एनजाइना क्या है? लक्षण, कारण, प्रकार और इलाज सब जाने | Angina in Hindi

एक व्यक्ति के दिल का औसतन वजन 415 ग्राम तक हो सकता है जो कि आयु, लिंग और स्वास्थ्य स्थितियों के अनुसार कम ज्यादा हो सकता है। कुछ ग्राम का दिल हमारे जीवन के लिए बहुत जरूरी है, लेकिन यह कुछ ग्राम का दिल कई बीमारियों का बड़ी आसानी से शिकार हो सकता है। दिल से जुड़ी बहुत सी बीमारियाँ हैं जिसमें से एक है एनजाइना। एनजाइना एक दिल से जुड़ी एक गंभीर बीमारी है, जिसके बारे में हम इस लेख में विस्तार से बात करेंगे। इस लेख में हम एनजाइना के लक्षण, एनजाइना के कारण, एनजाइना के प्रकार और एनजाइना का इलाज के बारे में जानेंगे।

एनजाइना क्या है? What is Angina?

एनजाइना एक प्रकार का सीने में दर्द है जो कि तब होता है जब हृदय में रक्त के प्रवाह में कमी आ जाती है। एनजाइना में होने वाला दर्द निचोड़े जाने, दबाव, भारीपन, जकड़न  और सीने में दर्द जैसा महसूस किया जाता है। एनजाइना को एनजाइना पेक्‍टोरिस (angina pectoris) या इस्‍केमिक चेस्‍ट पेन (ischemic chest pain) भी कहा जाता है। एनजाइना कोरोनरी धमनी की बीमारी (coronary artery disease) का एक लक्षण है।

दिल की इस बीमारी में होने वाला दर्द बार-बार होता है और यह एक आपातकालीन समस्या है ऐसे में यह समस्या होते ही जल्द से जल्द डॉक्टर से मिलना चाहिए। एक बार एनजाइना होने के बाद यह बार-बार होने की आशंका बनी रहती है। इतना ही नहीं इसके कई प्रकार इसे और भी ज्यादा गंभीर बनाते हैं। 

एनजाइना के कितने प्रकार हैं? How many types of Angina are there? 

एनजाइना के मुख्य रूप से चार प्रकार है, जिन्हें नीचे वर्णित किया गया है। दिल से जुड़ी इस बीमारी के प्रकार कारणों पर निर्भर करते हैं। 

स्थिर एनजाइना Stable angina :- स्थिर एनजाइना, एनजाइना का सबसे आम रूप है। यह आमतौर पर गतिविधि (प्रशिक्षण) के दौरान होता है और आराम या एनजाइना दवा के साथ चला जाता है। उदाहरण के लिए, जब आप ऊपर की ओर चल रहे हों या ठंडे मौसम में दर्द हो रहा हो तो यह एनजाइना हो सकता है। स्थिर एनजाइना दर्द का अनुमान लगाया जा सकता है और आमतौर पर सीने में दर्द के पिछले एपिसोड के समान होता है। सीने में दर्द आमतौर पर कम समय तक रहता है, शायद पांच मिनट या उससे कम। स्थिति गंभीर होने पर दर्द ज्यादा समय तक रह सकता है, लेकिन यह काफी दुर्लभ स्थिति के दौरान होता है।

अस्थिर एनजाइना (एक चिकित्सा आपात स्थिति) Unstable angina (a medical emergency) :- अस्थिर एनजाइना अप्रत्याशित है और आराम से होती है। एनजाइना के इस प्रकार में दर्द लगातार बढ़ता है, जबकि आप कोई ऐसा शारीरिक कार्य भी नहीं कर रहे होते हैं जिससे ऐसा दर्द महसूस हो। यह आमतौर पर गंभीर होता है और स्थिर एनजाइना से अधिक समय तक रहता है, शायद 20 मिनट या उससे अधिक समय तक। इस प्रकार होने वाला दर्द आराम करने और सामान्य एनजाइना दवाइयां लेने से दूर नहीं होता है। यदि रक्त प्रवाह में सुधार नहीं होता है, तो हृदय में ऑक्सीजन की कमी हो जाती है और दिल का दौरा पड़ता है। अस्थिर एनजाइना खतरनाक है और इसके लिए आपातकालीन उपचार की आवश्यकता होती है।

