बचपन का मोटापा क्या है? कारण और इलाज

मोटापा एक ऐसी समस्या है जिससे न केवल छुटकारा पाना मुश्किल हैं बल्कि यह आपको और भी अन्य समस्याओं की ओर ले जाती हैं, जैसे – मधुमेह, रक्तचाप, और हृदय संबंधित रोग। अध्यनों की माने तो वर्तमान समय में न केवल हर पांचवा व्यक्ति बल्कि बच्चे भी मोटापे के शिकार हैं। बच्चों के जुड़ा मोटापा काफी खतरनाक हैं जो कि एक बड़ी समस्या बनता जा रहा हैं। इस लेख में आज हम इसी विषय में चर्चा करेंगे और जानेंगे कि बचपन के मोटापे के कारण क्या हैं और इसका इलाज कैसे किया जा सकता हैं।

बचपन का मोटापा क्या है? What is childhood obesity?

बचपन के मोटापे की चिकित्सा परिभाषा में 2 वर्ष और उससे अधिक उम्र के बच्चों में उम्र और लिंग के लिए बॉडी मास इंडेक्स (BMI) 95 प्रतिशत या उससे ऊपर होना है। 

बाल्यकाल स्थूलता या बचपन का मोटापा एक जटिल दीर्घकालिक (complex chronic) स्थिति है जो तब होती है जब आपके बच्चे का वजन उसकी उम्र, ऊंचाई और जन्म के समय निर्धारित लिंग के अनुसार स्वस्थ वजन से अधिक होता है।

बचपन में मोटापे के क्या कारण है? What are the causes of childhood obesity?

बचपन का मोटापा एक जटिल स्थिति है जिसके कई कारण होते हैं। आपके बच्चे को वृद्धि और विकास के लिए एक निश्चित मात्रा में कैलोरी की आवश्यकता होती है। लेकिन जब वे उपयोग से अधिक कैलोरी लेते हैं, तो उनका शरीर अतिरिक्त कैलोरी को शरीर में वसा (वसा ऊतक – adipose tissue) के रूप में संग्रहीत करता है।

बच्चे (हम) कितना खाना खाते हैं, किस प्रकार का खाना खाते हैं और बच्चों का शरीर उस ऊर्जा का उपयोग कैसे करता है, इस पर भी कई कारक निर्भर करते हैं। प्रत्येक बच्चे का शरीर - और स्थिति - अद्वितीय होती है। कुछ बच्चों को दूसरों की तुलना में वजन बढ़ने का अधिक खतरा होता है। मोटापा आलस्य (Laziness) या इच्छाशक्ति की कमी से विकसित नहीं होता है।

यहाँ निम्न कुछ ऐसे वर्णित कारण हैं जो कि बच्चों में मोटापे को बढ़ावा देते हैं :-

जेनेटिक्स और एपिजेनेटिक्स (genetics and epigenetics)

आनुवंशिक कारकों से यह संभावना बढ़ सकती है कि आपके बच्चे को मोटापा होगा। जिन बच्चों के जैविक माता-पिता या भाई-बहन मोटापे से ग्रस्त हैं, उनमें स्वयं इस स्थिति के विकसित होने की संभावना अधिक हो सकती है। अध्ययनों से पता चलता है कि विभिन्न जीन वजन बढ़ाने में योगदान दे सकते हैं। लेकिन मोटापे के पारिवारिक इतिहास वाले सभी बच्चों में यह विकसित नहीं होगा।

अन्य एपिजेनेटिक कारक जो आपके बच्चे में मोटापे के खतरे को बढ़ा सकते हैं उनमें निम्न शामिल हैं :-

  • जैविक माता-पिता में से किसी एक या दोनों का गर्भावस्था-पूर्व मोटापा।

  • गर्भावस्थाजन्य मधुमेह (gestational diabetes)।

  • गर्भावस्था के दौरान जन्म देने वाले माता-पिता का अत्यधिक वजन बढ़ना।

परिवार और घर का वातावरण कारण (family and home environment)

साझा पारिवारिक व्यवहार और घरेलू वातावरण के कारक बचपन के मोटापे में योगदान कर सकते हैं, जिनमें निम्न शामिल हैं :-

  • माता-पिता और देखभाल करने वाले अपने बच्चों को किस प्रकार का भोजन देते हैं और कितनी बार देते हैं।

  • चीनी-मीठा पेय पदार्थ लेना।

  • बड़े हिस्से का आकार खाना।

  • अत्यधिक प्रसंस्कृत खाद्य पदार्थों के स्नैकिंग व्यवहार में वृद्धि।

  • घर पर खाना पकाने के बजाय बाहर खाना खाना।

  • स्क्रीन समय में वृद्धि।

  • शारीरिक गतिविधि का अभाव (गतिहीन व्यवहार)।

  • गुणवत्तापूर्ण नींद का अभाव।

  • सेकेंडहैंड धूम्रपान का प्रदर्शन (exposure to second-hand smoke)।

स्वास्थ्य के सामाजिक निर्धारक (social determinants of health)

