घुटने बदलने का ऑपरेशन या नी रिप्लेसमेंट सर्जरी के बारे में सब जाने | Medtalks

बढ़ती उम्र के साथ व्यक्ति को बहुत सी शारीरिक समस्याएँ होना शुरू हो जाती है, जैसे उच्च रक्तचाप, खराब पाचन तंत्र, कमजोर हड्डियाँ और कमजोर रोग प्रतिरोधक क्षमता। इन सभी समस्याओं के अलावा अगर सबसे बड़ी समस्या के बारे में बात की जाए तो वो निश्चित रूप से घुटनों का दर्द ही होगा बढती उम्र के साथ घुटनों में दर्द होने की समस्या भले ही आम हो, लेकिन जो लोग इससे जूझते हैं उनसे अगर पूछा जाए तो यह दर्द काफी भयावह होता है और सर्दियों के मौसम में यह दर्द काफी परेशानी पैदा करता है। इसी के साथ अगर व्यक्ति को पहले घुटनों से जुड़ी कोई समस्या हो तो उससे घुटनों के दर्द की समस्या और भी ज्यादा बढ़ जाती है। घुटनों से जुड़ी एक ऐसी ही समस्या है ऑस्टियोआर्थराइटिस (OA) घुटने के गठिया। 

इस गठिया की वजह से व्यक्ति को घुटनों का दर्द तो होता ही है साथ ही इसकी वजह से व्यक्ति विकलांग तक भी हो सकता है। घुटनों के दर्द से छुटकारा पाने के लिए वैसे तो कई उपाय है जिससे इस समस्या से छुटकारा पाया जा सकता है। जैसे – तेल से मालिश, घुटनों में जमा पानी को निकलवाना, दवाएं और भी कई घरेलू उपाय। लेकिन घुटनों के दर्द से जुड़े यह सभी उपाय अस्थाई होते हैं, जब तक तेल या दवा का असर रहेगा तब तक आराम मिलेगा उसके बाद फिर से घुटनों से जुड़ी समस्या होना शुरू हो जाती है। परन्तु घुटने बदलने का ऑपरेशन या नी रिप्लेसमेंट सर्जरी घुटनों से जुडे सभी समस्याओं का रामबाण उपचार है। नी रिप्लेसमेंट सर्जरी की मदद से घुटनों के दर्द जुड़ी समस्या से हमेशा के लिए छुटकारा मिल जाता है, लेकिन अभी लोगों को इस बारे में ज्यादा जानकारी नहीं है। चलिए इस लेख के जरिये इस नी रिप्लेसमेंट सर्जरी के बारे में सब कुछ जानने की कोशिश करते हैं। 

घुटना बदलने का ऑपरेशन क्या है? What is knee replacement operation?

घुटने के प्रतिस्थापन, जिसे घुटने की आर्थ्रोप्लास्टी (arthroplasty) या कुल घुटने का प्रतिस्थापन (total knee replacement) भी कहा जाता है, यह गठिया से क्षतिग्रस्त घुटने को पुनर्जीवित करने के लिए एक शल्य प्रक्रिया (surgical procedure) है। घुटना बदलने के ऑपरेशन में धातु और प्लास्टिक के हिस्सों का उपयोग घुटने के जोड़ के साथ-साथ घुटने के जोड़ को बनाने वाली हड्डियों के सिरों को ढकने के लिए किया जाता है। इस सर्जरी को उस व्यक्ति के लिए किया जाता है जो कि गंभीर गठिया या घुटने से जुड़ी किसी गंभीर चोट या अन्य समस्या से जूझ रहा होता है। घुटने के प्रतिस्थापन के तीन प्रकार हैं, रोगी की शारीरिक स्थिति को देखते हुए किसी एक विकल्प को अपनाया जाता है :- 

  1. कुल घुटने का प्रतिस्थापन: पूरे घुटने को बदल दिया जाता है

  2. आंशिक घुटने का प्रतिस्थापन: घुटने के केवल प्रभावित हिस्से को बदला जाता है

  3. द्विपक्षीय घुटने का प्रतिस्थापन: दोनों घुटनों को एक ही समय में बदल दिया जाता है

घुटना बदलने का ऑपरेशन क्यों किया जाता है? Why is knee replacement surgery done?