वेरिएंट एनजाइना (प्रिंज़मेटल एनजाइना) Variant angina (Prinzmetal angina) :-  वैरिएंट एनजाइना, जिसे प्रिंज़मेटल एनजाइना (Prinzmetal angina) भी कहा जाता है, यह कोरोनरी धमनी की बीमारी के कारण नहीं है। यह हृदय की धमनियों में ऐंठन के कारण होता है जो अस्थायी रूप से रक्त प्रवाह को कम कर देता है। गंभीर सीने में दर्द भिन्न एनजाइना का मुख्य लक्षण है। यह अक्सर चक्रों में होता है, आमतौर पर लंबे समय तक आराम करने (सोने या रात भर) और एनजाइना दवा लेने से दर्द से राहत मिल सकती है।

दुर्दम्य एनजाइना Refractory angina :- दवाओं और जीवनशैली में बदलाव के संयोजन के बावजूद एनजाइना होने की समस्या अक्सर होने की स्थिति को दुर्दम्य एनजाइना कहा जाता हैं।  

एनजाइना के लक्षण क्या है? What are the symptoms of Angina?

एनजाइना की स्थिति होने पर छाती में निम्नलिखित में से कोई भी समस्या हो सकती है :-

  1. निचोडे जाने की समस्या महसूस होना।

  2. दबाव महसूस होना। 

  3. छाती में जड़ता होना। 

  4. छाती कसी हुई महसूस करना। 

  5. छाती में जलन या दर्द होना, आमतौर पर ब्रेस्टबोन के पीछे से शुरू होती है।

  6. गर्दन और गले में दर्द महसूस होना।

  7. हाथ और कंधे में दर्द होना।

  8. पीठ के ऊपरी हिस्से में दर्द होना।

  9. जबड़े में लगातार दर्द होना।

  10. दांतों में दर्द फैलना।

उपरोक्त बताए गये लक्षणों के आलावा निम्नलिखित अन्य संभावित लक्षण भी दिखाई दे सकते हैं :-

  1. खट्टी डकारें आना।

  2. पेट में जलन होना।

  3. कमजोरी महसूस होना।

  4. लगातार पसीना आना।

  5. जी मिचलने की समस्या होना।

  6. ऐंठन होना।

  7. सांस लेने में कठिनाई होना।

इन लक्षणों की अवधि एनजाइना के प्रकार पर निर्भर करती है। जो कोई भी गंभीर या लगातार सीने में दर्द का अनुभव करता है, उसे जल्द से जल्द डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए।

महिलाओं में एनजाइना के लक्षण Symptoms of angina in women 

महिलाओं में एनजाइना के लक्षण क्लासिक एनजाइना लक्षणों से भिन्न हो सकते हैं। इन मतभेदों के कारण इलाज की तलाश में देरी हो सकती है। उदाहरण के लिए, एनजाइना वाली महिलाओं में सीने में दर्द एक सामान्य लक्षण है, लेकिन यह महिलाओं के लिए एकमात्र लक्षण या सबसे प्रचलित लक्षण नहीं हो सकता है। महिलाओं में भी ऐसे लक्षण हो सकते हैं :-

  1. गर्दन और गले में दर्द महसूस होना।

  2. पीठ के ऊपरी हिस्से में दर्द होना।

  3. जबड़े में लगातार दर्द होना।

  4. मतली आने की समस्या होना।

  5. सांस लेने में कठिनाई होना।

  6. पेट में जलन या पेट दर्द की समस्या होना या दोनों एक साथ होना।

  7. सीने में दबाव के बजाय छुरा घोंपने वाला दर्द होना।

एनजाइना के कारण क्या है? What are the Causes of Angina?

एनजाइना हृदय की मांसपेशियों में रक्त के प्रवाह में कमी के कारण होता है। रक्त ऑक्सीजन ले जाने का काम करता है, जिसे हृदय की मांसपेशियों को जीवित रहने की आवश्यकता होती है। जब हृदय की मांसपेशियों को पर्याप्त ऑक्सीजन नहीं मिल पाती है, तो यह इस्किमिया (ischemia) नामक स्थिति का कारण बनती है।

हृदय की मांसपेशियों में कम रक्त प्रवाह का सबसे आम कारण कोरोनरी धमनी रोग (coronary artery disease) है। दिल (कोरोनरी) धमनियां प्लाक नामक फैटी जमा से संकुचित हो सकती हैं, जिसे एथेरोस्क्लेरोसिस (atherosclerosis) कहा जाता है।

