पित्त की पथरी एक गंभीर समस्या | Gallstones in Hindi

पित्त की पथरी एक गंभीर समस्या 


पित्त की पथरी क्या हैं? What are gallstones? 

पित्ताशय या पित्त की थैली (गॉलब्लैडर – Gallbladder) में मौजूद पाचक द्रव (पित्त – bile juice) जब ठोस होकर जमने लगता है तो उस स्थिति को पित्त की पथरी या गॉल ब्लैडर स्टोन कहा जाता है। भारत में पित्त की पथरी की समस्या बहुत ही आम है, यह व्यस्क लोगों को अक्सर परेशान करती है। 

पित्त पथरी का आकार रेत के दाने जितना छोटा से लेकर गोल्फ की गेंद जितना बड़ा होता है। कुछ लोगों में सिर्फ एक पित्त पथरी विकसित होती है, जबकि अन्य एक ही समय में कई पित्त पथरी विकसित करते हैं। तथ्य यह है कि पथरी का आकार जितना छोटा है रोगी को उतनी ज्यादा समस्या या समस्याएँ होने की आशंका होती है, जबकि बड़े आकार की पथरी रोगी को कम समस्याएँ देती है और उसके होने का अहसास भी कम होता है। 

पित्ताशय क्या है? What is Gallbladder?

पित्ताशय या गॉलब्लैडर मनुष्य शरीर के सबसे खास अंगों में से एक हैं जो कि पाचन क्रिया में सबसे अहम् भूमिका अदा करता है।  आपके पेट के दाहिनी ओर, आपके यकृत यानि लीवर के ठीक नीचे एक छोटा, नाशपाती के आकार का अंग है। पित्ताशय की थैली में पित्त (bile juice) नामक एक पाचक द्रव होता है जो आपकी छोटी आंत में छोड़ा जाता है जिससे पाचन क्रिया सुचारू होती है। 

पित्त की पथरी कितने प्रकार की होती है? How many types of gallstones are there? 

पित्त की थैली में बनने वाली पथरी दो प्रकार की होती है जो कि निम्न वर्णित है :- 

कोलेस्ट्रॉल पित्त पथरी Cholesterol gallstones :- यह पित्त की पथरी का सबसे आम प्रकार, जिसे कोलेस्ट्रॉल पित्त की पथरी कहा जाता है, अक्सर पीले रंग का दिखाई देता है। पित्त की थैली में बनी यह पथरी मुख्य रूप से अघुलनशील कोलेस्ट्रॉल से बनी होती है, लेकिन इसमें अन्य घटक भी हो सकते हैं।

वर्णक पित्त पथरी या पिगमेंट स्टोन्स Pigment gallstones :- पित्त की थैली में बनी यह पथरी गहरे भूरे या काले रंग की होती है। यह पदार्थ तब बनता है जब लीवर में लाल रक्त कोशिकाएं टूट जाती हैं। बहुत अधिक बिलीरुबिन (bilirubin) वास्तव में रक्तप्रवाह में रिसाव कर सकता है और त्वचा और आंखों को पीला कर सकता है, जिसका मतलब है कि व्यक्ति को पथरी के साथ-साथ पीलिया हो गया है। 

पित्त की पथरी कहाँ विकसित होती है? Where do gallstones develop?

पित्त पथरी सबसे अधिक पित्ताशय की थैली में पाई जाती है, जैसे कोलेस्ट्रॉल की पथरी। पित्ताशय की पथरी पित्ताशय की थैली से सामान्य पित्त नली (bile duct) तक भी जा सकती है, जो लीवर में सबसे बड़ी नलिकाएं होती है। पित्त पथरी की तुलना में सामान्य पित्त नली की पथरी बहुत कम होती है। पथरी जो सामान्य पित्त नली में अपना रास्ता खोज लेती है, पित्ताशय की थैली में रहने वाले पित्त पथरी की तुलना में अधिक गंभीर चिकित्सा स्थिति पैदा कर सकती है। 

सामान्य पित्त नली की पथरी सामान्य पित्त नली को अवरुद्ध कर सकती है, जिसके परिणामस्वरूप एक गंभीर संक्रमण होता है जिसे पित्तवाहिनीशोथ यानि हैजांगाइटिस (cholangitis) कहा जाता है। ये पथरी अग्नाशयशोथ यानि पित्ताशय की सूजन (pancreatitis) का कारण भी बन सकती है। सामान्य पित्त नली में पथरी को स्कोप का उपयोग करके बिना सर्जरी के हटाया जा सकता है। पित्ताशय की थैली को हटाने के लिए सर्जरी की आवश्यकता होती है, जो आमतौर पर लैप्रोस्कोपिक (laparoscopically) रूप से की जाती है (एक न्यूनतम इनवेसिव सर्जिकल प्रक्रिया)। 

पित्त की पथरी के क्या लक्षण है? What are the symptoms of gallstones? 

