एडिसन रोग क्या है? कारण, लक्षण और उपचार सब जाने | Addison Disease in Hindi

एडिसन रोग क्या है? What is Addison's disease?

जिस प्रकार हमारी किडनी हमें स्वस्थ रखने के लिए कई जरूरी काम करती है, ठीक उसी प्रकार किडनी के ठिप ऊपर स्थित ग्रंथि भी हमें स्वस्थ रखने में मदद करती है। किडनी के ऊपर ग्रंथियों को एड्रेनल ग्रंथि कहा जाता है जो कि शरीर में कई जरूरी हॉर्मोन बनाने से लेकर उन्हें नियंत्रित करने का काम भी करती है। 

लेकिन जब एड्रेनल ग्रंथि खराब हो जाती है तो वह अपना काम ठीक से नहीं कर पाती और इसकी वजह से एल्डोस्टेरोन और कोर्टिसोल जैसे हॉर्मोन की मात्रा तेजी से कम हो जाती है, जिसे एडिसन रोग के नाम से जाना जाता है। एडिसन बीमारी अक्सर भ्रमित या अपर्याप्तता से जुड़ी होती है। हालांकि, एडिसन की बीमारी एक ऑटोइम्यून डिसऑर्डर से है, जिससे बाद में एड्रेनल की कमी भी होने लगती है, जो हॉर्मोन असंतुलन संबंधित है। यह रोग बहुत असामान्य है। एडिसन रोग एक दुर्लभ बीमारी है जो कि एक लाख में एक को ही होती है। 

एडिसन रोग के लक्षण क्या है? What are the symptoms of Addison's disease?

एडिसन रोग के लक्षण आमतौर पर धीरे-धीरे विकसित होते हैं, इसमें अक्सर कई महीनों का समय लग सकता है। अक्सर, रोग इतनी धीमी गति से आगे बढ़ता है कि लक्षणों को तब तक नज़रअंदाज कर दिया जाता है जब तक कि कोई तनाव, जैसे बीमारी या चोट न आ जाए और लक्षणों को और खराब न कर दे। संकेत और लक्षणों में शामिल हो सकते हैं:

  1. अत्यधिक थकान

  2. वजन कम होना और भूख कम लगना

  3. आपकी त्वचा का काला पड़ना (हाइपरपिग्मेंटेशन)

  4. निम्न रक्तचाप

  5. बेहोशी होना 

  6. नमक खाने की लालसा

  7. निम्न रक्त शर्करा (हाइपोग्लाइसीमिया)

  8. मतली, दस्त या उल्टी होना 

  9. जठरांत्र संबंधी समस्याएँ होना

  10. पेट में दर्द

  11. मांसपेशियों या जोड़ों में दर्द

  12. चिड़चिड़ापन

  13. अवसाद या अन्य व्यवहार संबंधी लक्षण

  14. शरीर के बालों का झड़ना 

  15. महिलाओं में यौन रोग

तीव्र अधिवृक्क विफलता (एडिसनियन संकट) Acute adrenal failure (addisonian crisis) 

कभी-कभी एडिसन रोग के संकेत और लक्षण अचानक प्रकट हो सकते हैं। एक्यूट एड्रेनल फेलियर (एडिसनियन संकट) से जान जाने का खतरा हो सकता है। यदि आप निम्नलिखित संकेतों और लक्षणों का अनुभव करते हैं तो आपको जल्द से जल्द आपातकालीन चिकित्सा की आवश्यकता है :-

  1. गंभीर कमजोरी हो जाना

  2. उलझन होना 

  3. आपकी पीठ के निचले हिस्से या पैरों में तेज दर्द होना

  4. गंभीर पेट दर्द, उल्टी और दस्त, जिससे निर्जलीकरण हो सकता है

  5. चेतना में कमी या प्रलाप की समस्या

एडिसोनियन संकट होने पर निम्न समस्याएँ हो सकती है :- 

  1. कम रक्त दबाव

  2. उच्च पोटेशियम (हाइपरकेलेमिया) और कम सोडियम (हाइपोनेट्रेमिया)

निम्न लक्षण दिखाई देने पर जल्द से जल्द डॉक्टर को दिखाएं :-

  1. त्वचा का काला पड़ना (हाइपरपिग्मेंटेशन)

  2. गंभीर थकान

  3. अनजाने में वजन कम होना

  4. गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल समस्याएं, जैसे मतली, उल्टी और पेट दर्द

  5. चक्कर आना या बेहोशी

  6. नमक खाने की लालसा

  7. मांसपेशियों या जोड़ों का दर्द

एड्रेनल ग्रंथियों के कितने वर्ग है? How many classes of adrenal glands are there? 

