दिमागी बुखार क्या है? लक्षण, कारण और बचाव | Dimagi Bukhar Ke Lakshan in Hindi

बुखार होना बहुत एल बहुत ही सामान्य सी समस्या है। लेकिन अगर बुखार लगातार बढ़ता जाए तो इसकी वजह से व्यक्ति को कई समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है। जब बुखार लगातार बढ़ता रहे तो टाइफाइड और इन्फेक्शन जैसी समस्याएँ होने की आशंका बनी रहती है। लेकिन समस्या तब ज्यादा खराब हो जाती है जब बुखार दिमाग तक पहुंचना शुरू हो जाए, इस स्थिति को आम भाषा में दिमागी बुखार भी कहा जाता है। दिमागी बुखार को अंग्रेजी में इंसेफेलाइटिस (Encephalitis) कहा जाता है। दिमागी बुखार की वजह से व्यक्ति को कई समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है इतना ही नहीं इसकी वजह से जान जाने तक का भी जोखिम बढ़ सकता है। चलिए इस लेख के जरिये दिमागी बुखार के बारे में विस्तार से जानते हैं।  

दिमागी बुखार क्या है? What is Encephalitis?

एन्सेफलाइटिस या इंसेफेलाइटिस और दिमागी बुखार मस्तिष्क की एक्यूट सूजन की समस्या है जो कि मस्तिष्क के ऊतकों में आती है। इस समस्या के होने के पीछे वायरल संक्रमण यानि सामान्य बुखार सबसे आम कारण है। वहीं, दुर्लभ मामलों में यह बैक्टीरिया या कवक के कारण भी हो सकता है। एन्सेफलाइटिस एक दुर्लभ लेकिन गंभीर बीमारी है जो जीवन के लिए खतरा हो सकती है, इसके लक्षण दिखाई देने पर जल्द से जल्द नजदीकी डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए हैं। दिमागी बुखार की एक गंभीरता यह भी है कि इस बुखार के एक से ज्यादा प्रकार है। 

इंसेफेलाइटिस के कितने प्रकार है? How many types of encephalitis are there – in Hindi

दिमागी बुखार यानि इंसेफेलाइटिस के मुख्य रूप से दो प्रकार हैं जो कि निम्नलिखित हैं :-

प्राइमरी इंसेफेलाइटिस (Primary encephalitis) – दिमागी बुखार का यह प्रकार तब होता है जब वायरस सीधे मस्तिष्क या रीढ़ की हड्डी को प्रभावित कर देता है।

सेकेंडरी इंसेफेलाइटिस (Secondary encephalitis) – दिमागी बुखार का यह प्रकार तब होता है जब संक्रमण या वायरस शरीर के किसी अन्य हिस्से में हो जाता है और उसके बाद फैलता हुआ मस्तिष्क में प्रवेश कर लेता हैं। 

दिमागी बुखार किस कारण हुआ है इसके आधार पर भी इस गंभीर रोग को अन्य तीन प्रकारों में विभाजित किया गया है जो कि निम्नलिखित है :-

  1. जापानी इंसेफेलाइटिस मच्छरों (Japanese encephalitis) से फैलता है।

  2. टिक-जनित एन्सेफलाइटिस टिक (Tick-borne encephalitis) से फैलता है।

  3. रेबीज (Rabies) एक स्तनपायी के काटने से फैल सकता है। 

इंसेफेलाइटिस के लक्षण क्या हैं? What are the symptoms of encephalitis?

इंसेफेलाइटिस के लक्षण हल्के से लेकर गंभीर तक हो सकते हैं। दिमागी बुखार होने पर निम्नलिखित लक्षण दिखाई देते हैं :-

हल्के लक्षणों में शामिल हैं :-

  1. बुखार

  2. सरदर्द

  3. उल्टी

  4. गर्दन में अकड़न

  5. सुस्ती (थकावट)

गंभीर लक्षणों में शामिल हैं :-

  1. 103°F (39।4°C) या इससे अधिक का बुखार

  2. उलझन

  3. तंद्रा

  4. दु: स्वप्न

  5. धीमी गति

  6. प्रगाढ़ बेहोशी

  7. बरामदगी

  8. चिड़चिड़ापन

  9. प्रकाश के प्रति संवेदनशीलता

  10. बेहोशी की हालत

शिशुओं और छोटे बच्चों में अलग-अलग लक्षण दिखाई देते हैं। यदि आपका बच्चा निम्न में से किसी एक का अनुभव कर रहा है, तो तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें :-

  1. उल्टी

  2. उभड़ा हुआ फॉन्टानेल (सर में नरम स्थान)

  3. लगातार रोना

  4. शरीर की जकड़न

  5. अपर्याप्त भूख 

दिमागी बुखार होने के कारण क्या है? What is the cause of encephalitis?