यदि रक्त वाहिका में सजीले टुकड़े टूट जाते हैं या रक्त का थक्का बन जाता है, तो यह संकुचित धमनी के माध्यम से प्रवाह को जल्दी से अवरुद्ध या कम कर सकता है। यह हृदय की मांसपेशियों में रक्त के प्रवाह को अचानक और गंभीर रूप से कम कर सकता है।

कम ऑक्सीजन की मांग के दौरान – आराम करते समय, उदाहरण के लिए - हृदय की मांसपेशी अभी भी एनजाइना के लक्षणों को ट्रिगर किए बिना रक्त प्रवाह की कम मात्रा पर काम करने में सक्षम हो सकती है। लेकिन जब ऑक्सीजन की मांग बढ़ जाती है, जैसे कि व्यायाम करते समय, एनजाइना हो सकती है।

एनजाइना के जोखिम कारक क्या है? What are the risk factors for angina? 

निम्नलिखित कुछ कारक एनजाइना जैसे हृदय रोग के जोखिम को बढ़ा सकते हैं :-

बढ़ती उम्र Increasing age :-  एनजाइना 60 वर्ष और उससे अधिक उम्र के वयस्कों में सबसे आम है।

हृदय रोग का पारिवारिक इतिहास Family history of heart disease :- अगर आपके परिवार में पहले किसी को कोई हृदय रोग या दिल का दौरा पड़ा है तो आपको यह हृदय रोग होने की आशंका बनी रहती है।

तंबाकू का इस्तेमाल Tobacco use :- धूम्रपान, तंबाकू चबाना और सेकेंड हैंड धुएं के लंबे समय तक संपर्क धमनियों की परत को नुकसान पहुंचा सकता है, जिससे कोलेस्ट्रॉल जमा हो जाता है और रक्त प्रवाह अवरुद्ध हो जाता है। इन सभी स्वास्थ्य स्थितियों के कारण एनजाइना होने का जोखिम बना रहता है। 

मधुमेह Diabetes :- मधुमेह से कोरोनरी धमनी रोग का खतरा काफी बढ़ जाता है जो कि एथेरोस्क्लेरोसिस (atherosclerosis) को तेज करके और कोलेस्ट्रॉल के स्तर को बढ़ाकर एनजाइना और दिल के दौरे का कारण बनता है।

उच्च रक्त चाप High Blood Pressure :- समय के साथ, उच्च रक्तचाप धमनियों के सख्त होने में तेजी लाकर धमनियों को नुकसान पहुंचाता है।

उच्च कोलेस्ट्रॉल या ट्राइग्लिसराइड्स High cholesterol or triglycerides :- बहुत अधिक खराब कोलेस्ट्रॉल - कम घनत्व वाले लिपोप्रोटीन (एलडीएल) रक्त में धमनियों को संकीर्ण कर सकता है। एक उच्च एलडीएल एनजाइना और दिल के दौरे का खतरा बढ़ जाता है। रक्त में ट्राइग्लिसराइड्स का उच्च स्तर भी अस्वस्थ है।

अन्य स्वास्थ्य स्थितियां Other health conditions :- क्रोनिक किडनी रोग, परिधीय धमनी रोग (peripheral artery disease), चयापचय सिंड्रोम (metabolic syndrome) या स्ट्रोक का इतिहास एनजाइना के जोखिम को बढ़ाता है।

पर्याप्त व्यायाम न करना Not getting enough exercise :- एक निष्क्रिय जीवनशैली उच्च कोलेस्ट्रॉल, उच्च रक्तचाप, टाइप 2 मधुमेह और मोटापे में योगदान करती है। इसकी वजह से आपको एनजाइना की समस्या होने का जोखिम बना रहता है।

मोटापा Obesity :- मोटापा हृदय रोग के लिए एक जोखिम कारक है, जो एनजाइना का कारण बन सकता है। अधिक वजन होने के कारण शरीर को रक्त की आपूर्ति करने के लिए हृदय को अधिक मेहनत करनी पड़ती है।

भावनात्मक तनाव Emotional stress :- बहुत अधिक तनाव और क्रोध रक्तचाप बढ़ा सकते हैं। तनाव के दौरान उत्पन्न होने वाले हार्मोन के बढ़ने से धमनियां संकरी हो सकती हैं और एनजाइना की समस्या गंभीर रूप में हो सकती है।