पित्त की थैली में बनी पथरी के लक्षण पथरी के आकार के आधार पर भिन्न हो सकते हैं। अधिकांश पित्त की पथरी किसी भी लक्षण का कारण नहीं बनती है। इन गॉलस्टोन को मूक पथरी के रूप में जाना जाता है और इसके लिए किसी उपचार की आवश्यकता नहीं होती है। जब गॉलस्टोन के लक्षण दिखाई देते हैं, तो इसमें शामिल हो सकते हैं: 

  1. ऊपरी मध्य पेट या ऊपरी दाहिने पेट में दर्द होना।

  2. दाहिने कंधे में संबंधित दर्द।

  3. छाती में दर्द होना जो कि सामान्य से गंभीर हो सकता है।

  4. मतली और उल्टी आना।

  5. पीलिया (त्वचा और आंखों के लिए एक पीला रंग)। 

  6. उपरोक्त लक्षण बार-बार दिखाई देना। 

किडनी या पित्त की थैली में बनने वाली पथरी के कारण होने वाला दर्द इसका सबसे सामान्य और प्रमुख लक्षण है। पथरी के कारण होने वाला दर्द काफी गंभीर होता है जो कि करीब 15 मिनट से लेकर करीब घंटे भर तक रह सकता है। पित्त की थैली में हुई पथरी के कारण होने वाला लगातार और रुक-रूककर हो सकता है जो कि दिन भर भी चल सकता है और यह दर्द अपने आप चला भी जाता है। 

जिन लोगों को पित्त की थैली में बनी पथरी के कारण दर्द का सामना करना पड़ता है उन्हें अक्सर ज्यादा गंभीर शारीरिक समस्याओं का सामना नहीं करना पड़ता। पित्त की थैली में बनी पथरी एक्यूट कोलेसिस्टिटिस (acute cholecystitis) का कारण बन सकती है, जो एक अधिक गंभीर स्थिति है जब पित्ताशय की थैली वास्तव में सूजन होती है। ऐसा तब होता है जब कोई स्टोन सिस्टिक डक्ट को ब्लॉक कर देता है, जिससे गॉलब्लैडर के अंदर दबाव बढ़ जाता है। इस स्थिति में एंटीबायोटिक्स, अस्पताल में भर्ती और यहां तक ​​कि तत्काल सर्जरी की आवश्यकता हो सकती है। 

पित्त की थैली में पथरी के क्या कारण हैं? What are the causes of gallstones? 

फ़िलहाल तक अभी तक यह स्पष्ट नहीं है कि पित्त की थैली में पथरी बनने के पीछे क्या कारण हैं। फ़िलहाल, चिकित्सक निम्न कुछ स्थितियों को पित्त की पथरी के पीछे के कारण मानते हैं :- 

आपके पित्त में बहुत अधिक कोलेस्ट्रॉल होना Your bile contains too much cholesterol :- आम तौर पर, आपके पित्त में आपके जिगर द्वारा उत्सर्जित कोलेस्ट्रॉल को भंग करने के लिए पर्याप्त रसायन होते हैं। लेकिन अगर आपका जिगर आपके पित्त की तुलना में अधिक कोलेस्ट्रॉल का उत्सर्जन करता है, तो अतिरिक्त कोलेस्ट्रॉल क्रिस्टल में और अंततः पत्थरों यानि पथरी में बन सकता है। 

आपके पित्त में बहुत अधिक बिलीरुबिन है Your bile contains too much bilirubin :- बिलीरुबिन एक रसायन है जो तब उत्पन्न होता है जब आपका शरीर लाल रक्त कोशिकाओं को तोड़ता है। कुछ स्थितियों के कारण आपका लीवर बहुत अधिक बिलीरुबिन बनाता है, जिसमें लिवर सिरोसिस, पित्त पथ के संक्रमण और कुछ रक्त विकार शामिल हैं। अतिरिक्त बिलीरुबिन पित्त पथरी के निर्माण में योगदान देता है।

आपका पित्ताशय ठीक से खाली नहीं होता है Your gallbladder doesn't empty correctly :- यदि आपकी पित्ताशय की थैली पूरी तरह से या अक्सर पर्याप्त रूप से खाली नहीं होती है, तो पित्त बहुत अधिक केंद्रित हो सकता है, जो पित्त पथरी के निर्माण में योगदान देता है। 

पित्त की पथरी के जोखिम कारक क्या हैं? What are the risk factors for gallstones? 

