कैसे डिप्रेशन आपकी सेक्स लाइफ को प्रभावित करता है | Medtalks

कैसे डिप्रेशन आपकी सेक्स लाइफ को प्रभावित करता है | Medtalks

यौन संबंध के बाद डिप्रेशन

यौन संबंध पर डिप्रेशन से गहरा असर पड़ता है। यह साथी के साथ भावनात्मक रूप से सुरक्षित महसूस करने की क्षमता पर बाधा डालता है। डिप्रेशन के कारण व्यक्ति कि सेक्स के प्रति रूचि कम होने लगती है जिसके कारण कई परेशानियां सामने आती है और संबंधो पर गलत प्रभाव पडता है।


डिप्रेशन को कैसे पहचाने

डिप्रेशन के लक्षण अनेक होते है और अनेक व्यक्तियों में यह अलग अलग हो सकते है जैसे कई व्यक्तियों में निराशा, खुश ना रह पाना, इच्छा को खो देना आदि लक्षण होते है और कई व्यक्तियों में शारीरिक लक्षण होते है जैसे थकान महसूस करना, यौन सम्बन्ध में रुचि ना रखना, भूख ना लगना जैसें लक्षण सामने आते है।


डिप्रेशन के कारण कुछ सामान्य परेशानियां


1. आनंद लेने में परेशानी

डिप्रेशन से ग्रसित व्यक्ति जिन कार्यों या चीजों का प्रयोग कर रहा है वह वहां आनंद को ढूंढ नहीं सकता है, पहले यौन संबंध के समय व्यक्ति के आनंद लेने और डिप्रेशन से ग्रसित होने के बाद इन सभी शारीरिक संबंध में परेशानी का सामना करना पड़ सकता है


2. संबंध बनाने में दिक्कत आना

डिप्रेशन से ग्रसित व्यक्ति को साथी के साथ बात करने व कोई भी समस्या व परेशानियों के बारे में बताने में कठिनाई होती है जिसके कारण दोनों के बीच लड़ाई, चिड़चिड़ापन आदि समस्या आने लगती है और सम्बन्ध प्रभावित होता है।


3. एनर्जी का कम होना

प्रत्येक व्यक्ति को दिन में कम से कम 8 घंटे की नींद लेना जरूरी है लेकिन पर्याप्त नींद ना लेने की वजह से व्यक्ति को थकान महसूस होती है और एनर्जी भी कम होने लगती है। जिसके कारण व्यक्ति अपने साथी के साथ शारीरिक संबंध बनाने से बचने लगता है या बहाने ढूंढता है।


4. न्यूरोट्रान्समिटर का संतुलन खराब होना

न्यूरोट्रान्समिटर का संतुलन डिप्रेशन की वजह से बिगड जाता है जिससे व्यक्ति सेक्स के प्रति रूचि नही दिखा पाता है। सेंट्रल नर्वस सिस्टम में कुछ रसायन होते है जिन्हे न्यूरोट्रान्समिटर कहा जाता है। इन रसायनों के कारण यौन क्रिया का संचालन होता है लेकिन इनके असंतुलित होने के कारण सेक्स के प्रति रूचि व सोचने कि क्षमता कि कम हो जाती है |


डिप्रेशन को दूर करने व कम करने के उपाय

डिप्रेशन के कारण कई परेशानीयां होने लगती है जिन्हे समय रहते दूर व कम करना चाहिए। डिप्रेशन से ग्रसित व्यक्तियों के लिए कुछ उपाय निम्नलिखित है जिससे वह अपनी यौन संबंधी जीवन में सुधार कर सकते है और इन परेशानीयों को दूर कर सकते है।


1. डिप्रेशन को दूर करने के लिए अपने आप कार्य करना 

डिप्रेशन की जड़ों को ठीक करना और इसे समझने की कोशिश करना यह कार्य मनोचिकित्सक के साथ करने पर और भी मददगार साबित हो सकता है। थैरेपी डिप्रेशन की जटिल भावना और डिप्रेशन ग्रसित व्यक्ति के साथ मानसिक समझ वाले व्यक्ति को साथ रखने का आयोजन करती है और यह एक ठोस कार्य का कदम है जो काफी मददगार होता है। इससे डिप्रेशन से होने वाली परेशानीयां कम होने लगती है।


2. साथी के साथ सेक्स थेरेपिस्ट के पास जाना और सलाह लेना

साथी के साथ सेक्स थेरेपिस्ट के पास जाने पर वह यौन सबंधी के प्रति गलतफहमी को दूर कर सकते है और व्यक्ति की तकनीक के प्रति आत्मविश्वास को बढ़ाते है। सेक्स थेरेपिस्ट यह भली भांति जानते है कि सेक्स एक शारीरिक कार्य है जिससे व्यक्ति का अपने साथी की ओर लगाव बढ़ता है और वह यह सलाह दे सकते है जिससे दोनों के संबंध में यौन अंतरंगता को बढ़ाया जा सके।


3. दवाईयों में बदलाव 

डाक्टर की सलाह पर डिप्रेशन को कम करने के लिए यह दवाई का उपयोग अधिक किया जाता है जिसका नाम एसएसआरआई यानी सेलक्टिव सेरोटोनिन रउपटेक इनहिबिटर है यह दोनो महिलाओं और परूष के लिए उपयोगी है लेकिन इसकि वजह से सेक्स प्रभावित होता है और सेक्सुअल डिजायर कम होता है डाक्टर कि सलाह बिना एसएसआरआई का प्रयोग ना करें यदि इसका प्रयोग करके आपके यौन संबंध जीवन पर असर पडता है तो मनोचिकत्सक कि सलाह पर दवाओं को बदले।


