एक्यूट कोरोनरी सिंड्रोम क्या है | Acute Coronary Syndrome in Hindi

दिल से जुड़ी जितनी भी समस्याएँ है सभी गंभीर होती है, क्योंकि यह सभी जानलेवा होती है। एक्यूट कोरोनरी सिंड्रोम (Acute Coronary Syndrome) एक ऐसी स्थिति है जिसमें कोरोनरी आर्टरी (coronary artery) में रक्त का बहाव अचानक से ही कम हो जाता है। इस वजह से रक्त हृदय तक उचित मात्रा में नहीं पहुँच पाता। इस वजह से व्यक्ति को गई गंभीर समस्याओं का सामना करना पड़ता है, जिसमें स्ट्रोक (stroke), एंजाइना (angina) या फिर दिल का दौरा (heart attack) सबसे आम है। दिल तक रक्त का ठीक से नहीं पहुँच पाने की समस्या वैसे तो अचानक से होती है, लेकिन कई लोगों में यह समस्या आई जाती रहती है। दिल से जुड़ी यह समस्या यही धमनियां हृदय की मांसपेशियों को ऑक्सीजन और पोषक तत्व पहुंचाने का सबसे जरूरी काम करती है। हृदय की मांसपेशियों को अच्छी तरह से कार्य करने के लिए ऑक्सीजन युक्त रक्त के निरंतर आपूर्ति की आवश्यकता होती है। अगर दिल तक सही मात्रा में ऑक्सीजन युक्त रक्त न पहुंचे तो दिल की मांसपेशियां (heart muscles) की मृत्यु होना शुरू हो सकती है और ऐसी स्थिति में दिल का पड़ने की संभवना सबसे अधिक होती है।

एक्यूट कोरोनरी सिंड्रोम के लक्षण क्या है? What are the symptoms of acute coronary syndrome?

एक्यूट कोरोनरी सिंड्रोम के संकेत या लक्षण आमतौर पर अचानक से दिखाई देते हैं। कभी-कभी यक लक्षण बिना कीस चेतावनी के नज़र आते हैं तो किसी व्यक्ति में यह लक्षण पहले से ही संकेत देते हैं कि शरीर में खासकर दिल में कोई समस्या होने वाली है। एक्यूट कोरोनरी सिंड्रोम होने इसके लक्षण इसके प्रकार के आधार पर अलग हो सकते हैं, सामान्य रूप से इस समस्या के दौरान निम्नलिखित लक्षण दिखाई दे सकते हैं :- 

  1. सीने में दर्द या बेचैनी होना

  2. एक या दोनों बाहों, पीठ और जबड़े में दर्द होना 

  3. गर्दन या पेट में दर्द या बेचैनी

  4. सांस लेने में कठिनाई होना 

  5. चक्कर आना या हल्कापन महसूस होना

  6. लगातार खट्टी डकार आना 

  7. उल्टियाँ अथवा मितली आने की समस्या 

  8. सामान्य से ज्यादा पसीना आना

यह सभी लक्षण काफी गंभीर होते हैं, अगर यह लक्षण किसी व्यक्ति में दिखाई दे तो ऐसे में व्यक्ति को तुरंत आपातकालीन उपचार (emergency treatment) लेने की आवयश्कता होती है। इस दौरान पीड़ित को ध्यान रखना चाहिए उसे किसी ऐसे स्थान पर नहीं होना चाहिए जहाँ उसे सांस लेने में समस्या हो, इससे गंभीरता बढ़ सकती है। एक्यूट कोरोनरी सिंड्रोम के कारण सीने में दर्द बिना किसी चेतावनी के अचानक आ सकता है जो कि दिल के दौरे के दौरान होता है।

एओर्टिक डायसेक्शन के लक्षण, कारण, इलाज, दवा, उपचार और निदान 

एक्यूट कोरोनरी सिंड्रोम के कारण क्या है? What is the cause of acute coronary syndrome? 

