एस्कारियासिस क्या है? लक्षण, कारण, और उपचार | What is Ascariasis in Hindi

क्या आपने कभी बचपन में ऐसा सुना है कि “तुम बढ़ क्यों नहीं हो पेट में कीड़े हैं क्या, तुम्हें खाना क्यों नहीं लगता शायद पेट में कीड़े हैं”। यह कुछ ऐसे वाक्य है जो कि बचपन में बड़े ही आम थे, क्योंकि बच्चों को पेट के कीड़े होने की समस्या बड़ी आम होती है। क्या आपको पता है कि पेट में होने वाले कीड़े एक तरह के नहीं होते, इसके भी कई प्रकार होते हैं। एस्कारियासिस भी एक तरह का पेट में होने वाला कीड़ा है जो कि हमें कई समस्याओं का शिकार बना सकता है। इस लेख के जरिये हम एस्कारियासिस के बारे में विस्तार से बात करेंगे और एस्कारियासिस के लक्षण, एस्कारियासिस कारण और एस्कारियासिस का इलाज के बारे में विस्तार से जानेंगे। 

एस्कारियासिस क्या है? What is ascariasis?                      

एस्कारियासिस एक प्रकार का राउंडवॉर्म संक्रमण है जो कि एस्केरिस लुम्ब्रिकोइड्स (Ascaris lumbricoides) परजीवी कीड़े के कारण होता है, जो राउंडवॉर्म की एक प्रजाति है। यह कीड़े परजीवी हैं जो कि आपके शरीर पर लार्वा या अंडे से व्यस्क या परिपक्व कीड़े बनने तक निर्भर रहते हैं जिसके बाद आपको संक्रमित करते हैं।

राउंडवॉर्म एक प्रकार का परजीवी कीड़ा है। एक वयस्क कीड़ा, जो प्रजनन करते हैं, एक फुट (30 सेंटीमीटर) से अधिक लंबे हो सकते हैं, इसमें मादा का आकार नर कीड़े की तुलना में बड़ा होता है और मादा कीड़ा ज्यादा स्वस्थ होता है। राउंडवॉर्म के कारण होने वाले संक्रमण काफी आम हैं। एस्कारियासिस सबसे आम राउंडवॉर्म संक्रमण है। विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) – World Health Organization (WHO) के अनुसार, विकासशील देशों के लगभग 10 प्रतिशत लोग आंतों के कीड़ों से संक्रमित है। दुनिया के उष्णकटिबंधीय और उपोष्णकटिबंधीय क्षेत्रों में बच्चों में एस्कारियासिस सबसे अधिक बार होता है - विशेष रूप से खराब स्वच्छता और स्वच्छता वाले क्षेत्रों में।

आमतौर पर तो एस्कारियासिस की वजह से कोई लक्षण प्रकट नहीं होते हैं, लेकिन अगर इन कीड़ों को पनपने के लिए प्रतिकूल माहौल मिल जाए तो यह गंभीर लक्षण पैदा कर सकते हैं। अगर शुरुआत में दिखाई देने वाले लक्षणों का उपचार न किया जाए तो इसकी वजह से गंभीर जटिलताएं भी पैदा हो सकती है। 

एस्केरिस लुम्ब्रिकोइड्स कीड़े का जीवन चक्र कैसा होता है? What is the life cycle of Ascaris lumbricoides worm?

एस्कारियासिस का कारण बनने वाले यह कीड़े हमारे शरीर में बाहर से आते हैं और यह अपने जीवन के लिए हमारे शरीर पर ही निर्भर रहते हैं। जो जीव दुसरे शरीर पर निर्भर रहता है उसे परजीवी कहा जाता है। चलिए पेट के इस कीड़े के जीवन चक्र के बारे में जानते हैं :-

अंतर्ग्रहण Ingestion :- छोटे (सूक्ष्म) एस्कारियासिस अंडे मिट्टी के संपर्क में आए बिना संक्रामक नहीं हो सकते। लोग गलती से दूषित मिट्टी को हाथ से मुंह के संपर्क में या दूषित मिट्टी में उगाए गए कच्चे फल या सब्जियां खाने इन्हें अविकसित कीड़ो को निगल सकते हैं।