दवाएं Medications :- दवाएं जो रक्त वाहिकाओं को कसती हैं, जैसे कि कुछ माइग्रेन की दवाएं, प्रिंज़मेटल एनजाइना को ट्रिगर कर सकती हैं।

नशीली दवाओं का दुरुपयोग Drug misuse :- कोकीन और अन्य उत्तेजक पदार्थ रक्त वाहिकाओं में ऐंठन और एनजाइना को ट्रिगर कर सकते हैं।

ठंडा तापमान Cold temperatures :- ठंडे तापमान के संपर्क में आने से प्रिंज़मेटल एनजाइना शुरू हो सकती है।

एनजाइना के कारण क्या-क्या जटिलताएं हो सकती है? What complications can occur due to angina?

एनजाइना के साथ होने वाला सीने में दर्द चलने, असहज करने जैसी कुछ गतिविधियाँ करने को मजबूर कर सकता है। हालांकि, सबसे खतरनाक जटिलता दिल का दौरा है। इस दौरान व्यक्ति को निम्नलिखित अन्य जटिलताओं का सामना करना पड़ सकता है :- 

  1. छाती के केंद्र में दबाव, परिपूर्णता या निचोड़ने वाला दर्द जो कुछ मिनटों से अधिक समय तक रहता है।

  2. दर्द छाती से परे कंधे, हाथ, पीठ, या यहां तक ​​कि दांतों और जबड़े तक फैला हुआ है।

  3. बेहोशी।

  4. कयामत की आसन्न भावना।

  5. सीने में दर्द के बढ़ते एपिसोड।

  6. समुद्री बीमारी। 

  7. उल्टी होना।

  8. ऊपरी पेट क्षेत्र (पेट) में लगातार दर्द।

  9. सांस लेने में कठिनाई।

  10. पसीना आना।

यदि आप उपरोक्त बताई गई जटिलताओं को महसूस कर रहे हैं तो आपको जल्द से जल्द आपातकालीन चिकित्सा की आवश्यकता है।

एनजाइना का निदान कैसे किया जा सकता है? How can angina be diagnosed? 

अगर आपको लगता है कि आपको एनजाइना की समस्या है तो आपको जल्द से जल्द डॉक्टर से मिलना चाहिए। आपके डॉक्टर आपसे एनजाइना के लक्षणों के बारे में जानेंगे और आपसे आपके पारिवारिक हृदय रोग इतिहास के बारे में पूछेंगे और साथ ही इस बारे में भी जानकारी लेंगे कि क्या आपको कभी कोई दिल की बीमारी रही है या क्या यह लक्षण फले कभी दिखाई दिए हैं? इन सभी के साथ-साथ डॉक्टर मौजूदा स्थिति के अनुसार निम्न वर्णित जांच करवाने के लिए कह सकते हैं :-

इलेक्ट्रोकार्डियोग्राम (ईसीजी या ईकेजी) Electrocardiogram (ECG or EKG) :- यह त्वरित और दर्द रहित परीक्षण हृदय की विद्युत गतिविधि को मापता है। छाती पर और कभी-कभी हाथ और पैरों पर चिपचिपे पैच (इलेक्ट्रोड) लगाए जाते हैं। तार इलेक्ट्रोड को एक कंप्यूटर से जोड़ते हैं, जो परीक्षण के परिणाम प्रदर्शित करता है। एक ईसीजी दिखा सकता है कि दिल बहुत तेज, बहुत धीमा या बिल्कुल नहीं धड़क रहा है। आपका स्वास्थ्य देखभाल प्रदाता यह देखने के लिए हृदय ताल में पैटर्न भी देख सकता है कि हृदय से रक्त प्रवाह धीमा या बाधित हुआ है या नहीं।

छाती का एक्स-रे Chest X-ray :- छाती का एक्स-रे हृदय और फेफड़ों की स्थिति को दर्शाता है। छाती का एक्स-रे यह निर्धारित करने के लिए किया जा सकता है कि क्या अन्य स्थितियां सीने में दर्द के लक्षण पैदा कर रही हैं और यह देखने के लिए कि क्या हृदय बड़ा हुआ है।

रक्त परीक्षण Blood tests :- कुछ हृदय एंजाइम रक्तप्रवाह में प्रवेश करते हैं जब हृदय की मांसपेशी क्षतिग्रस्त हो जाती है, जैसे कि दिल का दौरा पड़ने से। एक कार्डियक एंजाइम रक्त परीक्षण इन पदार्थों का पता लगाने में मदद कर सकता है।