एक्यूट कोरोनरी सिंड्रोम आमतौर पर कोरोनरी धमनियों (coronary arteries) की दीवारों पर और हृदय की मांसपेशियों को ऑक्सीजन और पोषक तत्व पहुंचाने वाली रक्त वाहिकाओं (blood vessels) में फैट जमा होने के कारण होता है।

जब एक पट्टिका जमा (plaque deposits) टूट जाती है या विभाजित हो जाती है, तो रक्त का थक्का (blood clot) बन जाता है। यह रक्त का थक्का हृदय की मांसपेशियों में रक्त के प्रवाह को रोकता है, जिसकी वजह से भी एक्यूट कोरोनरी सिंड्रोम होने का खतरा बना रहता है।  

जब कोशिकाओं को ऑक्सीजन की आपूर्ति बहुत कम होती है, तो हृदय की मांसपेशियों की कोशिकाएं मर सकती हैं। कोशिकाओं की मृत्यु होने के परिणामस्वरूप मांसपेशियों के ऊतकों को नुकसान होता है जो कि दिल का दौरा (मायोकार्डियल इंफार्क्शन myocardial infarction) हो सकता है, यह भी एक्यूट कोरोनरी सिंड्रोम का खतरा बढ़ा सकता है। 

यहां तक ​​​​कि जब कोई कोशिका मृत्यु (cell death) नहीं होती है, तब भी ऑक्सीजन में कमी के परिणामस्वरूप हृदय की मांसपेशियां उस तरह से काम नहीं करती हैं जैसी उन्हें करनी चाहिए। यह परिवर्तन अस्थायी या स्थायी हो सकता है। जब एक्यूट कोरोनरी सिंड्रोम के परिणामस्वरूप कोशिका मृत्यु (cell death) नहीं होती है, तो इसे अस्थिर एनजाइना (unstable angina) कहा जाता है।

एक्यूट कोरोनरी सिंड्रोम के कितने प्रकार हैं? How many types of Acute Coronary Syndrome are there? 

एक्यूट कोरोनरी सिंड्रोम या दिल के दौरे तीन प्रकार के होते हैं:

  1. एसटी खंड उन्नयन रोधगलन (एसटीईएमआई) ST segment elevation myocardial infarction (STEMI) 

  2. गैर-एसटी खंड उन्नयन रोधगलन (एनएसटीईएमआई) Non-ST segment elevation myocardial infarction (NSTEMI) 

  3. कोरोनरी ऐंठन, या अस्थिर एनजाइना Coronary spasm, or unstable angina

चलिए अब एक्यूट कोरोनरी सिंड्रोम के तीनों प्रकार के बारे में विस्तार से जानते हैं :- 

एसटीईएमआई या स्टेमी STEMI : आम या प्रमुख दिल का दौरा The classic or major heart attack 

जब ज्यादातर लोग दिल के दौरे के बारे में सोचते हैं, तो वह अक्सर एसटी खंड उन्नयन रोधगलन (एसटीईएमआई) के बारे में सोचते हैं। एक स्टेमी STEMI तब होता है जब कोरोनरी धमनी पूरी तरह से अवरुद्ध हो जाती है और मांसपेशियों के एक बड़े हिस्सें को उचित मात्रा में रक्त मिलना बंद हो जाता है। दिल के दौरे का यह प्रकार सबसे गंभीर परिमाणों का कारण बनता है। 

स्टेमी के लक्षण और संकेत

स्टेमी में छाती के बीच में दर्द होना सबसे आम या प्रमुख लक्षण होता है। सीने में इस बेचैनी को तेज दर्द के बजाय दबाव या जकड़न के रूप में वर्णित किया जा सकता है। एसटीईएमआई होने पर एक या दोनों हाथों या उनकी पीठ, गर्दन या जबड़े में दर्द हो सकता है। सीने में दर्द के साथ-साथ और भी कुछ अलग लक्षण दिखाई दे सकते हैं जो कि निम्नलिखित हैं :-