प्रवास Migration :- आपकी छोटी आंत में अंडों से लार्वा निकलते हैं और फिर आंतों की दीवार से होते हुए रक्तप्रवाह या लसीका तंत्र (lymphatic system) के माध्यम से हृदय और फेफड़ों तक जाते हैं। आपके फेफड़ों में लगभग 10 से 14 दिनों तक परिपक्व होने के बाद, लार्वा आपके वायुमार्ग में प्रवेश करते हैं और गले तक जाते हैं, जहाँ से वह बाहर निकल सकते हैं – खांसने, मुह साफ़ करने की मदद से।

परिपक्वता Maturation :- एक बार जब कीड़े आंतों में वापस आ जाते हैं, तो परजीवी नर या मादा कीड़े बन जाते हैं। मादा कीड़े 15 इंच (40 सेंटीमीटर) से अधिक लंबी और व्यास में एक चौथाई इंच (6 मिलीमीटर) से थोड़ी कम हो सकती हैं। नर कीड़े आमतौर पर छोटे होते हैं।

प्रजनन Reproduction :- यदि आंतों में मादा और नर दोनों कीड़े हों तो एक बार प्रजनन करने के बाद मादा कीड़े एक दिन में 200,000 अंडे का उत्पादन कर सकती हैं। अगर यह अंडे आपके मल के द्वारा शरीर से बहार निकल जाए तो इन्हें संक्रामक होने के लिए कम से कम दो से चार सप्ताह तक मिट्टी के संपर्क में रहना होगा। अगर आपके शरीर में यह कीड़े फलफूल रहा रहें हैं तो इसका मतलब है कि आप ऐसी जगह से आएं है जहाँ यह परजीवी पहले से ही करीब चार सप्ताह से मिट्टी के संपर्क में थे।

पूरी प्रक्रिया The whole process :- अंडे के सेवन से लेकर अंडे के जमाव तक में लगभग दो या तीन महीने तक का समय लगता है। एस्कारियासिस कीड़े आपके शरीर के अंदर एक या दो साल तक रह सकते हैं और आपको कई समस्याओं की चपेट में ला सकते हैं। 

एस्कारियासिस होने पर क्या लक्षण दिखाई देते हैं? What are the symptoms of ascariasis?

एस्कारियासिस से संक्रमित अधिकांश लोगों में कोई संकेत या लक्षण नहीं दिखाई देते हैं। मध्यम से भारी संक्रमण विभिन्न संकेत या लक्षण पैदा करते हैं, यह इस बात पर निर्भर करता है कि आपके शरीर का कौन सा हिस्सा प्रभावित है। एस्कारियासिस संक्रमण होने पर निम्न प्रभावी अंगों के अनुसार लक्षण दिखाई दे सकते हैं :-

फेफड़ों में In the lungs :-

जब आप छोटे (सूक्ष्म) एस्कारियासिस अंडे निगलते हैं, तो वह छोटी आंत में पैदा होते हैं और लार्वा रक्तप्रवाह या लसीका तंत्र के माध्यम से फेफड़ों में चले जाते हैं। इस स्तर पर, आप अस्थमा या निमोनिया जैसे लक्षणों और लक्षणों का अनुभव कर सकते हैं, जिनमें शामिल हैं:

  1. लगातार खांसी

  2. साँसों की कमी

  3. घरघराहट

फेफड़ों में 10 से 14 दिन बिताने के बाद लार्वा गले में चले जाते हैं, जहां आप उन्हें खांसते हैं और फिर निगल लेते हैं।

आंतों में In the intestines :-

लार्वा छोटी आंत में वयस्क कीड़ों में परिपक्व होते हैं, और वयस्क कीड़े आमतौर पर आंतों में तब तक रहते हैं जब तक वह मर नहीं जाते। हल्के या मध्यम एस्कारियासिस में, आंतों में संक्रमण पैदा कर सकता है और इस दौरान निम्न लक्षण दिखाई दे सकते हैं :-

  1. अस्पष्ट पेट दर्द

  2. मतली और उल्टी

  3. दस्त या खूनी मल

यदि आपकी आंत में बड़ी संख्या में कीड़े हैं, तो आपको निम्न लक्षण दिखाई दे सकते हैं :-

  1. गंभीर पेट दर्द

  2. थकान

  3. उल्टी करना

  4. वजन कम होना या कुपोषण

  5. आपकी उल्टी या मल में एक कीड़ा

अगर आपको लगातार पेट में दर्द, दस्त या जी मिचलाना या लगातार उल्टियाँ आने की समस्या हो रही है तो आपको जल्द से जल्द डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए। 

एस्कारियासिस के कारण क्या हैं? What are the causes of ascariasis?

