हृदय रोग के बारे में सब जाने – प्रकार, लक्षण, कारण और बचाव

हृदय रोग के बारे में सब जाने – प्रकार, लक्षण, कारण और बचाव

हृदय रोग के बारे में सब जाने – प्रकार, लक्षण, कारण और बचाव 

हृदय, दिल के बारे में जितना भी लिखा, कहा,या सुना जाए उतना ही कम है। हमारा जहाँ एक तरफ तो पुरे शरीर में रक्त पहुँचाने का जरूरी काम करता है वहीं साथ ही यह दुसरे के लिए प्यार जाहिर काम करने का काम भी करता है। अब भले ही हम अपने दिल में किसी को जगह दें या न दें, लेकिन यह कभी अपना काम करना बंद नहीं करता। लेकिन वर्तमान समय में हृदय संबंधित रोग बढ़ते जा रहे हैं। पहले देखा जाता था कि केवल एक उम्र दौर में ही लोगों को दिल से जुड़ी समस्याएँ होती थी, लेकिन वर्तमान समय में बच्चों से लेकर युवाओं में भी दिल से जुड़ी समस्याएँ लगातार बढ़ती जा रही है, जिसमें दिल का दौरा पड़ने की समस्या सबसे ज्यादा है। दिल से जुड़ी समस्याएँ बढ़ने का सबसे बड़ा कारण है कि लोगों को इस संबंध में बहुत ही कम जानकारी है। तो चलिए अपना दिल किसी और को देने के बजाय इसके बारे में जानते हैं। 

दिल क्या है? What is heart?

हमारा हृदय हमारे शरीर के सबसे महत्वपूर्ण अंगों में से एक है। यह अंग हमारे परिसंचरण प्रणाली के बीच में स्थित है, जो धड़कते हुए शरीर के चारों ओर रक्त का प्रवाह करता है। रक्त शरीर में ऑक्सीजन और पोषक तत्व भेजता है और अवांछित कार्बन डाइऑक्साइड और अपशिष्ट पदार्थों को बाहर निकालता है। हृदय कार्डियोवास्कुलर सिस्टम का एक प्रमुख अंग होता है, जिसमें रक्त वाहिकाएं शामिल होती हैं जो रक्त को हृदय से पूरे शरीर तक और फिर वापस हृदय तक ले जाती हैं।

हृदय रोग कितने प्रकार के होते हैं? How many types of heart diseases are there?

जिस तरह हृदय जटिल होता है ठीक उसी तरह हृदय संबंधी समस्याओं की एक विस्तृत श्रृंखला है। एक व्यक्ति तो जीवन भर में निम्नलिखित प्रकार के हृदय रोग हो सकते हैं :-

दिल की धमनी का रोग Coronary Artery Disease कोरोनरी धमनी रोग, जिसे कोरोनरी हृदय रोग भी कहा जाता है, हृदय रोग का सबसे आम प्रकार है। यह तब विकसित होता है जब हृदय को रक्त की आपूर्ति करने वाली धमनियां प्लाक से भर जाती हैं। इससे वह सख्त और संकीर्ण हो जाते हैं। पट्टिका में कोलेस्ट्रॉल और अन्य पदार्थ होते हैं। नतीजतन, रक्त की आपूर्ति कम हो जाती है, और हृदय को कम ऑक्सीजन और कम पोषक तत्व प्राप्त होते हैं। समय के साथ, हृदय की मांसपेशी कमजोर हो जाती है, और हृदय गति रुकने और अतालता का खतरा होता है।

जन्मजात हृदय दोष Congenital Heart Defects – जन्मजात हृदय दोष वाला व्यक्ति हृदय की समस्या के साथ पैदा होता है। एक व्यक्ति को मूलतः तीन प्रकार के जन्मजात हृदय दोष हो सकते है :- 

  1. सेप्टल दोष

  2. एट्रेसिया

  3. असामान्य हृदय वाल्व

अतालता Arrhythmia अतालता एक अनियमित दिल की धड़कन को संदर्भित करता है। यह तब होता है जब दिल की धड़कन को समन्वित करने वाले विद्युत आवेग (electrical impulses) सही ढंग से काम नहीं करते हैं। नतीजतन, दिल बहुत तेजी से, बहुत धीरे-धीरे या गलत तरीके से धड़क सकता है। अतालता होने पर व्यक्ति को निम्नलिखित समस्याएँ होती है :-

