आहार से कैसे कम करें एसजीपीटी और एसजीओटी स्तर?

लीवर शरीर के लगभग हर अंग प्रणाली में एक भूमिका निभाता है। यह पाचन और चयापचय में सहायता करके अंतःस्रावी (endocrine) और जठरांत्र प्रणालियों (gastrointestinal systems) के साथ संपर्क करता है। यकृत वसा में घुलनशील विटामिनों का भंडारण स्थान है और कोलेस्ट्रॉल होमियोस्टैसिस (cholesterol homeostasis) को संभालता है। इतना ही नहीं हमारे शरीर का यह अंग लोहे और तांबे का भंडारण भी करता है।

हमारे अच्छे स्वास्थ्य के लिए जरूरी हैं कि हमारा लीवर हमेशा स्वस्थ बना रहे। लीवर के उचित कामकाज को सुनिश्चित करने के लिए सीरम ग्लूटामिक पाइरुविक ट्रांसअमिनेज़ – एसजीपीटी (Serum glutamic pyruvic transaminaseSGPT) और सीरम ग्लूटामिक-ऑक्सैलोएसेटिक ट्रांसएमिनेज़ – एसजीओटी (Serum glutamic-oxaloacetic transaminase SGOT) के साथ-साथ लीवर के अन्य एंजाइमों (liver enzymes) के सामान्य स्तर को बनाए रखना महत्वपूर्ण है। यदि आपके लीवर या किसी अन्य अंग में इन एंजाइमों का स्तर अधिक है, तो यह मांसपेशियों या उस अंग को नुकसान होने का संकेत है जिसमें एंजाइम है।

एसजीओटी और एसजीपीटी का क्या महत्व है? What is the significance of SGOT and SGPT?

संतुलित एसजीपीटी और एसजीओटी स्तर अंग स्वास्थ्य के महत्वपूर्ण संकेतक हैं। इन एंजाइमों को स्वस्थ सीमा में रखने से संकेत मिलता है कि आपके अंग ठीक से काम कर रहे हैं। यहां बताया गया है कि ये परीक्षण महत्वपूर्ण क्यों हैं: लिवर स्वास्थ्य का मूल्यांकन करें: उच्च एसजीओटी या एसजीपीटी स्तर अक्सर लिवर के साथ संभावित समस्याओं का संकेत देते हैं।

यदि एसजीओटी और एसजीपीटी स्तर ऊंचे हों तो क्या होगा? What happens if SGOT and SGPT levels are high?

2 से अधिक एसजीओटी/एसजीपीटी अनुपात अल्कोहलिक हेपेटाइटिस और सिरोसिस का अत्यधिक सूचक है। इनमें से 70% रोगियों में यह होता है, जबकि 26% रोगियों में पोस्टनेक्रोटिक सिरोसिस, 8% में क्रोनिक हेपेटाइटिस, 4% में वायरल हेपेटाइटिस और किसी में भी प्रतिरोधी पीलिया नहीं होता है।

एसजीपीटी और एसजीओटी का सामान्य स्तर भिन्न हो सकता है और कई कारकों पर निर्भर करता है। अलग-अलग कारकों के अनुसार इन एंजाइमों के स्तर का अनुमानित स्तर एसजीओटी स्तर हो सकता है :-

·        पुरुष: 10 - 40 units per litre (U/L)

·        महिलाएं: 9 - 32 units per litre (U/L)

यह भी ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि क्षति केवल लीवर तक ही सीमित नहीं है, हृदय, मस्तिष्क और किडनी जैसे अन्य अंग भी इसमें शामिल हो सकते हैं, यह इस बात पर निर्भर करता है कि किस अंग में एंजाइम अधिक था।

यदि इलाज नहीं किया जाता है, तो एसजीपीटी और एसजीओटी का उच्च स्तर एक्यूट लीवर विफलता (acute liver failure) जैसी कई जटिलताओं को जन्म दे सकता है।