डिप्रेशन के दौरान यौन सम्बन्धी समस्याओं से बचाव 

डिप्रेशन के दौरान अनेक यौन सम्बन्धी समस्याओं का सामना करना पड़ता है लेकिन इन सभी समस्यों से बचने के लिए कुछ उपाय निम्नलिखित है।

1. धूम्रपान, शराब आदि नशीले पदार्थों का सेवन करने से बचना चाहिए क्योंकि यह सेक्सुअल फंक्शन को प्रभावित करता है।

2. प्रत्येक दिन शारीरिक गतिविधि करना, स्वस्थ भोजन लेना, वजन को नियंत्रित करना और स्वस्थ शरीर को नियंत्रित करने यह सभी उपाय यौन संबंधी समस्याओं से बचाव के लिए मददगार साबित होते है।

3. अपने साथी के साथ बिना किसी हिचकिचाहट के साथ सच बोलना और उन्हें मानसिक व शारीरिक रूप से महसूस कर रहे भावना को बताना।


गेरियात्रिक डिप्रेशन

गरियात्रिक डिप्रेशन एक मानसिक और भावनत्मक विकार है जो बड़े वयस्कों को प्रभावित करता है। बड़े वयस्कों में डिप्रेशन के कारण उनकी जिंदगी की गुणवत्ता में कमी आने लगती और सुसाइड करने  के जोखिम कारकों में बढ़ोतरी होती है। 


गेरियात्रिक डिप्रेशन के कारण

डिप्रेशन का किसी भी उम्र में कोई एक स्पष्ट कारण नहीं है। लेकिन कुछ कारण है जिनकी वजह से डिप्रेशन होता है वह निम्नलिखित है।

1. न्यूरोट्रांसमिटर रसायन जैसे सेरोटोनिन और नोरपाइनफ्राइन का कम मात्रा में उत्सर्जित होना।

2. डिप्रेशन से परिवार का इतिहास जिससे यह विकार पीढी दर पीढी चलता है।


गेरियात्रिक डिप्रेशन का उपचार

डिप्रेशन का उपचार सभी के लिए सामान नहीं होता है। सही उपचार के लिए कुछ समय लग सकता है। गेरियात्रिक डिप्रेशन के उपचार निम्नलिखित है।


1. दवाओं का प्रयोग करके उपचार करना

डॉक्टर की सलाह पर दवाओं का प्रयोग करके डिप्रेशन का उपचार किया जा सकता है। जैसे सेलेक्टिव सेरोटोनिन रेउपटेक इन्हिबिटर्स, सेलेक्टिव सेरोटोनिन नॉरपाइन फ्राइन रेउपटेक इन्हिबिटर्स, बुप्रोपियन, मिर्ताजापाइन आदि दवाओं का प्रयोग करके डिप्रेशन का उपचार किया जा सकता है।



निष्कर्ष

डिप्रेशन कि वजह से कई परेशानीयों का सामना करना पडता है। जिससे यौन संबंधित जीवन भी प्रभावित होता है। डिप्रेशन को कम करने के लिए डाक्टर कि सलाह पर दवाओं का सेवन करना व मनोचिकत्सक की सलाह लेना आवश्यक है। इससे व्यक्ति डिप्रेशन को कम या दूर कर सकता है।

संदर्भ में:- https://wb.md/3AMa5pz


अधिकतर पूछे जाने वाले प्रश्न | FAQs Depression and Sexual Health


1. क्या डिप्रेशन से संबंधो पर असर पडता है?

डिप्रेशन के कारण संबंधो पर नकारात्मक असर पडता है क्योंकि डिप्रेशन से कई परेशानीयां सामने आती है जैसे संबंध बनाने में दिक्कत, साथी को समय ना देना आदि।


2. क्या मनोचिक्तसक की सलाह से डिप्रेशन को कम किया जा सकता है?

मनोचिक्तसक कि सलाह लेने पर डिप्रेशन को कम किया जा सकता है मनोचिक्तसक डिप्रेशन से जुडी परेशानीयों के बारे में पूछेगें और इसे कम करने के लिए सलाह देगें।


3. सेलक्टिव सेरोटोनिन रउपटेक इनहिबिटर (एसएसआरआई) दवा का प्रयोग कब किया जाता है?

डाक्टर कि सलाह पर सेलक्टिव सेरोटोनिन रउपटेक इनहिबिटर का प्रयोग डिप्रेशन को कम करने के लिए किया जाता है लेकिन इसके कारण यौन संबंध भी प्राभिवत होता है।


4. न्यूरोट्रान्समिटर कब असंतुलित होता है?

डिप्रेशन के कारण न्यूरोट्रान्समिटर असंतुलित हो जाता है। सेंट्रल नर्वस सिस्टम में कुछ रसायन होते जिन्हे न्यूरोट्रान्समिटर कहते है इनका संतुलन खराब होने के कारण यौन संबंध प्रभावित होता है।

Get our Newsletter

Filter out the noise and nurture your inbox with health and wellness advice that's inclusive and rooted in medical expertise.

Your privacy is important to us

MEDICAL AFFAIRS

CONTENT INTEGRITY

NEWSLETTERS

© 2022 Medtalks