  1. जी मिचलाना

  2. सांस लेने में कठिनाई

  3. चिंता

  4. चक्कर

  5. ठंडे पसीने में टूटना

दिल के दौरे के लक्षण होने पर तुरंत चिकित्सा सहायता के लिए कॉल करें। अक्सर देखा जाता है कि दिल का दौरा पड़ने वाले ज्यादातर लोगों को मदद के लिए दो या दो घंटे से ज्यादा इंतजार करना पड़ता है। इस देरी के परिणामस्वरूप स्थायी हृदय क्षति या मृत्यु हो सकती है। ऐसे में रोगी को जल्द से जल्द सीपीआर CPR दिया जाना चाहिए जो कि रोगी को जल्द सहायता देने का सबसे अच्छा तरीका है। 

एनएसटीईएमआई दिल का दौरा NSTEMI heart attacks 

एसटीईएमआई या स्टेमि के विपरीत, प्रभावित कोरोनरी धमनी केवल एनएसटीईएमआई में आंशिक रूप से अवरुद्ध होती है। एक एनएसटीईएमआई इलेक्ट्रोकार्डियोग्राम (NSTEMI electrocardiogram) पर एसटी खंड (ST segment) में कोई बदलाव नहीं दिखाई देता।

कोरोनरी एंजियोग्राफी (coronary angiography) उस डिग्री को दिखाएगी जिस तक धमनी अवरुद्ध है। एक रक्त परीक्षण भी हाई ट्रोपोनिन प्रोटीन स्तर (high troponin protein level) दिखाएगा। जबकि ऐसे में दिल की क्षति कम हो सकती है, लेकिन एनएसटीईएमआई NSTEMI अभी भी एक गंभीर स्थिति है। 

कोरोनरी ऐंठन, या अस्थिर एनजाइना (CAS), साइलेंट हार्ट अटैक, या बिना रुकावट के दिल का दौरा Coronary spasm, or unstable angina (CAS), silent heart attack, or heart attack without blockage  

कोरोनरी धमनी की ऐंठन को कोरोनरी ऐंठन, अस्थिर एनजाइना या साइलेंट हार्ट अटैक के रूप में भी जाना जाता है। जब दिल में कोई कोशिका मृत्यु (cell death) नहीं होती है, तब भी ऑक्सीजन में कमी के परिणामस्वरूप हृदय की मांसपेशियां उस तरह से काम नहीं करती हैं जैसी उन्हें करनी चाहिए। सरल भाषा में कहा जाए तो जब हृदय की धमनियों में से एक इतनी सख्त हो जाए कि रक्त प्रवाह रुक जाए या बहुत कम हो जाए। यह परिवर्तन अस्थायी या स्थायी हो सकता है। जब एक्यूट कोरोनरी सिंड्रोम के परिणामस्वरूप कोशिका मृत्यु (cell death) नहीं होती है, तो इसे अस्थिर एनजाइना (unstable angina) कहा जाता है।

इसके लक्षण स्टेमि STEMI के सामान ही दिखाई दे सकते हैं, इसके साथ ही मांसपेशियों में दर्द होना और अपच होने की समस्या भी हो सकती है। केवल इमेजिंग और रक्त परीक्षण के परिणाम ही आपके डॉक्टर को बता सकते हैं कि क्या आपको साइलेंट हार्ट अटैक हुआ है। कोरोनरी धमनी की ऐंठन के दौरान कोई स्थायी क्षति नहीं होती है। जबकि साइलेंट हार्ट अटैक उतने गंभीर नहीं होते हैं, वह आपके दूसरे दिल के दौरे या अधिक गंभीर होने के जोखिम को बढ़ा सकते हैं। 

एक्यूट कोरोनरी सिंड्रोम के जोखिम कारक क्या है? What are the risk factors for acute coronary syndrome? 