पित्त की पथरी के आपके जोखिम को बढ़ाने वाले कारकों में शामिल हैं:

  1. महिला होना – पुरुषों की तुलना में महिलाओं को पित्त की पथरी ज्यादा होती है 

  2. 40 वर्ष या उससे अधिक उम्र का होना

  3. गतिहीन होना

  4. गर्भवती होना 

  5. अधिक वजन या मोटापा होना

  6. उच्च वसा वाले आहार का सेवन

  7. उच्च कोलेस्ट्रॉल वाला आहार खाना

  8. कम फाइबर वाला आहार खाना

  9. पित्त पथरी का पारिवारिक इतिहास होना

  10. मधुमेह होना

  11. कुछ रक्त विकार होना, जैसे सिकल सेल एनीमिया या ल्यूकेमिया

  12. बहुत जल्दी वजन घटाना

  13. ऐसी दवाएं लेना जिनमें एस्ट्रोजन होता है, जैसे कि मौखिक गर्भनिरोधक या हार्मोन थेरेपी दवाएं

  14. लीवर की बीमारी होना 

क्या बच्चों को पथरी हो सकती है? Can children get gallstones?

पित्त पथरी बच्चों और वयस्कों दोनों को हो सकती है। मध्यम आयु वर्ग के वयस्कों में पित्त पथरी देखना सबसे आम है। हालांकि, केवल वयस्क ही नहीं हैं जो पित्त पथरी का अनुभव करते हैं। बच्चों में पित्त पथरी के साथ एक चुनौती लक्षणों की पहचान करना है। छोटे बच्चों को यह व्यक्त करने में कठिनाई हो सकती है कि दर्द कहाँ स्थित है। यदि आपके बच्चे में कोई असामान्य लक्षण या पेट में दर्द है, तो जल्द से जल्द आपको डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए। 

पित्ताशय की पथरी से क्या जटिलताएं हो सकती है? What complications can occur from gallstones? 

अगर पित्त की पथरी का उचित उपचार न किया जाए या स्थिति गंभीर हो जाए तो व्यक्ति को निम्न वर्णित कुछ जटिलताओं का सामना करना पड़ सकता है :- 

पित्ताशय की थैली की सूजन Inflammation of the gallbladder :- पित्ताशय की थैली के मुड़े हुए हिस्से में जमा होने वाली पित्त पथरी पित्ताशय की थैली (कोलेसिस्टिटिस – cholecystitis) की सूजन का कारण बन सकती है। कोलेसिस्टिटिस गंभीर दर्द और बुखार का कारण बन सकता है। 

सामान्य पित्त नली की रुकावट Blockage of the common bile duct :- पित्ताशय की पथरी उन नलियों (नलिकाओं) को अवरुद्ध कर सकती है जिनके माध्यम से पित्त आपके पित्ताशय या यकृत से आपकी छोटी आंत में प्रवाहित होता है। गंभीर दर्द, पीलिया और पित्त नली का संक्रमण हो सकता है।

अग्न्याशय वाहिनी की रुकावट Blockage of the pancreatic duct :- अग्नाशयी वाहिनी एक ट्यूब है जो पैंक्रिया से निकलती है और ग्रहणी में प्रवेश करने से ठीक पहले सामान्य पित्त नली से जुड़ती है। अग्नाशयी रस (Pancreatic juices), जो पाचन में सहायता करते हैं, अग्नाशयी वाहिनी के माध्यम से बहते हैं।

एक पित्त पथरी अग्नाशयी वाहिनी में रुकावट पैदा कर सकती है, जिससे अग्न्याशय (अग्नाशयशोथ – pancreatitis) की सूजन हो सकती है। अग्नाशयशोथ तीव्र, लगातार पेट दर्द का कारण बनता है और आमतौर पर अस्पताल में भर्ती होने की आवश्यकता होती है। 

