सडन इन्फेंट डेथ सिंड्रोम क्या है? कारण, लक्षण और इलाज | SIDS in Hindi

सडन इन्फेंट डेथ सिंड्रोम क्या है? What is Sudden Infant Death Syndrome (SIDS)?

आकस्मिक नवजात मृत्यु सिंड्रोम यानि सडन इन्फेंट डेथ सिंड्रोम –  एसआईडीएस (Sudden infant death syndrome – SIDS) 1 वर्ष से कम उम्र के बच्चे की अचानक और अस्पष्टीकृत मौत है। एसआईडीएस को कभी-कभी पालना मौत (crib death) कहा जाता है। ऐसा इसलिए है क्योंकि मृत्यु तब हो सकती है जब बच्चा पालने में सो रहा हो। SIDS 1 महीने से 1 वर्ष तक के बच्चों में मृत्यु के प्रमुख कारणों में से एक है। यह ज्यादातर 2 से 4 महीने के बीच होता है। SIDS और अन्य प्रकार की नींद से संबंधित शिशु मृत्यु में समान जोखिम कारक होते हैं। 


सडन इन्फेंट डेथ सिंड्रोम के कारण क्या हैं? What are the causes of Sudden Infant Death Syndrome?

शारीरिक और नींद के पर्यावरणीय कारकों का संयोजन शिशु को सडन इन्फेंट डेथ सिंड्रोम (SIDS) के प्रति अधिक संवेदनशील बना सकता है। ये कारक बच्चे से बच्चे में भिन्न होते हैं। हालाँकि शोधकर्ताओं को SIDS के सटीक कारण का पता नहीं है। अध्ययनों से पता चला है कि SIDS से मरने वाले कुछ शिशुओं में निम्नलिखित होते हैं :-

भौतिक कारक (Physical factors)

SIDS से जुड़े भौतिक कारणों में निम्नलिखित शामिल हो सकते हैं :-

  1. मस्तिष्क दोष (Brain defects) :- कुछ शिशु ऐसी समस्याओं के साथ पैदा होते हैं जिससे उनके SIDS से मरने की संभावना अधिक हो जाती है। इनमें से कई शिशुओं में, मस्तिष्क का वह हिस्सा जो नींद से सांस लेने और उत्तेजना को नियंत्रित करता है, ठीक से काम करने के लिए पर्याप्त परिपक्व नहीं हुआ है।

  2. जन्म के समय कम वजन (Low birth weight) :- समय से पहले जन्म या एक साथ एक से ज्यादा बच्चों का जन्म होने से अक्सर बच्चों का वजन कम होता है जो कि सडन इन्फेंट डेथ सिंड्रोम की संभावना को बढ़ाता है। ऐसी स्थिति में न केवल शिशु का वजन कम होता है बल्कि बच्चे का मस्तिष्क पूरी तरह से विकसित नहीं हुआ होता, जिसके कारण सांस लेने और हृदय गति जैसी स्वचालित प्रक्रियाओं पर उसका कम नियंत्रण होता है।

  3. श्वसन संक्रमण (Respiratory infection) :- अगर किसी कारण से बच्चे को सांस से जुड़ी कोई समस्या या श्वसन संक्रमण है तो ऐसे में एसआईडीएस (SIDS) का खतरा बढ़ता है। उदाहरण के लिए सर्दी, जुखाम और निमोनिया (Pneumonia) इसके बड़े कारण हो सकते हैं। 

नींद के पर्यावरणीय कारक (Sleep environmental factors) 

शिशु के पालने में मौजूद चीजें और उसके सोने की स्थिति शिशु की शारीरिक समस्याओं के साथ मिलकर SIDS का खतरा बढ़ा सकती है। इसके उदाहरणों में निम्नलिखित शामिल हो सकते हैं :-

  1. पेट या बाजू के बल सोना (Sleeping on the stomach or side) :- इन स्थितियों में सोने के लिए रखे गए शिशुओं को उनकी पीठ पर रखे लोगों की तुलना में सांस लेने में अधिक कठिनाई हो सकती है।

  2. मुलायम सतह पर सोना (Sleeping on a soft surface) :- एक ज्यादा कम्फ़र्टर, नरम गद्दे या पानी के बिस्तर (water bed) पर सोने से शिशु के वायुमार्ग में अवरोध पैदा हो सकता है, जिसकी वजह से शिशु की मौत हो सकती है। इसलिए शिशु का बिस्तर ज्यादा नर्म नहीं होना चाहिए। 

  3. पालतू जानवर या बीमार व्यक्ति के साथ बिस्तर साझा करना (Sharing a bed with a pet or sick person) :- यदि आप अपने शिशु को अपने पालतू जानवर या किसी ऐसे के साथ सुलाते हैं जो बीमार है तो ऐसे में शिशु को संक्रमण होने की आशंका बढ़ जाती है। वहीं, इस उम्र में बच्चे का इम्यून सिस्टम न केवल कमजोर होता है बल्कि पूरी तरह से विकसित भी नहीं होता, ऐसे में वह बड़ी तेजी से बीमार हो सकते हैं। उदहारण के लिए, यदि आप बच्चे के आसपास छींकते या खास्ते हैं तो बच्चे को भी यह समस्या हो जाती है। 

  4. ज़्यादा गरम होना (Overheating) :- सोते समय बहुत अधिक गर्म रहने से बच्चे में SIDS का खतरा बढ़ सकता है। इसलिए सोते समय बच्चे के कमरे को ज्यादा गर्म न रखें। 

सडन इन्फेंट डेथ सिंड्रोम के लक्षण क्या हैं? What are the symptoms of Sudden Infant Death Syndrome?