वैसे तो घुटना बदलने का ऑपरेशन करने के कई कारण हो सकते हैं , लेकिन इसे करने का सबसे मूल कारण है ऑस्टियोआर्थराइटिस। ऑस्टियोआर्थराइटिस घुटनों में होने वाला गठिया है जिसकी वजह से घुटनों में काफी दर्द होता है और इसकी वजह से काफी बार घुटनों की हड्डियाँ कमजोर होने के साथ-साथ क्षतिग्रस्त भी हो जाती है। ऐसे में नी रिप्लेसमेंट सर्जरी की आवश्यकता पड़ती है। इसके अलावा जो लोग चलने, सीढ़ियाँ चढ़ने-उतरने और कुर्सियों पर उठने-बैठने के साथ-साथ घुटनों में किसी गंभीर चोट के शिकार होते हैं उन्हें भी नी रिप्लेसमेंट सर्जरी की आवश्यकता पढ़ती है। 

जिन लोगों के घुटने स्थिर नहीं होते और जिनके घुटनों में लगातार सूजन रहती है उन्हें भी इस ऑपरेशन की आवश्यकता पड़ती है। ऑस्टियोआर्थराइटिस के अलावा रुमेटीइड गठिया की वजह से भी व्यक्ति को घुटना बदलवाने का ऑपरेशन करवाना पड़ सकता है।  इसके अलावा, फ्रैक्चर, फटे कार्टिलेज (torn cartilage) और फटे स्नायुबंधन (torn ligaments) से घुटने के जोड़ को अपरिवर्तनीय क्षति हो सकती है जिसकी वजह से भी इस गंभीर ऑपरेशन का सहारा लेना पड़ सकता है।

इन सभी के अलावा, एक व्यक्ति को निम्नलिखित कारणों से भी घुटना रिप्लेसमेंट सर्जरी करवानी पड़ सकती है। निम्नलिखित कारण 

  • दर्द की दवाएं

  • एंटी-इंफ्लेमेटरी दवाएं 

  • भौतिक चिकित्सा

  • ग्लूकोसामाइन और चोंड्रोइटिन सल्फेट

  • दर्दनाक गतिविधियों को सीमित करना

  • चलने के लिए सहायक उपकरण का इस्तेमाल (जैसे बेंत)

  • घुटने के जोड़ में कोर्टिसोन इंजेक्शन

  • विस्कोसप्लिमेंटेशन इंजेक्शन 

  • वजन घटाने (मोटे लोगों के लिए)

    घुटनों को कैसे मजबूत करें बिना दवा के

घुटने कितने अंगों से मिलकर बनता है? How many parts does the knee consist of?

आपने अपने स्कूल में विज्ञान की पुस्तक में हड्डियों के बारे में जरूर पढ़ा होगा, जिसमे हमारे शरीर की सभी हड्डियों के बारे में जानकारी में जानकारी दी गई होगी। चलिए एक बाद फिर आपको स्कूल की उन पुरानी पुस्तकों में ले चलते हैं और आपको बताते हैं कि हमारा घुटना कितनी चीजों से मिलकर बनता है और अपना काम कर पाता है। एक मानव घुटने के निम्नलिखित हिस्से होते हैं, जिनकी मदद से यह ठीक से काम कर पाता है :- 

  1. टिबिया Tibia – यह निचले पैर की पिंडली की हड्डी या बड़ी हड्डी है।

  2. फीमर Femur – यह जांघ की हड्डी या ऊपरी पैर की हड्डी है।

  3. पटेला Patella –  यह घुटने की टोपी है।

  4. उपास्थि Cartilage – एक प्रकार का ऊतक जो जोड़ में हड्डी की सतह को ढकता है। कार्टिलेज एक जोड़ के भीतर गति के घर्षण को कम करने में मदद करता है। इसे नर्म हड्डी के रूप में भी जाना है। 

  5. श्लेष झिल्ली Synovial membrane – एक ऊतक जो कि जोड़ को रेखाबद्ध करता है और उसे एक संयुक्त कैप्सूल में सील कर देता है। श्लेष झिल्ली संयुक्त के चारों ओर श्लेष द्रव (एक स्पष्ट, चिपचिपा द्रव) को लुब्रिकेट करने के लिए स्रावित करती है।

  6. लिगामेंट Ligament – एक प्रकार का सख्त, लोचदार संयोजी ऊतक जो जोड़ को सहारा देने के लिए घेरता है और जोड़ की गति को सीमित करता है।

  7. कण्डरा Tendon – एक प्रकार का सख्त संयोजी ऊतक जो मांसपेशियों को हड्डियों से जोड़ता है और जोड़ की गति को नियंत्रित करने में मदद करता है।

  8. मेनिस्कस Meniscus – घुटनों और अन्य जोड़ों में उपास्थि का एक घुमावदार हिस्सा जो सदमे अवशोषक के रूप में कार्य करता है, संपर्क क्षेत्र को बढ़ाता है, और घुटने के जोड़ को गहरा करता है।


नी रिप्लेसमेंट सर्जरी के दौरान क्या होता है? What happens during knee replacement surgery?