पित्ताशय की थैली का कैंसर Gallbladder cancer :- पित्त पथरी के इतिहास वाले लोगों में पित्ताशय की थैली के कैंसर का खतरा बढ़ जाता है। लेकिन पित्ताशय की थैली का कैंसर बहुत दुर्लभ है, इसलिए भले ही कैंसर का खतरा बढ़ गया हो, पित्ताशय की थैली के कैंसर की संभावना अभी भी बहुत कम है। 

पित्त की पथरी का निदान कैसे किया जाता है? How are gallstones diagnosed?

पित्ताशय की पथरी और पित्त पथरी की जटिलताओं के निदान के लिए उपयोग की जाने वाली टेस्ट और प्रक्रियाओं में निम्नलिखित शामिल हैं :- 

पेट का अल्ट्रासाउंड Abdominal ultrasound :- यह परीक्षण पित्त पथरी के लक्षणों को देखने के लिए सबसे अधिक उपयोग किया जाता है। पेट के अल्ट्रासाउंड में आपके पेट के क्षेत्र में एक उपकरण (ट्रांसड्यूसर – transducer) को आगे-पीछे किया जाता है। ट्रांसड्यूसर एक कंप्यूटर को सिग्नल भेजता है, जो आपके पेट में संरचनाओं को दिखाने वाली छवियां बनाता है। 

एंडोस्कोपिक अल्ट्रासाउंड (ईयूएस) Endoscopic ultrasound (EUS) :- यह प्रक्रिया छोटे पत्थरों की पहचान करने में मदद कर सकती है जो पेट के अल्ट्रासाउंड पर छूट सकते हैं। EUS के दौरान आपका डॉक्टर आपके मुंह से और आपके पाचन तंत्र के माध्यम से एक पतली, लचीली ट्यूब (एंडोस्कोप – endoscope) पास करता है। ट्यूब में एक छोटा अल्ट्रासाउंड डिवाइस (ट्रांसड्यूसर) ध्वनि तरंगें उत्पन्न करता है जो आसपास के ऊतक की एक सटीक छवि बनाते हैं। 

अन्य इमेजिंग परीक्षण Other imaging tests :- अतिरिक्त परीक्षणों में ओरल कोलेसिस्टोग्राफी, एक हेपेटोबिलरी इमिनोडायसिटिक एसिड (एचआईडीए – HIDA) स्कैन, कम्प्यूटरीकृत टोमोग्राफी (सीटी), चुंबकीय अनुनाद कोलेजनोपैंक्रेटोग्राफी (एमआरसीपी – MRCP) या एंडोस्कोपिक रेट्रोग्रेड कोलेंगियोपैंक्रेटोग्राफी (ईआरसीपी – ERCP) शामिल हो सकते हैं। प्रक्रिया के दौरान ईआरसीपी का उपयोग करके खोजे गए गॉलस्टोन को हटाया जा सकता है।   

रक्त परीक्षण Blood tests :- रक्त परीक्षण संक्रमण, पीलिया, अग्नाशयशोथ या पित्त पथरी के कारण होने वाली अन्य जटिलताओं को प्रकट कर सकते हैं।  

पित्ताशय की पथरी का उपचार कैसे किया जाता है? How are gallstones treated? 

पित्त पथरी वाले अधिकांश लोग जो लक्षण पैदा नहीं करते हैं, उन्हें कभी भी उपचार की आवश्यकता नहीं होगी। ऐसे लोग अपने आहार और अपनी दिनचर्या में बदलाव करते हुए जटिलताओं से अपना बचाव कर सकते हैं। लेकिन, मुख्यरूप से रोगी का डॉक्टर रोगी के लक्षणों के आधार पर की गई जांचों के परिणामों को ध्यान में रखते हुए यह निर्धारित करता है कि रोगी को उपचार दिए जाने की जरूरत है या नहीं। और अगर उपचार देने की जरूरत है तो किस तरह का उपचार दिया जायगा। 

रोगी का डॉक्टर अनुशंसा कर सकता है कि आप पित्त पथरी की जटिलताओं के लक्षणों के प्रति सतर्क रहें, जैसे कि आपके ऊपरी दाहिने पेट में तेज दर्द। यदि भविष्य में पित्त पथरी के संकेत और लक्षण दिखाई देते हैं, तो आप उपचार करवा सकते हैं।

