लिपिडेमा क्या है? कारण, लक्षण और इलाज | What is Lipedema in Hindi

लिपिडेमा क्या है? What is lipedema?

लिपिडेमा एक दीर्घकालिक स्थिति है जो आपके शरीर के निचले हिस्से में असामान्य वसा के निर्माण का कारण बनती है। लिपिडेमा में अक्सर आपके बट, जांघ और बछड़े शामिल होते हैं। कुछ लोगों के कूल्हों या ऊपरी बांहों में यह होता है। यह आपके हाथ या पैर को प्रभावित नहीं करता है।

लोग कभी-कभी अधिक वजन या लिम्फेडेमा होने के साथ लिपिडेमा को भ्रमित करते हैं, लेकिन ये अलग-अलग स्थितियां हैं। हालांकि, लिपिडेमा से लिम्फेडेमा हो सकता है। लिपिडेमा वाले कई लोगों का बॉडी मास इंडेक्स (बीएमआई – BMI) 35 से अधिक होता है।

परहेज़ और व्यायाम करने से आप अपने ऊपरी शरीर में वजन कम कर सकते हैं बिना उन क्षेत्रों को बदले जो आपके निचले शरीर में लिपिडेमा को प्रभावित करते हैं।

लिपिडेमा के कितने प्रकार हैं? How many types of lipedema are there?

लिपिडेमा के प्रकार निम्न हैं :-

आपको एक समय में एक से अधिक प्रकार के लिपिडेमा हो सकते हैं, यह इस बात पर निर्भर करता है कि आपको लक्षण कहाँ हैं। लिपिडेमा के प्रकारों में निम्न शामिल हैं :-

• टाइप I: फैट आपके बेली बटन और आपके कूल्हों के बीच होता है।

• टाइप II: चर्बी आपके श्रोणि और घुटनों के बीच होती है।

• टाइप III: चर्बी आपके श्रोणि और टखनों के बीच होती है।

• टाइप IV: फैट आपके कंधों और कलाई के बीच होता है।

• टाइप V: फैट आपके घुटनों और टखनों के बीच होता है।

लिपिडेमा कितना आम है? How common is lipedema?

शोधकर्ताओं का अनुमान है कि 72,000 में से 1 व्यक्ति को लिपिडेमा होता है। लेकिन यह संख्या शायद कम है क्योंकि लिपिडेमा मोटापे या लिम्फेडेमा (lymphedema) की तरह दिख सकती है। एक अन्य वैश्विक अनुमान कहता है कि 11% महिलाओं को यह समस्या होती है। वहीं, पुरुषों में स्थिति दुर्लभ है।

लिपिडेमा के लक्षण क्या हैं? What are the symptoms of lipedema?

लिपिडेमा के लक्षणों में निम्न शामिल हैं :-

1. आपके बट, जांघों, पिंडलियों और कभी-कभी आपके शरीर के दोनों तरफ ऊपरी बांहों में चर्बी जमा हो जाती है।

2. चर्बी के अंदर उभार जो महसूस हो कि आपकी त्वचा के नीचे कुछ है।

3. दर्द जो हल्के से गंभीर और लगातार से केवल दबाव के साथ हो सकता है।

4. आपके पैरों में भारीपन महसूस होना।

5. सूजन।

6. त्वचा जो आसानी से उखड़ जाती है।

7. थकान (सामान्य से अधिक थकान महसूस करना)।

लिपिडेमा के क्या कारण हैं? What are the causes of lipedema?

लिपिडेमा का सटीक कारण अज्ञात है। लेकिन यह स्थिति 20% से 60% मामलों में परिवारों में चलती है, इसलिए आपको यह विरासत में मिल सकती है। स्थिति लगभग विशेष रूप से महिलाओं में होती है।

लिपिडेमा का हार्मोन से संबंध हो सकता है क्योंकि यह आमतौर पर शुरू होता है या खराब हो जाता है :-

1. तरुणाई (puberty)।

2. गर्भावस्था।

3. रजोनिवृत्ति।

4. वह समय जब आप गर्भनिरोधक गोलियां ले रही हों, जिनमें हार्मोन होते हैं।

मोटापा होने से लिपिडेमा नहीं होता है, लेकिन इस स्थिति वाले आधे से अधिक लोगों का बीएमआई 35 से अधिक होता है।

लिपिडेमा के जोखिम कारक क्या हैं? What are the risk factors for lipedema?

आपको लिपिडेमा होने की अधिक संभावना है यदि आप :-

1. महिला हैं (जन्म से)।

2. लिपिडेमा का पारिवारिक इतिहास हो।

3. बीएमआई 35 से अधिक हो।

लिपिडेमा की जटिलताएं क्या हैं? What are the complications of lipedema?