व्यक्ति की एड्रेनल ग्रंथियां तीन वर्गों से बनी होती हैं। आंतरिक (मज्जा) एड्रेनालाईन (internal (marrow) adrenaline) जैसे हार्मोन का उत्पादन करता है। बाहरी परत (कॉर्टेक्स) कॉर्टिकोस्टेरॉइड्स (Outer layer (cortex) corticosteroids) नामक हार्मोन के एक समूह का उत्पादन करती है। कॉर्टिकोस्टेरॉइड्स में शामिल हैं :-

ग्लूकोकार्टिकोइड्स Glucocorticoids :- यह हार्मोन, जिनमें कोर्टिसोल शामिल हैं, व्यक्ति के शरीर की भोजन को ऊर्जा में बदलने की क्षमता को प्रभावित करते हैं, व्यक्ति की प्रतिरक्षा प्रणाली की भड़काऊ प्रतिक्रिया में भूमिका निभाते हैं और व्यक्ति के शरीर को तनाव का जवाब देने में मदद करते हैं। 

मिनरलोकॉर्टिकोइड्स Mineralocorticoids :- यह हार्मोन, जिनमें एल्डोस्टेरोन शामिल हैं, व्यक्ति के रक्तचाप को सामान्य रखने के लिए व्यक्ति के शरीर के सोडियम और पोटेशियम के संतुलन को बनाए रखते हैं।

एण्ड्रोजन Androgens :- यह पुरुष सेक्स हार्मोन पुरुषों और महिलाओं दोनों में अधिवृक्क ग्रंथियों द्वारा कम मात्रा में निर्मित होते हैं। वह पुरुषों में यौन विकास का कारण बनते हैं, और मांसपेशियों, सेक्स ड्राइव (कामेच्छा) और पुरुषों और महिलाओं दोनों में कल्याण की भावना को प्रभावित करते हैं।

एडिसन रोग के कारण क्या है? What is the cause of Addison's disease?

एडिसन की बीमारी व्यक्ति के एड्रेनल ग्रंथियों को नुकसान के कारण होती है, जिसके परिणामस्वरूप हार्मोन कोर्टिसोल पर्याप्त नहीं होता है और अक्सर, पर्याप्त एल्डोस्टेरोन भी नहीं होता है। व्यक्ति कि एड्रेनल ग्रंथियां व्यक्ति के अंतःस्रावी तंत्र का हिस्सा हैं। एड्रेनल ग्रंथि हार्मोन का उत्पादन करते हैं जो कि व्यक्ति के शरीर के लगभग हर अंग और ऊतक को निर्देश देते हैं। एडिसन रोग के लिए दो प्रमुख वर्गीकरण हैं: प्राइमरी एड्रेनल इंसफीसियंसी और सेकेंडरी एड्रेनल इंसफीसियंसी। 

प्राइमरी एड्रेनल इंसफीसियंसी Primary adrenal insufficiency

जब कोर्टेक्स क्षतिग्रस्त हो जाता है और पर्याप्त एड्रेनोकोर्टिकल हार्मोन का उत्पादन नहीं करता है, तो स्थिति को प्राथमिक अधिवृक्क अपर्याप्तता यानि प्राइमरी एड्रेनल इंसफीसियंसी कहा जाता है। यह आमतौर पर शरीर पर खुद पर हमला करने का परिणाम है, इसी कारण इसे ऑटोइम्यून रोग भी कहा जाता है। अज्ञात कारणों से, आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली एड्रेनल कोर्टेक्स को बाहरी, हमला करने और नष्ट करने के लिए कुछ देखती है। एडिसन की बीमारी वाले लोगों में दूसरों की तुलना में एक और ऑटोइम्यून बीमारी होने की संभावना अधिक होती है।

एड्रेनल ग्रंथि की विफलता के अन्य कारणों में निम्नलिखित शामिल हो सकते हैं :

  1. यक्ष्मा (Tuberculosis)

  2. एड्रेनल ग्रंथियों के अन्य संक्रमण

  3. एड्रेनल ग्रंथियों में कैंसर का प्रसार

  4. एड्रेनल ग्रंथियों में रक्तस्राव। इस मामले में, आपको बिना किसी पिछले लक्षण के एडिसोनियन संकट हो सकता है। 

