फ्रांस में खोजा गया 'IHU' नाम का नया कोरोना वेरिएंट

इस समय लगभग पूरी दुनिया कोरोना के नए वेरिएंट ओमिक्रोन के प्रकोप से जूझ रही है और इसे समझने की कोशिश कर रही है। लेकिन इसी बीच कोरोना के एक नए वेरिएंट  'IHU' के बारे में जानकारी मिली है। कोरोना के इस नए वेरिएंट की पहचान फ़्रांस के वैज्ञानिकों ने की है। फ़्रांस के वैज्ञानिकों और विशेषज्ञों के अनुसार कोरोना का यह नया वेरिएंट ओमिक्रोन से भी ज्यादा खतरनाक है और इससे लोगों को ज्यादा समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है। 

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, कोरोना का यह नया वेरिएंट IHU फ़्रांस के मार्सिले (Marseilles) के पास पाया गया है। मार्सिले में कोरोना के कोरोना के इस वेरिएंट से करीब 12 लोग संक्रमित मिले हैं। फ़िलहाल इस वेरिएंट को अफ्रीकी देश कैमरून से जोड़ा गया है। 

B.1.640.2 या IHU वेरिएंट को सबसे पहले संस्थान IHU Mediterrane Infection में शिक्षाविदों द्वारा पहचाना गया था और इसमें 46 उत्परिवर्तन (mutation) शामिल हैं, जो कि ओमिक्रोन से अधिक है। फिलाहल ओमिक्रोन में अब तक 36 उत्परिवर्तन (mutation) ही मिले हैं। यह टीकों को बायपास भी कर सकता है। IHU वेरिएंट 10 दिसंबर को पहली बार फ्रांस में सामने आया था, तभी से वैज्ञानिक शोध कर रहे हैं।

यह नया संस्करण एक बड़ा खतरा हो सकता है, हालांकि, फ्रांस के अलावा अन्य देशों में अब तक मामले दर्ज नहीं किए गए हैं और विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) द्वारा 'जांच के तहत वेरिएंट' के रूप में लेबल नहीं किया गया है।

medRxiv पर पोस्ट किए गए एक पेपर के अनुसार, नेक्स्ट जनरेशन के सीक्वेंसिंग द्वारा ऑक्सफ़ोर्ड नैनोपोर टेक्नोलॉजीज के साथ ग्रिडियन इंस्ट्रूमेंट्स पर जीनोम पाए गए। इसमें आगे कहा गया है कि म्यूटेशन के कारण 14 अमीनो एसिड सब्स्टीट्यूशन और 9 अमीनो एसिड डिलीशन हुए – जो स्पाइक प्रोटीन में मौजूद हैं।

फिलहाल, संक्रमितों में IHU वेरिएंट के कोई गंभीर लक्षण सामने नहीं आए हैं, लेकिन यह दवा किया जा रहा है कि यह बाकी कोरोना वेरिएंट से सबसे ज्यादा गंभीर होने वाला है और यह ओमिक्रोन से भी तेजी से बढ़ेगा। 


बच्चों को मिलेगी कोवैक्सिन

Get our Newsletter

Filter out the noise and nurture your inbox with health and wellness advice that's inclusive and rooted in medical expertise.

Your privacy is important to us

MEDICAL AFFAIRS

CONTENT INTEGRITY

NEWSLETTERS

© 2022 Medtalks