सडन इन्फेंट डेथ सिंड्रोम (SIDS) के कोई लक्षण या चेतावनी संकेत नहीं हैं जिनकी पहचान कर इस भयावह स्थिति को होने से रोका जा सके। 

सडन इन्फेंट डेथ सिंड्रोम के जोखिम कारक क्या है? What are the risk factors for Sudden Infant Death Syndrome?

हालांकि आकस्मिक नवजात मृत्यु सिंड्रोम यानि सडन इन्फेंट डेथ सिंड्रोम किसी भी शिशु को प्रभावित कर सकता है, शोधकर्ताओं ने कई कारकों की पहचान की है जो बच्चे के जोखिम को बढ़ा सकते हैं, जिसमें निम्नलिखित शामिल हैं :-

  1. लिंग (Sex) :- लड़कों में SIDS से मरने की संभावना थोड़ी अधिक होती है।

  2. आयु (Age) :- जीवन के दूसरे और चौथे महीने के बीच शिशु सबसे कमजोर होते हैं और इस दौरान इस आकस्मिक घटना का जोखिम बढ़ता है।

  3. पारिवारिक इतिहास (Family history) :- जिन बच्चों के भाई-बहन या चचेरे भाई SIDS से मरते हैं, उनमें SIDS का खतरा अधिक होता है।

  4. सेकंड हैंड स्मोकिंग (Second-hand smoke) :- स्मोकिंग के दौरान छोड़ा जाने वाला धुआं सांस के द्वारा दूसरों के भीतर जाता है। धूम्रपान करने वालों के साथ रहने वाले शिशुओं में SIDS का खतरा अधिक होता है।

  5. समय से पहले जन्म होना (Being premature) :- जल्दी जन्म लेना और जन्म के समय कम वजन होना दोनों ही आपके बच्चे में SIDS की संभावना को बढ़ा देते हैं।

मातृ जोखिम कारक (Maternal risk factors)

गर्भावस्था के दौरान, माँ अपने बच्चे के SIDS के जोखिम को भी प्रभावित करती है, खासकर यदि वह निम्न स्थितियों में हैं :-

  1. माँ की आयु 20 से कम है 

  2. धुम्रपान करती है 

  3. ड्रग्स (drugs) या अल्कोहल (Alcohol)का उपयोग करती है

  4. अपर्याप्त प्रसव पूर्व देखभाल होना 

  5. शिशु को ठीक से स्तनपान न करवाने से 

  6. जन्म से पहले यदि माँ ने ज्यादा दवाओं का सेवन किया हो 

  7. जन्म से पहले या बाद में ठीक से आहार न लेने पर 

सडन इन्फेंट डेथ सिंड्रोम का इलाज कैसे किया जाता है? How is Sudden Infant Death Syndrome treated?

सडन इन्फेंट डेथ सिंड्रोम के लिए कोई विशिष्ट उपचार नहीं है।  

क्या सडन इन्फेंट डेथ सिंड्रोम को रोका जा सकता है? Can Sudden Infant Death Syndrome be prevented?

यह बताने का कोई तरीका नहीं है कि कौन से बच्चे SIDS से मरेंगे, जिसका मतलब है कि इसके लिए कोई बचाव उपाय नहीं है। लेकिन SIDS और नींद से संबंधित अन्य मौतों के लिए ज्ञात जोखिम कारकों को निम्न द्वारा नियंत्रित किया जा सकता है:-

  1. प्रसव पूर्व देखभाल प्राप्त करना (Getting prenatal care) :- प्रारंभिक और नियमित प्रसव पूर्व देखभाल SIDS के जोखिम को कम करने में मदद कर सकती है। आपको स्वस्थ आहार का भी पालन करना चाहिए और गर्भवती होने पर धूम्रपान या नशीली दवाओं या शराब का उपयोग नहीं करना चाहिए। ये चीजें समय से पहले या कम वजन के बच्चे के जन्म की संभावना को कम कर सकती हैं। समय से पहले या जन्म के समय कम वजन वाले बच्चों में SIDS होने का खतरा अधिक होता है। 

  2. बच्चों को सोने और झपकी लेने के लिए उनकी पीठ पर लिटाना (Putting babies on their back for sleep and naps) :- शिशुओं को 1 वर्ष की आयु तक सभी सोने के लिए उनकी पीठ पर रखा जाना चाहिए। अपने बच्चे को सोने या झपकी लेने के लिए उसकी तरफ या पेट के बल न लिटाएं।