कई अलग-अलग वायरस एन्सेफलाइटिस यानि दिमागी बुखार का कारण बन सकते हैं। संभावित कारणों को तीन समूहों में वर्गीकृत कर के इसे आसानी से समझा जा सकता है जो कि है :- सामान्य वायरस, बचपन के वायरस और अर्बोवायरस। चलिए इन सभी के बारे में विस्तार से जानते हैं :-

आम वायरस Common Virus 

विकसित देशों में एन्सेफलाइटिस का कारण बनने वाला सबसे आम वायरस हर्पीज सिम्प्लेक्स है। हर्पीज सिम्प्लेक्स वायरस या दाद वायरस आमतौर पर एक तंत्रिका के माध्यम से त्वचा तक जाता है, जहां यह एक ठंडे घाव का कारण बनता है। हालांकि, दुर्लभ मामलों में, वायरस मस्तिष्क तक भी पहुँच सकता है। 

इंसेफेलाइटिस का यह रूप आमतौर पर टेम्पोरल लोब (temporal lobe) को प्रभावित करता है, मस्तिष्क का वह हिस्सा स्मृति और बोलने की शक्ति को नियंत्रित करता है। यह ललाट लोब (frontal lobe) को भी प्रभावित कर सकता है, यह वह हिस्सा जो कि भावनाओं और व्यवहार को नियंत्रित करता है। दाद के कारण होने वाला एन्सेफलाइटिस खतरनाक होता है और इससे मस्तिष्क की गंभीर क्षति के साथ-साथ मृत्यु भी हो सकती है।

अन्य सामान्य वायरस जो एन्सेफलाइटिस का कारण बन सकते हैं उनमें निम्नलिखित शामिल हैं :-

  1. कण्ठमाला का रोग

  2. एपस्टीन बार वायरस

  3. एचआइवी

  4. साइटोमेगालो वायरस

बचपन के वायरस Childhood viruses 

कुछ बचपन के वायरस जो एन्सेफलाइटिस का कारण बन सकते हैं उनमें निम्नलिखित शामिल हैं :-

  1. चिकन पॉक्स (बहुत दुर्लभ)

  2. खसरा

  3. रूबेला

अगर शिशु को समय पर सभी टिके लगाए जाएं तो उन सभी बचपन के वायरस को बड़ी आसानी से रोका जा सकता है जो कि दिमागी बुखार का कारण बन सकते हैं। पहले के समय में टिके नहीं लगाए जाते थे जिसकी वजह से यह समस्या काफी आम थी। लेकिन अब जबकि बड़े स्तर पर टीकाकरण किया जाता है तो बचपन के वायरस के कारण होने वाला दिमागी बुखार अब काफी दुर्लभ है।

अर्बोवायरस Arboviruses 

अर्बोवायरस कीड़ों द्वारा किए गए वायरस को कहा जाता है। एक व्यक्ति को किस प्रकार का अर्बोवायरस संचरित होगा यह इस बात पर निर्भर करता है कि व्यक्ति को किस कीट ने काटा है। कीट के ऊपर ही यह निर्भर करता है कि दिमागी बुखार कितना गंभीर हो होगा। नीचे कई प्रकार के अर्बोवायरस को वर्णित किया गया है :-

  1. कैलिफ़ोर्निया एन्सेफलाइटिस (California encephalitis) (इसे ला क्रॉसे एन्सेफलाइटिस - La Crosse encephalitis भी कहा जाता है) मच्छरों के काटने से फैलता है और मुख्य रूप से बच्चों को प्रभावित करता है। यह कुछ या कोई लक्षण नहीं पैदा करता है।

