दो बूंद जिंदगी की, फिर सामने आया पोलियो | Polio in Hindi | Medtalks

दो बूंद जिंदगी की, फिर सामने आया पोलियो 

आप सभी ने कभी न कभी टीवी पर, अख़बार में, दीवार पर लगे इश्तिहार, अस्पताल में या किसी भी अन्य स्थान पर पोलियो के बारे में जागरूक करने के लिए सरकारी इश्तिहार जरूर देखा होगा। पीले रंग और “दो बूंद जिंदगी की” इस स्लोगन के साथ पोलियो के उस इश्तिहार में एक गंभीर से अपने बच्चों को पोलियो जैसी जानलेवा बीमारी से बचाने की चेतावनी दी जाती रही है।  भारत सरकार और विश्व स्वास्थ्य संगठन के अथक परियासों की वजह से 8 वर्ष पूर्व भारत को पोलियो मुक्त देश घोषित कर दिया गया था। ठीक इसी प्रकार करीब दो दशक पहले पोलियो की बीमारी को ब्रिटेन से खत्म कर दिया गया था। 

लेकिन हाल ही में लंदन के एक सीवेज के सैंपल से पोलियो वायरस का पता चला है। इस विषय की जानकारी विश्व स्वास्थ्य संगठन और ब्रिटिश स्वास्थ्य अधिकारियों ने दी है और बताया कि टीकों से प्राप्त एक प्रकार के पोलियो वायरस का पता चला है। साथ ही यह भी कहा कि इस मामले को लेकर अभी जांच चल रही है। वहीं, फ़िलहाल ब्रिटेन में अलर्ट जारी कर दिया गया है। विश्व स्वास्थ्य संगठन ने अपने एक बयान में कहा कि ब्रिटिश राजधानी लंदन में सीवेज के सैंपल में ‘पोलियो वायरस टाइप-2 (VDPV2)’ पाया गया है। 

राजस्थान में अभी भी पोलियो का खतरा | There is still a threat of polio in Rajasthan 

इसके बाद एक बार फिर से पोलियो फिर से खबरों में आ चूका है जो कि काफी लंबे समय से नेपथ्य में जा चूका था। पोलियो न केवल पश्चिम में खबरों में हैं बल्कि एक बार फिर भारत में दबे पाँव अपनी मौजूदगी दर्ज करवाता नज़र आ रहा हैं। एक मीडिया रिपोर्ट के अनुसार रजस्थान के चार जिलों में पोलियो एक बार फिर से सर उठा सकता है और इसके पीछे का कारण इन चार जिलों का पाकिस्तान बॉर्डर पर होना हैं। 

एक तरफ, जहाँ देश भर के बच्चों को पांच वर्ष की आयु तक पोलियो की खुराक दी जाती है, वहीं राजस्थान के इन चार जिले बाड़मेर, जोधपुर, भरतपुर व अलवर के 0-5 साल के बच्चों को अतिरिक्त खुराक भी दी जाती है। इस अतिरिक्त खुराक दिए जाने के पीछे का कारण बच्चों की सुरक्षा को ज्यादा मजबूत करना है। राजस्थान का यह इलाका, डेंजर जोन की श्रेणी में रखा गया है और इसी कारण यहाँ सामान्य से अतिरिक्त ध्यान दिया जाता है। 

चिकित्सा विभाग का मानना है कि पड़ोसी देश पाकिस्तान और अफगानिस्तान में पोलियो के मामले सामने आते रहे हैं। मीडिया रिपोर्ट के अनुसार बाड़मेर-जोधपुर में पाकिस्तान से विस्थापित लोग काफी संख्या में निवास करते हैं और इनके रिश्तेदार यहां आते-जाते रहते हैं। इसके कारण पोलियो वायरस मूव करके भारत में पहुँचने की आशंका काफी ज्यादा है। वहीं, जब थार एक्सप्रेस चलती थी, तब पडोसी देश पाकिस्तान से आवाजाही काफी ज्यादा रहती थी। इसी तरह भरतपुर व अलवर को भी वायरस के मद्देनजर डेंजर जोन में माना गया है और वहां पर भी बच्चों को अतिरक्त डोज के लिए दो उपराष्ट्रीय अभियान चलाए जाते है। जो साल 2014 से लगातार जारी है।  