सेकेंडरी एड्रेनल इंसफीसियंसी Secondary adrenal insufficiency 

पिट्यूटरी ग्रंथि एड्रेनोकोर्टिकोट्रोपिक हार्मोन (ACTH) pituitary gland adrenocorticotropic hormone नामक एक हार्मोन बनाती है। पिट्यूटरी ग्रंथि एड्रेनोकोर्टिकोट्रोपिक हार्मोन बदले में अपने हार्मोन का उत्पादन करने के लिए एड्रेनल कोर्टेक्स को उत्तेजित करता है। सौम्य पिट्यूटरी ट्यूमर, सूजन और पूर्व पिट्यूटरी सर्जरी पर्याप्त पिट्यूटरी हार्मोन का उत्पादन नहीं करने के सामान्य कारण हैं।  

बहुत कम ACTH आपके एड्रेनल ग्रंथियों द्वारा सामान्य रूप से उत्पादित ग्लूकोकार्टिकोइड्स और एण्ड्रोजन की बहुत कम मात्रा का कारण बन सकता है, भले ही आपकी एड्रेनल ग्रंथियां स्वयं क्षतिग्रस्त न हों। इसे माध्यमिक एड्रेनल अपर्याप्तता कहा जाता है। बहुत कम पिट्यूटरी ग्रंथि एड्रेनोकोर्टिकोट्रोपिक हार्मोन (ACTH) से मिनरलोकॉर्टिकॉइड (mineralocorticoid) उत्पादन प्रभावित नहीं होता है। 

माध्यमिक अधिवृक्क अपर्याप्तता यानि सेकेंडरी एड्रेनल इंसफीसियंसी के अधिकांश लक्षण प्राइमरी एड्रेनल इंसफीसियंसी के समान होते हैं। हालांकि, सेकेंडरी एड्रेनल इंसफीसियंसी वाले लोगों में हाइपरपिग्मेंटेशन नहीं होता है और गंभीर निर्जलीकरण या निम्न रक्तचाप होने की संभावना कम होती है। उनमें लो ब्लड शुगर होने की संभावना अधिक होती है।  

सेकेंडरी एड्रेनल इंसफीसियंसी का एक अस्थायी कारण तब होता है जब अस्थमा या गठिया जैसी पुरानी स्थितियों का इलाज करने के लिए कॉर्टिकोस्टेरॉइड्स (उदाहरण के लिए, प्रेडनिसोन) लेने वाले लोग कॉर्टिकोस्टेरॉइड्स को कम करने के बजाय एक बार में लेना बंद कर देते हैं। 

एडिसन रोग के जोखिम कारक क्या है? What are the risk factors for Addison's disease?

अगर कोई व्यक्ति निम्नलिखित स्थितियों से जूझ रहा है तो ऐसे में उसे एडिसन रोग होने का जोखिम सामान्य से बढ़ जाता है  :-

  1. कैंसर से जूझने पर। खासकर किडनी के या एड्रेनल के आसपास का कैंसर।

  2. खून पतला करने वाली दवाओं का अधिक सेवन करने से।

  3. लंबे समय से किसी संक्रमण से जूझ रहे हो, जैसे टीबी।

  4. आपके एड्रेनल ग्रंथि के किसी भी हिस्से को हटाने के लिए सर्जरी हुई थी।

  5. एक ऑटोइम्यून बीमारी है, जैसे टाइप 1 मधुमेह या ग्रेव्स रोग। 

  6. एड्रेनल ग्रंथि में या उसके आसपास कोई चोट लगी हो। 

एडिसन रोग की जटिलताएं क्या है? What are the complications of Addison's disease?

यदि आपने एडिसन रोग का उपचार नहीं किया है, तो आप शारीरिक तनाव, जैसे चोट, संक्रमण या बीमारी के परिणामस्वरूप एडिसोनियन संकट विकसित कर सकते हैं। आम तौर पर, एड्रेनल ग्रंथियां शारीरिक तनाव के जवाब में सामान्य मात्रा में कोर्टिसोल का दो से तीन गुना उत्पादन करती हैं। अधिवृक्क अपर्याप्तता यानि एड्रेनल इंसफीसियंसी के साथ, तनाव के साथ कोर्टिसोल उत्पादन बढ़ाने में असमर्थता एक एडिसोनियन संकट का कारण बन सकती है। एक एडिसोनियन संकट जान जाने के जोखिम को बढ़ाने वाली स्थिति है जिसके परिणामस्वरूप निम्न रक्तचाप, निम्न रक्त शर्करा का स्तर और पोटेशियम का उच्च रक्त स्तर होता है। ऐसे में रोगी को तत्काल चिकित्सा देखभाल की आवश्यकता होगी। एडिसन रोग वाले लोग आमतौर पर ऑटोइम्यून बीमारियों से जुड़े होते हैं। 

एडिसन रोग का निदान कैसे किया जाता है? How is Addison's disease diagnosed? 