  2. सेंट लुइस एन्सेफलाइटिस (St। Louis encephalitis) ग्रामीण मिडवेस्ट और दक्षिणी राज्यों में होता है। यह आम तौर पर एक हल्का वायरस होता है और कुछ लक्षणों का कारण बनता है।

  3. वेस्ट नाइल वायरस (West Nile virus) अक्सर अफ्रीका और मध्य पूर्व में पाया जाता है। हालांकि, यह संयुक्त राज्य अमेरिका में हो सकता है। यह आमतौर पर अपेक्षाकृत हल्का होता है, जिससे फ्लू जैसे लक्षण होते हैं। हालांकि, यह वृद्ध वयस्कों और कमजोर प्रतिरक्षा प्रणाली वाले लोगों में घातक हो सकता है।

  4. कोलोराडो एन्सेफलाइटिस (Colorado encephalitis) (इसे कोलोराडो टिक बुखार भी कहा जाता है) मादा लकड़ी के टिक से फैलता है। यह आमतौर पर एक हल्की बीमारी है, और ज्यादातर लोग जल्दी ठीक हो जाते हैं।

  5. ईस्टर्न इक्वाइन इन्सेफेलाइटिस (Eastern equine encephalitis) मच्छरों से फैलता है। यह मनुष्यों और घोड़ों दोनों को प्रभावित करता है। हालांकि दुर्लभ, इसकी 33 प्रतिशत मृत्यु दर है।

  6. क्यासानूर वन रोग (Kyasanur forest disease) टिक काटने से फैलता है। लोग इसे बकरियों, भेड़ों या गायों का कच्चा दूध पीने से भी प्राप्त कर सकते हैं। शिकारियों, कैंपरों और किसानों को इस बीमारी के होने का सबसे ज्यादा खतरा होता है। 

दिमागी बुखार के जोखिम कारक क्या हैं? What are the risk factors for encephalitis?

एन्सेफलाइटिस के जोखिम करक वाले समूह में निम्नलिखित शामिल हैं:

  • वरिष्ठ नागरिक 

  • एक से कम उम्र के बच्चे

  • कमजोर प्रतिरक्षा प्रणाली वाले लोग

यदि आप ऐसे क्षेत्र में रहते हैं जहां मच्छर या टिक आम हैं, तो आपको एन्सेफलाइटिस यानि दिमागी बुखार होने का अधिक खतरा हो सकता है। मच्छर और टिक्स वायरस ले जा सकते हैं जो एन्सेफलाइटिस का कारण बनते हैं। गर्मियों में आपको एन्सेफलाइटिस होने की संभावना अधिक होती है या जब ये कीड़े सबसे अधिक सक्रिय होते हैं तो गिर जाते हैं।

हालांकि एमएमआर (खसरा, कण्ठमाला, रूबेला) वैक्सीन का सुरक्षित और प्रभावी होने का एक लंबा इतिहास रहा है, लेकिन दुर्लभ मामलों में यह एन्सेफलाइटिस का कारण बना है। टीका प्राप्त करने वाले 3 मिलियन बच्चों में से लगभग 1 में एन्सेफलाइटिस विकसित होता है। हालांकि, ये आंकड़े उन बच्चों के लिए अधिक चौंकाने वाले हैं, जिन्हें टीका नहीं लगाया गया है। नियमित टीकाकरण से पहले के दिनों में एन्सेफलाइटिस की दर 1,000 में 1 तक पहुंच गई थी। दूसरे शब्दों में, टीकाकरण उपलब्ध होने से पहले एन्सेफलाइटिस लगभग 3,000 गुना अधिक आम था।

दिमागी बुखार से जुड़ी जटिलताएं क्या हैं? What are the complications associated with encephalitis?