  • तचीकार्डिया Tachycardia

  • ब्रैडीकार्डिया Bradycardia

  • समय से पहले संकुचन Premature contractions 

  • आलिंद फिब्रिलेशन  Atrial fibrillation 

डाइलेटेड कार्डियोम्योंपेथि Dilated Cardiomyopathy – फैली हुई कार्डियोमायोपैथी में, हृदय कक्ष फैल जाते हैं, जिसका अर्थ है कि हृदय की मांसपेशी फैलती है और पतली हो जाती है। फैली हुई कार्डियोमायोपैथी के सबसे आम कारण पिछले दिल के दौरे, अतालता और विषाक्त पदार्थ हैं, लेकिन आनुवंशिकी भी एक भूमिका निभा सकती है। नतीजतन, हृदय कमजोर हो जाता है और रक्त को ठीक से पंप नहीं कर पाता है। इसके परिणामस्वरूप अतालता, हृदय में रक्त के थक्के और हृदय की विफलता हो सकती है।

हृद्पेशीय रोधगलन Myocardial infarction – दिल की इस बीमारी को दिल के दौरे के रूप में भी जाना जाता है, रोधगलन में हृदय में रक्त के प्रवाह में रुकावट शामिल होती है। यह हृदय की मांसपेशियों के हिस्से को नुकसान पहुंचा सकता है या नष्ट कर सकता है। 

दिल की धड़कन रुकना Heart failure जब किसी व्यक्ति को दिल की विफलता होती है, तब भी उसका दिल काम कर रहा होता है, लेकिन उतना अच्छा नहीं होता जितना होना चाहिए। कंजेस्टिव हार्ट फेल्योर एक प्रकार का हार्ट फेल्योर है जो पंपिंग या रिलैक्सिंग फंक्शन की समस्याओं के कारण हो सकता है। दिल की विफलता अनुपचारित कोरोनरी धमनी की बीमारी, उच्च रक्तचाप, अतालता और अन्य स्थितियों के परिणामस्वरूप हो सकती है। यह स्थितियां दिल को ठीक से पंप करने या आराम करने की क्षमता को प्रभावित कर सकती हैं। 

हाइपरट्रॉफिक कार्डियोमायोपैथी Hypertrophic Cardiomyopathy – हाइपरट्रॉफिक कार्डियोमायोपैथी हृदय रोग एक आनुवंशिक समस्या है, जिसमे मांसपेशियों की दीवारें मोटी हो जाती हैं और संकुचन कठिन हो जाते हैं। यह हृदय की रक्त लेने और पंप करने की क्षमता को प्रभावित करता है और इससे कुछ मामलों में रुकावट आ सकती है। हृदय रोग में आमतौर पर कोई लक्षण नहीं दिखाई देता और बहुत से लोगों को निदान नहीं मिल पाता, जिसकी वजह से रोगी कि मृत्यु भी हो जाती है। 

माइट्रल वाल्व रिगर्जेटेशन Mitral Valve Regurgitation यह घटना तब होती है जब हृदय में माइट्रल वाल्व पर्याप्त रूप से बंद नहीं होता है और रक्त को हृदय में वापस प्रवाहित होने देता है। नतीजतन, रक्त हृदय या शरीर के माध्यम से कुशलता से नहीं चल सकता है, और यह हृदय के कक्षों पर दबाव डाल सकता है। समय के साथ, दिल बड़ा हो सकता है, और दिल की विफलता हो सकती है।

माइट्रल वाल्व प्रोलैप्स Mitral Valve Prolapsed – यह तब होता है जब माइट्रल वाल्व के वाल्व फ्लैप ठीक से बंद नहीं होते हैं। इसके बजाय, वह बाएं आलिंद में उभारते हैं। यह एक दिल बड़बड़ाहट पैदा कर सकता है। माइट्रल वाल्व प्रोलैप्स आमतौर पर जीवन के लिए खतरा नहीं होता है, लेकिन कुछ लोगों को इसके लिए उपचार प्राप्त करने की आवश्यकता हो सकती है। 

