एपिग्लोटाइटिस क्या है? कारण, लक्षण और इलाज | Epiglottitis in Hindi

एपिग्लोटाइटिस क्या है? What is epiglottitis?

एपिग्लोटाइटिस आपके एपिग्लॉटिस (epiglottis) की सूजन है। आपकी एपिग्लॉटिस आपकी जीभ के आधार के पास उपास्थि का एक पतला प्रालंब (flap) है। जब आप निगलते हैं तो यह भोजन और तरल पदार्थ को आपकी श्वासनली (trachea) में जाने से रोकता है।

आप इसके लिए "एक्यूट एपिग्लोटाइटिस" (acute epiglottitis) शब्द भी सुन सकते हैं। यह सांस लेने और निगलने में कठिनाई सहित लक्षणों की अचानक और एक्यूट शुरुआत को संदर्भित करता है।

एपिग्लोटाइटिस किसे प्रभावित करता है? Who does epiglottitis affect?

एपिग्लोटाइटिस किसी भी उम्र के लोगों को प्रभावित कर सकता है। यह पुरुषों को प्रभावित करता है और लोगों को जन्म के समय पुरुष (एएमएबी) महिलाओं की तुलना में अधिक होता है और लोगों को जन्म के समय महिला (एएफएबी) को 2.5 से 1 की दर से सौंपा जाता है।

एपिग्लोटाइटिस के विशिष्ट संकेत और लक्षण क्या हैं? What are the typical signs and symptoms of epiglottitis?

एपिग्लोटाइटिस के लक्षण आमतौर पर अचानक दिखाई देते हैं और जल्दी खराब हो जाते हैं। कभी-कभी, बड़े बच्चों और वयस्कों में लक्षणों को पूरी तरह से विकसित होने में कुछ दिन लग सकते हैं। सबसे आम एपिग्लोटाइटिस लक्षणों में निम्नलिखित शामिल हैं :-

  1. गंभीर गले में खराश।

  2. निगलने में कठिनाई और दर्द (बड़े बच्चों और वयस्कों में एक मुख्य लक्षण)।

  3. सांस लेने में कठिनाई (बच्चों में एक मुख्य लक्षण)।

  4. असामान्य या ऊँची-ऊँची साँस लेने की आवाज़ (बच्चों में एक मुख्य लक्षण)।

  5. कर्कशता या दबी हुई आवाज।

  6. 100.4 डिग्री फ़ारेनहाइट (38 डिग्री सेल्सियस) या इससे अधिक का बुखार।

  7. चिड़चिड़ापन।

  8. बेचैनी।

  9. ड्रोलिंग यानि लार टपकना (drooling) (बड़े बच्चों और वयस्कों में एक मुख्य लक्षण)।

एपिग्लोटाइटिस के 4 डीएस क्या हैं?

हेल्थकेयर प्रदाता कभी-कभी सबसे आम एपिग्लोटाइटिस लक्षणों को "4 डीएस" के रूप में संदर्भित करते हैं जो कि निम्न हैं :-

  1. डिस्पैगिया (dysphagia) :- निगलने में कठिनाई।

  2. डिस्फोनिया (dysphonia) :- कर्कशता या एक असामान्य आवाज।

  3. लार टपकना (drooling) :- जब आपके मुंह से अनैच्छिक रूप से लार निकलती है।

  4. संकट (Distress) :- सांस लेने में कठिनाई या ऑक्सीजन की कमी।

एपिग्लोटाइटिस के क्या कारण हैं? What are the causes of epiglottitis?

ज्यादातर मामलों में, हीमोफिलस इन्फ्लुएंजा टाइप बी (हिब) बैक्टीरिया (Haemophilus influenzae type b (Hib) bacteria) एपिग्लोटाइटिस का कारण बनता है। इसे कभी-कभी एक्यूट बैक्टीरियल एपिग्लोटाइटिस (acute bacterial epiglottitis) कहा जाता है। हिब बैक्टीरिया से निमोनिया और मैनिंजाइटिस भी हो सकता है। इसके अन्य संभावित एपिग्लॉटिस कारणों में निम्न शामिल हैं :-