स्वास्थ्य के सामाजिक निर्धारक उस वातावरण की स्थितियाँ हैं जहाँ आप पैदा होते हैं, रहते हैं, सीखते हैं, काम करते हैं और खेलते हैं जो आपके स्वास्थ्य को प्रभावित कर सकते हैं। आपका परिवार कहाँ रहता है इसका आपके बच्चे के मोटापे के विकास के जोखिम पर सीधा प्रभाव पड़ सकता है। स्कूल और डेकेयर सेंटर आपके बच्चे को जो खाद्य पदार्थ और पेय परोसते हैं, वे उनके खाने के पैटर्न को प्रभावित करते हैं। वे आपके बच्चे को प्रतिदिन मिलने वाली शारीरिक गतिविधि की मात्रा में भी योगदान देते हैं। बचपन में मोटापे में योगदान देने वाले अन्य सामाजिक-आर्थिक कारकों में निम्न शामिल हैं :-

  • स्वस्थ भोजन विकल्पों की लागत और पहुंच।

  • फास्ट फूड की निकटता (निकटता)।

  • परिवहन पहुंच।

  • आपका नेटवर्क या सामाजिक सहायता प्रणाली।

  • आपके समुदाय में मनोरंजक सुविधाओं या पार्कों, या सक्रिय रहने के लिए अन्य सुरक्षित स्थानों तक सीमित पहुंच।

सांस्कृतिक कारक (cultural factors)

फास्ट फूड रेस्तरां और अस्वास्थ्यकर खाद्य पदार्थों और पेय पदार्थों के विज्ञापन बचपन में मोटापे में योगदान कर सकते हैं। बच्चे इन खाद्य पदार्थों के विज्ञापन टीवी पर विज्ञापनों और ऑनलाइन विज्ञापनों तथा किराने की दुकानों में देखते हैं।

अध्ययनों से पता चलता है कि बच्चों पर लक्षित अस्वास्थ्यकर भोजन और पेय पदार्थों के विपणन के थोड़े समय के लिए भी जोखिम के दौरान और बाद में भोजन का सेवन बढ़ गया।

ऐसी कौन-सी स्वास्थ्य स्थितियां हैं जो बच्चों में मोटापे को बढ़ाती हैं? What are the health conditions that increase obesity in children?

निन्न कुछ ऐसी स्वास्थ्य स्थितियां हैं जिनकी वजह से आपके बच्चों को मोटापा हो सकता हैं :-

हार्मोनल असंतुलन स्थितियाँ

  1. हाइपोथायरायडिज्म (hypothyroidism)

  2. हाइपोथैलेमिक ट्यूमर (hypothalamic tumor)

  3. ग्रोथ हार्मोन की कमी (growth hormone deficiency)

  4. कुशिंग सिंड्रोम (Cushing's syndrome)

दुर्लभ आनुवंशिक स्थितियाँ 

  1. प्रेडर-विली सिंड्रोम (Prader-Willi syndrome)

  2. बार्डेट-बीडल सिंड्रोम (Bardet-Biedl syndrome)

  3. एल्स्ट्रॉम सिंड्रोम (Alstrom syndrome)

  4. जन्मजात लेप्टिन या PCSK1 की कमी 

कुछ दवाएं, जैसे दूसरी पीढ़ी की एंटीसाइकोटिक्स (antipsychotics) और कॉर्टिकोस्टेरॉइड्स (corticosteroids), आपके बच्चे में अधिक वजन और मोटापे का खतरा भी बढ़ा सकती हैं।

बचपन के मोटापे की जटिलताएँ क्या हैं? What are the complications of childhood obesity?

जिन बच्चों में मोटापा होता है उनमें विभिन्न स्वास्थ्य स्थितियों के विकसित होने का खतरा अधिक होता है। सबसे आम जटिलताओं में निम्न शामिल हैं :-

  1. उच्च रक्तचाप (high blood pressure)।

  2. उच्च कोलेस्ट्रॉल (डिस्लिपिडेमिया – dyslipidemia)।

  3. इंसुलिन प्रतिरोध, प्रीडायबिटीज और टाइप 2 डायबिटीज।

  4. गैर-शराब से संबंधित फैटी लीवर रोग।

अन्य जटिलताओं में निम्न शामिल हैं :-

  1. दमा।

  2. बाधक निंद्रा अश्वसन (obstructive sleep apnea)।

  3. पॉलीसिस्टिक ओवेरियन सिंड्रोम (polycystic ovarian syndrome)।

  4. अवसाद।

  5. जोड़ों का दर्द।

  6. ब्लौंट रोग (Blount's disease)।

  7. दिल की बीमारी।

जिन बच्चों में मोटापा होता है, उनके वयस्क होने तक इस स्थिति के बने रहने की संभावना अधिक होती है।

बचपन के मोटापे का निदान कैसे किया जाता है? How is childhood obesity diagnosed?