अधिकांश लोग जिन्हें गंभीर दिमागी बुखार का निदान किया गया है, वह जटिलताओं का अनुभव करते हैं। एन्सेफलाइटिस से होने वाली जटिलताओं में निम्नलिखित शामिल हो सकते हैं:

  1. याददाश्त में कमी

  2. व्यवहार/व्यक्तित्व में परिवर्तन

  3. मिरगी

  4. थकान

  5. शारीरिक कमजोरी

  6. बौद्धिक विकलांगता

  7. मांसपेशी समन्वय की कमी

  8. नज़रों की समस्या

  9. सुनने में समस्याएं

  10. बोलने के मुद्दे

  11. प्रगाढ़ बेहोशी

  12. सांस लेने मे तकलीफ

  13. मौत

कुछ समूहों में जटिलताएं विकसित होने की संभावना अधिक होती है, जैसे:

  • वरिष्ठ नागरिक 

  • जिन लोगों को कोमा जैसे लक्षण हुए हैं

  • जिन लोगों को तुरंत इलाज नहीं मिला 

दिमागी बुखार का निदान कैसे किया जाता है? How is encephalitis diagnosed? 

अगर आपको लगता है कि आप दिमागी बुखार से जूझ रहे हैं तो ऐसे में डॉक्टर आपसे इस गंभीर समस्या होने पर दिखाई देने वाले लक्षणों के बारे में विस्तार से पूछेंगे। लक्षणों की पहचान करने के बाद यह स्पष्ट हो जाता है कि आपको दिमागी बुखार यानि एन्सेफलाइटिस की समस्या है या नहीं। अगर लक्षणों से यह स्पष्ट हो जाता है कि आप दिमागी बुखार से जूझ रहे हैं तो उसके बाद डॉक्टर आपको निम्नलिखित जांच जल्द से जल्द करवाने के लिए कहेंगे :- 

स्पाइनल टैप या काठ का पंचर Spinal tap or lumbar puncture

इस प्रक्रिया में, आपका डॉक्टर रीढ़ की हड्डी के तरल पदार्थ का एक नमूना एकत्र करने के लिए आपकी पीठ के निचले हिस्से में एक सुई डालेगा। डॉक्टर संक्रमण के लक्षणों के लिए नमूने का परीक्षण करेंगे।

सीटी स्कैन या एमआरआई के साथ ब्रेन इमेजिंग Brain imaging with CT scan or MRI 

सीटी स्कैन और एमआरआई मस्तिष्क की संरचना में बदलाव का पता लगाते हैं। डॉक्टर ट्यूमर या स्ट्रोक जैसे लक्षणों के लिए अन्य संभावित स्पष्टीकरणों को खारिज कर सकते हैं। कुछ विषाणुओं में मस्तिष्क के कुछ क्षेत्रों को प्रभावित करने की प्रवृत्ति होती है। यह देखने से कि आपके मस्तिष्क के कौन से हिस्से प्रभावित हैं, यह निर्धारित करने में मदद कर सकता है कि आपको किस प्रकार का वायरस है।

इलेक्ट्रोएन्सेफलोग्राफ (ईईजी) Electroencephalograph (EEG)

एक ईईजी मस्तिष्क गतिविधि को रिकॉर्ड करने के लिए खोपड़ी से जुड़े इलेक्ट्रोड (तारों के साथ छोटी धातु डिस्क) का उपयोग करता है। एक ईईजी उस वायरस का पता नहीं लगाता है जो एन्सेफलाइटिस का कारण बनता है, लेकिन ईईजी पर कुछ पैटर्न आपके न्यूरोलॉजिस्ट को आपके लक्षणों के संक्रामक स्रोत के प्रति सचेत कर सकते हैं। एन्सेफलाइटिस बाद के चरणों में दौरे और कोमा का कारण बन सकता है। यही कारण है कि ईईजी प्रभावित मस्तिष्क के क्षेत्रों और प्रत्येक क्षेत्र में होने वाली मस्तिष्क तरंगों के प्रकार को निर्धारित करने में महत्वपूर्ण है।

रक्त परीक्षण Blood tests

एक रक्त परीक्षण एक वायरल संक्रमण के लक्षण प्रकट कर सकता है। रक्त परीक्षण शायद ही कभी अकेले किए जाते हैं। डॉक्टर आमतौर पर अन्य परीक्षणों के साथ एन्सेफलाइटिस का निदान करने में मदद करते हैं।