यदि एसजीपीटी और एसजीओटी स्तर का स्तर बढ़ता है तो आपको कई शारीरिक समस्याएँ हो सकती हैं, जिसमें लीवर और किडनी विफलता के साथ-साथ हृदय और मस्तिष्क समस्याएँ भी शामिल हैं। दवाओं के आलवा आप एसजीपीटी और एसजीओटी स्तर को आहार और अन्य घरेलु उपायों की मदद से भी काबू कर सकते हैं।

एसजीपीटी और एसजीओटी को कम करने के लिए आहार (Diet to Lower SGPT and SGOT)

आहार किसी स्वास्थ्य स्थिति को रोकने और प्रबंधित करने दोनों में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। इसी तरह, एसजीपीटी और एसजीओटी रेंज को कम करने में मदद के लिए कुछ ऐसे खाद्य पदार्थ और पोषक तत्व हैं जिन्हें आपको खाना चाहिए और खाने से बचना चाहिए। इसमे निम्न शामिल हैं :-

क्या आहार की मदद से एसजीपीटी और एसजीओटी स्तर को कम किया जा सकता हैं? Can SGPT and SGOT levels be reduced with the help of diet?



हाँ, आहार की मदद से एसजीपीटी और एसजीओटी स्तर को नियंत्रित किया जा सकता है। निश्चित ही संतुलित आहार आपके शरीर के संपूर्ण स्वास्थ्य को बनाए रखने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। उच्च एसजीपीटी और एसजीओटी स्तर वाला व्यक्ति लीवर की बीमारी को बेहतर ढंग से प्रबंधित करने के लिए कुछ खाद्य पदार्थों को शामिल कर सकता है।

यदि आप निम्न खाद्य उत्पादों को अपने आहार में शामिल करते हैं तो आपको अपने एसजीपीटी और एसजीओटी स्तर को नियमित करने में ख़ास सहायता प्राप्त होगी :-

1.     क्रुसिफेरस सब्जियाँ (cruciferous vegetables) :- ये सब्जियाँ एंजाइमों को शरीर से विषाक्त यौगिकों को बाहर निकालने में मदद करती हैं। उदाहरण के लिए, पत्तागोभी, ब्रोकोली और फूलगोभी ग्लूटाथियोन का स्रोत हैं।

2.     हरी पत्तेदार सब्जियाँ (green leafy vegetables) :- सलाद, पालक, केल आदि जैसी सब्जियाँ फोलेट के समृद्ध स्रोत हैं जो लीवर की क्षति की संभावना को कम कर सकती हैं। यह अंततः आपके एसजीओटी और एसजीपीटी स्तरों को कम करने में मदद करता है।

3.     ताजे फल (fresh fruit) :- जैसे सेब, अंगूर, खट्टे फल और एवोकाडो आंत के लिए अच्छे होते हैं क्योंकि इनमें पर्याप्त मात्रा में एंटीऑक्सीडेंट होते हैं। जामुन एंटीऑक्सिडेंट का भी एक समृद्ध स्रोत हैं जो यकृत रोग के कारण होने वाली सूजन से लड़ने में मदद करते हैं।

4.     ग्रीन टी (green tea) :- मुख्य रूप से एंटीऑक्सीडेंट (antioxidant) का समृद्ध स्रोत, ग्रीन टी फैटी लीवर को कम करने में मदद करती है और लीवर की बीमारियों के खतरे को रोकती है। लीवर की बीमारियाँ एसजीओटी और एसजीपीटी के स्तर को बढ़ा सकती हैं, इसलिए हरी चाय अंततः मदद कर सकती है।

5.     ओमेगा-3 से भरपूर खाद्य पदार्थ (foods rich in omega-3) :- ऐसे खाद्य पदार्थों में कॉड लिवर ऑयल (cod liver oil), ट्यूना, सार्डिन, मैकेरल आदि शामिल हैं जो ओमेगा-3 फैटी एसिड से भरपूर होते हैं जो शरीर में सूजन को कम कर सकते हैं। कुछ अध्ययनों से पता चलता है कि यह गैर-अल्कोहल फैटी लीवर रोग वाले व्यक्तियों में लीवर वसा को कम करने में मदद कर सकता है।