अधिकांश घुटने की रिप्लेसमेंट सर्जरी सामान्य एनेस्थीसिया, पेरिफेरल नर्व (peripheral nerve) ब्लॉक्स और स्पाइनल (एपिड्यूरल) एनेस्थीसिया को एक साथ लेकर की जाती है। घुटना बदलने का ऑपरेशन करने के बाद अक्सर संक्रमण होने की आशंका बनी रहती है, इसी कारण ऑपरेशन करवाने वाले रोगी को एंटीबायोटिक दवाएं भी दी जाती है। 

ऑपरेशन की प्रक्रिया के दौरान, सर्जन हड्डी और रोगग्रस्त हिस्सों को हटा देता है। सर्जन हड्डी और रोगग्रस्त हिस्सों को वहां से हटाना शुरू करता हैं जहां से जांघ की हड्डी (फीमर) और पिंडली की हड्डी (टिबिया) घुटने के जोड़ पर मिलती है। इसके बाद उन सतहों को कृत्रिम अंग प्रत्यारोपण से बदल दिया जाता है। विशेष प्लास्टिक के एक टुकड़े का उपयोग आमतौर पर नाइकेप के पिछले हिस्से को बदलने के लिए किया जाता है और अंत में, इसी प्लास्टिक सामग्री को दो धातु भागों के बीच में रखा जाता है। यह आपके घुटने के जोड़ की दोनों हड्डियों को फिर से चिकनी सतह देता है ताकि रोगी फ्लेक्स और बहुत आराम से जितना मर्जी दर्द के बिना चल सके, झुक सके और भी घुटनों से बाकी क्रियाएँ कर सके। 

कृत्रिम अंग में आम तौर पर 3 घटक होते हैं: टिबिअल घटक (टिबिया के शीर्ष पर, या पिंडली की हड्डी को फिर से जीवंत करने के लिए); ऊरु [जांघ की हड्डी] घटक (जांघ की हड्डी के अंत को पुनर्जीवित करने के लिए; और पेटेलर घटक (जांघ की हड्डी के खिलाफ रगड़ने वाले घुटने के निचले हिस्से को फिर से ठीक करने के लिए)। 

ऑपरेशन के दौरान एक मूत्र कैथेटर डाला जा सकता है, ताकि रोगी को पेशाब के लिए बिस्तर से बार-बार उतना न पड़े और उसे ज्यादा दर्द न हो। सर्जरी के दौरान एनेस्थिसियोलॉजिस्ट लगातार आपके हृदय गति, रक्तचाप, श्वास और रक्त ऑक्सीजन के स्तर की निगरानी करता है। ऑपरेशन के बाद भी लंबे समय तक रोगी के रक्तचाप, श्वास और रक्त ऑक्सीजन के स्तर की लगातार निगरानी की जाती है और साथ ही घुटनों की भी निगरानी की जाती है और यह देखा जाता है कि कहीं रोगी को संक्रमण न हो जाए। 

घुटनों के दर्द में कौन सी सिकाई कब करें!


नी रिप्लेसमेंट होने के बाद क्या होता है? What happens after a knee replacement?

एक बार नी रिप्लेसमेंट हो जाए तो कुछ दिनों के लिए रोगी को डॉक्टर अपने पास हॉस्पिटल में ही रखते हैं और रोगी की बारीकी से निगरानी की जाती है। रोगी का रक्तचाप, मधुमेह स्तर, सांस, रक्त में ऑक्सीजन स्तर और रक्त प्रवाह आदि सभी चीजों का अध्यन किया जाता है। इसके बाद रोगी को घर जाने की आज्ञा दे दी जाती है, जहाँ रोगी को कड़े परहेजों का पालन करने की सलाह दी जाती है। 

