शिरापरक रोग क्या है? कारण, लक्षण और इलाज | What is Venous Disease in Hindi

शिरापरक रोग क्या है? What is venous disease?

शिरापरक रोग कोई भी स्थिति है जो आपके शरीर में नसों को प्रभावित करती है। नसें लचीली, खोखली नलियां होती हैं जो संचार प्रणाली का हिस्सा होती हैं जो आपके शरीर में रक्त को स्थानांतरित करती हैं। नसें आपके हृदय में ऑक्सीजन-गरीब रक्त वापस लाती हैं, जो आपके रक्त को पंप करता है। धमनियां ऑक्सीजन युक्त रक्त को आपके हृदय से दूर ले जाती हैं।

नसों में फ्लैप (वाल्व) होते हैं जो आपकी मांसपेशियों के सिकुड़ने पर खुलते हैं। यह रक्त को आपकी नसों के माध्यम से आगे बढ़ने की अनुमति देता है। जब आपकी मांसपेशियां शिथिल हो जाती हैं, तो वाल्व बंद हो जाते हैं, जिससे रक्त एक दिशा में बहता रहता है।

यदि शिरापरक रोग आपकी नसों के अंदर के वाल्वों को नुकसान पहुंचाता है, तो वाल्व पूरी तरह से बंद नहीं हो सकते हैं। इससे रक्त का रिसाव पीछे की ओर होता है या दोनों दिशाओं में प्रवाहित होता है।

शिरापरक रोग के कितने प्रकार हैं? How many types of venous disease are there?

शिरापरक रोगों में निम्न प्रकार शामिल हैं :-

1. रक्त के थक्के (blood clots) :- ये आपके पैरों, बाहों, आपके आंतरिक अंगों (किडनी, प्लीहा, आंतों, लीवर और श्रोणि अंगों) की नसों में, आपके मस्तिष्क में (सेरेब्रल वेन थ्रॉम्बोसिस – cerebral vein thrombosis), आपकी किडनी (रीनल वेन थ्रॉम्बोसिस) में हो सकते हैं। आपके फेफड़े (फुफ्फुसीय अन्त: शल्यता)।

2. डीप वेन थ्रॉम्बोसिस (deep vein thrombosis – DVT) :- यह एक रक्त का थक्का है जो एक गहरी नस (हाथ और पैर सहित) में होता है। डीप वेन थ्रोम्बोसिस अपने आप में जानलेवा नहीं है। हालांकि, रक्त के थक्के में मुक्त होने और रक्तप्रवाह के माध्यम से यात्रा करने की क्षमता होती है, जहां यह आपके फेफड़ों की रक्त वाहिकाओं में चिपक सकता है और फुफ्फुसीय अन्त: शल्यता बन सकता है। यह जानलेवा स्थिति हो सकती है।

3. सतही थ्रोम्बोफ्लिबिटिस (superficial thrombophlebitis) :- यह एक रक्त का थक्का है जो आपकी त्वचा की सतह के करीब एक नस में विकसित होता है। इस प्रकार के रक्त के थक्के आमतौर पर आपके फेफड़ों की यात्रा नहीं करते हैं जब तक कि वे आपके सतही तंत्र से पहले आपके गहरे शिरापरक तंत्र में नहीं जाते। आमतौर पर, हालांकि, वे दर्द का कारण बनते हैं।

4. क्रोनिक शिरापरक अपर्याप्तता (chronic venous insufficiency) :- इस स्थिति के कारण रक्त का जमाव, पुरानी टांगों में सूजन, बढ़ा हुआ दबाव, रंजकता में वृद्धि या आपकी त्वचा का मलिनकिरण, और पैर के अल्सर को शिरापरक ठहराव अल्सर के रूप में जाना जाता है।

5. वैरिकाज़ और स्पाइडर वेन्स (varicose and spider veins) :- ये असामान्य, फैली हुई रक्त वाहिकाएं होती हैं जो आपकी रक्त वाहिका दीवार में कमजोर होने के कारण होती हैं।