एस्कारियासिस एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में सीधे नहीं फैलता है। इसके बजाय, एक व्यक्ति को मानव या सुअर के मल के साथ मिश्रित मिट्टी के संपर्क में आना पड़ता है जिसमें एस्कारियासिस अंडे या संक्रमित पानी होता है। कुछ विकासशील देशों में, मानव मल का उपयोग उर्वरक के लिए किया जाता है, या खराब सैनिटरी सुविधाएं मानव अपशिष्ट को यार्ड, खाई और खेतों में मिट्टी के साथ मिलाने की अनुमति देती हैं। लोग इसे कच्चा सुअर या संक्रमित चिकन या अन्य जीव का लीवर खाने से भी प्राप्त कर सकते हैं।

छोटे बच्चे अक्सर गंदगी में खेलते हैं, और अगर वह अपनी गंदी उंगलियां मुंह में डालते हैं तो संक्रमण हो सकता है। दूषित मिट्टी में उगाए गए बिना धुले फल या सब्जियां भी एस्कारियासिस अंडे को प्रसारित कर सकती हैं। 

एस्कारियासिस के जोखिम कारक क्या है? What are the risk factors for ascariasis?

निम्नलिखित कुछ ऐसी स्थितियां हैं जिसकी वजह से आपको एस्कारियासिस होने का जोखिम बढ़ सकता हैं :-

आयु Age :- एस्कारियासिस वाले अधिकांश लोग 10 वर्ष या उससे कम उम्र के होते हैं। इस आयु वर्ग के बच्चों को अधिक जोखिम हो सकता है क्योंकि उनके गंदगी में खेलने की संभावना अधिक होती हैं और साथ ही छोटे बच्चे ठीक से साफ़-सफाई का ख्याल नहीं रखते।

गर्म जलवायु Warm climate :- संयुक्त राज्य अमेरिका के दक्षिणपूर्व में एस्कारियासिस अधिक आम है, क्योंकि यहाँ सामान्य से ज्यादा गर्मी होती हैं। जो विकाशील देश अक्सर गर्म मौसम की चपेट में रहते हैं वहां भी एस्कारियासिस होने का खतरा सामान्य रूप से बना रहता है। 

कम स्वच्छता Poor sanitation :- अगर आप अपनी साफ़-सफाई का ठीक से ख्याल नहीं रखते तो आपको  एस्कारियासिस होने का खतरा रहता हैं, अब चाहे आपकी उम्र कितनी भी क्यों न हो। 

एस्कारियासिस होने से क्या जटिलताएं हो सकती है? What are the complications of having ascariasis?

एस्कारियासिस के हल्के मामले आमतौर पर जटिलताओं का कारण नहीं बनते हैं। यदि आपको भारी संक्रमण है, तो निम्न वर्णित कुछ खतरनाक जटिलताएं होने की आशंका बनी रहती है :-

धीमी वृद्धि Slowed growth :- भूख में कमी और पचे हुए खाद्य पदार्थों के खराब अवशोषण से एस्कारियासिस वाले बच्चों को पर्याप्त पोषण नहीं मिलने का खतरा होता है, जो शारीरिक विकास की गति को धीमा कर सकता है। इस संक्रमण की वजह से मानसिक रूप से विकास में बाधा का कोई साक्ष्य मौजूद नहीं है।

आंतों की रुकावट और वेध Intestinal blockage and perforation :- भारी एस्कारियासिस संक्रमण में, बहुत सारे कीड़े आपकी आंत के एक हिस्से को अवरुद्ध कर सकते हैं। इससे पेट में गंभीर ऐंठन और उल्टी हो सकती है। रुकावट आंतों की दीवार या अपेंडिक्स में भी छेद कर सकती है, जिससे आंतरिक रक्तस्राव (रक्तस्राव) या एपेंडिसाइटिस हो सकता है।

डक्ट ब्लॉकेज Duct blockages :- कुछ मामलों में, कीड़े आपके जिगर या अग्न्याशय की संकीर्ण नलिकाओं को अवरुद्ध कर सकते हैं, जिससे गंभीर दर्द हो सकता है।

एस्कारियासिस का निदान कैसे किया जा सकता है? How can ascariasis be diagnosed?