अगर आपको लगता है कि आप एडिसन रोग से जूझ रहे हैं तो आपको जल्द से जल्द डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए। जब आप डॉक्टर के पास जाएँगे तो वह आपसे एडिसन रोग में दिखाई देने वाले लक्षणों की पहचान करने के लिए आपसे लक्षणों और अन्य शारीरिक समस्याओं के बारे में जानकारी लेंगे। इसके साथ ही डॉक्टर आपसे आपके चिकित्सीय इतिहास के बारे में जानकारी भी लेंगे। एक बार लक्षणों और अन्य तथ्यों के जरिये जब इस बारे में पता लग जाए कि व्यक्ति एडिसन रोग से जूझ रहा है तो इस बारे में पुष्टि करने के लिए डॉक्टर रोगी को निम्नलिखित जांच करवाने के लिए कह सकते हैं :-

जांच Blood Test :- रक्त रक्त की जांच से रोगी के रक्त में सोडियम, पोटेशियम, कोर्टिसोल और एड्रेनोकोर्टिकोट्रोपिक हार्मोन (adrenocorticotropic hormone) के स्तर को माप सकते हैं, जो कि एड्रेनल कोर्टेक्स को उसके हार्मोन का उत्पादन करने के लिए उत्तेजित करता है। एक रक्त परीक्षण ऑटोइम्यून एडिसन रोग से जुड़े एंटीबॉडी को भी माप सकता है।

पिट्यूटरी ग्रंथि एड्रेनोकोर्टिकोट्रोपिक हार्मोन (ACTH) उत्तेजना परीक्षण Pituitary gland adrenocorticotropic hormone (ACTH) stimulation test :- पिट्यूटरी ग्रंथि एड्रेनोकोर्टिकोट्रोपिक हार्मोन आपके एड्रेनल ग्रंथियों को कोर्टिसोल का उत्पादन करने के लिए संकेत देता है। यह परीक्षण सिंथेटिक ACTH के इंजेक्शन से पहले और बाद में आपके रक्त में कोर्टिसोल के स्तर को मापता है।

इंसुलिन प्रेरित हाइपोग्लाइसीमिया परीक्षण Insulin-induced hypoglycemia test :- रोगी को यह परीक्षण तब दिया जा सकता है यदि डॉक्टरों को लगता है कि पिट्यूटरी रोग (द्वितीयक अधिवृक्क अपर्याप्तता) के परिणामस्वरूप आपको अधिवृक्क अपर्याप्तता हो सकती है। परीक्षण में इंसुलिन के इंजेक्शन के बाद आपके रक्त शर्करा (रक्त ग्लूकोज) और कोर्टिसोल के स्तर की जांच करना शामिल है। स्वस्थ लोगों में ग्लूकोज का स्तर गिर जाता है और कोर्टिसोल का स्तर बढ़ जाता है।

कुछ स्थितियों में डॉक्टर सेकेंडरी एड्रेनल इंसफीसियंसी के लिए वैकल्पिक परीक्षण कर सकते हैं, जैसे कि कम खुराक वाली पिट्यूटरी ग्रंथि एड्रेनोकोर्टिकोट्रोपिक हार्मोन (ACTH) उत्तेजना परीक्षण, लंबे समय तक ACTH उत्तेजना परीक्षण या ग्लूकागन उत्तेजना परीक्षण। 

इमेजिंग परीक्षण Imaging tests :- रोगी अपने एड्रेनल ग्रंथियों के आकार की जांच करने और अन्य असामान्यताओं को देखने के लिए अपने पेट का कम्प्यूटरीकृत टोमोग्राफी (सीटी) स्कैन (computerized tomography (CT) scan) करवा सकते हैं। रोगी अपने पिट्यूटरी ग्रंथि के एमआरआई स्कैन से भी गुजर सकते हैं यदि परीक्षण से संकेत मिलता है कि आपको सेकेंडरी एड्रेनल इंसफीसियंसी हो सकती है।

एडिसन रोग का उपचार कैसे किया जाता है? How is Addison's disease treated?