6. शिरापरक अल्सर (venous ulcer) :- अल्सर घाव या खुले घाव होते हैं जो ठीक नहीं होते हैं या वापस आते रहते हैं। शिरापरक ठहराव अल्सर आमतौर पर आपके घुटने के नीचे, आपके पैर के अंदरूनी हिस्से पर, आपके टखने के ठीक ऊपर होता है।

7. आर्टेरियोवेनस फिस्टुलस (arteriovenous fistulas) :- ये धमनियां और नसें हैं जो एक दूसरे से सीधे जुड़ती हैं, बीच में कुछ भी नहीं। यह असामान्य है।

शिरापरक रोग के क्या लक्षण हैं? What are the symptoms of venous disease?

शिरापरक रोग के लक्षणों में आपके पैरों या बाहों में निम्न समस्याएँ बनाते हैं :-

1. दर्द, ऐंठन या बेचैनी।

2. लाली या गरमी।

3. भारीपन।

4. खुजली या जलन महसूस होना।

5. सूजन।

6. उभरी हुई नसें।

शिरापरक रोग के क्या कारण हैं? What are the causes of venous disease?

शिरापरक रोग कारणों में निम्न शामिल हैं :-

1. आपके जन्म के समय आपकी नसें कैसे बनती हैं, इससे जुड़ी समस्याएं।

2. चोट।

3. अन्य शिरापरक रोग।

4. गर्भावस्था, उम्र बढ़ने, अल्सर या ट्यूमर के कारण रक्त वाहिकाओं की कमजोर दीवारें।

5. उच्च रक्तचाप (high blood pressure)।

शिरापरक रोग के जोखिम कारक क्या हैं? What are the risk factors for venous disease?

शिरापरक रोग के जोखिम कारकों में निम्न शामिल हैं :-

1. शिरापरक रोग का पारिवारिक इतिहास।

2. गर्भावस्था।

3. बीएमआई (BMI) 30 से अधिक होना।

4. महिला होना।

5. लंबे समय तक बैठे या खड़े रहना।

6. जन्म नियंत्रण की गोलियाँ या हार्मोन रिप्लेसमेंट थेरेपी लेना।

7. तंबाकू उत्पादों का उपयोग करना।

शिरापरक रोग का निदान कैसे किया जाता है? How is venous disease diagnosed?

एक स्वास्थ्य सेवा प्रदाता आपके परिवार के चिकित्सा इतिहास सहित आपके चिकित्सा इतिहास की समीक्षा करेगा। वे एक शारीरिक परीक्षा भी करेंगे और आपके लिए आवश्यक किसी भी परीक्षण का आदेश देंगे।

शिरापरक रोग के निदान के लिए निम्न टेस्ट किये जा सकते हैं :-

1. एंकल-ब्रेचियल इंडेक्स (एबीआई) (ankle-brachial index (ABI))।

2. अल्ट्रासाउंड (ultrasound)।

3. इंट्रावास्कुलर अल्ट्रासाउंड (आईवीयूएस) (intravascular ultrasound (IVUS)।

4. सीटी स्कैन (CT scan)।

5. एमआरआई (MRI)।

6. एंजियोग्राम (angiogram)।

शिरापरक रोग का इलाज कैसे किया जाता है? How is venous disease treated?

शिरापरक रोग उपचार में निम्न शामिल हैं :-

1. दवाएं।

2. संपीड़न स्टॉकिंग्स या पट्टियाँ (compression stockings or bandages)।

3. जीवनशैली में बदलाव, जैसे कम वसा वाले खाद्य पदार्थ खाना, अधिक व्यायाम करना और तम्बाकू उत्पादों को छोड़ना।

4. सर्जरी।

प्रत्येक प्रकार की शिरापरक बीमारी के लिए कई गैर-सर्जिकल और सर्जिकल उपचार विकल्प उपलब्ध हैं। उपचार के लक्ष्य लक्षणों को कम करना और जटिलताओं के जोखिम को कम करना है। आपका स्वास्थ्य सेवा प्रदाता आपके लिए सही उपचार विकल्प की सिफारिश करेगा।