6.     जड़ी-बूटियाँ और मसाले (Herbs and Spices) :- उच्च नमक वाला आहार आपके स्वाद में स्वाद जोड़ने के लिए सबसे अच्छी चीज़ नहीं है क्योंकि यह आपके लीवर को भी नुकसान पहुँचा सकता है। जड़ी-बूटियाँ और मसाले जैसे अजवायन, मेंहदी, सौंफ़ के बीज, जीरा, आदि आपको नमक कम करने में मदद कर सकते हैं और एंटीऑक्सिडेंट का एक स्वस्थ स्रोत भी हैं।

7.     साबुत अनाज (Whole grains) :- साबुत अनाज जैसे ब्राउन चावल (brown rice), दलिया, जौ और बाजरा (barley and millet) में उच्च फाइबर सामग्री होती है और सूजन को कम करके फैटी लीवर की स्थिति को रोकते हैं।

8.     मेवे और बीज (nuts and seeds) :- अखरोट (अखरोट), बादाम जैसे मेवे और कद्दू के बीज जैसे बीज, विटामिन, स्वस्थ वसा और ओमेगा -3 फैटी एसिड से भरपूर होते हैं। ये पोषक तत्व फैटी लीवर की स्थिति वाले लोगों की मदद कर सकते हैं।

एसजीपीटी और एसजीओटी को कम करने के लिए किन खाद्य उत्पादों से दूर रहना चाहिए? Which food products should be avoided to reduce SGPT and SGOT?



आपने अभी ऊपर जाना कि किस प्रकार के खाद्य उत्पादों से आप अपने एसजीओटी और एसजीपीटी स्तरों को कम कर सकते हैं। लेकिन, कुछ खाद्य उत्पाद ऐसे भी हैं जिनकी वजह से आपकी लीवर की समस्या बढ़ भी सकती हैं। लीवर संबंधित समस्या होने पर आपको निम्न खाद्य और पेय पदार्थों से बचना चाहिए हैं :-

1.     तले हुए खाद्य पदार्थ (fried foods) :- फ्राइज़, चिप्स, पेस्ट्री और मफिन तले हुए और पके हुए भोजन के कुछ उदाहरण हैं। ऐसे खाद्य पदार्थ खाने से लीवर की कोशिकाओं में वसा का संचय बढ़ सकता है, जिससे फैटी लीवर रोग हो सकता है।

2.     अत्यधिक नमक (excessive salt) :- उच्च नमक का सेवन उच्च रक्तचाप से जुड़ा हुआ है और फैटी लीवर रोग के साथ संयोजन में, यह स्वास्थ्य जटिलताओं को और बढ़ा सकता है।

3.     वातित पेय (aerated drinks) :- यदि नियमित रूप से सेवन किया जाए, तो वे लीवर को नुकसान पहुंचाना शुरू कर सकते हैं और गैर-अल्कोहल फैटी लीवर जैसी लीवर की स्थिति विकसित कर सकते हैं। इसके अलावा, उच्च चीनी सामग्री के कारण वातित या फ़िज़ी पेय के अत्यधिक सेवन से वजन बढ़ने और मोटापा हो सकता है। इससे फैटी लीवर रोग विकसित होने की संभावना और भी बढ़ जाती है।

4.     प्रसंस्कृत खाद्य पदार्थ (processed foods) :- कुछ खाद्य पदार्थ जैसे चिप्स, केक आदि, जिनमें कुछ प्रसंस्करण किया गया है, उनमें संतृप्त वसा की मात्रा अधिक होती है।

कई लीवर ट्रांसप्लांट सर्जन सुझाव देते हैं कि फैटी लीवर रोग वाले व्यक्तियों को आगे की क्षति को रोकने के लिए प्रसंस्कृत खाद्य उत्पादों से बचना चाहिए।

एसजीपीटी और एसजीओटी को कम करने के घरेलू उपचार क्या है? What are the home remedies to reduce SGPT and SGOT?