चलिए अब इस लेख के जरिये पोलियो के बारे में विस्तार से जानते हैं। इस लेख के जरिये आप पोलियो के कारण, पोलियो के लक्षण, और सबसे जरूरी पोलियो के इलाज के बारे में जानकारी ले सकते हैं।

पोलियो क्या है? | What is polio? 

पोलियो एक संक्रामक वायरल बीमारी है जो अपने सबसे गंभीर रूप में तंत्रिका की चोट का कारण बनती है जिससे पक्षाघात यानि लकवा, सांस लेने में कठिनाई जैसी समस्याएँ खड़ी करती है और कभी-कभी इसकी वजह से मृत्यु हो जाती है। 

पोलियोमाइलाइटिस या पोलियो, एक संक्रामक वायरल बीमारी है। यह ज्यादातर 5 वर्ष से कम उम्र के बच्चों में होती है और उनके उम्र भर के लिए गंभीर समस्याओं से जूझने के लिए छोड़ देती है। पोलियो सबसे गंभीर रूप में तंत्रिका की चोट का कारण बनती है जिससे पक्षाघात यानि लकवा, सांस लेने में कठिनाई जैसी समस्याएँ खड़ी करती है और कभी-कभी इसकी वजह से मृत्यु हो जाती है। 

पोलियो से बचाव के लिए 0 से 5 वर्ष तक के बच्चों को पोलियो दवा की खुराक देने के साथ टीकाकरण किया जाता है। अगर किसी बच्चे का पोलियो से बचाव के लिए कदम नहीं उठाए जाए तो उसकी वजह से उसे इस गंभीर बीमारी का खतरा बना रहता है। 

भारत में पोलियो कितना आम है?| How common is polio in India? 

भारत समेत अन्य कई देशों में फिलाहल पोलियो की बीमारी दुर्लभ है, क्योंकि यहाँ पर अधिकाँश लोगों को पोलियो की खुराक दी जा चुकी है। वर्ष 1994 में भारत में पल्स पोलियो अभियान (pulse polio campaign) की शुरुआत देश भर में हुई और व्यापक रूप से देश भर के बच्चों को इस दवा की खुराक दी गई। भारत सरकार द्वारा चलाए गये इस अभियान के चलते 8 साल पहले भारत को विश्व स्वास्थ्य संगठन द्वारा पोलियो मुक्त घोषित कर दिया गया। 

इतनी बड़ी उपलब्धी हासिल करने के बावजूद भी भारत सरकार लगातार आपने वाली पीढ़ी की सुरक्षा के लिए इस अभियान को जारी रखे हुए हैं। भारत में बच्चों को पोलियो की खुराक उनके नजदीक उपलब्ध करवाई जाती है, जैसे कि आंगनबाड़ी केंद्र, डिस्पेंसरी, स्कूल, बस और रेलवे के अलावा घर-घर जाकर भी पोलियो की खुराक दी जाती है। 

पोलियो के लक्षण क्या है? | What are the symptoms of polio?