जांचों के परिणाम, शारीरिक परीक्षण और जटिलताओं के आधार पर पित्त पथरी के उपचार के विकल्पों में निम्नलिखित को शामिल किया जा सकता है :- 


पित्ताशय की थैली (कोलेसिस्टेक्टोमी) को हटाने के लिए सर्जरी Surgery to remove the gallbladder (cholecystectomy) :- आपका डॉक्टर आपके पित्ताशय की थैली को हटाने के लिए सर्जरी की सिफारिश कर सकता है, क्योंकि पित्त पथरी अक्सर पुनरावृत्ति होती है। एक बार जब आपकी पित्ताशय की थैली हटा दी जाती है, तो पित्त आपके पित्ताशय में जमा होने के बजाय, आपके यकृत से सीधे आपकी छोटी आंत में प्रवाहित होता है।

आपको जीने के लिए अपने पित्ताशय की थैली की आवश्यकता नहीं है, और पित्ताशय की थैली को हटाने से भोजन को पचाने की आपकी क्षमता प्रभावित नहीं होती है, लेकिन यह दस्त का कारण बन सकता है, जो आमतौर पर अस्थायी होता है।

पित्त पथरी को भंग करने के लिए दवाएं Medications to dissolve gallstones :- आपके द्वारा मुंह से ली जाने वाली दवाएं पित्त पथरी को भंग करने में मदद कर सकती हैं। लेकिन इस तरह से आपके पित्त पथरी को भंग करने में महीनों या वर्षों का समय लग सकता है, और यदि उपचार बंद कर दिया जाता है, तो पित्त पथरी फिर से बनने की संभावना है।

कभी-कभी दवाएं काम नहीं करतीं। पित्त की पथरी के लिए दवाएं आमतौर पर उपयोग नहीं की जाती हैं और उन लोगों के लिए आरक्षित होती हैं जो सर्जरी से नहीं गुजर सकते हैं।  

क्या पित्त की पथरी से बचाव किया जा सकता है? Can gallstones be prevented? 

हाँ, पित्ताशय की पथरी से बचाव किया जा सकता है। इसके लिए आपको बस अपनी जीवनशैली में कुछ बदलावों को शामिल करना पड़ेगा, जिसमें से कुछ निम्नलिखित है :- 

भोजन न छोड़ें Don't skip meals :- पित्त की पथरी से अपना बचाव करने के लिए नियमित रूप से खाना लें। अगर आप लंबे समय तक खाना नहीं लेते हैं तो इससे पित्त ठोस बनने लगता है जिससे पथरी बन जाती है। इसलिए लंबे समय तक उपवास न करें और ना ही डाइटिंग करें।

धीरे-धीरे वजन कम करें Lose weight slowly :- यदि आपको अपना वजन कम करने की आवश्यकता है, तो धीमी गति से चलें। तेजी से वजन घटाने से पित्त पथरी का खतरा बढ़ सकता है। एक सप्ताह में 1 या 2 पाउंड वजन कम करने का लक्ष्य रखें।

उच्च फाइबर वाले खाद्य पदार्थ अधिक खाएं Eat more high-fiber foods :- पित्ताशय की पथरी से अपना बचाव करने के लिए आहार में अधिक फाइबर युक्त खाद्य पदार्थ शामिल करें, जैसे फल, सब्जियां और साबुत अनाज। 

स्वस्थ वजन बनाए रखें Maintain a healthy weight :- मोटापा और अधिक वजन होने से पित्त पथरी का खतरा बढ़ जाता है। आपके द्वारा खाए जाने वाली कैलोरी की संख्या को कम करके और आपको मिलने वाली शारीरिक गतिविधि की मात्रा को बढ़ाकर स्वस्थ वजन प्राप्त करने के लिए कार्य करें। एक बार जब आप एक स्वस्थ वजन प्राप्त कर लेते हैं, तो अपना स्वस्थ आहार जारी रखते हुए और व्यायाम जारी रखते हुए उस वजन को बनाए रखने के लिए काम करें।


Get our Newsletter

Filter out the noise and nurture your inbox with health and wellness advice that's inclusive and rooted in medical expertise.

Your privacy is important to us

MEDICAL AFFAIRS

CONTENT INTEGRITY

NEWSLETTERS

© 2022 Medtalks