एक बार जब लक्षणों और परिक्षण जांचों से इस बारे में पुष्टि हो जाए कि व्यक्ति जानलेवा एडिसन रोग से जूझ रहा है तो ऐसे में उसका उपचार बहुत तेजी से शुरू किया जाता है। एडिसन रोग के सभी उपचार में दवा शामिल है। रोगी के शरीर द्वारा उत्पादित स्टेरॉयड हार्मोन (steroid hormones) के स्तर को ठीक करने के लिए रोगी को हार्मोन रिप्लेसमेंट थेरेपी (hormone replacement therapy) दी जाती है। उपचार के कुछ विकल्पों में मौखिक कॉर्टिकोस्टेरॉइड (oral corticosteroids) शामिल हैं, जैसे :-

  1. कोर्टिसोल को बदलने के लिए हाइड्रोकार्टिसोन (कॉर्टेफ), प्रेडनिसोन या मिथाइलप्रेडिसिसोलोन (Hydrocortisone (Cortef), prednisone or methylprednisolone)। यह हार्मोन कोर्टिसोल के स्तर के 24 घंटे के सामान्य उतार-चढ़ाव की नकल करने के लिए निर्धारित समय पर दिए जाते हैं।

  2. एल्डोस्टेरोन को बदलने के लिए फ्लूड्रोकोर्टिसोन एसीटेट (Fludrocortisone acetate) दी जाती है।

उपचार के दौरान रोगी को अपने आहार में भरपूर मात्रा में नमक (सोडियम) लेने की आवश्यकता होगी, विशेष रूप से भारी व्यायाम के दौरान, जब मौसम गर्म हो या यदि आपको दस्त जैसे गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल अपसेट हों। ऐसा इसलिए होता है क्योंकि इस रोग में रक्तचाप काफी निचे चला जाता है, जिसे उठाने के लिए नमक का सेवन करने की सलाह दी जाती है। 

यदि रोगी का शरीर तनाव में है, जैसे ऑपरेशन, संक्रमण या छोटी बीमारी से, तो आपका डॉक्टर आपकी दवा की खुराक में अस्थायी वृद्धि का भी सुझाव दे सकता है। यदि रोगी को उल्टी जैसी समस्याएँ हो रही है और वह मौखिक दवाएं नहीं लें सकते हैं, तो ऐसे में रोगी को कॉर्टिकोस्टेरॉइड के इंजेक्शन (injections of corticosteroids) की आवश्यकता हो सकती है।

अन्य उपचार सिफारिशों में शामिल हैं :

  1. हर समय एक मेडिकल अलर्ट कार्ड और ब्रेसलेट साथ रखें (Carry a medical alert card and bracelet at all times)। एक स्टेरॉयड आपातकालीन कार्ड और चिकित्सा चेतावनी पहचान आपातकालीन चिकित्सा कर्मियों को यह बताएगी कि आपको किस प्रकार की देखभाल की आवश्यकता है। साथ ही एक लिखित कार्य योजना भी है।

  2. अतिरिक्त दवा संभाल कर रखें (Keep extra medication handy)। दवा का एक दिन भी छूटना खतरनाक हो सकता है, इसलिए जब भी आप यात्रा करें तो काम पर और अपने साथ दवा की एक छोटी आपूर्ति रखें।

  3. ग्लुकोकोर्तिकोइद इंजेक्शन किट अपने साथ रखें (Carry a glucocorticoid injection kit)। इस किट में एक सुई, सिरिंज और कॉर्टिकोस्टेरॉइड्स का इंजेक्शन योग्य रूप होता है जिसका उपयोग आपात स्थिति में किया जा सकता है।

  4. अपने डॉक्टर के संपर्क में रहें (Stay in contact with your doctor)। यह सुनिश्चित करने के लिए अपने चिकित्सक के साथ निरंतर संबंध बनाए रखें कि प्रतिस्थापन हार्मोन (replacement hormone) की खुराक पर्याप्त है, लेकिन अत्यधिक नहीं। यदि आपको अपनी दवाओं के साथ समस्या हो रही है, तो आपको दवाओं की खुराक या समय में समायोजन की आवश्यकता हो सकती है।

  5. वार्षिक जांच कराएं (Have annual checkups)। साल में कम से कम एक बार अपने डॉक्टर या एंडोक्रिनोलॉजी (endocrinology) विशेषज्ञ से मिलें। आपका डॉक्टर कई ऑटोइम्यून बीमारियों के लिए वार्षिक जांच की सिफारिश कर सकता है। 