पोलियो वायरस से संक्रमित लगभग 90 प्रतिशत लोगों में बीमारी के कोई लक्षण नहीं होते हैं या केवल हल्के लक्षण होते हैं। यदि लक्षण होते हैं, तो वे आमतौर पर वायरस के संपर्क में आने के लगभग सात से 10 दिनों के बाद दिखाई देते हैं। लेकिन लक्षण दिखने में 35 दिन तक का समय लग सकता है। पोलियो के लक्षण इसके कुछ प्रकार के आधार पर भिन्न हो सकते हैं जिन्हें निचे वर्णित किया गया है :- 

नॉनपैरालिटिक पोलियो | Nonparalytic polio 

कुछ लोग जो पोलियो वायरस से लक्षण विकसित करते हैं, वे एक प्रकार के पोलियो का अनुबंध करते हैं जिससे पक्षाघात (paralysis) (गर्भपात पोलियो – abortive polio) नहीं होता है। यह आमतौर पर अन्य वायरल बीमारियों के समान हल्के, फ्लू जैसे संकेत और लक्षणों का कारण बनता है। 

संकेत और लक्षण, जो 10 दिनों तक रह सकते हैं, जिनमे निम्नलिखित शामिल हैं :- 

  1. बुखार

  2. गला खराब होना

  3. सिरदर्द

  4. उल्टी

  5. थकान

  6. कमजोरी

  7. पीठ दर्द या जकड़न

  8. गर्दन में दर्द या जकड़न

  9. हाथ या पैर में दर्द या जकड़न

  10. मांसपेशियों में कमजोरी या कोमलता

पैरालिटिक सिंड्रोम Paralytic syndrome 

पोलियो रोग का यह सबसे गंभीर और दुर्लभ रूप है। लकवाग्रस्त पोलियो के शुरुआती संकेत और लक्षण, जैसे कि बुखार और सिरदर्द, अक्सर गैर-पैरालिटिक पोलियो (Nonparalytic polio) की नकल करते हैं। एक सप्ताह के भीतर, अन्य संकेत और लक्षण दिखाई देते हैं, जिनमें निम्नलिखित शामिल हैं :- 

  1. सजगता का नुकसान

  2. गंभीर मांसपेशियों में दर्द या कमजोरी

  3. ढीले और फ्लॉपी अंग (फ्लेसीड पक्षाघात)

पोस्ट-पोलियो सिंड्रोम Post-polio syndrome 

पोस्ट-पोलियो सिंड्रोम अक्षम करने वाले संकेतों और लक्षणों का एक समूह है जो पोलियो होने के वर्षों बाद कुछ लोगों को प्रभावित करता है। सामान्य संकेतों और लक्षणों में निम्नलिखित शामिल हैं :- 

  1. प्रगतिशील मांसपेशी या जोड़ों की कमजोरी और दर्द

  2. थकान

  3. मांसपेशियों की बर्बादी (शोष) – Muscle wasting (atrophy)

  4. सांस लेने या निगलने में समस्या

  5. नींद से संबंधित श्वास संबंधी विकार, जैसे स्लीप एपनिया (sleep apnea) 

  6. ठंडे तापमान की सहनशीलता में कमी

वैसे तो अधिकांश लोग पोलियो से पूरी तरह से ठीक हो जाते हैं, लेकिन यह बीमारी बहुत गंभीर समस्याएं पैदा कर सकती है। ये समस्याएं कभी-कभी जल्दी (संक्रमण के घंटों बाद) विकसित हो सकती हैं और इसमें निम्नलिखित शामिल हैं :- 

  1. स्तब्ध हो जाना, पिन और सुइयों की भावना या पैरों या बाहों में झुनझुनी।

  2. पैर, हाथ या धड़ का लकवाग्रस्त हो जाना।

  3. फेफड़ों में मांसपेशियों में लकवा लगने के कारण सांस लेने में परेशानी।

  4. मौत जब सांस लेने के लिए इस्तेमाल की जाने वाली मांसपेशियां लकवाग्रस्त हो जाती हैं। 

पोलियो का क्या कारण है? | What causes polio? 

