भारत में लगाई जा रही कोवैक्सीन और कोविशील्ड वैक्सीन के साइड इफेक्ट

डॉ. लेफ्टिनेंट जनरल वेद चतुर्वेदी ने इन दोनों वैक्सीन के बीच का अंतर समझाते हुए AIR  को बताया कि पहला बड़ा अंतर है कि पूर्ण रूप से स्वदेशी वैक्सीन है जबकि दूसरी वैक्सीन को विदेशी कंपनी के साथ मिलकर बनाया गया है।

कोवैक्सीन को भारत बायोटेक और ICMR ने मिलकर बनाया है। इस वैक्सीन को पारंपरिक विधि से वायरस को inactivate(इनेक्टिव ) करके  बनाया गया है वहीं दूसरी वैक्सीन ऑक्सफोर्ड विश्वविद्यालय और एस्ट्राजेनेका कंपनी ने बनायी है। इसे वायरस के जीन का प्रयोग कर बनाया गया है। दोवों वैकसीन के लिए करीब 3 से 5 डिग्री तापमान की जरूरत होती है। इन दोनों को साधारण फ्रिज में रखा जा सकता है।

क्या होंगे परिणाम ?:- 

कई लोगों का यह कहना है की जो वैक्सीन भारत में लगाई जा रही है उसके बहुत गंभीर परिणाम होंगे । किसी को लगता है की यह एलर्जी का कारण बनेगा । किसी को लगता है की यह नपुंसकता का कारण बनेगा । कुछ कहना ह की यह लकवे का कारण बनेगा । पर डॉक्टर्स ने इन सभी बातों को नकारा है । किसी का कहना है की यह ज्यादा समय तक असर कारी नहीं रहेगा । 

पर जब किसी को यही ही नहीं पता है की एक्टिव वायरस कितने दिन तक असर करेगा तो यह कहना कैसे मुमकिन है की वायरस की वैक्सीन कितना और कब तक असर करेगी । यह हर बॉडी पर अलग अलग तरह से प्रतक्रिया देती है । जिन लोगों का शरीर कमजोर होता है जिनका शरीर एंटीबोडीज़ नहीं बना पाता है उनको वैक्सीन के कारण हुआ हल्का बुखार भी परेशानी का कारण बन सकता है । यह एलर्जी का कारण और गंभीर स्थिति में ज्यादा हालत बिगड़ने  का कारण बन सकता है ।ऐसे में कोवैक्सीन अच्छा ऑप्शन हो सकता है बजाय फाइजर , मॉडर्ना और कोविशील्ड के । दोनों वैक्सीन ही पूरी तरह सुरक्षित हैं । हल्की फुलकी एलर्जी की संभावना व्यक्ति के बॉडी की प्रक्रिया पर निर्भर करती है । 


स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन ने कहा है की वेक्सिनेशन का अभी तक कोई बुरा परिणाम नहीं आया है । अब तक करीब 10 लाख से भी ज्यादा लोगों को वैक्सीन लगाई जा चुकी है । हल्के फुल्के साइड इफ़ेक्ट्स जैसे बुखार आना , जी मिचलाना , उल्टी आना ,इनका का सामना तो हर वैक्सीन में ही करना पड़ता है । यह पूरी तरह सुरक्षित और यह प्रभावी भी हैं ।  देश के कोनों कोनों में अलग अलग राज्यों में करीब 15000 – 15000  से ज्यादा लोगों का वेक्सिनेशन हो चुका है । 

इसके साथ ही जिन लोगों ने कोविड वैक्सीन की एप पर मेसेज प्राप्त  नहीं किया है । वह लोग भी अब आसानी से वैक्सीन लगवा सकते हैं । जो भी हेल्थ वर्कर्स है और जिनको वैक्सीन नहीं लगी है अब वह भी वेक्सिनेशन सेंटर पर जा कर वैक्सीन लगवा सकते हैं ।