एक्यूट या तीव्र कोरोनरी सिंड्रोम के जोखिम कारक अन्य प्रकार के हृदय रोग के समान ही होते हैं। एक्यूट कोरोनरी सिंड्रोम जोखिम कारकों में निम्नलिखित मुख्य रूप से शामिल है :-

  1. बढ़ती उम्र

  2. उच्च रक्त चाप की समस्या 

  3. हाई ब्लड कोलेस्ट्रॉल

  4. धूम्रपान करना

  5. शारीरिक गतिविधि की कमी

  6. अस्वास्थ्यकारी आहार Unhealthy diet 

  7. मोटापा या अधिक वजन

  8. मधुमेह (सभी प्रकार का मधुमेह)

  9. अक्सर सीने में दर्द बने रहना

  10. हृदय रोग या स्ट्रोक का पारिवारिक इतिहास

  11. गर्भावस्था के दौरान उच्च रक्त चाप, प्रीक्लेम्पसिया (preeclampsia) या मधुमेह का इतिहास

एक्यूट कोरोनरी सिंड्रोम की जांच कैसे की जाती है? How is acute coronary syndrome diagnosed?

यदि आपको एक्यूट कोरोनरी सिंड्रोम से जुड़े लक्षण महसूस हो रहे हैं तो ऐसे में आपको जल्द से जल्द नज़दीकी अस्पताल में आपातकालीन वार्ड (emergency ward) में मौजूद डॉक्टर को दिखाना चाहिए। इस गंभीर दिल की बीमारी का जल्द से जल्द उपचार शुरू करना काफी जरूरी है। एक्यूट कोरोनरी सिंड्रोम से जुड़े लक्षण दिखाई देने पर डॉक्टर आपको जल्द से जल्द निम्नलिखित जांच करवाने की सलाह दे सकते हैं :-

  • इलेक्ट्रोकार्डियोग्राम (ईसीजी) Electrocardiogram (ECG) :- रोगी की त्वचा से जुड़े इलेक्ट्रोड रोगी के दिल में विद्युत गतिविधि को मापते हैं। असामान्य या अनियमित आवेग (abnormal or irregular impulses) का मतलब यह हो सकता है कि ऑक्सीजन की कमी के कारण आपका दिल ठीक से काम नहीं कर रहा है। विद्युत संकेतों (electrical signals) में कुछ पैटर्न रुकावट के सामान्य स्थान को दिखा सकते हैं। परीक्षण कई बार दोहराया जा सकता है।

  • रक्त परीक्षण Blood test :- रक्त में कुछ एंजाइमों का पता लगाया जा सकता है यदि कोशिका मृत्यु के परिणामस्वरूप हृदय के ऊतकों को नुकसान तो नहीं हुआ है। एक सकारात्मक परिणाम दिल के दौरे का संकेत देता है। इस जांच की मदद से हृदय के ऊतकों को नुकसान के साथ-साथ इस बारे में भी बताया जा सकता है कि हृदय के कितने ऊतकों को नुकसान पहुंचा है।

उपरोक्त बताई गई दोनों जांच रोगी में लक्षण के दिखाई देने पर तुरंत किये जाते हैं ताकि जल्द से जल्द उचित उपचार शुरू किया जा सके। इन जांचों की मदद से डॉक्टर इस बारे में भी जानने की कोशिश कर सकते हैं कि रोगी की स्थिति को दिल का दौरा या अस्थिर एनजाइना के रूप में वर्गीकृत किया जा सकता है या नहीं।

रोगी की स्थिति के बारे में अधिक जानने, लक्षणों के अन्य कारणों का पता लगाने, या डॉक्टर रोगी को उचित और सटीक उपचार देने के लिए निम्न वर्णित अन्य जांच करवाने के लिए भी कह सकते हैं :-

कोरोनरी एंजियोग्राम Coronary angiogram :- यह प्रक्रिया रोगी के हृदय की रक्त वाहिकाओं को देखने के लिए एक्स-रे इमेजिंग का उपयोग करती है। एक लंबी, छोटी ट्यूब (कैथेटर) को एक धमनी के माध्यम से पिरोया जाता है, आमतौर पर आपकी बांह या कमर में, आपके हृदय की धमनियों तक। एक डाई ट्यूब के माध्यम से रोगी की धमनियों में प्रवाहित होती है। एक्स-रे की एक श्रृंखला दिखाती है कि डाई आपकी धमनियों से कैसे गुजरती है, किसी भी रुकावट या संकुचन को प्रकट करती है। कैथेटर का उपयोग उपचार के लिए भी किया जा सकता है।