एसजीपीटी और एसजीओटी स्तर को करने के लिए न केवल आहार हैं बल्कि आप इसके लिए कुछ घरेलु उपाय भी अपना सकते हैं जिससे एसजीपीटी और एसजीओटी स्तर को तेजी से कम हो सकता है। घरेलू उपचारों को दैनिक दिनचर्या में शामिल करना आसान है और ये लीवर रोगों जैसी स्वास्थ्य स्थितियों में प्रभावी ढंग से मदद कर सकते हैं। लिवर एंजाइम के स्तर को तुरंत कम करने के कुछ घरेलू उपचारों में निम्न शामिल हैं :-

1.     मिल्क थीस्ल (milk thistle) :- एक फूलदार जड़ी-बूटी, मिल्क थीस्ल का उपयोग सदियों से लीवर की कार्यप्रणाली को बेहतर बनाने के लिए किया जाता रहा है। अध्ययनों से पता चलता है कि इस जड़ी बूटी में मौजूद कुछ सक्रिय यौगिक आपके लीवर के एसजीओटी और एसजीपीटी स्तर को कम करने में मदद कर सकते हैं।

2.     हल्दी वाला दूध (Turmeric milk) :- फैटी लीवर रोग से पीड़ित लोगों को लीवर में सूजन और वसा जमा होने का अनुभव होता है। इस बीच, हल्दी में सूजनरोधी गुण होते हैं जो आपके लीवर के स्वास्थ्य में सुधार कर सकते हैं और इसलिए एसजीपीटी और एसजीओटी के स्तर को कम करने में मदद करते हैं।

3.     नींबू पानी (lemonade) :- विटामिन सी (एक प्राकृतिक एंटी-ऑक्सीडेंट) का एक समृद्ध स्रोत, नींबू लीवर को डिटॉक्सीफाई करने में मदद कर सकता है। इसमें थोड़ा सा पानी मिलाने से इसे पीना आसान हो जाता है और साथ ही यह आपके शरीर को हाइड्रेट करके बीमारियों को दूर रखता है।

4.     डेंडिलियन रूट (Dandelion Root) :- यह एक प्राकृतिक मूत्रवर्धक है और शरीर से विषाक्त पदार्थों को बाहर निकालने के लिए मूत्र उत्पादन को बढ़ाने में मदद कर सकता है। यह लीवर की कार्यक्षमता में भी सुधार करता है और कई स्थितियों के कारण लीवर पर पड़ने वाले तनाव को कम करता है। डेंडिलियन रूट चाय एक आसानी से लिया जाने वाला पूरक हो सकता है।

5.     लहसुन (Garlic) :- अध्ययनों से पता चलता है कि लहसुन में ऐसे गुण होते हैं जो लिवर की स्थितियों जैसे लिवर फाइब्रोसिस, अल्कोहलिक फैटी लिवर रोग आदि पर महत्वपूर्ण प्रभाव दिखाते हैं।

क्या जीवनशैली में बदलाव से एसजीपीटी और एसजीओटी को कम किया जा सकता है? Can SGPT and SGOT be reduced by lifestyle changes?

एसजीओटी और एसजीपीटी को सामान्य बनाए रखना आपके लीवर को स्वस्थ रखने का एक आवश्यक तरीका है। सामान्य से अधिक सीमा अधिक सूजन और यहां तक ​​कि लीवर को गंभीर क्षति पहुंचा सकती है।

ये संख्याएँ हृदय जैसे अन्य अंगों को हुए नुकसान का भी संकेत दे सकती हैं। जीवनशैली में कुछ बदलाव लीवर की कार्यप्रणाली को बेहतर बनाने और इन एंजाइम स्तरों को कम करने में मदद कर सकते हैं। इन स्तरों को शीघ्रता से कम करने के लिए कुछ परिवर्तनों में निम्न शामिल हैं :-

1.     संतुलित आहार का सेवन (eating a balanced diet) :- स्वस्थ और संतुलित आहार का सेवन स्वास्थ्य स्थितियों के विकास के जोखिम को कम करने में मदद कर सकता है। लीवर सहित आपके सभी अंगों के समुचित कार्य में मदद के लिए अपने आहार में सभी पोषक तत्वों को शामिल करना महत्वपूर्ण है।