  3. जागते समय शिशुओं को अन्य स्थितियों में रखना (Putting babies in other positions while they are awake) :- अपने बच्चे को अन्य स्थितियों में रखने से आपके बच्चे को मजबूत होने में मदद मिलती है। यह आपके बच्चे को गलत आकार का सिर होने से रोकने में भी मदद करता है। 

  4. उचित बिस्तर का उपयोग करना (Using proper bedding) :- आपके बच्चे को एक सख्त गद्दे या फिट की गई चादर से ढकी अन्य ठोस सतह पर सोना चाहिए। ज्यादा आरामदायक कंबल या नर्म बिस्तर का प्रयोग न करें। अपने बच्चे को पानी के बिस्तर, सोफे, चर्मपत्र, तकिए या अन्य नरम सामग्री पर सोने न दें। जब आपका बच्चा 1 साल से छोटा हो, तो उसके पालना में मुलायम खिलौने, तकिए या बंपर पैड न रखें।

  5. अति ताप नहीं (Not overheating) :- अपने बच्चे को गर्म रखें लेकिन ज्यादा गर्म न करें। आपके बच्चे के कमरे का तापमान आपको सहज महसूस करना चाहिए। बच्चे के चेहरे या सिर को ओवरबंडलिंग, ओवरड्रेसिंग या ढकने से बचें।

  6. बिस्तर साझा नहीं करना (Not sharing a bed) :- अपने बच्चे को अन्य बच्चों के साथ बिस्तर पर न सुलाएं। अपने बच्चे को अकेले या किसी अन्य व्यक्ति के साथ सोफे पर न सुलाएं। अपने बच्चे के साथ अपना बिस्तर साझा न करें, खासकर यदि आप शराब या अन्य नशीली दवाओं का सेवन कर रहे हैं। आप अपने बच्चे को दूध पिलाने और आराम देने के लिए अपने बिस्तर पर ला सकती हैं। लेकिन अपने बच्चे को सोने के लिए पालना में लौटा दें। जुड़वाँ या अन्य गुणकों के लिए बिस्तर साझा करने की भी सिफारिश नहीं की जाती है। यदि घर में कोई पालतू जानवर है तो ऐसे में बच्चे को उससे भी दूर रखना चाहिए। 

  7. अपने बच्चे के आसपास धूम्रपान न करने दें (Not allowing smoking around your baby) :- जिन शिशुओं की माताएँ गर्भावस्था के दौरान धूम्रपान करती हैं, उनमें SIDS का खतरा अधिक होता है। जब आप गर्भवती हों तो धूम्रपान न करें और अपने बच्चे के आसपास किसी को भी धूम्रपान न करने दें। धूम्रपान के संपर्क में आने वाले शिशुओं और छोटे बच्चों को सर्दी और अन्य बीमारियां अधिक होती हैं। उन्हें SIDS का खतरा भी अधिक होता है।

  8. अपने बच्चे को चेकअप और टीके के लिए ले जाना (Taking your baby for check-up’s and vaccines) :- यदि आपका नवजात शिशु बीमार लगता है, तो अपने शिशु के स्वास्थ्य सेवा प्रदाता यानि डॉक्टर को फोन करें। अपने बच्चे को नियमित रूप से स्वस्थ शिशु जांच और नियमित शॉट्स के लिए ले जाएं। कुछ अध्ययनों से पता चलता है कि आपके बच्चे को पूरी तरह से टीका लगाने से SIDS का खतरा कम होता है।

  9. अपने बच्चे को स्तनपान कराना (Breastfeeding your baby) :- अपने बच्चे को कम से कम 6 महीने तक सिर्फ अपना दूध ही दें। इसका मतलब है कि कोई पानी, मीठा पानी या फॉर्मूला नहीं है, जब तक कि आपके बच्चे का स्वास्थ्य सेवा प्रदाता आपको ऐसा करने के लिए न कहे। यह SIDS और कई अन्य स्वास्थ्य समस्याओं के जोखिम को कम करता है।

  10. हमेशा क्रिब्स, बासीनेट और प्ले यार्ड को खतरे से मुक्त क्षेत्रों में रखना (Always placing cribs, bassinets, and play yards in hazard-free areas) :- सुनिश्चित करें कि आस-पास कोई लटके हुए तार या खिड़की के पर्दे नहीं हैं। इससे गला घोंटने का खतरा कम हो जाता है।  

इस संबंध में अधिक जानकारी और विशेष सलाह के लिए आप अपने डॉक्टर से भी जरूर बात करें। 


Subscribe To Our Newsletter

Filter out the noise and nurture your inbox with health and wellness advice that's inclusive and rooted in medical expertise.

Subscribe Now   

Medtalks is India's fastest growing Healthcare Learning and Patient Education Platform designed and developed to help doctors and other medical professionals to cater educational and training needs and to discover, discuss and learn the latest and best practices across 100+ medical specialties. Also find India Healthcare Latest Health News & Updates on the India Healthcare at Medtalks