बाल रोग विशेषज्ञ आमतौर पर अच्छे बच्चों की जांच में अधिक वजन और मोटापे का निदान करते हैं। वे बच्चों में आकार और विकास पैटर्न को मापने के लिए बीएमआई-फॉर-एज ग्रोथ चार्ट (BMI-for-age growth chart) का उपयोग करते हैं।

उच्च बीएमआई शरीर में वसा की अधिक मात्रा का संकेत हो सकता है। बीएमआई सीधे शरीर में वसा को नहीं मापता है। लेकिन यह आपके बच्चे के प्रदाता को सचेत करता है कि आपके बच्चे को यह देखने के लिए अधिक परीक्षणों की आवश्यकता हो सकती है कि शरीर में अतिरिक्त वसा कोई समस्या है या नहीं। बीएमआई प्रतिशत कटऑफ एक स्तर को परिभाषित करता है जिसके ऊपर आपके बच्चे में वजन से संबंधित स्वास्थ्य समस्याएं विकसित होने की अधिक संभावना हो सकती है।

बचपन के मोटापे का इलाज कैसे किया जा सकता है? How can childhood obesity be treated?

आपके बच्चे का स्वास्थ्य सेवा प्रदाता यह निर्धारित करेगा कि आपके बच्चे के वजन के कारण उसका स्वास्थ्य खतरे में है या नहीं। यदि यह मामला है, तो आप एक औपचारिक उपचार कार्यक्रम पर विचार करना चाह सकते हैं।

मोटापा उपचार कार्यक्रमों के कर्मचारियों में विभिन्न प्रकार के स्वास्थ्य पेशेवर होने चाहिए। सर्वोत्तम कार्यक्रमों में निम्न शामिल हो सकते हैं :-

  1. बाल रोग विशेषज्ञ।

  2. पंजीकृत आहार विशेषज्ञ।

  3. व्यायाम फिजियोलॉजिस्ट या भौतिक चिकित्सक।

  4. पारिवारिक चिकित्सक।

  5. नर्स अभ्यासकर्ता (nurse practitioners)।

  6. बाल मनोवैज्ञानिक (child psychologist)।

  7. मनोचिकित्सकों।

व्यापक मोटापे के उपचार में आम तौर पर निम्न शामिल हैं :-

  1. गहन, दीर्घकालिक उपचार प्रदान करना।

  2. मोटापे से संबंधित चिकित्सीय और मनोवैज्ञानिक जटिलताओं के लिए अपने बच्चे का मूल्यांकन और निगरानी करना।

  3. स्वास्थ्य के सामाजिक चालकों की पहचान करना और उन्हें संबोधित करना (जैसे किफायती स्वस्थ खाद्य पदार्थों तक पहुंच)।

  4. उपचार के लिए गैर-कलंककारी दृष्टिकोण का उपयोग करना जो आपके बच्चे और परिवार के अद्वितीय गुणों और स्थिति पर विचार करता है।

  5. प्रेरक साक्षात्कार का उपयोग करना जो पोषण, शारीरिक गतिविधि और स्वास्थ्य व्यवहार परिवर्तन को संबोधित करता है।

  6. यदि आवश्यक हो तो वजन घटाने वाली दवाओं और/या चयापचय और बेरिएट्रिक सर्जरी के साथ गहन स्वास्थ्य व्यवहार और जीवनशैली उपचार (आईएचबीएलटी) को एकीकृत करना।

बचपन के मोटापे के विशेषज्ञ गहन स्वास्थ्य व्यवहार और जीवनशैली उपचार (IHBLT) के उपयोग की अत्यधिक अनुशंसा करते हैं। यह उपचार परिवारों को पोषण और शारीरिक गतिविधि में बदलाव के बारे में शिक्षित और समर्थन करता है जो दीर्घकालिक स्वास्थ्य को बढ़ावा देता है।

IHBLT सबसे अधिक प्रभावी तब होता है जब :-

  1. आमने-सामने होता है।

  2. पूरे परिवार को शामिल करता है।

  3. इसमें तीन से 12 महीनों में कम से कम 26 घंटे का पोषण, शारीरिक गतिविधि और व्यवहार परिवर्तन के पाठ शामिल हैं।

क्या मैं बचपन के मोटापे को रोक सकता/सकती हूँ? Can I prevent childhood obesity?

बचपन के मोटापे को रोकने का कोई आसान तरीका नहीं है। और यह याद रखना महत्वपूर्ण है कि बचपन के मोटापे को रोकना सिर्फ आपकी और आपके परिवार की जिम्मेदारी नहीं है - यह संघीय और स्थानीय सरकारों, स्कूलों, समुदायों और निगमों की सामूहिक जिम्मेदारी है। कई आनुवंशिक और दवा-आधारित कारक भी मोटापे में योगदान करते हैं। ये कारक आपके नियंत्रण से बाहर हैं।

Logo

Medtalks is India's fastest growing Healthcare Learning and Patient Education Platform designed and developed to help doctors and other medical professionals to cater educational and training needs and to discover, discuss and learn the latest and best practices across 100+ medical specialties. Also find India Healthcare Latest Health News & Updates on the India Healthcare at Medtalks