इकोकार्डियोग्राम Echocardiogram :- एक इकोकार्डियोग्राम रोगी के दिल की एक जीवंत छवि बनाने के लिए, एक छड़ी जैसी डिवाइस से रोगी के दिल में निर्देशित ध्वनि तरंगों का उपयोग करता है। एक इकोकार्डियोग्राम यह निर्धारित करने में मदद कर सकता है कि हृदय सही ढंग से पंप कर रहा है या नहीं। 

मायोकार्डियल परफ्यूजन इमेजिंग Myocardial perfusion imaging :- यह परीक्षण दिखाता है कि रोगी के हृदय की मांसपेशियों में रक्त कितनी अच्छी तरह बहता है। रेडियोधर्मी पदार्थ की एक छोटी, सुरक्षित मात्रा को रोगी के रक्त में अंतःक्षिप्त किया जाता है। एक विशेष कैमरा आपके हृदय से पदार्थ के पथ की तस्वीरें लेता है। वह रोगी के डॉक्टर को दिखाते हैं कि क्या हृदय की मांसपेशियों से पर्याप्त रक्त बह रहा है और जहां रक्त प्रवाह कम हो गया है। 

कम्प्यूटरीकृत टोमोग्राफी (सीटी) एंजियोग्राम Computerized tomography (CT) angiogram :- एक सीटी एंजियोग्राम एक विशेष एक्स-रे तकनीक का उपयोग करता है जो रोगी के दिल की कई छवियां - क्रॉस-सेक्शनल 2-डी स्लाइस - उत्पन्न कर सकता है। यह छवियां संकुचित या अवरुद्ध कोरोनरी धमनियों का पता लगा सकती हैं।

तनाव परीक्षण Stress test :- एक तनाव परीक्षण से पता चलता है कि जब आप व्यायाम करते हैं तो आपका दिल कितनी अच्छी तरह काम करता है। कुछ मामलों में, आपको व्यायाम करने के बजाय हृदय गति बढ़ाने के लिए दवा दी जा सकती है। यह परीक्षण तभी किया जाता है जब रोगी आराम के समय तीव्र कोरोनरी सिंड्रोम या किसी अन्य जीवन-धमकी देने वाली हृदय स्थिति के कोई संकेत नहीं होते हैं। तनाव परीक्षण के दौरान, एक ईसीजी, इकोकार्डियोग्राम या मायोकार्डियल परफ्यूजन इमेजिंग का उपयोग यह देखने के लिए किया जा सकता है कि रोगी का दिल कितनी अच्छी तरह काम करता है। 

एक्यूट कोरोनरी का उपचार कैसे किया जाता है? How is Acute Coronary Treated?

एक्यूट कोरोनरी सिंड्रोम का उपचार जल्द से जल्द किया जाता है, जिसमें मुख्य रूप से निम्नलिखित शामिल है ;-

  1. सीपीआर दें – ताकि सांस लेने में समस्या न हो और साथ ही दिल फिर से काम करने लगे

  2. दर्द और परेशानी को दूर करें

  3. रक्त प्रवाह में सुधार लाएं 

  4. जितनी जल्दी हो सके दिल की कार्यप्रणाली को बहाल करें

  5. रोगी को खुलें में लेकर जाएं, ताकि उन्हें सांस लेने में कोई समस्या न हो 

  6. रक्त के थक्के को रोकने के लिए एस्पिरिन दें (यह डॉक्टर की सलाह के बिना न दें)

अगर उपचार लंबे समय तक चले तो समग्र हृदय क्रिया (overall heart function) को सुचारू करने में काफी मदद मिलती है, जिससे दिल के दौरे के जोखिम को कम किया जा सकता है। इसमें दवाएं और सर्जरी दोनों मुख्य रूप से शामिल है। 

दवाएं Medications

रोगी की शारीरिक स्थिति के आधार पर आपातकालीन या लगातार चलने वाले उपचार में निम्नलिखित दवाएं शामिल हो सकती है :-