मस्तिष्क बायोप्सी Brain biopsy 

एक मस्तिष्क बायोप्सी में, आपका डॉक्टर संक्रमण के परीक्षण के लिए मस्तिष्क के ऊतकों के छोटे नमूने निकाल देगा। यह प्रक्रिया शायद ही कभी की जाती है क्योंकि जटिलताओं का एक उच्च जोखिम होता है। यह आमतौर पर केवल तभी किया जाता है जब डॉक्टर मस्तिष्क की सूजन का कारण निर्धारित नहीं कर सकते हैं या यदि उपचार काम नहीं कर रहा है। बायोप्सी एक गंभीर जांच है, यह तभी की जाती है जब किसी दूसरी जांच से कोई स्पष्ट जानकारी नहीं मिल पाती।

दिमागी बुखार होने पर कौन सी जांच करवानी होगी यह लक्षणों और कारण के साथ-साथ इस बात पर भी निर्भर करता है कि रोगी की स्थिति कितनी गंभीर है। इस बीमारी के दौरान रोगी को डॉक्टर के कहे अनुसार जल्द से जल्द जांच करवानी चाहिए, नहीं तो रोगी को ऊपर बताई गई जटिलताओं के साथ-साथ मौत तक का भी सामना करना पड़ सकता है। 

दिमागी बुखार का उपचार कैसे किया जाता है? How is Encephalitis treated?

अगर किसी व्यक्ति को हल्का दिमागी बुखार यानि हल्का एन्सेफलाइटिस हुआ है तो उसका उपचार निम्नलिखित प्रकार से किया जा सकता है :- 

  1. पूर्ण आराम

  2. बहुत सारे तरल उत्पाद का सेवन 

  3. विरोधी भड़काऊ दवाएं (Anti-inflammatory drugs) - जैसे एसिटामिनोफेन (टाइलेनॉल, अन्य), इबुप्रोफेन (एडविल, मोट्रिन आईबी, अन्य) और नेप्रोक्सन सोडियम (एलेव) - सिरदर्द और बुखार से राहत के लिए

दिमागी बुखार होने पर रोगी का उपचार निम्न वर्णित तरीकों से किया जा सकता है :-

एंटीवायरल दवाएं Antiviral drugs

कुछ वायरस के कारण होने वाले एन्सेफलाइटिस में आमतौर पर एंटीवायरल उपचार की आवश्यकता होती है। आमतौर पर एन्सेफलाइटिस के इलाज के लिए उपयोग की जाने वाली निम्नलिखित एंटीवायरल दवाएं मुख्य रूप से प्रयोग की जाती है :-

  1. एसाइक्लोविर (ज़ोविराक्स)

  2. गैन्सीक्लोविर (साइटोवेन)

  3. फोसकारनेट (फोस्काविर)

कुछ वायरस, जैसे कि कीट-जनित वायरस, इन उपचारों का कोई असर नहीं दिखाई देता हैं। लेकिन क्योंकि विशिष्ट वायरस की तुरंत या बिल्कुल भी पहचान नहीं की जा सकती है, डॉक्टर अक्सर एसाइक्लोविर के साथ तत्काल उपचार की सलाह देते हैं। एसाइक्लोविर एचएसवी (acyclovir hsv) के खिलाफ प्रभावी हो सकता है, जिसके परिणामस्वरूप तुरंत इलाज न करने पर महत्वपूर्ण जटिलताएं हो सकती हैं।

एंटीवायरल दवाएं आमतौर पर अच्छी तरह से सहन की जाती हैं। इन दवाओं की वजह से किडनी फेल्योर हो सकता है, लेकिन ऐसा होना बहुत ही दुर्लभ है।

सहायक देखभाल  Supportive care 

गंभीर एन्सेफलाइटिस से पीड़ित लोगों को अस्पताल में भर्ती होने की आवश्यकता हो सकती है, जिसमें निम्नलिखित शामिल है :-

  1. सांस लेने में सहायता, साथ ही सांस लेने और हृदय की कार्यप्रणाली की सावधानीपूर्वक निगरानी।

  2. उचित जलयोजन और आवश्यक खनिजों के स्तर को सुनिश्चित करने के लिए अंतःशिरा तरल पदार्थ।

  3. सर के भीतर सूजन और दबाव को कम करने के लिए कॉर्टिकोस्टेरॉइड्स जैसी विरोधी भड़काऊ दवाएं

