी रोग से लड़ने में आहार दवाओं से ज्यादा अहम् भूमिका अदा करता है। आहार के लिए आप अपने डॉक्टर से संपर्क कर सकते हैं।

ध्यान दें, कोई भी बीमारी या संक्रमण होने पर डॉक्टर या किसी रोग विशेषज्ञ की सलाह के बिना कोई दवा, उपाय या आहार में परिवर्तन नहीं करना चाहिए इससे गंभीर स्थितियों का सामना करना पड़ सकता है।


Get our Newsletter

Filter out the noise and nurture your inbox with health and wellness advice that's inclusive and rooted in medical expertise.

Your privacy is important to us

MEDICAL AFFAIRS

CONTENT INTEGRITY

NEWSLETTERS

© 2022 Medtalks