पोलियो वायरस नामक वायरस पोलियो का कारण बनता है। वायरस मुंह या नाक के माध्यम से शरीर में प्रवेश करता है, पाचन और श्वसन (श्वास) प्रणाली में प्रवेश करता है। यह गले और आंतों में लगातार बढ़ता है। वहां से, यह रक्तप्रवाह में प्रवेश कर सकता है। यह तंत्रिका तंत्र पर भी हमला कर सकता है, तंत्रिका नेटवर्क जो मस्तिष्क को शरीर के बाकी हिस्सों के साथ संवाद करने में मदद करता है।

पोलियोवायरस के तीन प्रकार हैं: प्रकार 1, 2 और प्रकार 3।  प्रकार 2 और 3 को समाप्त कर दिया गया है, लेकिन टाइप 1 अभी भी कुछ देशों में लोगों को प्रभावित करता है।

दुनिया के कुछ हिस्सों में, अभी भी एक जीवित पोलियोवायरस वैक्सीन (live poliovirus vaccine) का उपयोग किया जाता है। यह मौखिक लाइव वायरस वैक्सीन (oral live virus vaccine) बहुत ही कम पोलियो का कारण बन सकता है। 

लकवा और पोलियो से मृत्यु कितनी आम है? | How common are paralysis and death from polio? 

एक अध्यन के अनुसार हर 200 पोलियो संक्रमण में से एक मामला लकवा का कारण बनता है, आमतौर पर पैरों में। पोलियो से लकवाग्रस्त लगभग 5 प्रतिशत से 10 प्रतिशत लोगों की मृत्यु हो जाती है क्योंकि वे सांस लेने के लिए अपनी मांसपेशियों का उपयोग नहीं कर सकते। 

क्या पोलियो वायरस संक्रामक है? | Is polio virus contagious?

पोलियोवायरस बहुत संक्रामक है, और एक व्यक्ति बीमार न होने पर भी इसे प्रसारित (फैला) सकता है। यह वायरस एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में दो तरह से फ़ैल सकता है।

जिन लोगों के शरीर में पोलियो वायरस होता है, वे अपने मल (पूप) के माध्यम से वायरस छोड़ते हैं। दूषित पानी या भोजन निगलने पर वायरस अन्य लोगों में फैल सकता है। यह जोखिम उन क्षेत्रों में अधिक होने की संभावना है जहां खराब स्वच्छता या साफ पानी की कमजोर व्यवस्था है।

कोई व्यक्ति छींकने या खांसने के बाद भी वायरस उठा सकता है। यदि आपके मुंह या नाक में किसी संक्रमित व्यक्ति के कफ या बलगम की बूंदें मिलती हैं, तो आप संक्रमित हो सकते हैं।

पोलियो के जोखिम कारक क्या है? | What are the risk factors for polio?

पोलियो मुख्य रूप से 5 वर्ष से कम उम्र के बच्चों को प्रभावित करता है। हालांकि, जिन लोगों को टीका नहीं लगाया गया है, उनमें इस बीमारी के विकसित होने का खतरा होता है।

पोलियो के कारण क्या जटिलताएं हो सकती है? | What complications can be caused by polio?

अगर किसी को पोलियो वायरस अपनी चपेट में ले लेता हैं तो इसकी वजह से उसे निम्नलिखित जटिलताओं का सामना करना पड़ सकता है :- 

  1. स्थाई या अस्थाई लकवा 

  2. विकलांगता

  3. मृत्यु 

  4. अस्थि विकृति (bone deformities)

पोलियो का निदान कैसे किया जाता है? | How is polio diagnosed? 