  1. थ्रोम्बोलाइटिक्स (थक्का बस्टर) Thrombolytics (clot busters) एक रक्त के थक्के को दूर करने में मदद करता है जो कि धमनी को अवरुद्ध कर रहा है।

  2. नाइट्रोग्लिसरीन (Nitroglycerin) रक्त वाहिकाओं को अस्थायी रूप से चौड़ा करके रक्त प्रवाह में सुधार करता है।

  3. एंटीप्लेटलेट दवाएं (Antiplatelet drugs) रक्त के थक्कों को बनने से रोकने में मदद करती हैं और इसमें एस्पिरिन, क्लोपिडोग्रेल (प्लाविक्स), प्रसुग्रेल (एफ़िएंट) और अन्य दवाएं शामिल हैं।

  4. बीटा ब्लॉकर्स (Beta blockers) रोगी के हृदय की मांसपेशियों को आराम देने और रोगी की हृदय गति को धीमा करने में मदद करते हैं। वह दवाएं रोगी के दिल और निम्न रक्तचाप को ठीक करने में मदद करते हैं। उदाहरणों में मेटोप्रोलोल (लोप्रेसर, टोप्रोल-एक्सएल) और नाडोलोल (कॉर्गार्ड) शामिल हैं।

  5. एंजियोटेंसिन-परिवर्तित एंजाइम (एसीई) अवरोधक (Angiotensin-converting enzyme (ACE) inhibitors) रक्त वाहिकाओं को चौड़ा करते हैं और रक्त प्रवाह में सुधार करते हैं, जिससे हृदय बेहतर काम करता है। इनमें लिसिनोप्रिल (प्रिंसिल, ज़ेस्ट्रिल), बेनाज़िप्रिल (लोटेंसिन) और अन्य शामिल हैं।

  6. एंजियोटेंसिन रिसेप्टर ब्लॉकर्स (ARBs) (Angiotensin receptor blockers (ARBs) रक्तचाप को नियंत्रित करने में मदद करते हैं और इन दवाओं में मुख्य रूप से इर्बेसार्टन irbesartan (Avapro), लोसार्टन losartan (Cozaar) और कई अन्य शामिल हैं।

  7. स्टैटिन (Statins) रक्त में चलने वाले कोलेस्ट्रॉल की मात्रा को कम करते हैं और पट्टिका जमा को स्थिर कर सकते हैं, जिससे उनके टूटने की संभावना कम हो जाती है। स्टैटिन में एटोरवास्टेटिन (लिपिटर), सिमवास्टेटिन (ज़ोकोर, फ्लोलिपिड) और कई अन्य शामिल हैं।

सर्जरी और अन्य प्रक्रियाएं Surgery and other procedures

रोगी का डॉक्टर रोगी के हृदय की मांसपेशियों में रक्त के प्रवाह को बहाल करने के लिए इनमें से किसी एक प्रक्रिया की सिफारिश कर सकता है:

एंजियोप्लास्टी और स्टेंटिंग Angioplasty and stenting :- इस प्रक्रिया में, रोगी का डॉक्टर रोगी की धमनी के अवरुद्ध या संकुचित हिस्से में एक लंबी, छोटी ट्यूब (कैथेटर) डालता है। एक डिफ्लेटेड बैलून के साथ एक तार कैथेटर के माध्यम से संकुचित क्षेत्र में पारित किया जाता है। फिर गुब्बारा फुलाया जाता है, आपकी धमनी की दीवारों के खिलाफ पट्टिका जमा को संपीड़ित करके धमनी को खोलता है। धमनी को खुला रखने में मदद करने के लिए आमतौर पर धमनी में एक जालीदार ट्यूब (स्टेंट) छोड़ी जाती है।

कोरोनरी बाईपास सर्जरी Coronary bypass surgery :- इस प्रक्रिया के साथ, एक सर्जन रोगी के शरीर के दूसरे हिस्से से रक्त वाहिका (ग्राफ्ट) का एक टुकड़ा लेता है और रक्त के लिए एक नया मार्ग बनाता है जो एक अवरुद्ध कोरोनरी धमनी के आसपास (बाईपास) जाता है। 

एक्यूट कोरोनरी सिंड्रोम से बचाव कैसे किया जाता है? How is acute coronary syndrome prevented?

