10.10.236.6

कैसे बनाएं उत्तम क्वालिटी का सैनिटाइज़र?

कैसे बनाएं उत्तम क्वालिटी का सैनिटाइज़र?

कोरोना वायरस ने पूरी दुनिया को अपनी चपेट में ले लिया है । आज अमेरीका हो या भारत, हर कोई बस इसी प्रयास में है कि कोरोना वायरस को कैसे खत्म करें । जबसे पूरे देश में लॉकडाउन का ऐलान हुआ है, तब से लोगों को बुनियादी चीजों के लिए तरसना पड़ रहा है, यहां तक की साफ-सफाई का सामान भी उपलब्ध नहीं है।

इसी का परिणाम है कि बाजारों में न तो मास्क हैं, न हैंडवॉश और न ही सैनिटाइज़र । यहां तक की ई-कॉमर्स वेबसाइट पर भी यह उपलब्ध नहीं है । अब प्रश्न यह है कि सैनिटाइज़र ऐसी घड़ी में कीटाणु-मुक्त रहने के लिए आवश्यक है, तो करें क्या ?

इंडियन मेडिकल ऐसोसिएशन के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष डॉ. के.के.अग्रवाल बता रहे हैं कि कैसे घर पर ही उत्तम क्वालिटी का सैनिटाइज़र बनाया जा सकता है –

कैसे बनाएं सैनिटाइज़र ?

सबसे पहले आपको बाज़ार से आइसोप्रोपाइल अल्कॉहल लेना होगा । आप इसे ज़रुरत के हिसाब से लें, यानि अगर अधिक मात्रा में चाहिए तो इसकी 5 लीटर की बोतल भी उपलब्ध है । 

आपने 60 मिली लीटर आइसोप्रोपाइल अल्कॉहल एक बोतल में लेना है ।

इसके बाद आपने एलोवेरा के अंदर का जैल लेना है, उसे पीसना है ।

पीसे हुए एलोवेरा को छांनकर 40 मिली. लीटर की मात्रा मे आपने इसे बोतल में डाल देना है ।

अब इसे अच्छी तरह मिला लीजिए, तो ये आपका एलोवेरा सैनिटाइज़र बन जाएगा । 

मात्रा अवश्य याद रखिए, अल्कॉहल 60 एमएल और एलोवेरा 40 एमएल ।

दूसरे तरीके भी हैं कारगर 

सैनिटाइज़र बनाने के कईं दूसरे बेहतर तरीके भी हैं, जैसे –

आपको लेना है एक पोलिथिलिन ग्लाइकॉल, जिसका उपयोग पेट साफ करने के लिए होता है । 

जिस तरह यह पेट को साफ कर देता है उसी तरह अगर इसे पानी में डाल दें तो यह पूरी तरह पानी में फैल जाएगा । 

अब आपको करना यह है कि 60 एमएल लेना है अल्कॉल और 40 एमएल लेना है पोलिथिलिन ग्लाइकॉल, इनका मिश्रण करो और बन जाएगा उत्तम क्वालिटी का सैनिटाइज़र ।

बस यह याद रखिए कि सैनिटाइज़र एक हफ्ते के लिए बनाना है और जब खत्म हो जाए तो दोबारा बना लीजिए । 

सैनिटाइज़र बनाने के और भी हैं तरीके–

  1. 1 लीटर पानी में 7 ग्राम ब्लिचिंग पाउडर मिला दीजिए । 
  2. इससे पॉइन्ट 1 ब्लिचिंग सॉल्यूशन मिल गया ।
  3. इस ब्लिचिंग सॉल्यूशन से आप सतहों को साफ कर सकते हैं ।
  4. आप कपड़ों को उसमें भिगो के साफ कर सकते हैं
  5. पोछा लगाने में इसका इस्तेमाल हो सकता है ।

दरवाजों, कुंडी या जो भी बड़ी-बड़ी और छुने वाली सतह हैं, उन्हें साफ कर सकते हो ।

लेकिन, याद रखिए दो बातें बहुत ज़रुरी हैं – पहली – डीकंटामिनेशन और दूसरी – सफाई ।

क्या होता है डिकंटामिनेशन ?

सबसे पहले अगर आप कहीं गंदगी देख रहे हैं तो साबुन के पानी से उसे साफ करें और उसके बाद उसे सैनिटाइज़ करें । डिकंटामिनेट का मतलब है कि अगर सफाई करने के बाद भी अगर वायरस बचा हुआ है, तो आप उसमें इसका प्रयोग कर सकते हो । 

यदि आप कहीं बैठ रहे हैं या आपको शंका हो रही है कि कहीं वायरस या कीटाणु हैं तो उसे आप डिकंटामिनेट करें फिर उस जगह का इस्तेमाल करें ।