अगर रोगी एडिसोनियन संकट से जूझता है तो ऐसे में आमतौर पर निम्न अंतःशिरा इंजेक्शन (intravenous injection) शामिल होते हैं, क्योंकि यह एक गंभीर आपातकालीन स्थिति है :-

  1. कोरटिकोस्टेरॉयड्स (Corticosteroids)

  2. नमकीन घोल

  3. चीनी (डेक्सट्रोज)

वैकल्पिक थैरेपी Alternative therapies :-

यदि आपको एडिसन की बीमारी है तो अपने तनाव के स्तर को कम रखना महत्वपूर्ण है। प्रमुख जीवन की घटनाएं, जैसे किसी प्रियजन की मृत्यु या चोट, आपके तनाव के स्तर को बढ़ा सकती हैं और आपकी दवाओं के प्रति प्रतिक्रिया करने के तरीके को प्रभावित कर सकती हैं। योग और ध्यान जैसे तनाव को दूर करने के वैकल्पिक तरीकों के बारे में अपने डॉक्टर से बात करें। 

संभावित भविष्य के उपचार :-

शोधकर्ता विलंबित-रिलीज़ कॉर्टिकोस्टेरॉइड (delayed-release corticosteroids) विकसित करने के लिए काम कर रहे हैं जो कि मानव शरीर की तरह अधिक कार्य करते हैं। शोधकर्ता त्वचा के नीचे प्रत्यारोपित पंपों पर भी काम कर रहे हैं जो स्टेरॉयड को अधिक सटीक खुराक में वितरित कर सकते हैं। भविष्य के उपचार में अंततः इम्यूनोमॉड्यूलेटरी (immunomodulatory) उपचार के साथ संयुक्त एड्रेनोकोर्टिकल स्टेम कोशिकाओं (combined adrenocortical stem cells) का उपयोग करना शामिल हो सकता है। इसके साथ ही इसमें प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया या प्रतिरक्षा प्रणाली को संशोधित करना और साथ ही साथ जीन थेरेपी भी शामिल है। 

एडिसन रोग से बचाव कैसे किया जा सकता है? How can Addison's disease be prevented?

किसी भी रोग का उपचार लेने से कहीं ज्यादा अच्छा है कि उस रोग को होने से पहले ही रोका जाए। लेकिन एडिसन रोग के साथ ऐसा कर पाना असंभव है, एडिसन रोग से बचाव नहीं किया जा सकता। हाँ लेकिन, एडिसोनियन संकट से बचने के लिए कुछ कदम जरूर उठाए जा सकते हैं जो कि निम्न वर्णित है :-

  1. अगर आप हमेशा थका हुआ, कमजोर महसूस करते हैं या वजन कम कर रहे हैं तो अपने डॉक्टर से बात करें और डॉक्टर से एड्रेनल कमी होने के बारे में पूछें।

  2. यदि आपको एडिसन रोग का निदान किया गया है, तो अपने डॉक्टर से पूछें कि बीमार होने पर क्या करना चाहिए। आपको कॉर्टिकोस्टेरॉइड्स (corticosteroids) की अपनी खुराक बढ़ाने का तरीका सीखने की आवश्यकता हो सकती है।

  3. यदि आप बहुत बीमार हो जाते हैं, खासकर यदि आपको उल्टी हो रही है और आप अपनी दवा नहीं ले सकते हैं, तो जल्द से जल्द आपातकालीन विभाग में जाएँ।

एडिसन की बीमारी वाले कुछ लोग हाइड्रोकार्टिसोन या प्रेडनिसोन (hydrocortisone or prednisone) से गंभीर दुष्प्रभावों के बारे में चिंता करते हैं क्योंकि वह जानते हैं कि यह उन लोगों में होते हैं जो इन स्टेरॉयड को अन्य कारणों से लेते हैं।

हालांकि, अगर आपको एडिसन की बीमारी है, तो उच्च खुराक वाले ग्लुकोकोर्टिकोइड्स (Glucocorticoids) के प्रतिकूल प्रभाव नहीं होने चाहिए, क्योंकि आपके द्वारा निर्धारित खुराक उस मात्रा को बदल रही है जो गायब है। यह सुनिश्चित करने के लिए कि आपकी खुराक बहुत अधिक नहीं है, नियमित रूप से अपने डॉक्टर से संपर्क करना सुनिश्चित करें।

Get our Newsletter

Filter out the noise and nurture your inbox with health and wellness advice that's inclusive and rooted in medical expertise.

Your privacy is important to us

MEDICAL AFFAIRS

CONTENT INTEGRITY

NEWSLETTERS

© 2022 Medtalks