तनाव परीक्षण Stress test :- कभी-कभी एनजाइना का निदान करना आसान होता है जब हृदय अधिक मेहनत कर रहा होता है। एक तनाव परीक्षण में आम तौर पर ट्रेडमिल पर चलना या स्थिर बाइक की सवारी करना शामिल होता है, जबकि दिल की निगरानी की जाती है। अन्य परीक्षण उसी समय तनाव परीक्षण के रूप में किए जा सकते हैं। यदि आप व्यायाम नहीं कर सकते हैं, तो आपको ऐसी दवाएं दी जा सकती हैं जो हृदय पर व्यायाम के प्रभाव की नकल करती हैं।

इकोकार्डियोग्राम Echocardiogram :- एक इकोकार्डियोग्राम गति में हृदय की छवियों को बनाने के लिए ध्वनि तरंगों का उपयोग करता है। ये चित्र दिखा सकते हैं कि हृदय से रक्त कैसे बहता है। एक तनाव परीक्षण के दौरान एक इकोकार्डियोग्राम किया जा सकता है।

परमाणु तनाव परीक्षण Nuclear stress test :- एक परमाणु तनाव परीक्षण आराम से और तनाव के दौरान हृदय की मांसपेशियों में रक्त के प्रवाह को मापने में मदद करता है। यह एक नियमित तनाव परीक्षण के समान है, लेकिन परमाणु तनाव परीक्षण के दौरान, एक रेडियोधर्मी ट्रेसर को रक्तप्रवाह में इंजेक्ट किया जाता है। एक विशेष स्कैनर दिखाता है कि हृदय की धमनियों में ट्रेसर कैसे चलता है। जिन क्षेत्रों में ट्रेसर की मात्रा कम या बिल्कुल नहीं है, वे खराब रक्त प्रवाह का संकेत देते हैं।

कार्डिएक कम्प्यूटरीकृत टोमोग्राफी (सीटी) Cardiac computerized tomography (CT) :- इस परीक्षण के लिए, आप आमतौर पर डोनट के आकार की मशीन के अंदर एक मेज पर लेट जाते हैं। मशीन के अंदर एक एक्स-रे ट्यूब शरीर के चारों ओर घूमती है और हृदय और छाती की तस्वीरें एकत्र करती है। एक कार्डिएक सीटी स्कैन दिखा सकता है कि क्या हृदय बड़ा है या किसी हृदय की धमनियां संकुचित हैं।

कार्डिएक चुंबकीय अनुनाद इमेजिंग (एमआरआई) Cardiac magnetic resonance imaging (MRI) :- यह परीक्षण हृदय की विस्तृत छवियां बनाने के लिए चुंबकीय क्षेत्र और रेडियो तरंगों का उपयोग करता है। आप आमतौर पर एक लंबी, ट्यूबलाइक मशीन के अंदर एक टेबल पर लेट जाते हैं जो हृदय की संरचना और रक्त वाहिकाओं की विस्तृत छवियां तैयार करती है।

कोरोनरी एंजियोग्राफी Coronary angiography :- कोरोनरी एंजियोग्राफी हृदय की रक्त वाहिकाओं के अंदर की जांच के लिए एक्स-रे इमेजिंग का उपयोग करती है। यह कार्डियक कैथीटेराइजेशन के रूप में जानी जाने वाली प्रक्रियाओं के एक सामान्य समूह का हिस्सा है।

एक स्वास्थ्य देखभाल प्रदाता एक पतली ट्यूब (कैथेटर) को हाथ या कमर में रक्त वाहिका के माध्यम से हृदय की धमनी में पिरोता है और कैथेटर के माध्यम से डाई इंजेक्ट करता है। डाई हृदय की धमनियों को एक्स-रे पर अधिक स्पष्ट रूप से दिखाती है। आपका स्वास्थ्य देखभाल प्रदाता इस प्रकार के एक्स-रे को एंजियोग्राम (angiogram) कह सकता है।

एनजाइना का उपचार कैसे किया जा सकता है? How can angina be treated? 