  4. दौरे को रोकने या रोकने के लिए एंटीकॉन्वेलसेंट दवाएं, जैसे कि फ़िनाइटोइन (दिलान्टिन)।

अनुवर्ती चिकित्सा Follow-up therapy

यदि आप एन्सेफलाइटिस की जटिलताओं का अनुभव करते हैं, तो आपको अतिरिक्त चिकित्सा की आवश्यकता हो सकती है, जैसे :-

  1. शक्ति, लचीलापन, संतुलन, मोटर समन्वय और गतिशीलता में सुधार के लिए भौतिक चिकित्सा।

  2. रोज़मर्रा के कौशल विकसित करने और रोज़मर्रा की गतिविधियों में मदद करने वाले अनुकूली उत्पादों का उपयोग करने के लिए व्यावसायिक चिकित्सा।

  3. स्पीच थेरेपी मांसपेशियों के नियंत्रण और भाषण के उत्पादन के समन्वय को फिर से सीखने के लिए।

  4. मनोदशा विकारों में सुधार या व्यक्तित्व परिवर्तनों को संबोधित करने के लिए रणनीतियों का मुकाबला करने और नए व्यवहार कौशल सीखने के लिए मनोचिकित्सा। 

दिमागी बुखार से बचाव कैसे किया जा सकता है? How can encephalitis be prevented?

किसी भी रोग का उपचार लेने से कहीं ज्यादा बेहतर है कि रोग को होने से पहले ही रोका जाए। वायरल एन्सेफलाइटिस को रोकने का सबसे अच्छा तरीका वायरस के संपर्क से बचने के लिए सावधानी बरतना है जो बीमारी का कारण बन सकता है। इसके लिए आप निम्न वर्णित उपाय अपना सकते हैं :-

  1. हमेशा अच्छी स्वच्छता को बानाएं रखें। साबुन और पानी से बार-बार और अच्छी तरह से हाथ धोएं, खासकर शौचालय का उपयोग करने के बाद और भोजन से पहले और बाद में।

  2. बर्तन साझा न करें। बर्तनों और पेय पदार्थ साझा न करें।

  3. अपने बच्चों को सफाई से जुड़ी अच्छी आदतें सिखाएं। सुनिश्चित करें कि आपके बच्चे अच्छी स्वच्छता का अभ्यास करते हैं और घर और स्कूल में बर्तन साझा करने से बचते हैं।

  4. टीकाकरण करवाएं। अपना और अपने बच्चों का टीकाकरण चालू रखें। यात्रा करने से पहले, विभिन्न गंतव्यों के लिए अनुशंसित टीकाकरण के बारे में अपने डॉक्टर से बात करें।

मच्छरों और टिक्स से बचाव करें Protect against mosquitoes and ticks

दिमागी बुखार से हमेशा अपना बचाव करने के लिए आपको मच्छरों और टिक्स से खुद को बचा कर रखना चाहिए क्योंकि यह दोनों इस गंभीर रोग के जोखिम को बढ़ा सकते हैं। इसके लिए आप निम्न वर्णित उपाय अपना सकते हैं :-

  1. अपने आप को बचाने के लिए पुरे कपड़े पहने। लंबी बाजू की शर्ट और लंबी पैंट पहनें यदि आप शाम और भोर के बीच बाहर हैं जब मच्छर सबसे अधिक सक्रिय होते हैं, और जब आप लंबी घास और झाड़ियों वाले जंगली क्षेत्र में होते हैं जहां टिक अधिक आम हैं।

  2. मच्छर भगाने वाली क्रीम लगाएं। डीईईटी जैसे रसायनों को त्वचा और कपड़ों दोनों पर लगाया जा सकता है। अपने चेहरे पर विकर्षक लगाने के लिए इसे अपने हाथों पर स्प्रे करें और फिर इसे अपने चेहरे पर पोंछ लें। यदि आप सनस्क्रीन और विकर्षक दोनों का उपयोग कर रहे हैं, तो पहले सनस्क्रीन लगाएं।