  1. गैर-हिब स्रोतों से जीवाणु संक्रमण, जैसे कि स्ट्रेप्टोकोकस निमोनिया (Streptococcus pneumoniae) से।

  2. फंगल संक्रमण (fungal infection), विशेष रूप से कमजोर प्रतिरक्षा प्रणाली (immune system) वाले लोगों में।

  3. वैरिकाला ज़ोस्टर वायरस (varicella zoster virus) (जो चिकनपॉक्स का कारण बनता है) या हर्पीस सिम्प्लेक्स वायरस (herpes simplex virus) (जो ठंडे घावों का कारण बनता है) से वायरल संक्रमण।

  4. आपके गले में चोट, या तो शारीरिक आघात के माध्यम से या बहुत गर्म तरल पीने से।

  5. धूम्रपान।

  6. रासायनिक जलन।

  7. किसी अन्य बीमारी या कीमोथेरेपी (chemotherapy) का साइड इफेक्ट।

एपिग्लोटाइटिस संक्रामक हैं? Is epiglottitis contagious?

यह हो सकता है। यदि एपिग्लोटाइटिस बैक्टीरिया, फंगल या वायरल संक्रमण का परिणाम है, तो यह लार या बलगम की बूंदों के माध्यम से एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में फैल सकता है। जब कोई संक्रमित व्यक्ति खांसता या छींकता है, तो उसकी बूंदें हवा में फैल जाती हैं। यदि कोई अन्य व्यक्ति उन बूंदों में सांस लेता है, या किसी ऐसी सतह के संपर्क में आता है जहां कीटाणु उतरे हैं, तो उन्हें भी संक्रमण हो सकता है।

जो लोग चोट या धूम्रपान से एपिग्लोटाइटिस विकसित करते हैं, वे इस स्थिति को दूसरों तक नहीं पहुंचा सकते हैं।

एपिग्लोटाइटिस का निदान कैसे किया जाता है? How is epiglottitis diagnosed?

आपका स्वास्थ्य सेवा प्रदाता एक शारीरिक परीक्षण करेगा और आपके लक्षणों के बारे में पूछेगा। वे कुछ परीक्षणों का अनुरोध भी कर सकते हैं जो एपिग्लोटाइटिस के निदान में मदद कर सकते हैं। इन परीक्षणों में निम्न शामिल हो सकते हैं :-

  1. लैरींगोस्कोपी (laryngoscopy) :- इस परीक्षण के दौरान, आपका स्वास्थ्य सेवा प्रदाता आपके गले की जांच करने के लिए एक लचीली ट्यूब के अंत में एक छोटे से कैमरे का उपयोग करता है।

  2. संस्कृति परीक्षण (culture test) :- आपका प्रदाता बैक्टीरिया या वायरस के परीक्षण के लिए आपके गले की सूजन लेता है।

  3. रक्त परीक्षण (blood test) :- आपका प्रदाता आपकी श्वेत रक्त कोशिकाओं (white blood cells) को गिनने के लिए या यह देखने के लिए कि आपके रक्त में कोई बैक्टीरिया या वायरस हैं या नहीं, विभिन्न प्रकार के रक्त परीक्षण कर सकते हैं।

  4. इमेजिंग परीक्षण (imaging tests) :- एक एक्स-रे (x-ray) या सीटी स्कैन (CT scan) सूजन के स्तर को निर्धारित करने और यह देखने में मदद कर सकता है कि आपके वायुमार्ग में कोई अवांछित वस्तु तो नहीं है। 

एपिग्लोटाइटिस अक्सर अन्य स्थितियों के साथ कई सामान्य लक्षण साझा करता है, जैसे क्रुप। नतीजतन, उचित निदान और उपचार महत्वपूर्ण हैं।

एपिग्लोटाइटिस का इलाज कैसे किया जाता है? How is epiglottitis treated?