महाधमनी का संकुचन Aortic Stenosis – महाधमनी स्टेनोसिस में, फुफ्फुसीय वाल्व (pulmonary valve) मोटा या जुड़ा हुआ होता है और ठीक से नहीं खुलता है। इससे हृदय के लिए बाएं वेंट्रिकल से रक्त को महाधमनी में पंप करना कठिन हो जाता है। वाल्व की जन्मजात विसंगतियों (congenital anomalies) के कारण एक व्यक्ति इसके साथ पैदा हो सकता है, या यह समय के साथ कैल्शियम जमा या निशान के कारण विकसित हो सकता है।

ब्रेन कैंसर – प्रकार, लक्षण, और उपचार

हृदय रोग होने पर क्या लक्षण दिखाई देते हैं? What are the symptoms of heart disease? 

आपने ऊपर जाना कि एक व्यक्ति को कई प्रकार का हृदय रोग हो सकता है, तो हर हृदय रोग के दौरान लक्षण भी अलग-अलग दिखाई देते हैं। चलिए कुछ हृदय रोग होने पर दिखाई देने वाले लक्षणों के बारे में जानते हैं :- 

अतालता Arrhythmia

  • चक्कर

  • धीमी नाड़ी

  • बेहोशी मंत्र

  • सिर चकराना

  • छाती में दर्द

  • फड़फड़ाता दिल या दौड़ती दिल की धड़कन

धमनीकलाकाठिन्य  Atherosclerosis – 

  • ठंडक, विशेष रूप से अंगों में

  • सुन्नता, विशेष रूप से अंगों में

  • असामान्य या अस्पष्ट दर्द

  • आपके पैरों और बाहों में कमजोरी

जन्मजात हृदय दोष Congenital Heart Defects –

  • नीली रंग की त्वचा

  • हाथ-पांव में सूजन

  • सांस की तकलीफ 

  • थकान और कम ऊर्जा

  • अनियमित हृदय ताल

दिल की धमनी का रोग Coronary Artery Disease – 

  • सीने में दर्द या बेचैनी

  • छाती में दबाव या निचोड़ने की भावना

  • सांस लेने में कठिनाई

  • जी मिचलाना

  • अपच या गैस की भावना

कार्डियोमायोपैथी Cardiomyopathy

  • थकान

  • सूजन

  • तेज़ या तेज़ नाड़ी

  • सांस लेने में कठिनाई

  • सूजे हुए पैर, विशेष रूप से टखने और पैर 

हृदय संक्रमण Heart Infection

  • छाती में दर्द

  • बुखार

  • ठंड लगना

  • त्वचा के लाल चकत्ते 

  • छाती में जमाव या खाँसी

निम्नलिखित वह कुछ लक्षण है जो कि दिल का दौरा पड़ने पर रोगी को दिखाई दे सकते हैं :-

  • छाती में दर्द

  • सांस फूलना

  • पेट में तेज दर्द

  • थकान महसूस करना

  • घबराहट होना

  • जी मिचलाना

  • पसीना आना

  • घुटन महसूस होना

  • घुटनों में और टखनों में सूजन

  • एक अनियमित दिल की धड़कन 

  • हाथ, जबड़े, पीठ या पैर में दर्द

महिलाओं में हृदय रोग होने पर निम्नलिखित लक्षण दिखाई देते हैं :- 

  • पीलापन

  • चक्कर

  • गर्दन दर्द

  • पीठ दर्द

  • ठंडा पसीना 

  • जी मिचलाना

  • उल्टी करना

  • जबड़े का दर्द

  • सीने और पेट में अपच या गैस जैसा दर्द

  • सांस की तकलीफ या उथली श्वास

  • बेहोशी या गुजर सिर चकराना 

हृदय रोग होने के क्या कारण है?  What are the causes of heart disease? 

