10.10.236.6

क्या लॉकडाउन कोरोनोवायरस को रोक सकता है?

क्या लॉकडाउन कोरोनोवायरस को रोक सकता है?

कौन-सी सावधानी बनाएगी 21 दिन के लॉकडाउन को कामयाब ?

भारत में कोरोना के संक्रमण को देखते हुए भारत सरकार ने पूरे देश में 21 दिन का लॉकडाउन कर दिया है । प्रधानमंत्री ने देशवासियों से आवाह्न किया है कि 21 दिनों तक जितना हो सके घर पर ही रहें, सिर्फ आवश्यक चीजों के लिए बाहर जाएं । 

भारत सरकार ने स्वास्थ्य सेवा के अलावा बाकि तमाम सेवाएं रद्द कर दी हैं और कहा है कि इन 21 दिनों के लिए सिर्फ स्वास्थ्य पर ध्यान क्रेंद्रित करना है । लेकिन क्या 21 दिनों में कोरोना वायरस पर काबू पाया जा सकता है ?

जवाब है – हां, यह संभव हैं लेकिन ये तभी संभव है जब सरकार या जिम्मेदार संस्थाएं इन 21 दिनों में वह कदम उठाए जिन्हें डॉ. के.के. अग्रवाल बता रहे हैं :

सभी लक्षण वाले मामले पकड़ें

इन 21 दनों के अंदर हमें पहले हफ्ते में ही सारे लक्षण वाले और संदिग्ध वाले मामले पकड़ने हैं ताकि 21 दिन के अंदर उनका 14 दिनों वाला क्वारंटिन पीरियड खत्म हो जाए और आगे यह संक्रमण न फैला सके ।

क्वारंटिन का पीरियड बढ़ाना होगा

अगर किसी वजह से सभी संक्रमित मरीज़ पकड़ में नहीं आते तो क्वारंटिन का पीरियड बढ़ाना होगा । अगर हम इन्हें पहले 7 दिनों में नहीं पकड़ पाए और लोग संक्रमित रह गए तो क्वारंटिन किए हुए लोगों का पीरियड फिर 14 दिन के लिए बढ़ाना होगा ।

डायमंड प्रिंसिस शिप में हुई गलती न दोहराएं

डायमंड प्रिंसिस शिप में संक्रमित लोगों को सिर्फ हार्ड क्वारंटिन करके छोड़ दिया गया । उनके शुरु में टेस्ट नहीं किए, शुरु में उन्हें वायरस फ्री नहीं किया और उसके बाद 23 प्रतिशत लोगों के यह बीमारी फैल गयी थी । 

टेस्ट, टेस्ट और सिर्फ टेस्ट

एक बाद याद रखिए, कोरोना से बचने के लिए अगर कोई सबसे ज़रुरी है, तो वो है – टेस्ट । जिसमें भी लक्षण दिखते हैं, जो उसके बहुत नज़दीकी संपर्क में आया है यहां तक की इन संपर्कों के संपर्क में भी अगर कोई आया है तो उन्हें भी टेस्ट की आवश्यकता है । साथ ही उन्हें आइसोलेट भी करना होगा और उचित उपचार भी देना होगा । 

याद रखिए बिना टेस्ट किए क्वारंटिन और लॉकडाउन करना बेकार है, बिल्कुल पर्याप्त नहीं है