एपिग्लोटाइटिस एक मेडिकल इमरजेंसी (medical emergency) है। यदि आप या आपके कोई परिचित एपिग्लोटाइटिस के लक्षण प्रदर्शित करते हैं - जैसे कि साँस लेने में कठिनाई, निगलने में कठिनाई, स्वर बैठना या लार टपकना तो जल्द से जल्द नजदीकी अस्पताल में संपर्क करें और हो सके एम्बुलेंस आने का इंतजार न करें।

अस्पताल में, स्वास्थ्य सेवा प्रदाता एपिग्लोटाइटिस उपचार जल्द शुरू करेंगे, जिसमें निम्न शामिल हैं :-

  1. पहला कदम अपने वायुमार्ग को पूरी क्षमता से बहाल करना (restore airway to full capacity) है। आपका स्वास्थ्य सेवा प्रदाता आपके मुंह और नाक पर ऑक्सीजन मास्क लगाएगा ताकि आपके फेफड़ों को हवा मिलनी शुरू हो सके। यदि आपके वायु मार्ग पहले से ही अवरुद्ध हैं, तो वे आपके फेफड़ों में ऑक्सीजन पहुंचाने के लिए आपके गले के नीचे एक ट्यूब रखेंगे। गंभीर मामलों में, एक व्यक्ति को ट्रेकियोस्टोमी की आवश्यकता हो सकती है (जहां आपका स्वास्थ्य सेवा प्रदाता आपके विंडपाइप में एक छोटा चीरा लगाता है)।

  2. एक बार जब आपके फेफड़ों को ऑक्सीजन मिल रही है, तो आपका प्रदाता श्वास को और अधिक प्राकृतिक बनाने के लिए आपकी नाक के माध्यम से और आपके श्वासनली में एक श्वास नली डाल (inserting a breathing tube through the nose and into your trachea) सकता है।

  3. आपकी मेडिकल टीम आपको अंतःशिरा (IV) ड्रिप (intravenous (IV) drip) (एक नस में सुई डाली जाती है) के माध्यम से आपको बहुत सारे तरल पदार्थ देगी।

  4. यदि आपको जीवाणु संक्रमण है, तो वे आपको संक्रमण से लड़ने में मदद करने के लिए एंटीबायोटिक्स (antibiotics to help fight infection) देंगे।

एपिग्लोटाइटिस उपचार से ठीक होने में कितना समय लगता है? How long does it take to recover from epiglottitis treatment?

ज्यादातर लोगों के लिए, एपिग्लोटाइटिस से पूरी तरह से ठीक होने में लगभग एक सप्ताह का समय लगता है। आप शायद पांच से सात दिनों के बीच अस्पताल में बिताएंगे।

मैं एपिग्लोटाइटिस को कैसे रोक सकता हूँ? How can I prevent epiglottitis?

जब आप एपिग्लोटाइटिस को पूरी तरह से नहीं रोक सकते हैं, तो ऐसी चीजें हैं जो आप अपने जोखिम को कम करने के लिए कर सकते हैं:

  1. सुनिश्चित करें कि टीकाकरण अद्यतित हैं। बच्चों में, सबसे अच्छी रोकथाम यह सुनिश्चित करना है कि सभी बचपन के टीकाकरण अप टू डेट हैं। बच्चों में अविकसित प्रतिरक्षा प्रणाली होती है। यह उन्हें हिब बैक्टीरिया सहित संक्रमणों के प्रति अधिक संवेदनशील बनाता है।

  2. अच्छी स्वच्छता का अभ्यास करें। अपने हाथों को बार-बार धोएं और अपनी आंखों, नाक और मुंह में उंगलियां डालने से बचें।

  3. खुद को संक्रमण से बचाएं। खांसने और छींकने वाले लोगों के आसपास आवश्यक सावधानी बरतें।

  4. गले में चोट लगने से बचें। गर्म तरल पदार्थ पीने या धूम्रपान करने से आपके एपिग्लोटाइटिस का खतरा बढ़ सकता है।

ध्यान दें, कोई भी दवा बिना डॉक्टर की सलाह के न लें। सेल्फ मेडिकेशन जानलेवा है और इससे गंभीर चिकित्सीय स्थितियां उत्पन्न हो सकती हैं।

Logo

Medtalks is India's fastest growing Healthcare Learning and Patient Education Platform designed and developed to help doctors and other medical professionals to cater educational and training needs and to discover, discuss and learn the latest and best practices across 100+ medical specialties. Also find India Healthcare Latest Health News & Updates on the India Healthcare at Medtalks