रोगी को सबसे ज्यादा साफ़-सफाई का ख्याल रखने की सलाह दी जाती है और समय पर दवाएं और पौष्टिक आहार लेने की सख्त हिदायत की जाती है। डॉक्टर रोगी को पैर और टखने को हिलाने के लिए कहते हैं, जिससे पैर की मांसपेशियों में रक्त का प्रवाह बढ़ जाता है और सूजन और रक्त के थक्कों को रोकने में मदद मिलती है। सूजन और थक्का जमने से बचाने के लिए आपको ब्लड थिनर लेने और सपोर्ट होज़ या कंप्रेशन बूट पहनने की सलाह भी दी जा सकती है।

इस दौरान रोगी को बार-बार सांस लेने के व्यायाम करने और धीरे-धीरे अपनी गतिविधि के स्तर को बढ़ाने के लिए कहा जाता है, ऐसे में रोगी अनुलोम-विलोम योगासन भी कर सकते हैं। इसके अलावा डॉक्टर कुछ योगासनों और कुछ खास आसनों के बारे में भी पूरी जानकारी भी प्रदान करते हैं जिससे रोगी जल्द स्वस्थ हो सके।

इन सभी के अलावा नी रिप्लेसमेंट करवाने के बाद जब रोगी घर आ जाते हैं तो उन्हें निम्नलिखित समस्याएँ होने पर तुरंत अपने चिकत्सक को इस बारे में जानकारी देनी चाहिए :-

  • बुखार

  • सूजन

  • चीरा स्थल से लाली

  • रक्तस्राव या अन्य जल निकासी

  • चीरा स्थल के आसपास दर्द बढ़ जाना

घुटने बदलवाने का ऑपरेशन करवाने के बाद जब रोगी घर वापिस आते हैं तो वह निम्नलिखित बातों को अपनाकर भी जल्दी स्वस्थ हो सकते हैं :- 

  • सभी सीढ़ियों के साथ उचित रेलिंग

  • शॉवर या स्नान में सुरक्षा रेलिंग का प्रयोग करें

  • शावर बेंच या कुर्सी का प्रयोग करें

  • उठी हुई टॉयलेट सीट का प्रयोग करें 

  • लंबे समय तक सावधानी से नहाएं

  • ड्रेसिंग स्टिक का प्रयोग करें 

  • नाचने की कोशिश न करें

  • लंबी दूरी तक पैदल न चले 

  • असमतल जगह पर न चले 

  • शराब और धुम्रपान बिलकुल न करें

  • जब तक आपके डॉक्टर सलाह न दें तब तक सीढ़ियाँ चढ़ने से बचें

घुटने बदलवाने का ऑपरेशन करवाने के बाद क्या-के समस्याएँ हो सकती है। What are the problems after knee replacement surgery?

जब एक व्यक्ति घुटना बदलवाने का ऑपरेशन करवाता है तो उसकी वजह से उसे कई जटिलताओं का सामना करना पड़ सकता है। निम्नलिखित जटिलताओं की वजह से रोगी को काफी समस्याएँ हो सकती है जिसके लिए उन्हें जल्द से जल्द डॉक्टर से बात करनी चाहिए :- 

  • संक्रमण

  • पैर की नस या फेफड़ों में रक्त के थक्के

  • कठोरता

  • दिल का दौरा

  • नस की क्षति

  • आघात

  • लगातार दर्द, सर्जरी सफल होने पर भी

बाकी जटिलताओं के मुकाबले संक्रमण का होना सबसे गंभीर समस्या है। संक्रमण होने पर निम्नलिखित लक्षणों की मदद से इसकी पहचान की जा सकती है :-

  • 100 F (37।8 C) से अधिक बुखार

  • ठंड से कंपकपी

  • सर्जिकल साइट से ड्रेनेज

  • घुटने में लाली

  • कोमलता

  • सूजन और दर्द बढ़ जाना

अगर ऑपरेशन करवाने के बाद आपको उपरोक्त बताए गये लक्षण नज़र आते हैं तो जल्द से जल्द डॉक्टर को इस बारे में जानकारी जरूर देनी चाहिए ताकि संक्रमण को जल्द से जल्द खत्म किया जा सकता है। वैसे अधिकांश लोग गंभीर जटिलताओं का अनुभव नहीं करते हैं और बहुत खुश हैं कि उनके घुटने बदल दिए गए हैं। इसलिए ऑपरेशन करवाने के बाद अपने डॉक्टर की सभी सलाहों का पालन करें।


Get our Newsletter

Filter out the noise and nurture your inbox with health and wellness advice that's inclusive and rooted in medical expertise.

Your privacy is important to us

MEDICAL AFFAIRS

CONTENT INTEGRITY

NEWSLETTERS

© 2022 Medtalks