लिपिडेमा के कारण निम्न जटिलताएं हो सकती हैं :-

1. चलने में कठिनाई।

2. शर्मिंदगी और चिंता की भावना।

3. डिप्रेशन।

4. माध्यमिक लिम्फेडेमा या लाइपो-लिम्फेडेमा (आपके लसीका मार्ग में रुकावट जो लिम्फ नामक तरल पदार्थ को बनाने की अनुमति देता है)।

5. शिरा रोग (venous disease)।

6. सपाट पैर।

7. जोड़ों से जुड़ी समस्याएँ (joint issues)।

8. जब आपके पैर अलग हों तो घुटने एक दूसरे को छूते हैं।

लिपिडेमा का निदान कैसे किया जाता है? How is lipedema diagnosed?

एक स्वास्थ्य सेवा प्रदाता एक शारीरिक परीक्षा करके और आपके चिकित्सा इतिहास को एकत्र करके आपका निदान कर सकता है। दर्दनाक वसा जमाव लिपिडेमा को सामान्य शरीर की चर्बी से अलग बनाता है, जिससे दर्द नहीं होता है। साथ ही, लिपिडेमा से पीड़ित लोगों के अप्रभावित पैरों और उनके प्रभावित पैरों के बीच आकार में स्पष्ट अंतर होता है।

लिपिडेमा के निदान के लिए कौन से परीक्षण किए जाएंगे? What tests are done to diagnose lipedema?

लिपिडेमा के निदान के लिए प्रदाताओं के पास जाने-माने परीक्षण नहीं होते हैं। लेकिन वे अन्य मुद्दों का पता लगाने के लिए रक्त परीक्षण (blood test) और इमेजिंग परीक्षण (imaging tests) कर सकते हैं या लिपिडेमा के साथ अन्य स्थितियों का पता लगा सकते हैं।

इस स्थिति में डॉक्टर आपको निम्न जांच करवाने के लिए कह सकते हैं :-

1. अल्ट्रासाउंड (ultrasound)।

2. डेक्सा स्कैन (dexa scan), एक्स-रे (x-ray) का उपयोग कर एक अस्थि घनत्व परीक्षण (bone density test)।

3. एमआरआई (MRI)। 

4. सीटी (CT scan), एक्स-रे और एक कंप्यूटर का उपयोग कर एक स्कैन।

5. परमाणु चिकित्सा इमेजिंग (nuclear medicine imaging), एक स्कैन जो इंजेक्शन वाले रेडियोधर्मी पदार्थ से छवियां बनाता है।

लिपिडेमा के कितने चरण हैं? How many stages are there in Lipedema?

कई लोगों में लिपिडेमा धीरे-धीरे समय के साथ बिगड़ती जाती है। लिपिडेमा चरणों में निम्न शामिल हैं :-

• चरण 1: आपकी त्वचा सामान्य दिखती है, लेकिन आप अपनी त्वचा के नीचे कंकड़ जैसा कुछ महसूस कर सकते हैं। इस अवस्था में आपको दर्द और चोट लग सकती है।

• चरण 2: आपकी त्वचा की सतह असमान है और इसमें डिंपल हो सकते हैं जो रजाई वाली सिलाई, अखरोट के खोल या पनीर की तरह दिखते हैं।

• चरण 3: आपके पैर फूले हुए आयताकार गुब्बारों की तरह दिख सकते हैं और आपकी त्वचा और वसा की बड़ी तह है। आपके पैरों पर चर्बी चिपक सकती है, जिससे चलना मुश्किल हो जाता है।

• चरण 4: आपके पास एक ही समय में लिपिडेमा और लिम्फेडेमा है।

लिपिडेमा का इलाज कैसे किया जाता है? How is lipedema treated?

शोधकर्ताओं को कोई इलाज नहीं मिला है, लेकिन लिपिडेमा उपचार दर्द और सूजन को कम करके आपको बेहतर महसूस करने में मदद कर सकता है। आप लिपिडेमा के लिए सरल, गैर-आक्रामक उपचार से शुरू कर सकते हैं और यदि आवश्यक हो तो अधिक जटिल उपचारों पर स्विच कर सकते हैं।

सरल उपचार (simple treatment)

लिपिडेमा उपचार में निम्न शामिल हो सकते हैं :-

1. व्यायाम (Exercise) :- तैराकी, बाइकिंग और पैदल चलने से गतिशीलता में सुधार होता है और सूजन कम होती है। पूल में व्यायाम करने से आपके जोड़ों पर तनाव भी कम हो सकता है।