यदि आपको पोलियो के लक्षण हैं, तो किसी स्वास्थ्य सेवा प्रदाता से संपर्क करें। स्वास्थ्य सेवा प्रदाता आपसे आपके लक्षणों के बारे में पूछेगा और क्या आपने हाल ही में यात्रा की है।

चूंकि पोलियो के लक्षण फ्लू के लक्षणों की तरह दिखते हैं, इसलिए स्वास्थ्य सेवा प्रदाता अधिक सामान्य वायरल स्थितियों को रद्द करने के लिए परीक्षणों का आदेश दे सकता है।

पोलियो की पुष्टि करने के लिए, एक स्वास्थ्य सेवा प्रदाता इसका एक छोटा सा नमूना लेगा:

  1. मस्तिष्कमेरु द्रव (मस्तिष्क और रीढ़ की हड्डी के चारों ओर तरल)।

  2. आपके गले से लार।

  3. मल (poop)।

स्वास्थ्य टीम पोलियो वायरस की पहचान के लिए माइक्रोस्कोप के तहत नमूने को देखेगी। 

पोलियो का उपचार कैसे किया जाता है? How is polio treated? 

आपको बता दें कि पोलियो का कोई सटीक और पक्का इलाज नहीं है, और लकवा को रोकने का कोई तरीका नहीं है, इसलिए किसी भी पोलियो से जूझ रहे व्यक्ति को पूरी तरह से ठीक कर पाना मुमकिन नहीं है। हाँ, लेकिन कुछ उपायों की मदद से पोलियो रोगी के जीवन को आरामदायक बनाया जा सकता है, जिसके लिए निम्नलिखित कुछ खास उपाय अपनाए जा सकते हैं :- 


  1. तरल उत्पादों का सेवन (जैसे पानी और जूस)।

  2. मांसपेशियों को आराम देने के लिए गर्म रखें, जिसमें मालिश का इस्तेमाल किया जा सकता है।

  3. दवाएं जो मांसपेशियों को आराम देती हैं, उन्हें एंटीस्पास्मोडिक दवाएं (antispasmodic drugs) भी कहा जाता है।

  4. दर्द निवारक, जैसे NSAIDs (नॉनस्टेरॉइडल एंटी-इंफ्लेमेटरी ड्रग्स)।

  5. शारीरिक उपचार और व्यायाम मांसपेशियों की रक्षा करने में मदद करते हैं।

  6. मैकेनिकल वेंटिलेशन, या एक मशीन जो आपको सांस लेने में मदद करती है। 

इन सभी उपायों के अलावा रोगी को जितना हो सके उतना शारीरिक कक्रियाएं करनी चाहिए और आराम भी करना चाहिए। 

क्या पोलियो से बचाव किया जा सकता है? Can polio be prevented?

हाँ, पोलियो से बचाव किया जा सकता है और पोलियो के खिलाफ सबसे अच्छी रोकथाम हाथ या पैर में चार वैक्सीन शॉट्स की एक श्रृंखला है। इसके अलावा भारत में मौखिक रूप से भी पोलियो की खुराक दी जाती है। पोलियो की मौखिक खुराक केंद्र और राज्य सरकारों द्वारा 0 से 5 वर्ष तक के बच्चों को नियमित रूप से दी जाती है। 

भारत में बच्चों को पोलियो की खुराक “दो बूंद जिंदगी की” स्लोगन के साथ शुरू किये गये कार्यक्रम के तहत दी जाती है। देश भर में पोलियो की खुराक निःशुल्क प्रदान की जाती है और इसे हर बच्चे तक पहुँचाया जाता है। 

बच्चों के लिए अनुशंसित टीकाकरण कार्यक्रम उम्र पर आधारित है:

  1. पहली गोली जब 2 महीने की थी।

  2. दूसरा शॉट जब 4 महीने का था।

  3. तीसरा शॉट 6 से 18 महीने के बीच का है।

  4. सुरक्षा को सुरक्षित करने के लिए एक अतिरिक्त खुराक के लिए 4 से 6 साल की उम्र में एक "बूस्टर" शॉट।

यदि आपको बचपन में पोलियो के टीके नहीं लगवाए गए हैं, तो आपको वयस्कता में तीन टीके लगवाने चाहिए:

  1. किसी भी समय पहली खुराक।

  2. दूसरी खुराक एक या दो महीने बाद।

  3. अंतिम खुराक दूसरे के छह से 12 महीने बाद।

यदि आपको बचपन में अपनी सभी टीके की खुराक नहीं मिली, तो आपको एक वयस्क के रूप में शेष टीके लेने चाहिए। 

इन टिको के लिए आप अपने नजदीकी अस्पताल में संपर्क कर सकते हैं। वहीं, छोटे बच्चों को उनके समीप आंगनबाड़ी केंद्र में समय पर निःशुल्क टिके और पोलियो की खुराक दी जाती है। 

क्या पोलियो के टीके सुरक्षित हैं? Are polio vaccines safe? 