डॉक्टर आमतौर पर परजीवियों और डिंब (अंडे) के लिए मल के नमूने की जांच करके निदान करते हैं। यदि आपके डॉक्टर को संदेह है कि आपको एस्कारियासिस है, तो वह आपसे मल का नमूना मांगेगा।

यदि आपको एस्कारियासिस का निदान किया गया है, तो आपको अधिक परीक्षणों की आवश्यकता हो सकती है। डॉक्टर स्थिति के अनुसार आपको कोई एक या एक से ज्यादा निम्न इमेजिंग परीक्षण करवाने के लिए कह सकते हैं :-

  1. एक्स-रे

  2. सीटी स्कैन

  3. अल्ट्रासाउंड

  4. एमआरआई स्कैन

  5. एंडोस्कोपी, जिसमें आपके शरीर के अंदर देखने के लिए एक छोटे कैमरे का उपयोग किया जाता है।

इमेजिंग परीक्षण दिखा सकते हैं कि कितने कीड़े परिपक्व हो गए हैं और शरीर के अंदर कीड़े के प्रमुख समूह कहां हैं। 

जब आप डॉक्टर के पास निदान के लिए जाएं तो उन्हें अपने स्वास्थ्य से जुड़ी सारी और सटीक जानकारी देनी चाहिए, ताकि उपचार में कोई बाधा न आएं। 

एस्कारियासिस का उपचार कैसे किया जा सकता है? How can ascariasis be treated?

कुछ मामलों में, एस्कारियासिस अपने आप ठीक हो जाता है। अगर ऐसा नही होता तो आमतौर पर केवल लक्षणों का कारण बनने वाले संक्रमण के लिए उपचार दिया जाता है। स्थिति के अनुसार एस्कारियासिस का उपचार निम्न वर्णित प्रकार से किया जा सकता है :-

दवाएं Medications :-

एंटी-परजीवी दवाएं एस्कारियासिस के खिलाफ उपचार में प्रमुख रूप से इस्तेमाल की जाती ही, जिनमें निम्न सबसे आम हैं :-

  1. एल्बेंडाजोल (अल्बेंजा) –  Albendazole (Albenza) 

  2. आइवरमेक्टिन (स्ट्रोमेक्टोल) –Ivermectin (Stromectol) 

  3. मेबेंडाजोल – Mebendazole 

  4. प्रेग्नेंट महिला पाइरेंटेल पामोएट (pyrantel pamoate) ले सकती हैं

एक से तीन दिनों तक ली जाने वाली यह दवाएं वयस्क कीड़े को मार देती हैं। साइड इफेक्ट्स में हल्का पेट दर्द या दस्त शामिल हैं।

शल्य चिकित्सा Surgery  :-

भारी संक्रमण के मामलों में, कीड़े को हटाने और उनके कारण हुए नुकसान की भरपाई के लिए सर्जरी आवश्यक हो सकती है। आंतों की रुकावट या छेद, पित्त नली की रुकावट और एपेंडिसाइटिस ऐसी जटिलताएं हैं जिनके लिए सर्जरी की आवश्यकता हो सकती है। 

एस्कारियासिस से बचाव कैसे किया जा सकता है? How can ascariasis be prevented?

एस्कारियासिस के खिलाफ सबसे अच्छा बचाव अच्छी स्वच्छता और सामान्य ज्ञान है। संक्रमण से बचने के लिए आप निम्न सलाह अपना सकते हैं :-

  • अच्छी स्वच्छता का अभ्यास करें। भोजन को संभालने से पहले हमेशा अपने हाथ साबुन और पानी से धोएं। ताजे फल और सब्जियों को अच्छी तरह धो लें।

  • यात्रा करते समय सावधानी बरतें। केवल बोतलबंद पानी का प्रयोग करें, और कच्ची सब्जियों से बचें, जब तक कि आप उन्हें छीलकर धो नहीं सकते।

Get our Newsletter

Filter out the noise and nurture your inbox with health and wellness advice that's inclusive and rooted in medical expertise.

Your privacy is important to us

MEDICAL AFFAIRS

CONTENT INTEGRITY

NEWSLETTERS

© 2022 Medtalks