2.     कॉफ़ी पियें (drink coffee) :- यह देखा गया है कि कॉफ़ी का सेवन विभिन्न लीवर रोगों के जोखिम को कम करने में मदद कर सकता है। यह उच्च एसजीपीटी और एसजीओटी स्तरों को और कम करता है।

3.     फोलेट का सेवन बढ़ाएँ (increase folate intake) :- फोलेट से भरपूर खाद्य पदार्थों या फोलेट की खुराक बढ़ाने से लीवर एंजाइम के ऊंचे स्तर को कम करने में मदद मिल सकती है। ऐसा इसलिए है क्योंकि फोलेट की कमी से लीवर की बीमारियों के विकसित होने का खतरा बढ़ सकता है।

4.     विटामिन डी का सेवन बढ़ाएँ (Increase Vitamin D Intake) :- अध्ययनों से पता चलता है कि विटामिन डी गैर-अल्कोहल यकृत रोग को ट्रिगर करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकता है। शरीर में विटामिन डी के स्तर को बनाए रखना महत्वपूर्ण है।

5.     नियमित रूप से व्यायाम करें (Exercise regularly) :- जब कोई व्यक्ति प्रतिदिन व्यायाम करता है, तो इससे उन्हें ऊर्जा के लिए ट्राइग्लिसराइड (एक प्रकार की वसा) जलाने और लीवर की चर्बी कम करने में मदद मिलती है। यह मोटापे को रोकने में भी मदद कर सकता है, जो लीवर की स्थिति के लिए एक प्रमुख जोखिम कारक है।

6.     अच्छी स्वच्छता बनाए रखना (maintaining good hygiene) :- नियमित रूप से अपने हाथ धोना, खासकर कुछ भी खाने से पहले कीटाणुओं को दूर रखने में मदद मिल सकती है। यह उन संक्रमणों को फैलने से रोकता है जो लीवर हेपेटाइटिस जैसी क्षति के जोखिम को बढ़ा सकते हैं।

7.     अतिरिक्त वजन कम करना (lose excess weight) :- अधिक वजन या मोटापे से लीवर की बीमारी का खतरा बढ़ सकता है, जिससे एसजीपीटी और एसजीओटी का स्तर ऊंचा हो सकता है। स्वस्थ आहार और व्यायाम के माध्यम से वजन कम करने से इन स्तरों को कम करने में मदद मिल सकती है।

8.     वसायुक्त भोजन का सेवन कम करें (reduce fatty food intake) :- उच्च अस्वास्थ्यकर वसा वाले खाद्य पदार्थों के सेवन से फैटी लीवर रोग विकसित होता है। वसायुक्त खाद्य पदार्थों का सेवन कम करने से उच्च लिवर एंजाइम का खतरा बढ़ जाता है।

9.     धूम्रपान छोड़ें (quit smoking) :- नियमित रूप से सिगरेट पीना आपको शांत करने के बजाय नुकसान अधिक पहुंचाता है। इससे लीवर की बीमारियों और कैंसर के विकास का खतरा बढ़ जाता है, इसलिए उच्च एसजीओटी और एसजीपीटी।

10.  शराब का सेवन कम करें (reduce alcohol intake) :- नियमित रूप से शराब पीने से आपके लीवर को मौजूदा नुकसान बढ़ सकता है। इसलिए, अपने लीवर को और अधिक नुकसान से बचाने के लिए इसके किसी भी सेवन से बचना महत्वपूर्ण है।

ध्यान दें, कोई भी दवा और आहार बिना डॉक्टर की सलाह के न लें। सेल्फ मेडिकेशन जानलेवा है और इससे गंभीर चिकित्सीय स्थितियां उत्पन्न हो सकती हैं।

Logo

Medtalks is India's fastest growing Healthcare Learning and Patient Education Platform designed and developed to help doctors and other medical professionals to cater educational and training needs and to discover, discuss and learn the latest and best practices across 100+ medical specialties. Also find India Healthcare Latest Health News & Updates on the India Healthcare at Medtalks