एनजाइना का उपचार कई तरीकों से किया जा सकता है, लेकिन उपचार शुरू करने से पहले मौजूदा स्थिति का आंकलन करना काफी जरूरी है, क्योंकि जब स्थिति के अनुसार ही यह तय होता है कि रोगी को किस प्रकार का उपचार दिया जाना है। 

यदि रोगी को अस्थिर एनजाइना या एनजाइना दर्द है जो आपके सामान्य से अलग है, तो आपको तत्काल उपचार की आवश्यकता होगी।

एनजाइना होने पर निम्न वर्णित प्रकार से रोगी का उपचार किया जा सकता है :- 

दवाएं Medications :-

अगर एनजाइना रोगी जीवनशैली में बदलाव करता है जैसे - स्वस्थ भोजन करना और व्यायाम करना आदि। लेकिन इसके बाद भी हृदय स्वास्थ्य और एनजाइना के दर्द से राहत नहीं मिलती तो ऐसे में दवाओं की आवश्यकता हो सकती है। इन दवाओं में निम्न का उपयोग किया जा सकता है :-

नाइट्रेट्स Nitrates :- नाइट्रेट्स का उपयोग अक्सर एनजाइना के इलाज के लिए किया जाता है। नाइट्रेट्स रक्त वाहिकाओं को शिथिल और चौड़ा करते हैं जिससे हृदय में अधिक रक्त प्रवाहित होता है। एनजाइना के इलाज के लिए इस्तेमाल किया जाने वाला नाइट्रेट का सबसे आम रूप नाइट्रोग्लिसरीन (nitroglycerin) है। नाइट्रोग्लिसरीन की गोली जीभ के नीचे रखी जाती है। आपका स्वास्थ्य देखभाल प्रदाता ऐसी गतिविधियों से पहले नाइट्रेट लेने की सिफारिश कर सकता है जो आमतौर पर एनजाइना (जैसे व्यायाम) या दीर्घकालिक निवारक आधार पर ट्रिगर करती हैं।

एस्पिरिन Aspirin :- एस्पिरिन रक्त के थक्के को कम करता है, जिससे रक्त को संकुचित हृदय धमनियों के माध्यम से प्रवाहित करना आसान हो जाता है। रक्त के थक्कों को रोकने से दिल का दौरा पड़ने का खतरा कम हो सकता है। पहले अपने स्वास्थ्य देखभाल प्रदाता से बात किए बिना दैनिक एस्पिरिन लेना शुरू न करें।

थक्का रोकने वाली दवाएं Clot-preventing drugs :- क्लोपिडोग्रेल (प्लाविक्स) – clopidogrel (Plavix), प्रसुग्रेल (एफ़िएंट) – Prasugrel (Efient)और टिकाग्रेलर (ब्रिलिंटा) – ticagrelor (Brilinta)जैसी कुछ दवाएं रक्त प्लेटलेट्स (blood platelets) के आपस में चिपके रहने की संभावना कम कर देती हैं, इसलिए रक्त का थक्का नहीं बनता है। यदि आप एस्पिरिन नहीं ले सकते हैं तो इन दवाओं में से एक की सिफारिश की जा सकती है।

बीटा अवरोधक Beta blockers :- बीटा ब्लॉकर्स के कारण हृदय अधिक धीमी गति से और कम बल के साथ धड़कने लगता है, जिससे रक्तचाप कम हो जाता है। ये दवाएं रक्त वाहिकाओं को भी आराम देती हैं, जिससे रक्त प्रवाह में सुधार होता है।

स्टेटिन Statins :- स्टैटिन रक्त कोलेस्ट्रॉल (blood cholesterol) को कम करने के लिए उपयोग की जाने वाली दवाएं हैं। उच्च कोलेस्ट्रॉल हृदय रोग और एनजाइना के लिए एक जोखिम कारक है। स्टैटिन एक पदार्थ को अवरुद्ध करते हैं जिसे शरीर को कोलेस्ट्रॉल बनाने की आवश्यकता होती है। वह रक्त वाहिकाओं में रुकावट को रोकने में मदद करते हैं।

कैल्शियम चैनल अवरोधक Calcium channel blockers :- कैल्शियम चैनल ब्लॉकर्स, जिन्हें कैल्शियम विरोधी भी कहा जाता है, रक्त प्रवाह में सुधार के लिए रक्त वाहिकाओं को आराम और चौड़ा करते हैं।