रोग नियंत्रण और रोकथाम केंद्र (सीडीसी) – Centres for Disease Control and Prevention (CDC) पोलियो के टीके को बहुत सुरक्षित मानता है। सीडीसी वैक्सीन सुरक्षा और समस्याओं को ट्रैक करता है।

कोई भी टीका हो सकता है: 


  1. एलर्जी की प्रतिक्रिया।

  2. दर्द जो थोड़ी देर तक रहता है (दुर्लभ मामलों में)।

  3. लाली जहां सुई त्वचा में प्रवेश करती है।

  4. उस क्षेत्र में दर्द जहां आपको गोली लगी है।

यदि आप एक शॉट के बाद अच्छा महसूस नहीं कर रहे हैं या एलर्जी की प्रतिक्रिया है, तो अपने स्वास्थ्य सेवा प्रदाता को बताएं। भविष्य की खुराक से पहले अपने प्रदाता के साथ भी संपर्क करें। 

क्या मेरे ठीक होने के बाद पोलियो वापस आ सकता है? Can polio come back after I recover? 

लगभग 40% लोग जिन्हें पहले पोलियो हुआ था और वे ठीक हो गए थे, वे पोस्ट-पोलियो सिंड्रोम विकसित कर सकते हैं। प्रारंभिक बीमारी के 40 साल बाद तक सिंड्रोम हो सकता है। यदि किसी व्यक्ति को पोलियो का बुरा मामला था, तो पोस्ट-पोलियो सिंड्रोम अधिक गंभीर हो सकता है। यदि किसी व्यक्ति को पोलियो का कम गंभीर मामला था, तो हो सकता है कि उसे पोस्ट-पोलियो सिंड्रोम न हो या केवल हल्का मामला हो।

पोस्ट-पोलियो सिंड्रोम कैसा लगता है? What does post-polio syndrome feel like? 

पोस्ट-पोलियो सिंड्रोम के लक्षण धीरे-धीरे शुरू हो सकते हैं और फिर खराब हो सकते हैं। वे पोलियो के लक्षणों की तरह हैं:

  1. थकान।

  2. स्नायु शोष (मांसपेशियों के आकार में धीमी कमी)।

  3. पोलियो प्रभावित उन्हीं मांसपेशियों में नई कमजोरी।

  4. जोड़ों में दर्द।

  5. स्कोलियोसिस (घुमावदार रीढ़)।

पोलियो के बाद के सिंड्रोम के लक्षण शायद ही कभी जीवन के लिए खतरा होते हैं, लेकिन वे इसके साथ कठिनाइयाँ पैदा कर सकते हैं:

  1. सांस लेना।

  2. सामान्य गतिविधियों में भाग लेना।

  3. सोना।

  4. निगलना।

क्या पोस्ट-पोलियो सिंड्रोम भी संक्रामक है? Is post-polio syndrome contagious, too? 

पोस्ट-पोलियो सिंड्रोम संक्रामक नहीं है। केवल वही व्यक्ति जिसे कभी पोलियो हुआ हो, उसे ही यह सिंड्रोम हो सकता है। 


Get our Newsletter

Filter out the noise and nurture your inbox with health and wellness advice that's inclusive and rooted in medical expertise.

Your privacy is important to us

MEDICAL AFFAIRS

CONTENT INTEGRITY

NEWSLETTERS

© 2022 Medtalks