किसी भी उपचार को चुनने से पहले, अपने डॉक्टर के साथ संभावित लाभों, जोखिमों और दुष्प्रभावों पर चर्चा करना महत्वपूर्ण है। आपको अपनी प्रक्रिया के लिए तैयार करने में मदद के लिए विशिष्ट दिशा-निर्देश प्राप्त होंगे, साथ ही आपके पुनर्प्राप्ति में सहायता के लिए विशिष्ट निर्देश भी प्राप्त होंगे।

उपयोग की जाने वाली विशिष्ट दवाएं/प्रक्रियाएं

शिरापरक रोग के प्रकार के आधार पर दवाएं और प्रक्रियाएं अलग-अलग होती हैं। शिरापरक रोग उपचार में निम्न शामिल हो सकते हैं :-

1. थक्कारोधी (anticoagulant)।

2. थ्रोम्बोलिटिक्स (thrombolytics)।

3. वैरिकाज़ नसों का एंडोवेनस एब्लेशन (endovenous ablation) जो कि लेज़र, स्क्लेरोथेरेपी या रेडियोफ्रीक्वेंसी के साथ हो सकता है।

4. थ्रोम्बेक्टोमी (thrombectomy)।

5. वेना कावा फिल्टर (vena cava filter)।

6. नस की सर्जरी।

शिरापरक रोग के उपचार के दुष्प्रभाव क्या है? What are the side effects of treatment for venous disease?

उपचार के दुष्प्रभाव आपके उपचार के प्रकार पर निर्भर करते हैं। आपका स्वास्थ्य सेवा प्रदाता बता सकता है कि आपके शिरापरक रोग के लिए कौन से उपचार मायने रखते हैं।

उपचार के बाद मैं कितनी जल्दी बेहतर महसूस करूंगा/करुँगी? How soon will I feel better after treatment?

आपका स्वास्थ्य सेवा प्रदाता आपको यह अनुमान लगाने में सक्षम हो सकता है कि आप कितनी जल्दी बेहतर महसूस करेंगे। हर कोई अलग है, और विभिन्न तरीके अलग-अलग गति से राहत प्रदान करते हैं।

मैं शिरापरक रोग के अपने जोखिम को कैसे कम कर सकता/सकती हूँ? How can I reduce my risk of venous disease?

आप अपनी नसों और अपने हृदय (हृदय और रक्त वाहिकाओं) के बाकी हिस्सों के स्वास्थ्य में सुधार करके बीमारी के अपने जोखिम को कम कर सकते हैं :-

1. उच्च रक्तचाप, उच्च कोलेस्ट्रॉल और टाइप 2 मधुमेह का प्रबंधन।

2. सप्ताह के अधिकांश दिनों में प्रतिदिन 30 से 60 मिनट या अधिक व्यायाम करना।

3. यदि आप बैठे हैं और/या यात्रा कर रहे हैं तो हर घंटे इधर-उधर घूमना।

4. तंबाकू उत्पादों का उपयोग नहीं करना।

5. ऐसे वजन पर बने रहना जो आपके लिए स्वस्थ हो।

6. कम नमक और संतृप्त वसा वाले खाद्य पदार्थों का सेवन करना।

7. अपने तनाव का प्रबंधन। 

ध्यान दें, कोई भी दवा बिना डॉक्टर की सलाह के न लें। सेल्फ मेडिकेशन जानलेवा है और इससे गंभीर चिकित्सीय स्थितियां उत्पन्न हो सकती हैं।

Logo

Medtalks is India's fastest growing Healthcare Learning and Patient Education Platform designed and developed to help doctors and other medical professionals to cater educational and training needs and to discover, discuss and learn the latest and best practices across 100+ medical specialties. Also find India Healthcare Latest Health News & Updates on the India Healthcare at Medtalks