अन्य रक्तचाप की दवाएं Other blood pressure medications :- रक्तचाप को कम करने वाली अन्य दवाओं में एंजियोटेंसिन-परिवर्तित एंजाइम (एसीई) अवरोधक (angiotensin-converting enzyme (ACE) inhibitors) या एंजियोटेंसिन II रिसेप्टर ब्लॉकर्स (एआरबी) (angiotensin II receptor blockers (ARBs)) शामिल हैं। यदि आपको उच्च रक्तचाप, मधुमेह, हृदय गति रुकने के लक्षण या क्रोनिक किडनी डिजीज है, तो आपका स्वास्थ्य देखभाल प्रदाता इन प्रकार की दवाओं में से एक लिख सकता है।

रैनोलज़ीन (रानेक्सा) Ranolazine (Ranexa) :- यह दवा पुरानी स्थिर एनजाइना के लिए निर्धारित की जा सकती है जो अन्य दवाओं के साथ बेहतर नहीं होती है। इसका उपयोग अकेले या अन्य एनजाइना दवाओं के साथ किया जा सकता है, जैसे कैल्शियम चैनल ब्लॉकर्स, बीटा ब्लॉकर्स या नाइट्रोग्लिसरीन।


थरेपी (चिकित्सा) Therapies :- 

कभी-कभी, हृदय में रक्त के प्रवाह को बढ़ाने के लिए एन्हांस्ड एक्सटर्नल काउंटरपल्सेशन (ईईसीपी) – Enhanced External Counterpulsation (EECP) नामक एक नॉनड्रग विकल्प की सिफारिश की जा सकती है। ईईसीपी के साथ, रक्तचाप-प्रकार के कफ को पिंडलियों, जांघों और श्रोणि (pelvis) के आसपास रखा जाता है। ईईसीपी (EECP) को कई उपचार सत्रों की आवश्यकता होती है। ईईसीपी लगातार, अनियंत्रित एनजाइना (दुर्दम्य एनजाइना) वाले लोगों में लक्षणों को कम करने में मदद कर सकता है।


सर्जरी और प्रक्रियाएं Surgery and procedures :-

यदि जीवनशैली में बदलाव, दवाएं या अन्य उपचार एनजाइना दर्द को कम नहीं करते हैं, तो कैथेटर प्रक्रिया या ओपन-हार्ट सर्जरी की आवश्यकता हो सकती है। एनजाइना और कोरोनरी धमनी की बीमारी के इलाज के लिए इस्तेमाल की जाने वाली सर्जरी और प्रक्रियाओं में निम्न मुख्य रूप से शामिल हैं :- 

स्टेंटिंग के साथ एंजियोप्लास्टी Angioplasty with stenting :- एंजियोप्लास्टी के दौरान जिसे परक्यूटेनियस कोरोनरी इंटरवेंशन (पीसीआई) – Percutaneous coronary intervention (PCI) भी कहा जाता है इस परिक्रिया में संकुचित धमनी में एक छोटा गुब्बारा डाला जाता है। धमनी को चौड़ा करने के लिए गुब्बारे को फुलाया जाता है, और फिर धमनी को खुला रखने के लिए आमतौर पर एक छोटा तार जाल कॉइल (स्टेंट) डाला जाता है।

स्टेंटिंग के साथ एंजियोप्लास्टी से हृदय में रक्त का प्रवाह बेहतर होता है, एनजाइना होने का खतरा कम या खत्म हो जाता है। अस्थिर एनजाइना वाले लोगों के लिए स्टेंटिंग के साथ एंजियोप्लास्टी एक अच्छा उपचार विकल्प हो सकता है या यदि जीवनशैली में बदलाव और दवाएं पुरानी, ​​​​स्थिर एनजाइना का प्रभावी ढंग से इलाज नहीं करती हैं।

ओपन-हार्ट सर्जरी (कोरोनरी आर्टरी बाईपास सर्जरी) Open-heart surgery (coronary artery bypass surgery) :- कोरोनरी धमनी बाईपास सर्जरी के दौरान, शरीर में कहीं और से एक नस या धमनी का उपयोग अवरुद्ध या संकुचित हृदय धमनी को बायपास करने के लिए किया जाता है। बाईपास सर्जरी से हृदय में रक्त का प्रवाह बढ़ जाता है। यह अस्थिर एनजाइना और स्थिर एनजाइना दोनों के लिए एक उपचार विकल्प है। यह तब किया जाता है जब किसी अन्य उपचार के तरीके से कोई फायदा नहीं मिलता।


जीवनशैली में जरूरी बदलाव और घरेलू उपचार Lifestyle changes and home remedies :-

हृदय रोग अक्सर एनजाइना का कारण होता है। हृदय को स्वस्थ रखने के लिए जीवनशैली में बदलाव करना एनजाइना के उपचार का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है। इसके लिए आप निम्नलिखित तरीकों को अपना सकते हैं :- 