2. एक सूजन रोधी आहार (an anti-inflammatory diet)।

3. हृदय-स्वस्थ आहार (a heart-healthy diet) :- यह लिपिडेमा की प्रगति को धीमा करने में मदद कर सकता है, खासकर यदि आप अपनी स्थिति के बारे में जल्दी जान जाते हैं। लेकिन परहेज़ करने से आमतौर पर लिपिडेमा से छुटकारा नहीं मिलता है, जैसा कि अन्य वसा से होता है।

4. संपीड़न मोजा (compression stockings)।

5. त्वचा को नमी प्रदायक क्रीम (skin moisturizer)।

6. दवाएं या पूरक (medications or supplements) :- यह दवाएं (एम्फ़ैटेमिन (amphetamine), फ़ेंटरमाइन (phentermine), मेटफ़ॉर्मिन (metformin), रेस्वेराट्रोल (resveratrol), डायोसमिन (diosmin) और सेलेनियम (selenium)) सूजन और अन्य समस्याओं में मदद कर सकते हैं।

7. एंटीऑक्सीडेंट हर्बल दवा (antioxidant herbal medicine)।

गैर इनवेसिव उपचार (non invasive treatment)

आपका डॉक्टर लिपिडेमा के लिए गैर-आक्रामक उपचार सुझा सकता है, जैसे :-

1. लसीका जल निकासी मालिश, त्वचा में खिंचाव/मालिश का एक कोमल रूप।

2. जटिल डिकंजेस्टिव थेरेपी, बाद में कम्प्रेशन रैप के साथ मालिश।

3. वायवीय संपीड़न उपकरण, जिसे आप अपने पैरों पर पहनते हैं।

आक्रामक उपचार (aggressive treatment)

लिपोसक्शन वसा को हटा सकता है और दर्द और गतिशीलता में मदद कर सकता है। प्रदाता वेट-जेट असिस्टेड लिपोसक्शन की सलाह देते हैं क्योंकि यह आपके लसीका वाहिकाओं को नुकसान पहुँचाने के लिए मानक लिपोसक्शन की तुलना में कम है।

यदि आपको लिपिडेमा और बीएमआई 35 से अधिक है, तो आपका प्रदाता बेरियाट्रिक सर्जरी की सिफारिश कर सकता है।

लिपिडेमा के उपचार के दुष्प्रभाव क्या हैं? What are the side effects of lipedema treatment?

किसी भी दवा या हर्बल सप्लीमेंट के दुष्प्रभाव हो सकते हैं। यदि आपको परेशान करने वाले दुष्प्रभाव हैं तो अपने डॉक्टर से बात करें।

लिपोसक्शन या बेरिएट्रिक सर्जरी (liposuction or bariatric surgery) की जटिलताओं में निम्नलिखित शामिल हो सकते हैं :-

1. सूजन।

2. खून बहना।

3. संक्रमण।

4. रक्त के थक्के।

लिपिडेमा उपचार से ठीक होने में कितना समय लगता है? How long does it take to recover from lipedema treatment?

लिपोसक्शन से ठीक होने में चार से छह सप्ताह लग सकते हैं। बेरिएट्रिक सर्जरी के बाद, आपको ठीक होने में भी कई सप्ताह लगेंगे। किसी भी प्रक्रिया के बाद आपको छह सप्ताह तक ज़ोरदार गतिविधियों से बचने की आवश्यकता हो सकती है।

मैं लिपिडेमा के अपने जोखिम को कैसे कम कर सकता/सकती हूँ? How can I reduce my risk of lipedema?

लिपिडेमा के सटीक कारणों को न जानने से इससे बचना मुश्किल हो जाता है। लेकिन अगर आपके परिवार में लिपिडेमा होने और जन्म के समय महिला होने के जोखिम कारक हैं, तो आप स्वस्थ वजन पर रहने का लक्ष्य बना सकते हैं। अपने वजन लक्ष्यों को पूरा करने के तरीकों के बारे में अपने डॉक्टर से बात करें।

ध्यान दें, कोई भी दवा बिना डॉक्टर की सलाह के न लें। सेल्फ मेडिकेशन जानलेवा है और इससे गंभीर चिकित्सीय स्थितियां उत्पन्न हो सकती हैं।


Logo

Medtalks is India's fastest growing Healthcare Learning and Patient Education Platform designed and developed to help doctors and other medical professionals to cater educational and training needs and to discover, discuss and learn the latest and best practices across 100+ medical specialties. Also find India Healthcare Latest Health News & Updates on the India Healthcare at Medtalks