  3. कीटनाशक का प्रयोग करें। पर्यावरण संरक्षण एजेंसी पर्मेथ्रिन युक्त उत्पादों के उपयोग की सिफारिश करती है, जो टिक्स और मच्छरों को पीछे हटाती है और मारती है। इन उत्पादों को कपड़े, तंबू और अन्य बाहरी गियर पर छिड़का जा सकता है। पर्मेथ्रिन को त्वचा पर नहीं लगाना चाहिए।

  4. मच्छरों से बचें। उन जगहों पर अनावश्यक गतिविधि से बचना चाहिए जहां मच्छर सबसे आम हैं। यदि संभव हो तो शाम से सुबह तक बाहर रहने से बचें, जब मच्छर सबसे अधिक सक्रिय होते हैं। टूटी खिड़कियों और स्क्रीन की मरम्मत करें।

  5. अपने घर के बाहर जल स्रोतों से छुटकारा पाएं। अपने यार्ड में खड़े पानी को हटा दें, जहां मच्छर अपने अंडे दे सकते हैं। आम समस्याओं में फ्लावरपॉट या अन्य बागवानी कंटेनर, सपाट छत, पुराने टायर और बंद गटर शामिल हैं।

  6. वायरल रोग के बाहरी लक्षणों की तलाश करें। यदि आप बीमार या मरते हुए पक्षियों या जानवरों को देखते हैं, तो अपने स्थानीय स्वास्थ्य विभाग को अपनी जानकारी साझा करें ताकि वह न केवल आपकी बल्कि सभी मदद कर सके।

दिमागी बुखार से छोटे बच्चों के लिए सुरक्षा निम्न वर्णित उपाय अपनाए Take the following measures to protect young children from meningitis 

2 महीने से कम उम्र के शिशुओं पर उपयोग के लिए कीट प्रतिरोधी देने की सलाह नहीं दी जाती है। इसके बजाय, एक शिशु वाहक को मच्छरदानी से ढक दें।

बड़े शिशुओं और बच्चों के लिए, 10% से 30% DEET वाले विकर्षक सुरक्षित माने जाते हैं। डीईईटी और सनस्क्रीन दोनों वाले उत्पाद बच्चों के लिए अनुशंसित नहीं हैं क्योंकि पुन: आवेदन – जो सनस्क्रीन घटक के लिए आवश्यक हो सकता है – बच्चे को बहुत अधिक डीईईटी के संपर्क में लाएगा।

बच्चों के साथ मच्छर विकर्षक का उपयोग करने के सुझावों को शामिल किया जा सकता हैं :-

  1. बच्चों को हमेशा मच्छर भगाने वाली दवा के इस्तेमाल में मदद करें।

  2. कपड़ों और उजागर त्वचा पर मच्छरों और अन्य कीटों से बचाव के लिए स्प्रे करें।

  3. विकर्षक (repellent) को बाहर निकालने के जोखिम को कम करने के लिए बाहर जाने पर विकर्षक लगाएं।

  4. अपने हाथों पर विकर्षक स्प्रे करें और फिर इसे अपने बच्चे के चेहरे पर लगाएं। आंखों और कानों के आसपास ध्यान रखें।

  5. छोटे बच्चों के हाथों पर विकर्षक का प्रयोग न करें, जो अपने हाथों को अपने मुंह में डाल सकते हैं।

  6. घर के अंदर आने पर उपचारित त्वचा को साबुन और पानी से धोएं।

दिमागी बुखार होने पर केवल डॉक्टर की सलाह से दवाएं लेनी चाहिए और इससे बचाव के उपायों के लिए अपने नजदीकी डॉक्टर से जरूर सलाह लेनी चाहिए। आप इस बारे में भी जाने कि आप जिस क्षेत्र में रह रहे हैं वहां पर दिमागी बुखार होने के क्या-क्या कारण सबसे ज्यादा है। जैसे अगर आप ऐसे क्षेत्र में रहते हैं जहाँ मच्छरों की तादात ज्यादा है तो आपको उसके उपायों पर ज्यादा ध्यान देना चाहिए।

Get our Newsletter

Filter out the noise and nurture your inbox with health and wellness advice that's inclusive and rooted in medical expertise.

Your privacy is important to us

MEDICAL AFFAIRS

CONTENT INTEGRITY

NEWSLETTERS

© 2022 Medtalks