  1. धूम्रपान न करें और सेकेंड हैंड धुएं के संपर्क में आने से बचें। यदि आपको छोड़ने में सहायता की आवश्यकता है, तो धूम्रपान बंद करने के उपचार के बारे में अपने स्वास्थ्य देखभाल प्रदाता से बात करें।

  2. नमक, संतृप्त (Satisfied) और ट्रांस वसा में कम और साबुत अनाज, फलों और सब्जियों से भरपूर स्वस्थ आहार लें। 

  3. अन्य स्वास्थ्य स्थितियों का प्रबंधन करें। मधुमेह, उच्च रक्तचाप और उच्च रक्त कोलेस्ट्रॉल एनजाइना का कारण बन सकते हैं।

  4. तनाव से राहत का अभ्यास करें। अधिक व्यायाम करना, माइंडफुलनेस का अभ्यास करना और सहायता समूहों में दूसरों के साथ जुड़ना भावनात्मक तनाव को कम करने के कुछ तरीके हैं।

  5. शराब से बचें या सीमित करें। यदि आप शराब पीने के आदि है, तो इसे संयम से करें। 

  6. व्यायाम करें और वजन प्रबंधित करें। एक सामान्य लक्ष्य के रूप में, हर दिन कम से कम 30 मिनट की मध्यम शारीरिक गतिविधि करने का लक्ष्य रखें। यदि आप अधिक वजन वाले हैं, तो अपने स्वास्थ्य देखभाल प्रदाता से सुरक्षित वजन घटाने के विकल्पों के बारे में बात करें। अपने स्वास्थ्य देखभाल प्रदाता से पूछें कि आपके लिए कौन सा वजन सबसे अच्छा है।

एनजाइना से बचाव कैसे किया जा सकता है? How can angina be prevented?

किसी भी रोग का इलाज करने से कहीं ज्यादा बेहतर है कि उससे बचाव किया जाए। एनजाइना जो कि एक दिल से जुड़ी बीमारी है इससे भी बड़ी आसानी से बचाव किया जा सकता है। एनजाइना से बचाव करने के लिए आप निम्नलिखित उपायों का अपना सकते हैं :- 


  1. सभी तरह के पौषक तत्वों और विटामिन युक्त आहार का सेवन करें, जिससे आपका हृदय हमेशा स्वस्थ बना रहे।

  2. अगर आप धुम्रपान करने के आदी है तो इसे छोड़ने का प्रयास करें या अगर नहीं करते हैं तो ऐसे में सेकंड हैण्ड स्मोकिंग से बचे।

  3. हर दिन योग या व्यायाम करें। इसके लिए आप रोजाना सैर कर सकते हैं या जिम भी जा सकते हैं।

  4. तनाव लेने से बचें। जीवन में कोई न कोई स्थिति आ ही जाती है जिसकी वजह से तनाव होना लाजमी है, ऐसे में कोशिश करें कि तनाव से जितना दूर रहा जाए उतना रहे। वहीं, आप इसके लिए ध्यान, संगीत और आहार को भी अपना सकते हैं। 

  5. अगर आप डायबिटीज, हाई ब्लड प्रेशर, हाई कोलेस्ट्रॉल और चयापचय सिंड्रोम जैसी समस्याओं से जूझ रहे हैं तो इन सभी स्थितियों को काबू में रखें। 

  6. अगर आप शराब, बियर या कोई अन्य प्रकार के नशीले उत्पाद का सेवन करते हैं तो सबसे बेहतर हैं कि आप उनसे दूरी बना कर रखें। अगर आपके लिए ऐसा करना संभव नहीं है तो इनकी मात्रा में कमी करना शुरू कर दें। 

अन्य उपायों के लिए आप अपने डॉक्टर से बात कर सकते हैं। वह आपको आपके स्वास्थ्य, जीवनशैली और निवास स्थान के आधार पर एनजाइना जैसे गंभीर हृदय रोग से दूर रहने के लिए ज्यादा मदद कर सकते हैं।


Get our Newsletter

Filter out the noise and nurture your inbox with health and wellness advice that's inclusive and rooted in medical expertise.

Your privacy is important to us

MEDICAL AFFAIRS

CONTENT INTEGRITY

NEWSLETTERS

© 2022 Medtalks