हृदय रोग होने के कारणों के बारें में जानने पहले चलिए सबसे पहले हम जानते हैं है कि हृदय रोग विकसित किन कारणों से होता है। निम्नलिखित यह चार मुख्य कारण है जिनकी वजह से हृदय रोग विकसित होने की आशंका बनी रहती है –

  • सभी या दिल के हिस्से को नुकसान

  • दिल की लय के साथ एक समस्या 

  • दिल को ऑक्सीजन और पोषक तत्वों की कम आपूर्ति होने पर 

  • रक्त वाहिकाओं या दिल से जाने वाली रक्त वाहिकाओं में कोई समस्या होने पर 

चलिए अब जानते हैं हृदय रोग होने के पीछे मुख्य कारणों के बारे में। एक व्यक्ति को हृदय रोग होने के पीछे मूलतः निम्नलिखित कारण हो सकते हैं :- 

  • धूम्रपान 

  • उच्च मधुमेह स्तर 

  • उच्च रक्त चाप

  • उच्च कोलेस्ट्रॉल

  • बढ़ती उम्र

  • आहार विकल्प

  • कम गतिविधि स्तर

  • स्लीप एप्निया

  • टपका हुआ हृदय वाल्व

  • शराब का अधिक सेवन

  • अधिक वजन और मोटापा

  • हृदय रोग का पारिवारिक इतिहास 

  • उच्च तनाव और चिंता का स्तर

  • गर्भावस्था के दौरान प्रीक्लेम्पसिया का इतिहास 

हृदय रोग से कैसे बचाव किया जा सकता है? How can heart disease be prevented?

अगर आप अपने दिल को हमेशा स्वस्थ रखना चाहते हैं तो निम्नलिखित कुछ खास उपायों को अपना कर अपने दिल को हमेशा स्वस्थ रख सकते हैं :- 

  • धूम्रपान को हमेशा के लिए बंद  करें। 

  • मोटापे से दूर रहें, पतले रहें। 

  • सेक्स करें, इससे तनाव दूर होता है। 

  • अपने शौक में व्यस्त रहें, ताकि दिल खुश रहें।

  • अपनी डाइट में फाइबर को शामिल करें।

  • हमेशा अच्छा संगीत सुनें, ताकि मन शांत रहें।

  • अगर आप मासाहारी है तो मछली खाएं।

  • हमेशा हसते रहें, इससे रक्तचाप सही रहता है। 

  • शराब पीयें, लेकिन इसके आदि न बने। 

  • ज्यादा नमक खाने से बचें, इससे रक्तचाप बढ़ता है।

  • जितना हो सके उतना पैदल चले, इससे दिल मजबूत होता है।

  • डार्क चॉकलेट खाइयें, इसमें हृदय-स्वस्थ फ्लेवोनोइड्स भी होते हैं।

  • घर के कामकाज करें, खाली न बैठें ताकि शरीर स्वस्थ रहें।

  • इन्हें अपने आहार में मेवे शामिल करें इससे हृदय रोग के जोखिम को कम करने में मदद मिल सकती है।

  • घी, तेल और अन्य तरह की वसा से बचें। शरीर में जमा वसा दिल के लिए हानिकारक है।

  • दांतों को साफ़ रखें, क्लीवलैंड क्लिनिक के अनुसार मसूड़े की बीमारी का कारण बनने वाले बैक्टीरिया आपके हृदय रोग के जोखिम को भी बढ़ा सकते हैं। 

  • ध्यान और योग करें। इससे शरीर अंदर से मजबूत होता है। 


    नोट :- हृदय संबंधित समस्या होने पर अपने चिकत्सक से जल्द से जल्द उस बारे में बात करें। समय से उपचार न मिलने पर आपको कई गंभीर परिणामों का सामना करना पड़ सकता है।

Dr. KK Aggarwal

Recipient of Padma Shri, Vishwa Hindi Samman, National Science Communication Award and Dr B C Roy National Award, Dr Aggarwal is a physician, cardiologist, spiritual writer and motivational speaker. He was the Past President of the Indian Medical Association and President of Heart Care Foundation of India. He was also the Editor in Chief of the IJCP Group, Medtalks and eMediNexus

 More FAQs by Dr. KK Aggarwal

Get our Newsletter

Filter out the noise and nurture your inbox with health and wellness advice that's inclusive and rooted in medical expertise.

Your privacy is important to us

MEDICAL AFFAIRS

CONTENT INTEGRITY

NEWSLETTERS

© 2022 Medtalks