अपने आप को दिल से जुड़ी हर छोटी-बड़ी समस्या से बचा कर रखने के लिए आपको सबसे पहले अपनी जीवनशैली में बदलाव करने की कोशिश करनी चाहिए। इसके लिए आप निम्नलिखित उपाय अपना सकते हैं :-

धूम्रपान न करें Don't smoke :-  यदि आप धूम्रपान करते हैं, तो छोड़ दें। अगर आपको छोड़ने में मदद चाहिए तो अपने डॉक्टर से बात करें। साथ ही सेकेंड हैंड स्मोकिंग से भी बचें।

दिल से स्वस्थ आहार लें Eat a heart-healthy diet :- बहुत सारे फल और सब्जियां, साबुत अनाज, और मध्यम मात्रा में कम वसा वाले डेयरी और लीन मीट वाला आहार लें।

सक्रिय रहें Be active :- नियमित व्यायाम करें और शारीरिक रूप से सक्रिय रहें। यदि आप नियमित रूप से व्यायाम नहीं कर रहे हैं, तो स्वस्थ और सुरक्षित दिनचर्या शुरू करने के लिए सर्वोत्तम व्यायाम के बारे में अपने डॉक्टर से बात करें।

अपने कोलेस्ट्रॉल की जाँच करें Check your cholesterol :- अपने डॉक्टर के कार्यालय में नियमित रूप से अपने रक्त कोलेस्ट्रॉल के स्तर की जाँच करवाएँ। उच्च वसा, उच्च कोलेस्ट्रॉल वाले मांस और डेयरी उत्पाद से बचें। यदि आपके डॉक्टर ने एक स्टेटिन या अन्य कोलेस्ट्रॉल कम करने वाली दवा निर्धारित की है, तो इसे अपने डॉक्टर के निर्देशानुसार रोजाना लें।

अपने रक्तचाप को नियंत्रित करें Control your blood pressure :- अपने चिकित्सक की सलाह के अनुसार नियमित रूप से अपने रक्त चाप की जांच करवाएं। अगर डॉक्टर ने दवाएं लेने की सलाह दी है तो उनकी सलाह के अनुसार ही दवाएं लें।

स्वस्थ वजन बनाए रखें Maintain a healthy weight :- अधिक वजन आपके दिल पर दबाव डालता है और उच्च कोलेस्ट्रॉल, उच्च रक्तचाप, मधुमेह, हृदय रोग और अन्य स्थितियों को बढ़ाने में मदद कर सकता है, ऐसे में आपकी समस्याएँ पहले के मुकाबले ज्यादा बढ़ सकती है। 

तनाव का प्रबंधन करें Manage stress :- अपने दिल के दौरे के जोखिम को कम करने के लिए, अपनी दिन-प्रतिदिन की गतिविधियों में तनाव कम करें। काम की आदतों पर पुनर्विचार करें और अपने जीवन में तनावपूर्ण घटनाओं को कम करने या उनसे निपटने के लिए स्वस्थ तरीके खोजें। यदि आपको तनाव प्रबंधन में सहायता की आवश्यकता हो तो अपने चिकित्सक या मानसिक स्वास्थ्य देखभाल पेशेवर से बात करें।

मॉडरेशन में शराब पिएं Drink alcohol in moderation :- यदि आप शराब पीते हैं, तो इतनी मात्रा में पिये। दिन में एक से दो से अधिक मादक पेय पीने से आपका रक्त चाप (blood pressure) बढ़ सकता है।  

Get our Newsletter

Filter out the noise and nurture your inbox with health and wellness advice that's inclusive and rooted in medical expertise.

Your privacy is important to us

MEDICAL AFFAIRS

CONTENT INTEGRITY

NEWSLETTERS

© 2022 Medtalks